मै अपने भाई के वर्जिन दोस्त को ब्लैकमेल करके चुदी पार्ट-2

मै अपने भाई के वर्जिन दोस्त को ब्लैकमेल करके चुदी पार्ट-2

हेलो, इंडियन सेक्स स्टोरीज डॉट नेट दोस्तों, मुझे आशा है कि आप सभी अच्छा कर रहे होंगे। मेरा नाम मोहित है या आज जो कहानी में आपको बताने जारा हूं वो बिलकुल सच्ची है या हाल ही में मेरे या मेरी बड़ी बहन के बीच हुई। पढ़ने के बाद आप लोग अपनी टिप्पणियाँ या प्रतिक्रिया

ज़दा समय ना बर्बाद करते हुए कहानी पर आते हैं। मेरी फैमिली एम चार लोग है, पापा, मम्मी, माई या मेरी बड़ी बहन रिया। मेरी उम्र 20साल है या दीदी मुझसे 4साल बड़ी है। दीदी दोस्त को ब्लैकमेल करके चुदी देखने में एकदम ज़बरदस्त है। उसकी माप 32 28 36. 5’5″ की ऊंचाई, रंग एकदम साफ, मध्यम आकार के स्तन, सबसे मस्त चीज है उनकी गांड। इतनी बड़ी की देखो किसिका भी मन पकाने को करे।

दीदी या एम कफी बंद करें, लेकिन रिश्तों की ज़दा बात नई किया करते हैं। मुझे पता था की उनका स्कूल टाइम से एक बीएफ है जिसके बारे में मैंने बताया था। शुरू में मेरी दीदी की तरह कोई गलत इरादे नई थी लेकिन इस पर ब्रो-सीस की कहानियां पढ़ने के बाद मेरा ध्यान दीदी की तरफ जदा जाने लगा या धीरे धीरे उनकी तरफ आकर्षित होना लगा। मैंने भोट बार सोचा की कैसे योजना बनाई दीदी को बहकाने किआ जाए पर कबी सफल नई हो पाया। लेकिन एक दिन मुझे मोका मिल ही गया।

एक दिन दीदी ने मुझे सबा बोला की आज कल से जल्दी आ जाना, घरवाली के साथ कुछ जरूरी बात करनी है। जब शाम म घर पोंचा तो मम्मी पापा ब बैठे थे। सबके आने के बाद दीदी ने बोला की उनका स्कूल टाइम से बीएफ है या उससे शादी करना चाहता है। ये सुंकर हमारे माता-पिता शॉक हो गए लेकिन एम नई हया क्यूकी मझे पता था उनके बीएफ के बारे में। पैरेंट्स ने लड़के के बारे में पुचा तो पता चला की वो पड़ोस में ही रहता है।

उसका नाम सुंकर पापा एकदम गुसा हो गए क्योंकि उन्हे पता था की वो एक नंबर का लाफंगा है या दीदी का सिरफ फायदा उठा है। उन्होन सिद्ध दीदी को हमें लड़के के साथ सब कुछ खतम करने को बोल्डिया। मुझसे बुरा लगा लेकिन मैंने बी हमें लड़के के बारे में भोट सुना था इसिलिए मन्ने विरोध नई किया। दीदी चुप चाप अपने कामरे एम चली गई।

रात को डिनर के बाद में उसके कामरे के आने से निकला तो मुझे सिसकियों की आवाज आ रही थी। मैने एंडर देखा तो दीदी चादर मुह पर ओड़कर रो रही थी। एम एंडर गया या दीदी को बोला ली आप रोये मत, आपको उससे अच्छा लड़का मिल जाएगा या उन्हें समझ की वो लड़की आपका इस्तमाल कर रहा था। दीदी ने रोना बंद किया या बोली की इतना पुराना संबंध था, अब कोई मुझे नहीं मिलेगा। मैंने बोला दीदी आपको कोई बी लड़का मिल सकता है। दीदी ने बोला आसा क्यों लगता है

तो मैंने कहा दीदी आप इतनी सुंदर हो, शुद्ध मोहल्ले में आप से सुंदर कोई नई है। दीदी ने बोला सच्ची या मनने ब हां जवाब दिया। इतना सुनके दीदी ने बोला तू भोट अच्छा है या मुझसे जकाडके गली से लगा लिया। गैली लगाटे ही दीदी के बूब्स मेरी चेस्ट एम घुसने लगे, एम तो जन्नत एम पोहंच गया। मनने ब मोका ना गावटे हुए अपने दोनो हाथ उनकी पीठ पर रखे या उन्हे कासके अपने साथ मिला लिया। क्या फीलिंग थी वो, उन्के सॉफ्ट बूब्स मेरे चेस्ट एम धन्स चुके थे।

करीब 2 मिनट तक हम आसे ही बनते रहे या अंत में दीदी अलग हुई। मुझसे लगा था की आज मेरी इच्छा पूरी हो ही जाएगी लेकिन जैसा हुआ नई या दीदी ने शुभरात्रि बोलकर चादर ओड़ ली या मुझे ब जाके सोने को बोला। मेरा तो लुंड पुरा तन हुआ था, अपने कमरे में गया या हमें गले लगा लिया के बारे में सोचकर मुठ मारने लगा या उसके बाद सो गया।

अगले दिन सब नॉर्मल था। मन्ने दीदी से पुचा के अपने अपने bf से गोलमाल करलिया। उन्होन हां म जवाब दिया। एम बी थोड़ा खुश हुआ। कुछ दिन ऐसे ही निकल गए।

किआ पर फिर एक दिन एम क्लग से घर आया या मैने लैपटॉप। मेरी दीदी या एम एक ही लैपटॉप शेयर करते हैं। मैंने एफबी ओपन किया तो देखा की दीदी लॉगआउट करना भूल गई थी। दिमाग तो कह रहा था की बिना कुछ करे लॉगआउट करदु लेकिन अब मुझमें हवा हो चुकी थी या मुझे दीदी के स्तन का वो अनुभव याद आने लगा। मैंने उनके मैसेज देखे तो एम शॉक्ड रह गया। दीदी ने हमें लड़कों से गोलमाल नहीं किया था या अबी संदेश एक्सचेंज कर रही थी। एम थोडा या ऊपर गया तो देखा की दीदी ने अपनी नग्न तस्वीरें तक दीखा राखी थी।

मन वो साड़ी तस्वीरें डाउनलोड करके अपने फोन एम दाल ली या लैपटॉप बैंड कार्डिया। बदमे मैंने उन पिक्स को देखा। क्या हसीन लगी थी दीदी उनमे, सर से लेके टैंगो तक एक भी कपड़ा नई था। उनके बाल उनके स्तन तक आ रहे थे, उनके स्तन एकदम गोल या भूरे रंग के निपल्स को देख कर मेरा लुंड पूरी तरह से तन चूका था। उनका फिगर किसी मॉडल से कम नई था या अंत में उनकी गांड इतनी फड़ लगी थी कुछ कुछ समझ में।

उन तस्वीरों को देखकर अपने कमरे में एम जकार मुथ मारी। मेरे दिमाग एम आइडिया आया की इस बात को इस्तेमाल करने के लिए दीदी को सेक्स के लिए कायल कर सकता हूं। रात को डिनर के बाद एम दीदी के रूम गया। दीदी वहा कुछ पद्री थी।नमस्कार, भारतीय सेक्स कहानियां डॉट नेट दोस्तों, मुझे आशा है कि आप सभी अच्छा कर रहे होंगे। मेरा नाम मोहित है या आज जो कहानी में आपको बताने जारा हूं वो बिलकुल सच्ची है या हाल ही में मेरे या मेरी बड़ी बहन के बीच हुई। पढ़ने के बाद आप लोग अपनी टिप्पणियाँ या प्रतिक्रिया

दीदी: अरे मोहित गेट पर क्यों खड़ा है, औरत आजा।
मैं: दीदी आपसे कुछ बात करनी थी।
दीदी: हां बता क्या बात है।
मैं: दीदी अपने अपने बीएफ से ब्रेकअप करालिया?
दीदी: हां करलिया (थोड़ा हिचकिचाते हुए)
मैं: पक्का ना दीदी?
दीदी: हां मेरे भाई सचमे या म अब उसके बारे में सोची ब नई।
मैं: अच्छा आप बोले हो तो मान लेता हूं।
दीदी: पर तू आज अचानक क्यों पुचरा है।
मैं : कुचनी दीदी आसे हाय।
दीदी: नई अब तझे बताना पड़ेगा।
मैं: (दार्ते हुए) वो दीदी आप आज एफबी से लॉगआउट करना भूल गए थे।

दीदी डर गई या अनहोन घबराते हुए पुचा

दीदी : को?
मैं: आपके मैसेज खुले हुए थे या उसमे आपके बीएफ के साथ चैट्स बी खुले थे।

दीदी बिलकुल सत्ते एम आ गई या एसएमजे गई की मुझे सब पता चल चुका है। उनकी सांसे खराब गई। हर सांस के साथ उनके स्तन ऊपर आला हो रहे थे।

मैंने थोड़ी हिम्मत आई या मैंने सिद्ध बोला की मुझे पता है कि अपने ब्रेकअप नई किया है या अपने जो जो इस्तेमाल किया था वो सब मैंने देखा था। उन्होन पुचा क्या देखा है ट्यून। मैंने फोन निकला या उन्की फुल न्यूड तस्वीर उन्को दिखाई। अपनी नग्न तस्वीर देख कर तो दीदी बिलकुल सेहम गई या गुसे एम बोली तो शर्म नहीं आ रही अपनी असली बहन की असी तस्वीरें राखी है फोन एम। मैंने बोला अपने तो दसरो को भेजो कर है मन तो बस डाउनलोड कर है।

मन्ने उन्हे डरने के इरादे से बोला की म ये सब कल सूबा मम्मी पापा को बता दूंगा की आप अबी ब हम लड़के साथ है या यूज असी चीजिन भी जाती है। दीदी बिलकुल घबड़ा गई या मुझसे विंति करने लगी की कृपया कुछ मत बताएं या ये सब डिलीट करें। मन्ने भी अभिनय करते हुए बोला की दीदी म ये आपकी भलाई के लिए कर रहा हूं वो लड़का बिलकुल थिक नई है या आपका फ़ायदा उठा है। दीदी अनुरोध करने लगी या बोली की कृपया किसको कुछ माता बताना एम कुछ बी करुंगी जो तू बोले। बस मुझे अपना प्लान सफल होता दिखरा था।

मन्ने बोला जो म बोलू वो करोगी एपी? दीदी ने एकदम से हां में जवाब दिया या बोली बता क्या छै तो। मन उन्को उन्की नग्न तस्वीर दिखई या बोला एम आपको आसा असली एम देखना चाहता हूं। दीदी शॉक्ड रह गई या बोली तू आसा कैसी सोच सकती है हम भाई बहन है।

मैंने बोला दीदी एपी मझे भोट पसंद हो या भोट हॉट लगती हो, एम आपको अपनी जीएफ की तरह रखूंगा आप हमें लड़कों को भूल जाओ। दीदी नई मणि या मन कर्ता रही। मन एक बार फिर से धमकाया की अगर नई मनोगी तो ये सब कल घरवालो को पता चल जाएगा। अंत में वो मान गई या बोली की लेकिन सिर्फ एक बार या किसिको इस बारे में पता नई चलना चाय है। एम भोट खुश हो गया।

इतना बोले ही दीदी को ब्लैकमेल करके चुदी मेरे पास आके खादी हो गई या बोली “आज तो दिखी हु की तेरी दीदी को कितना कुछ आता है”। उन्की असी बातें सुनकर तो म पागल होता जरा था या इतने में अपने होने मेरे होंथो पर रख दिए। उन्हे पहली बार किस करने का अनुभव एम शब्दो एम नहीं बता सकता। जिन भाइयों ने अपनी बहन को किस किया है वही समाज सक्षम है। थोडी डर किस करने के बुरे उन्होन अपनी जीब मेरे मुह म घुसा दी। मने ब अपना मुह खोलकर उनका स्वागत किया। हमारी जीब एक दसरे से लाद्री थी। म सत्वे अस्मान पर था।

कामरे एम हमारी किस्स की आवाज फेल रही थी। फिर दीदी ने एकदम से किस तोड़ी या जाके गेट लॉक करदिया या वापीस आके एकदम से फिर से स्मूच करने लगी। वो अपना सिद्ध हाथ मेरे सर के पीछे रखकर अपनी या खीच रही थी। हम 10मिनट तक यू ही स्मूच करते रहे। मन शर्ट के ऊपर से ही दीदी के स्तन को प्रेस किया। वो इतने सॉफ्ट थे जैसे किसी बच्चे की स्किन हो। फ़िर दीदी ने अपने दोनो हाथ सिद्ध ऊपर करदिए या मैंने उनकी टीशर्ट खींच कर निकल दी। अब वो मेरे सामने ब्रा या जींस एम थी।

उनके बूब्स बहार आने को तड़प रहे थे। मनने ब्रा के ऊपर से ही उनके बूब्स को किस किया। दीदी एम करंट दौड़ गया। उन झटकों से अपनी ब्रा उतरकर फेंक दी। अब उनके सेक्सी बूब्स मेरे सामने थे. एकदम गोल या भूरे रंग के निप्पल। मैंने उनके सही बूब को पक्का या निप्पल को बच्चों की तरह चुना लगा। उनके मुह से आह आहाहा की आवाजें निकलने लगी। अनके निप्पल एकदम इरेक्ट हो चुके थे। फिर मैंने सही बूब को छोड़ा या उन्को होठों पर किस किया। उसके बाद वही काम छोड़ दिया उल्लू के साथ किया।

एम उनका लेफ्ट निप्पल भोट तेजी से चूसना कर रहा था या साथ ही उनके दाएं उल्लू को दबा रहा था। दीदी सातवे अस्मन पर थी। करीब 15 मिनट आसा करने के बाद उनके स्तन को छोटा या हम वापीस स्मूच करने लगे। दीदी अपने दो हाथ मेरे कंधो पर रखकर मझे आला पुच करने लगी। एम समाज गया वो क्या चाहती थी। मनने उन्को देवर के साथ पीठ के बाल लगाया या जींस का बटन खोलने लगा। एम उनके सामने घुटनो पर बैठा गया या जींस को खीचकर उतर दिया।

अब वो मेरे सामने ब्राउन कलर की पैंटी एम थी। मन्ने पैंटी के ऊपर हु उनकी छुट पर किस किया। वो पूरी तरह कांप गई या सिस्किया लेने लगी। मुझसे या नई राह गया या मैंने उनकी पैंटी निकली। मेरे सामने क्या मस्त नजर था। उनकी छुट के आस पास एक ब बाल नई था या गुलाबी रंग की छुट साफ दिख रही थी।

एम पागल सा हो गया या उनकी टैंगो को थोड़ा सा खोला या बिना वक्त गवे उनकी छुट चटने लगा। शुरू करते हैं दीदी मधोश हो गई या आआ आआह आहा की आवाज निकालने लगी। एम बी लगातर उनकी छुट चतरा था। क्या स्वद था उनकी छूत का। मुझे भोट मजा आ रहा था। फिर मनने छूत की ओपनिंग पर जीब रखकर झटका मार्के और घुसा दी या उन्हे जीभ बकवास करना लगा।

दीदी एकदम उचचल सी गई या पगलो की तरह हिलने लगी। वो मेरे सर के पीछे हाथ रख मझे अपनी छुट की तराफ खींच रही थू या एमबी भूलभुलैया से उनकी छुट एम जीब घुसा रहा था। 10मिनट तक आसा करने के बाद दीदी कानपने लग पड़ी।

एम समाज गया की अब वो झड़ने वाली है। मन्ने अपनी स्पीड या बड़ा दी। या एल झटके में उनकी छुट से पानी निकलने लगा। मन्मुह खोलकर सारा पानी मुह एम भरलिया। एक बार पीने के बाद भी उनकी छुट से पानी निकल रहा था।

मन्ने दोबारा पुरा मुह भरके पी लिया। या तीसरी बार भी मेरा मुह अधा भर गया। दीदी की तो चीकें निकल रही थी या वो मधोश हो चुकी थी। मनने उन्को अपने मुहं भरा पानी दिखया या फिर पेशाब गया। ये देखकर दीदी बिलकुल पागल हो गई या मुझे खड़ा किया या अपनी जीब मेरे मुहं दलकर स्मूच करने लगी। 2 मिनट तक हम किस करते रहे या बार मनके कांधो पर दबाव डालकर आला की तरफ ढकेला। वो इशारा समाज गई या बोली “अब तेरी बारी है मेरे भाई”। किस तोड़कर वो मेरे कपड़े निकले लगी। अंत में मेरी पंत निकली को अनहोन करें। अब म उनके सामने सिरफ अंडरवियर एम था। खीचकर मेरा अंडरवियर निकला तो मेरा 7″ का लुंड पूरी तरह तंग होना उनके सामने खड़ा था।

उनके मुंह से “ओह माय गॉड” निकला या अनहोन अपने राइट हैंड से मेरा लुंड पक्का लिया या वापीस से मुझसे किस करने लगी। वो अपने हाथ से मेरे लुंड को आगे पिचे कर रही थी या साथ साथ चुंबन कर रही थी। म सत्वे अस्मान पर था या मनने अपने हाथ से उनकी गांड को पक्का रखा था। अनहोन किस तोडकर मेरे काम एम बोला “तेरा मेरे बीएफ से ब बड़ा है”। मन्ने बोला “दीदी आज से ये आपका ही है”। दीदी सिद्ध आला घुटनो पर बैंथ गई या अपनी जीब निकलकर मेरे लुंड के टोपे को चटनी लगी। म पूरी तरह से पागल हो रहा था।

उसके बाद उन्होन अपना मुह खोला या मेरे लुंड को और ले लिया। उनके मुह बंद करते ही एम मदहोश हो गया। उनका मुह की चिकनहट या गरमी में मेरा लुंड उफान पर था। वो मेरे लुंड को भूलभुलैया से चुनो रही थी। प्योर रूम एम चुनने की आवाज़ आ रही थी। अपने हाथ मेरी गंद पर रखे हुए थे या मुझे अपनी या खींच रही थी। वो मेरा अधे से ज़दा लुंड मुह के एंडर ले जरी थी या चूसके बहार निकल रही थी। कफी डर के बाद मझमे करंट फेल गया मैंने अपने हाथ उनके सर के पिचे रखे या बेरेहमी से उनके मुंह की चुदई शुरू करदी।

दीदी को भोट मजा आ रहा था। 20 सेकेंड ऐसे ही उनका मुउ चोदने के बाद मन्हे ज़ोर से अपनी या खेंचा या अपना पुरा लुंड उनके मुह म घुसा दिया। लुंड उनके गले के अंदर जा चुका था या उनकी आंखों भोत बड़ी हो चुकी थी। म सत्वे अस्मान पर था। दीदी चटपटा रही थी लेकिन मैंने अधे मिनट तक उन्हे ऐसे ही रखा। या अंत में अपना लुंड उनके मुंह से निकला या अनहोन लंबी लंबी सांसे ली। एम आला झुका या उन्हे किस किआ या उन्हे बोला “दीदी आप बेस्ट हो”। दीदी ने बोला “चल अब दोबारा ऐसे ही कर”।

ये सुनकर मन फिर से उनके सर को पक्का या मुह की छुडाई शुरू करदी। या एक बार फिरसे पुरा लुंड उनके गले तक उतरिया। म अब झडनेवाला था या मनने दीदी को बताया की दीदी एम झडनेवाला हूं। दीदी ने पलके झपककर इशारा किया की उनके मुंह में ही अपना माल निकल दू। मैंने फिर से मुह की छुडाई स्टार्ट करदी या लास्ट म गैली तक लुंड उतरकर एम झड़ने लगा। मन्ने अधा माल सिद्ध उनके गली एम चोड़ा या फिर लुंड थोडा बहार निकलाकर बाकी का माल उनके मुहं निकल दिया। हम दिन से पहले इतना कबी न झड़ा था।

सारा माल चोदने के बाद मन लुंड उनके मुह से बहार निकला। उन्होन मुह खोलकर मुझे दिखया या फिर सारा का सारा निगल कर गई। निगलने के बाद वो बड़ी बड़ी सांसें लेने लगी या फिर खादी हुई या हम दो एक दसरे के गले लग गए। हम दो ठक चुके थे या ऐसे ही बिस्तर पर देर से गए। आने के बाद दीदी ने बोला “तजे अपने लुंड से रोज़ मेरे मुह की ऐसे ही चूड़िया करनी है”। मन ब कहा की दीदी अब ये लुंड सिरफ आपका है। ऐसे ही लेटे हम सो गए। करीब 1 घंटे बाद मेरी नींद खुली। दीदी नंगी सोती हुई एकदम परी लगी थी.

वो पीठ के बाल थी या उनके स्तन ऊपर आला हो रहे थे। एम बेड से उतरा या उन्हे देखता ही रे हया। फिर मैंने उनकी टैंगो को हलका सा खोला या बेरेही से उनकी छुट चटने लगा। दीदी की नींद एम ही आह आह आहाहा की आवाज निकल गई। अंत में मैंने अपनी जीब उनकी छूत एम घुसा दी तो उनकी नींद खुली या उन्होन देखा क्या होरा है, वो मधोश हो गई या उनकी छुट से फिर हलका सा पानी निकला या एम पहले की तरह ही पेशाब गया। इस्के बाद में उनके ऊपर जाके उन्हे किस करने लगा या उन्होन बोला “हर रोज़ इसी तरह नींद खोलियो मेरी आज से” और फिर वापीस से हम स्मूच करने लगे।

Hyderabad Call Girls

This will close in 0 seconds