चुदक्कड़ मम्मी बनी लंड की शौकीन – माँ की चुदाई की कहानी

चुदक्कड़ मम्मी बनी लंड की शौकीन – माँ की चुदाई की कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “चुदक्कड़ मम्मी बनी लंड की शौकीन – माँ की चुदाई की कहानी”। यह कहानी रोशंक की है वो आपको आगे की कहानी बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

माँ की चुदाई की कहानी में पढ़ें कि जब मैंने अपनी तलाकशुदा माँ को पड़ोसी लड़के से चुदते देखा तो मुझे बहुत मजा आया. क्या हुआ उसके बाद?

दोस्तो, मेरा नाम रोशंक है.
आज मैं आपको अपनी मां पूर्वी की चुदाई की कहानी बता रहा हूं.
ये सेक्स कहानी तब की है जब मैं छोटा था.

मेरी माँ को मेरे पिता ने छोड़ दिया था… वह मेरे साथ अकेली रहती थीं।

वो हॉस्पिटल में नर्स थी और बहुत सेक्सी थी. जो भी उसे देखता, बस उसे चोदना चाहता। उसके स्तनों और गांड के उभार बहुत अच्छे थे. जब वह चलती थीं तो लोग उन्हें बिना कपड़ों के देखना चाहते थे। (माँ की चुदाई की कहानी)

मेरी माँ मदरसन थी लेकिन इतनी आसानी से चूत देने वाली औरत नहीं थी. हालाँकि वह ठरकी बहुत बड़ी थी. मैंने उसे पापा के साथ कई बार चुदाई करते हुए देखा था.

यह घटना तब की है जब एक दिन मैं क्रिकेट खेलकर जल्दी घर आ गया।
मैंने देखा कि कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था. मैंने सोचा कि मां को आवाज देकर दरवाजा खुलवाऊं.

जैसे ही मैं खिड़की के पास गया तो देखा कि मेरी मां पड़ोस के लड़के विशु से चुदाई कर रही थीं.

पहले तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ कि वो मेरी मां हैं.
मैंने ध्यान से देखा तो माँ नंगी होकर विशु के लंड पर कूद रही थी.

मेरी माँ के Big Boobs हिल रहे थे और मेरी माँ अद्भुत आवाजें निकाल रही थी- अहा आ आ आ आह आह!
विशु जोर जोर से मेरी माँ को चोद रहा था.

फिर माँ ने विशु के लंड को नीचे आकर अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

विशु का लंड काफी मोटा था. जब मेरी मां लंड को मुंह में ले रही थी तो लंड का आधा हिस्सा ही उनके मुंह में जा पा रहा था.

ये सब देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो गया. मैं मुठ मारने के लिए बाथरूम में चला गया.

ऐसा एक साल तक चलता रहा.
मेरी माँ चुदती रही और मैं उसकी चुदाई देख कर मुठ मारता रहा। (माँ की चुदाई की कहानी)

एक दिन मां और विशु का झगड़ा हो गया.
वो मेरी माँ को अपने दोस्त से चुदवाना चाहता था लेकिन मेरी माँ ने मना कर दिया क्योंकि विशु का दोस्त बहुत घटिया सा था.
विशु मेरी मां से अलग हो गए.

अब चूँकि मेरी माँ की चुदाई नहीं हो रही थी तो मुझे भी मजा नहीं आ रहा था.

उधर माँ रात को जाग कर अपनी चूत में उंगली करती थी. लेकिन उंगली से उसकी चूत की प्यास नहीं बुझ रही थी.

ये बात मैंने अपने दोस्त साहिल को बता दी कि विशु मेरी मां को चोदता था. अब उसे कोई नहीं चोदता.

साहिल मुझे आश्चर्य से देखने लगा.

मैंने कहा- तुम मेरी मां को सेट करो और चोदो.
उसने कहा- वो तुम्हारी माँ है और तुम मुझसे उसे चोदने के लिए कह रहे हो.

मैंने कहा- क्या तुम्हें वह पसंद नहीं है?
साहिल बोला- वो मुझे बहुत पसंद है.. लेकिन वो मुझे कैसे चोदने देगी?
मैंने कहा- तुमने उन्हें ये कह कर डराना कि तुम विशु और तुम्हारे सेक्स के बारे में सब कुछ पता है.

साहिल ने वैसा ही किया.

मेरी माँ ने साहिल से कहा कि तू किसी को मत बताना, तू जो चाहेगा मैं तुझे दूँगी।
वो बोला- मैं विशु की तरह तुम्हारी चूत चोदना चाहता हूँ.

माँ बोलीं- ठीक है दे दूंगी … लेकिन मेरे बेटे रोशंक को कुछ पता नहीं चलना चाहिए.
साहिल बोला- किसी को पता नहीं चलेगा.

साहिल मेरे पास आया और बोला- तुम्हारी मम्मी मान गयी हैं. क्या तुम भी लोगे?
मैंने कहा- नहीं, मुझे तो बस उनकी चुदाई देखनी है. (माँ की चुदाई की कहानी)
साहिल बोला- ठीक है, जब मैं तेरी मां को चोदूंगा, तब तू छुप कर चुदाई देखना.

फिर साहिल ने मेरी माँ को चोदने के लिए अपने घर बुला लिया. उस वक्त उनके घर पर कोई नहीं था.

मैं भी मां की चुदाई देखने उनके घर गया.

जब मेरी माँ पहली बार घर में साहिल से चुदी और मैंने अपनी माँ को चुदते हुए देखा तो मैं हैरान रह गया।
मेरी माँ साहिल का लंड ऐसे चूस रही थी जैसे वो दुनिया का आखिरी लंड हो. मेरी मां साहिल का लंड इतनी जोर से चूस रही थी कि साहिल जल्दी ही झड़ गया.

मेरी मां ने उसका लंड चूस कर दोबारा खड़ा कर दिया.
फिर मेरी माँ उसके लंड पर बैठ गयी और आगे पीछे होने लगी.

साहिल मेरी माँ को ठीक से चोद नहीं पा रहा था.. लेकिन फिर भी मेरी माँ उसे उचित आनन्द दे रही थी।

साहिल बोला- आंटी, मैं आपकी गांड चोदना चाहता हूँ.
माँ बोलीं- क्या तुमने पहले कभी मुझे मारी है.. इसमें बहुत ताकत लगती है।
साहिल बोला- मार लूँगा.

नोट: अगर आप सिंगल हैं और अपनी हवस पूरी करना चाहते हैं, तो चिंता न करें, Kamla Nagar Escorts आपका इंतजार कर रही हैं।

माँ ने उसके लंड पर तेल लगाया. उसके बाद गांड के छेद पर भी तेल लगाया.

फिर माँ ने साहिल से कहा- धीरे धीरे अपना लंड अन्दर डालना शुरू करो.
साहिल ने झटके से अपना लंड अन्दर डाल दिया.

मेरी मां फूट-फूट कर रोने लगीं.
वो बोली- आह आराम से डालो … ये चूत नहीं है … गांड है. यह दुखदायक है। (माँ की चुदाई की कहानी)

साहिल ने मेरी मां की एक भी बात नहीं सुनी. उसने और तेजी से धक्के लगाने शुरू कर दिए.
माँ जोर जोर से चिल्लाने लगीं- आआह आआह आ आ… दर्द हो रहा है साहिल, आराम से करो.

लेकिन साहिल और तेज़ झटके देने लगा. फिर कुछ देर के बाद वो झड़ गये और मेरी माँ अपनी गांड मरवाकर घर आ गयी.

मेरी माँ लंगड़ा कर चल रही थी. मैंने पूछा- क्या हुआ माँ?
वो बोली- मेरे पैर में मोच आ गई है, बहुत दर्द हो रहा है.

मैं समझ गया कि साहिल के जोरदार धक्कों से उसकी गांड फट गयी है.

कुछ दिनों तक ऐसा ही चलता रहा.

एक दिन साहिल ने कहा- तुम्हारी मम्मी ने मुझे नंगी फोटो भेजी है.. क्या तुम देखना चाहते हो?
मैंने कहा- हां दिखाओ.

उसने मुझे एक नंगी फोटो दिखाई. अब मैं अपनी मां की नंगी फोटो देखकर मुठ मारने लगा.

साहिल ने मेरी मां की फोटो मेरे दोस्तों को दिखाई और मेरे दोस्त मेरी मां को फोन करके कहने लगे कि तुम हमें अपनी चूत कब चोदने दोगी? (माँ की चुदाई की कहानी)

यह बात जब मेरी मां ने सुनी तो उन्होंने साहिल से पूछा- तुमने मेरी फोटो किसको दिखाई है?
वो बोला- आंटी, निशांत और सुशांत.

मेरी माँ चुप रही

साहिल बोला- आंटी, ये दोनों भी आपकी चूत लेना चाहते हैं.
मेरी मां भी उनके साथ सेक्स करने के लिए तैयार हो गईं.

अब वो तीनों मेरी माँ को चोदने के लिए साहिल के घर की छत पर ले आये और वो तीनों मिलकर चोदने लगे.
मेरी मां उन तीनों के साथ धूप वाली छत पर सेक्स कर रही थी.

इसी बीच साहिल की मां ने मेरी मां को छत पर साहिल, निशांत और सुशांत के साथ Chut Chudai करते हुए देख लिया.
साहिल की मां मेरी मां की दोस्त थीं और उनका अपने ड्राइवर के साथ भी अफेयर चल रहा था.

अब वो मेरी माँ के साथ सेक्स करना चाहती थी.

सुशांत और निशांत दोनों भी उसे चोदने के लिए तैयार थे। साहिल की माँ और मेरी माँ दोनों को चोदने के लिए कहने लगा.
लेकिन साहिल अपनी माँ को चोदना नहीं चाहता था. (माँ की चुदाई की कहानी)

इतने में मेरी मां बोलीं- अगर तू नहीं चोदेगा तो क्या होगा … तेरा ड्राइवर तेरी मां को चोद रहा है.
यह सुनकर साहिल बोला- आपकी चुदाई के बारे में आपका बेटा भी जानता है.. तो क्या आप उसे भी चोदने देंगी?

मेरी मां ने कहा- हां दे दूंगी. अब तू अपनी माँ चोद.
साहिल बोला- अगर रोशंक तुम्हें चोदेगा … तो मैं भी अपनी मां चोदूंगा.
मेरी मां ने कहा- ठीक है, तुम मेरे बेटे को बुलाओ.

साहिल ने मुझे फोन किया और अपनी छत पर बुलाया. मैं वहां गया तो देखा कि मेरी मां नंगी थी. निशांत और सुशांत मेरी माँ के पास बैठे थे. वहां साहिल और उनकी मां भी थीं.

जब मेरी मां ने मुझे देखा तो बोलीं- रोशंक, अपनी पैंट उतारो और मुझे चोदो.
यह सुन कर मैं खुश हो गया.

मैं माँ के मम्मे दबाने लगा और निशांत अपना लंड मेरी माँ की Tight Chut में डाल कर झटके दे रहा था.
साहिल की माँ सुशांत का लंड चूस रही थी.

फिर साहिल ने मेरी माँ से कहा- पूर्वी, मेरा लंड चूसो.

वो सब मेरी माँ को ही चोदना चाहते थे. साहिल की माँ बोली- तो मुझे कौन चोदेगा?
मैं साहिल की माँ चोदने लगा.

उधर वो तीनों मेरी मां को कुतिया की तरह चोद रहे थे. वो तीनों एक के बाद एक अपना लंड जोर जोर से और बिना रुके मेरी माँ की चूत में डाल रहे थे. (माँ की चुदाई की कहानी)

ऐसा ही चलता रहा.
मेरी माँ के आशिक बदलते गये और मेरी माँ आज भी चुद रही है. मैं शादीशुदा हूं लेकिन इसके बाद भी मेरी मां की चूत में लंड घुस रहा था.

अब मेरी मां डिस्को जाने लगी थीं. वहां उसने एक बाउंसर से चुदना शुरू कर दिया.

एक दिन बाउंसर के पास जगह नहीं थी. उसने मेरी मां से कहा- क्या आज तुम कार में चुदोगी?
माँ बोलीं- मुझे चुदने का शौक है.. जहाँ चाहो चोद लेना।

वो पार्किंग में खड़ी कार में ही माँ को चोदने लगा. इसी बीच जिसकी कार थी वह भी आ गया।

उसने चुदाई देख कर कहा- मुझे जाना होगा … अब चुदाई ख़त्म करो.
मेरी माँ गर्म हो गई थी, बोली- तुम भी करो.

उसने कहा- करने दोगी?
माँ बोलीं- हां आ जाओ … अगर तुम्हारे अलावा और भी लंड होते तो मैं उन्हें चोदने देती.

कार का ड्राइवर माँ को चोदने के लिए तैयार हो गया. वो और बाउंसर मिलकर मेरी मां को चोदने लगे. वो दोनों जोर जोर से चुदाई कर रहे थे और मेरी मां जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी.

उन दोनों के लंड बहुत मोटे थे. उसकी चुदाई से मेरी माँ की चूत फट रही थी.
कुछ ही देर में मेरी माँ उनकी चुदाई से चरम सुख पर पहुँच गयी थी, लेकिन वो दोनों मेरी माँ को इस तरह चोद रहे थे कि कार हिल रही थी।

कार चलती देख दो बाउंसर कार की ओर आये.
उन्होंने देखा कि कार में सेक्स हो रहा था. वो दोनों बोले- हम भी करेंगे.
मेरी मां ने कहा- आओ तुम दोनों भी करो.

अब वे चार हो गये। कार में जगह कम थी. उसने मेरी मां को कार से बाहर निकाला और चोदने लगा.

मेरी माँ बिना किसी डर के चुद रही थी. उनमें से एक ने कहा- चलो इसे मेरे कमरे में ले चलो, वहाँ इसे अच्छे से चोदेंगे।

मेरी माँ चुदने के लिए तैयार थी. वह उसके कमरे में गयी. चारों मेरी माँ चोदने लगे। माँ चार लंडों से चुद कर मस्त हो गयी थी.

इतने में कार ड्राइवर बोला- अब मुझे जाना होगा. (माँ की चुदाई की कहानी)

उसने छोड़ दिया। उसके बाद उन तीनों ने मेरी मां को खूब चोदा.

चुदाई के बाद माँ बोलीं- मुझे बियर पीना है.
एक बाउंसर बोला- ये बीयर नहीं, शराब है.
माँ बोली- ठीक है, मुझे दारू पिलाओ और चोदो.

उन सबने शराब पी और पूरी रात मेरी माँ को चोदा।

सुबह होते ही तीनों बाउंसर बोले- रात को हमने मस्ती की.
माँ ने कहा- अगर तुम्हारे बाकी दोस्त भी चाहें तो उन्हें भी बुला लो. मुझे तुम्हारे जैसे बड़े और मोटे लंड पसंद हैं.

वो बोला- तुम्हारे जैसी मद्रासी को चोदने में मजा आया.

उसने मेरी मां का नंबर लिया और मेरी मां को मेट्रो तक छोड़ दिया.

जब मां घर आईं तो मैंने उनसे पूछा कि वह पूरी रात कहां रहीं?
तो माँ ने हंस कर बताया कि आज मैं चार लोगों से चुदवा रही थी.
और उसने मुझे माँ की चुदाई की पूरी कहानी बताई.

आपको मेरी यह माँ चोद कहानी कैसी लगी… कृपया मुझे मेल करके जरूर बताएं। जिन लोगों को माँ की चुदाई की कहानी में मजा आया हो वो ही मेल करें.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds