चुदक्कड़ अम्मी ने बनाया बेटियों को जगत रांड | Indian Muslim Sex Story

चुदक्कड़ अम्मी ने बनाया बेटियों को जगत रांड | Indian Muslim Sex Story

इस Indian Muslim Sex Story हिंदी में एक मुस्लिम रांड औरत, जिसे हर रोज लंड चाहिए, जब उस मुस्लिम रांड की बेटियाँ जवान हुई तो उसने अपनी बेटियों को भी जगत रांड बना दिया।

आइए इस  Indian Muslim Sex Story के माध्यम से जानते हैं

दोस्तों मेरा नाम Owaisi है।

मैं अपने दोस्तों, पहचान वालों, रिश्तेदारों और अपने कॉम में चुदने वाली बहन बेटियों की आप बीती चुदाई की घटनाएँ सुन कर यहाँ कहानियाँ लिखता हूँ।

मेरी पिछली कहानी थी: कामवासना से भरी छोटी बहन की बुर चुदाई

ऐसी ही एक कहानी एक मुस्लिम रांड औरत की है जिसे मैंने और सारे Indiranagar ने कई बार चोदा है.

एक बात और ये जो मुस्लिम रांड औरत है वो मरी अम्मी है।

पढ़िए यह Indian Muslim Sex कहानी उसी रंडी के शब्दों में।
मैं अपने दोस्तों, पहचान वालों, रिश्तेदारों और अपने कॉम में चुदने वाली बहन बेटियों की आप बीती चुदाई की घटनाएँ सुन कर यहाँ कहानियाँ लिखता हूँ।

दोस्तो, मेरा नाम अस्मा बेगम है।

मैं 40 साल की एक खूबसूरत रंडी हूं. मैं अपने शरीर का बहुत ख्याल रखती हूं.

मेरा रंग गोरा, कद 5′ 5″ और चेहरा गोल है.
मेरी आंखें बड़ी-बड़ी हैं, मेरे Big Boobs हैं और मेरी बांहें खुली हुई हैं यानी मेरी छाती चौड़ी है.

मैं आज के माहौल में रहती हूँ, पढ़ा-लिखा हूँ, मस्त हूँ और बड़े परिवार से हूँ।

मेरी दो बेटियां हैं जिनका घरेलू नाम फातिमा और सना है।

मेरी शादी को जब 11 साल हुए थे तब एक छोटी सी बात पर शौहर से कुछ ‘तू तू मैं मैं’ हो गयी थी। तो उस दल्ले ने मुझे तलाक दे दिया।

मैं उसके घर रुकी नहीं बल्कि अपने अब्बू के घर आ गई।

मैंने उसकी झांट परवाह नहीं की, मैंने कहा- भोसड़ी के तू मेरा क्या उखाड़ेगा?

तुम मेरी एक भी झांट का बाल टेढ़ा नहीं कर पाओगे…तुम्हारे है ही क्या?

तुमने मुझसे दहेज के आधार पर निकाह किया था।

तुम्हारे पास जितने पैसे हैं, उतने तो मैं अपनी चूत के रख-रखाव पर खर्च कर देती हूँ।

तेरी माँ का भोसड़ा सुवर की औलाद! क्या तुम्हें लगता है कि तुमने मेरी जवानी बर्बाद कर दी है?

तो तू बहुत बड़ा चूतिया है… तू नहीं तो क्या सैकड़ों लोग हैं जो मुझे चोदने वाले हैं।

बड़े बड़े लंड वाले लोग मुझे चोदने के लिए लाइन में खड़े रहते हैं।

तुम्हारा छोटा लंड तो ठीक से चोद भी नहीं पाता.

पराये मर्दों से चुद कर मैंने दो बेटियों को जन्म दिया हैं।

मैं तुम्हारे साथ होती तो अब तक कुछ नहीं हुआ होता. मैं जा रही हूं,

अब वापस नहीं आऊंगी. दल्ले की औलाद ,मादरचोड़ ,नफुसनाक, सुवर की टाटे।

मैं सच में बहुत सेक्सी और हॉट रांड हूँ दोस्तो!
मेरी उम्र 40 साल जरूर है लेकिन मैं 31/32 साल से ज्यादा का नहीं दिखती.
ऐसा लोग कहते हैं.

मुझे लन्ड पकड़ने और चुदवाने का बहुत शौक है।
मैं आज की महिला हूं, आधुनिक समय की रंडी हूं और खुलकर सेक्स का आनंद लेने वाली महिला हूं। मैं खुल कर गन्दी गन्दी बातें करती हूँ और प्यार से गालियाँ भी देती हूँ।

मेरा मकसद अपनी जिंदगी प्यार-मोहब्बत से गुजारना है।’

मैं अपनी बेटियों के साथ अपनी अम्मी और अबू के साथ रहने लगी।

कुछ दिनों बाद मेरे पिता भी चल बसे और माँ भी।
अब पूरे घर पर मेरा कब्जा है.

उधर, मेरी बेटियां भी बड़ी होने लगीं. मैं अपने बदन की आग बुझाने के लिए बाहर से ही Bur ki Chudai करवाने लगी.

कभी अपने रिश्तेदारों से Bur Chudai कर वाती, कभी अपनी गली के लोगों से या पास पड़ोस के लोगों से चुदवाती, कभी किसी पार्टी में कोई लंड मिल जाता तो उसे अपनी चूत में भर लेती, कभी चुदवा कर आती।

कभी अपने सहेलियों के शौहरों से चुदवा कर आ जाती।

ये ऐसे ही चलता रहा.

हां एक बात और है, कभी-कभी जब मेरी बेटियां कॉलेज में होती थीं
मैं अपने यारों को बुलाकर उनसे घर में ही चुदवा लेती।
मुझे कभी भी लंड की कमी महसूस नहीं हुई.

और जब मेरी दोनों बेटियां जवान हो गईं तो मैं सोचने लगी कि अब क्या करूं?

कब तक छुप-छुप कर चूमती रहूंगी?

एक दिन मेरी बेटियों को ज़रूर पता चलेगा।
तो फिर अब क्यों न उनसे खुलकर बात की जाए!

एक दिन मैंने दोनों बेटियों को बुलाया और कहा- देखो फातिमा और सना, तुम अब जवान हो गयी हो। इसलिए मैं तुमसे कुछ भी छुपाना नहीं चाहता.

तुमसे खुल कर बात करना चाहती हूँ। मैं भी अभी जवान हूँ।

सच्चाई यह है कि हम तीनों को चाहिए लण्ड, लण्ड और लण्ड.

तुम लोग भी लण्ड का मज़ा लेना सीखो।

लंड चूमना, चाटना और चूसना सीखो।

लंड पेलवाना सीखो। माँ चुदाना सीखो।

मैंने आगे कहा- अब देखो, घर में कोई लंड नहीं है, मुझे तो बाहर वालों के लंड पर ही भरोसा है. ऐसे में क्यों न हम तीनों मिलकर लन्ड बजायें और एक साथ लन्ड का मजा लें!

एक या दो लंड ले आओ… अब आज के बाद हम तीनों मिलकर इसका मजा लेंगे.

मैं उससे बोलती रही- देखो बेटी, मैं मादरचोद बड़ी चुदक्कड़ रांड हूँ।

मैं लंड के बिना एक दिन भी नहीं रह सकती.

मुझे पता है तुम लोग भी लंड के बिना नहीं रह सकती हो.

तो फिर आज से ही शुरुआत करें. आज से हम तीनो सहेलियाँ हैं और एक दूसरे की चूत का ख्याल रखने वाली सहेलियाँ हैं।

खुल कर गन्दी गन्दी बातें करो, हंसी मजाक करो और खूब प्यार से गालियाँ देकर जवानी का मजा लूटो।

जवानी का एक-एक दिन बहुत कीमती होता है। इसे बर्बाद मत करो।

फिर मैं गाली देने लगी और बोला- समझ गयी बुरचोदिस फातिमा और सना?
तेरी माँ का भोसड़ा !
दोनों एक स्वर में बोले- हाँ, समझ गयी मेरी हरामजादी माँ!
फिर हम तीनों ज़ोर से हंस पड़े.

मैंने सोंचा की ये दोनों तो बहुत जवान लड़कियाँ हैं
इसलिए अब तक तो लन्ड पकड़ ही चुकी होंगी।
हो सकता है पेलवाया भी हो. लेकिन मुझे नहीं बताया.
आप भी कैसे बताएं… आज ही तो ये मेरे सामने खुला है.
अब आगे सब पता चल जाएगा.

मैं सोच ही रही थी कि किसी ने दरवाजे की घंटी बजाई.

मैंने दरवाज़ा खोला तो सामने अब्बास खड़ा था।
वह मेरी ननद का बेटा है.

उसके पीछे एक और लड़का था.

अब्बास बोला – आंटी जान, यह मेरा दोस्त इब्राहिम है।

मुझे दोनों लड़के पहली नजर में ही पसंद आ गये. मैंने मन में कहा मैं तो लंड की बात ही कर रही थी कि ऊपर वाले ने मेरे लिए दो लंड भेज दिये.

आज मैं इनके लन्ड के बिना अपनी जवान बेटियों की बुर में पेल कर ही मानूंगी। चाहे उसकी माँ भोसड़ी वाली ही क्यों न चोदे।

मैंने उन दोनों को बैठाया और बातें करने लगी.

मैंने कहा-अब्बास, तुम बहुत बड़े हो गये हो।

तुम एक आदमी बन गए हो!

वो बोला- हां आंटी, मैं सच में मर्द बन गया हूं.

“तो फिर आप शादी कब कर रहे हैं?”
“यह बस एक महीने के बाद।”

“अरे वाह! फिर हनीमून पर क्या करोगे?”
“मैं वही करूँगा जो बाकी सब करते हैं!”

 “आजकल लोग सुहागरात में अपनी बीवियां दूसरों से चुदवाते हैं, क्या तुम भी चुदवाओगे?”

“अगर मेरी बीवी राज़ी हो तो मैं दूसरों से भी चुदाई करवा लूँगा, मुझे कोई आपत्ति नहीं है क्योंकि मैंने इब्राहिम की बीवी को उसकी सुहागरात पर चोदा था।”

“तो इसका मतलब तुम्हें चुदाई करना आता है।”

“हाँ, तुम तो एक रंडी हो तुम तो चुदना जानती ही हो मामीजान!”

“तो फिर मुझे से भी चुद लो 1000/- रुपए दुगा।”

बोले मामीजान अपनी Gand ki Chudai करवाओ गई क्या इब्राहिम और मेरे साथ।

इतने में मेरी दोनों बेटियां आ गईं.

फातिमा ने कहा-अरे अब्बास भाई, तमीज रखो। अम्मी रंडी बाद में है

पहले तुम्हारी मामीजान है

अब्बास बोला – कहा तेरी अम्मी एक जगत रंडी है।

फिर फातिमा की मां अस्मा बेगम ने अपनी दोनों बेटियों को चुप कर आया और बोला कोई नहीं तुम्हारे बड़े भाईजान है

कुछ भी बोल सकते हैं इनके अब्बू का मैंने बहुत लंड चूसा है

फिर अब्बास बोला- अरी यार फ़ातिमा तू तो कमाल हो गयी। तुम बहुत जवान हो गये हो.

आप बहुत अच्छे लग रहे हैं। तेरी बहन सना भी बहुत हॉट लग रही है.

मैं सच कह रहा हूँ

कि मेरी नियत तुम दोनों पर ख़राब हो रही है!

अगर तुम मुझे इतना बढ़िया माल दिखाओगे तो मेरे हथियार का क्या होगा?

मैंने कहा- हथियार, लंड, बेटा, लंड मत कहो!
मेरी बेटियाँ वयस्क, निर्भीक और निर्लज्ज हो गई हैं। सब कुछ जानती है। वह बहुत खुलकर बात करती हैं.

फिर मैंने कहा- फातिमा और सना, तुम लोग उन दोनों के लिए ऑमलेट नाश्ता ले आओ.

वो दोनों ऑमलेट बनाने के लिए किचन में चली गईं और मैंने उन दोनों को सोफे पर बैठा दिया.
मैंने हंस कर कहा – भोसड़ी के अब्बास, लगता है मेरी बेटियों को देख कर तेरी लार टपकने लगी है।

उसने कहा- हां, सच में मेरी लार टपकने लगी है! आपकी बेटियाँ बहुत छोटी हैं, प्रिय मम्मीजान।

मैंने अब्बास के पायजामे का नाड़ा खोला और उसके अंदर हाथ डालते हुए कहा- अच्छा तो मैं देखूंगी कि तेरे लंड की लार टपक रही है या नहीं?
इसी तरह मैंने भी इब्राहिम के पजामे के अंदर हाथ डाल दिया.

मैं दोनों लन्ड अंदर ही अंदर सहलाने लगी।
मुझे ऐसा महसूस हुआ कि लंड की लार लंड के टोपे से बाहर निकल रही है.

दोनों लंड का टोपा बहुत शानदार लग रहा था.

फिर वो दोनों भी मूड में आ गये तो उन्होंने अपने कपड़े खोल दिये और मेरे Pink Nipple को सहलाने लगे।

अब्बास बोला – मम्मीजान, तुम्हारा मम्मा तो बहुत बड़ा है ! उन्हें देखना मजेदार था. इन्हें मसलने में बहुत मजा आता है.

उधर मुझे एहसास हुआ कि उन दोनों के लन्ड भी बड़े दमदार हैं।

फिर मैंने दोनों के लंड पजामे से बाहर निकाले और लंड देख कर बोली- अब्बास, एक बात कहूँ… तेरा लंड तो तेरे अब्बू के लंड से भी बड़ा हो गया है!

बेटा अब्बास तेरा अब्बू मेरा ननदोई है। उसका मेरे साथ एक रिश्ता है.
उसने कई बार मेरी चूत में अपना लंड डाला है. आज मैं भी तुमसे रिश्ता बनाऊंगी.

इतने में फातिमा और सना नाश्ता लेकर आ गईं.

फातिमा बोली – वाओ, इन लोगों के लौड़े कितने बड़े बड़े हैं
यार अस्मा ? तुमने तो उन्हें नंगा करके कमाल कर दिया?
सना बोली – हां यार, लंड तो बड़ा प्यारा लग रहा है। दोनों लंड कितने खूबसूरत हैं… मेरी तो चूत में पानी आ गया.

फिर मैंने कहा – ले बुर चोदी फातिमा, पकड़ो अब्बास का लौड़ा और लो पूरा मज़ा ? और तुम सना का माँ का लौड़ा पकड़ो और इब्राहिम के लौड़े का मज़ा लो।

वे दोनों एक एक लन्ड पकड़ कर मज़ा लेने लगीं।

मैं अपनी दोनों बेटियों के हाथ में एक एक खड़ा लण्ड देख कर बड़ी खुश हुई।

मैंने पहली बार अपने हाथ से अपनी दोनों बेटियों को लण्ड पकड़ाया। मुझे अपनी बेटियों पर गुमान हो रहा था।

बेटियां जब जवानी में नंगी नंगी लण्ड से खेलती हैं तो उन्हें बड़ा मज़ा आता है।

फिर मैंने अपना घाघरा खोल डाला तो मेरा भोसड़ा सबकी आँखों के सामने मचल उठा।
मैंने घूम कर फातिमा के सारे कपड़े उतार दिये, बोली- बेटी जब लौड़ा हाथ में होता है तो बदन पर कपड़े अच्छे नहीं लगते।

फिर मैंने सना के कपड़े उतार दिए और उसे पूरी नंगी कर दिया.

जब मेरी दोनों मस्त जवान बेटियाँ नंगी हुईं तो उन्हें देख कर लंड और भी टन टनाने लगा।
मैं भी उन दोनों के साथ लन्ड चाटने और चूसने लगी।

अब्बास एक हाथ से सना के मम्मे दबाने लगा और इब्राहिम एक हाथ से फातिमा की चूत सहलाने लगा।

इतने में मुझे लगा कि कोई ऊपर से उतर रहा है; छत के रास्ते कोई धीरे-धीरे अंदर आ रहा है.

मेरा अनुमान सही था.
वह मेरे पड़ोस का लड़का शेखू था.

वो हमारे सामने आया और हम सबको नंगा देख कर चौंक गया.
मैंने कहा- शेखू तुम यहाँ कैसे आये?
वो बोला- अरे आंटी, छत का दरवाजा खुला था तो मैं अन्दर आ गया.

मैंने कहा- ठीक है, तुम यहाँ मेरे सामने आओ!

उसके आते ही मैंने उसके भी कपड़े उतार दिए और उसका लंड पकड़ कर हिलाने लगी.
लन्ड साला पूरा खड़ा हो गया। लंड का साइज मर्दों से भरा हुआ था.

मैंने पूछ ही लिया- कल किसकी चूत में लंड डाला था?
वो बोला- कल रात को मैंने जोश में आकर अपनी माँ की चूत में लंड दे दिया.

मैंने कहा- अच्छा ये कैसे हुआ?
वो बोला- क्या करोगे… मेरी मां पहली बार मेरे सामने मेरे जीजू से चुदाई करवा रही थी. जब मेरे जीजा ने अपना लौड़ा मेरी माँ की चूत से निकाल कर मेरी मौसी की चूत में पेल दिया तो मैंने अपना लौड़ा अपनी माँ की चूत में घुसेड़ दिया। वो भी मस्ती से चूमने लगी.

मैंने कहा – तो तू अपनी माँ चोद कर आ रहा है ? बहुत मजा आया होगा?
उसने कहा- हां, सच में बहुत मजा आया.

फातिमा ने पूछा – तुम्हें अपनी माँ चोदने में शर्म नहीं आती ?
वह बोला – मेरा दोस्त भी अपनी माँ चोदता है। मैंने उसे अपनी माँ चोदते हुए देखा। मेरा जीजा भी अपनी माँ चोदता है इसलिए मुझे कोई शर्म नहीं आती। और फिर एक दिन मेरी माँ ने खुद मुझसे कहा कि बेटा सेक्स के दौरान हर किसी की चूत में लंड डालना जायज़ है, इसमें कोई शर्म नहीं होनी चाहिए। माँ का भोसड़ा चोदो या बेटी की Moti Gand!

मैं अपनी बेटियों के सामने नंगी नंगी होकर शेखू का लौड़ा चूसने लगी।
तब क्या? पूरा माहौल गर्म हो गया.

फिर अब्बास ने फातिमा को अपनी ओर खींचा, उसकी टाँगें फैलाईं और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया!
अब्बास ने एक ही झटके में पूरा लंड पेल दिया.

फातिमा चीख पड़ी- हाय रे जान, मैं मर गयी! मेरी गांड तोड़ दी… इतना बड़ा लंड दिया भाई ने! बहुत दर्द हो रहा है. मुझसे बहनचोद लूट लिया गया, मेरी इज्जत खो गई.

इतने में इब्राहिम ने भी अपना लंड सना की चूत में घुसा दिया.

वो भी चिल्ला उठी- हए अल्ला , तेरा लंड तो बहुत मोटा है. तुमने तो मेरी बुर फाड़ दी… मेरी इज़्ज़त ले ली! साले तू बड़ा हरामी है, तेरी माँ की चूत… तेरी बहन की बुर।

इस तरह मेरी दोनों बेटियां खूब मजे से चुदवाने लगीं।
मैं खुशी से फूली जा रही थी; मैं इसी दिन का इंतजार कर रही थी।

Wildfantasy.in के पाठकों उम्मीद है आपको इस कहानी में मजा आ रहा होगा आज की कहानी बस यही तक आगे की कहानी में जानिए मैं फातिमा और मेरी छोटी बेटी किस तरीके से तीनों लंड से एक एक बार करके चोदी।

पाठक कहानी कैसी लगी मुझे मेल के माध्यम से बताएं और इस कहानी पर ज्यादा से ज्यादा कमेंट करें

यदि आपको यह Indian Muslim Sex Story पढ़कर सेक्स करने का मन हुआ हो तो आप हमारी परखी हुई वेबसाइट (Bangalore Escorts)पर जाकर अपने लिए कॉल गर्ल और फीमेल एस्कॉर्ट बुक कराकर उनके साथ बेहतरीन Wild Sex कर सकते हैं

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds