हॉट साली सेक्स स्टोरी – जीजा ने अपनी साली को मालिश के बहाने चोदा

हॉट साली सेक्स स्टोरी – जीजा ने अपनी साली को मालिश के बहाने चोदा

आज मैं आपको अपनी नई हॉट साली सेक्स स्टोरी सुनाने जा रहा हूं जिसमें जीजा ने हॉट बहन की जवानी का लुत्फ उठाया।

मेरा नाम आशिका पटेल है। मैं प्रतापगढ़ का रहने वाला हूं। मैं तीस वर्षीय हूं।

मेरी छोटी बहन की शादी एक बैंक मैनेजर से हुई थी।
दीदी उस वक्त 22 साल की थीं और बेहद खूबसूरत भी तो लड़कों ने उन्हें देखते ही हां कर दी।
लेकिन पिता ने कहा था कि वह दहेज में कुछ नहीं दे पाएंगे।

जीजा बहन का दीवाना हो गया था और कहा था कि वह उसी से शादी करेगा।
पिता भी ऐसे दामाद को पाकर खुश थे क्योंकि जीजा खुद शादी का खर्चा उठाने को तैयार हो गया था।

शादी भी कर ली।
दीदी को हनीमून के लिए  गोवा ले गए और वहां 10 दिन रहे।

शादी के दो महीने बाद बहन और जीजा घर आ गए।
दीदी और जीजाजी से मिलकर हमें बहुत खुशी हुई।

मेरी बहन पूरी तरह बदल चुकी थी। उसका हर अंग उभर आया था।

जीजाजी हमारे लिए कपड़े और उपहार लाए।
उपहार और वस्त्र पाकर बहन को गले से लगाया तो जीजाजी बोले- हमें गले नहीं लगाओगे?
तो मैंने जीजाजी को भी गले से लगा लिया।

उसने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और मैं चीख पड़ी।
दीदी भी साथ में खड़ी थी, बोली-बस करो, अभी रहने दो, छोटी है।

फिर हम सबने खाना खाया और सोने का समय हो गया।
बहन बोली- आज माँ के पास सोऊँगी।
जीजा के लिए अलग से बिस्तर बनाया गया था।

बहन और मां अलग कमरे में, पिता और दोनों भाई अलग कमरे में लेट गए।
सोने से पहले जीजा ने कहा कि उसके पैरों में बहुत थकान है, इसलिए वह गर्म तेल की मालिश करवाना चाहता है।
मां ने मुझे यह जिम्मेदारी छोटी बहन को सौंपी।

यह सुनकर मैं दंग रह गया।

तो मैंने तेल गरम किया और उनके पास मालिश के लिए गया।

उस वक्त वह 18 साल की थी लेकिन सेक्स के बारे में ज्यादा नहीं जानता थी।
बस इतना पता था कि पति-पत्नी एक-दूसरे को चूमते और चाटते हैं। दीदी भी मेरे साथ जीजा के कमरे तक आ गई।

वह यह कहकर चली गई कि तुम्हारी वह  मालिश करेगी और फिर यहीं सो जाएगी। ज्यादा पंगा मत लेना
फिर जीजाजी से मसाज के लिए कहा।

उस वक्त लोअर और टी-शर्ट पहन रखी थी, नीचे से पैंटी पहन रखी थी लेकिन ऊपर से ब्रा नहीं थी।
मेरा फिगर 30-26-32 था, जो बाद में मुझे मेरे जीजा ने सिखाया।
गांड मेरे स्तन से बड़ी थी।

बहन के जाने के बाद जीजा ने यह कहकर दरवाजा बंद करने को कहा कि अगर पापा ने देख लिया तो उन्हें अच्छा नहीं लगेगा।
मैंने उठकर दरवाजा बंद कर दिया।

जीजाजी ने भी लोअर पहना हुआ था।
फिर उसने निचले हिस्से को घुटनों तक ऊपर खींचा और मैं उसके तलवों से लेकर पिंडलियों तक मालिश करने लगा।
वह चुपचाप लेटा हुआ था।

फिर बोर हो कर मैं कुछ बात करने लगा।
मैंने कहा- दीदी बिल्कुल बदल गई हैं। आपके यहां ऐसे क्या खाते हैं?
जीजाजी – क्या तुम भी ऐसा बनना चाहते हो?

मैने हां कह दिया।
जीजा- शादी के बाद तुम भी ऐसे हो जाओगे। वैसे आपकी उम्र क्या है?
मैं- 18 साल।

जीजा – ऐसा नहीं लगता, कोई बॉयफ्रेंड वगैरह है या नहीं?
जीजाजी – वो कोई फिगर नहीं लगती।

मैं- फिगर क्या होता है?
जीजाजी – अब मैं आपको कैसे समझाऊं कि होता क्या है।
मैं- बताओ, मुझे जानना है।

जीजा- ठीक है, तुम बड़े हो गए हो तो ये भी जानना जरूरी है। लेकिन वादा करो कि तुम ये बातें किसी को नहीं बताओगी, तभी मैं बता सकता हूं।
मैं- हां, पक्का वादा। मैं किसी को नहीं बताउंगा।
जीजा- हां, अपनी बहन को देखो, शादी से पहले कैसी थी और अब कैसी हो गई है?

मैं- हां देख रही है, इसलिए पूछ रही हूं।
जीजा- हां, तो उसके शरीर में क्या बदलाव देख रहे हो?
मैं- दीदी पहले ही मोटी हो गई है और उसका शरीर भरा हुआ है।

फिर वो कुछ कहते इससे पहले ही उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर मसाज करने से रोक दिया.
कहा- ठहरो, मैं नीचे उतारता हूं, नहीं तो तेल नीचे को खराब कर देगा।
दोस्तों मेरे जीजा का शरीर बिल्कुल पहलवान जैसा था, लंबा, चौड़ा और भारी।

जीजाजी ने लोअर उतार दी और सिर्फ अंडरपैंट में आ गए।
मुझसे कहा- तुम्हें शर्म नहीं आती?
मैं शर्मा रही थी, फिर भी बोली- नहीं, आगे तुम बताओ।

जीजा- देखो आशिका, जब लड़की जवान होती है तो उसका फिगर ही उसे खूबसूरत बनाता है। जैसे आपकी बहन का फिगर पहले कम था, लेकिन शादी के बाद मैंने आपकी बहन के फिगर को परफेक्ट बनाने के लिए काफी मेहनत की है, इसलिए अब वह ऐसी हो गई है।
मैं- वो तो ठीक है लेकिन फिगर किसे कहते हैं?
जीजा- अरे पगली पहले ये तो बता तू ब्रा पहनती है या नहीं?

मैं नहीं।
जीजा- आप इसे क्यों नहीं पहनते?
मैं- मम्मी कहती हैं अभी मत पहनो बाद में पहन लेना।

इतने में जीजाजी ने मेरा हाथ पकड़ कर खींच लिया और दूसरे हाथ से मेरे निप्पल को पकड़ते हुए बोले- तुम 18 साल की हो, इस हिसाब से इन्हें काफी बड़ा होना चाहिए था।
फिर दूसरे हाथ से मेरी पीठ को सहलाते हुए बोले- तुम्हारी पीठ ठीक है।
फिर उसने अपना हाथ और नीचे ले लिया और मेरे नितम्बों को दबाते हुए कहा- इनका भी आकार बढ़ाना होगा।

मैं- पर जीजाजी ये कैसे बड़ा होगा, मेरे सारे दोस्त ऐसे ही हैं सिवाय शायरी के।
जीजाजी- कविता की उम्र कितनी है?
मैं- वह दीदी की तरह है।
जीजा- उसका कोई बॉयफ्रेंड है क्या?

मैं- हां जीजाजी, उसका एक बॉयफ्रेंड है।
जीजाजी- आपको उसके स्तन और चूतड़ अच्छे लगते हैं या नहीं? क्या आप भी ऐसा ही करना चाहते हैं?
मैं- हां जीजाजी, मुझे भी करवाना है, उसके लिए क्या करना होगा।

जीजा- देखो, जैसे मैंने तुम्हारी बहन का फिगर बड़ा किया है, वैसे ही उसका बॉयफ्रेंड उसका फिगर बड़ा कर रहा है। अगर तुम मुझे अपना बॉयफ्रेंड बना लो और किसी को मत बताना, तो मैं तुम्हें अपनी बहन की तरह कूल बना दूंगी।
मैं- किसी को पता चलेगा तो मेरा फिगर देखकर?
जीजा – कुछ पता नहीं, तू तो अभी जवान हो गया है, तुझे कोई अच्छा आदमी चाहिए जो तेरी जवानी संभाल सके।

मैं उसे सुनता रहा और मसाज करता रहा।

तभी जीजाजी ने कहा – मेरी भी जांघों की मालिश करो, उसके बाद मैं तुम्हारी मालिश करूंगा और आज से इसे बढ़ाने का काम करूंगा। मैं अभी एक सप्ताह यहां रहूंगी, एक सप्ताह में तुम्हें पूर्ण स्त्री बना दूंगी। लड़की से औरत कब बनेगी ये देखने में कितना मजा आएगा।
जीजाजी ने मेरी चूची दबाते हुए कहा- कुछ सवाल करता हूं, ठीक से जवाब दो।

मैं- जीजाजी से पूछो।
मेरे दोनों निप्पलों को पकड़कर ज़ोर से दबाते हुए बोली- कभी किसी ने ऐसे दबाया है क्या?
मैं- आह… नहीं ऐसा आज तक किसी ने नहीं किया।

जीजा- मेरी भाभी को अपने निप्पल रगड़ते हुए कैसा लग रहा है?
मैं- आराम करो, बहुत दर्द हो रहा है।
उसने कहा – तुम मेरी जाँघों की अच्छे से मालिश करो और मुँह से आवाज मत निकालो, नहीं तो पापा आ जाएँगे।

इतना कहकर उसने मेरी टी-शर्ट में हाथ डाला और मेरे स्तनों को बड़े प्यार से सहलाने लगा।
मुझे गुदगुदी होने लगी।

तभी मैंने देखा कि जीजा की जांघिया तंबू जैसी हो गई थी।
जब मैं उसकी तरफ देखने लगा तो उसने कहा- उसकी तरफ मत देखो, तुम अभी छोटे हो। तेरी बहन भी कह कर गई थी कि वो छोटी है, पहले तुझे बड़ा करूंगी, फिर तुझसे मिलवा दूंगी।

फिर उसने कहा- तुम दरवाजा बंद कर लो, ताकि कोई डिस्टर्ब न करे। तब मैं तुम्हें यौवन का ज्ञान दूंगा।

जब मैं जाने लगा तो उसने कहा- एक बार आकर देख लो कि सब सो गए हैं। सू-सू आदि करके आओ और फिर अपने नीचे की चीज को अच्छी तरह धो लो।

चेक किया तो सभी सो रहे थे।

और फिर जैसे ही मैं पेशाब करने बैठा तो मुझे लगा जैसे मेरी चूत से कुछ निकल रहा है.
जब मैंने अपना हाथ चूत पर रखा तो वो थोड़ी चिपचिपी थी। मैंने पेशाब किया और चूत को अच्छी तरह से धोया।

जल्दी से मैं जीजाजी के पास पहुँच गया क्योंकि मुझे उसके बूब्स दबाने में बहुत मज़ा आ रहा था.

अंदर पहुँचा तो पाया कि जीजा ने अपनी टी-शर्ट और बनियान भी उतार दी थी, वह केवल जांघिया में था।

फिर वह उसकी पीठ के बल लेट गया और उसे अपनी पीठ की मालिश करने को कहा।

मैं एक आज्ञाकारी लड़की की तरह उनके बट्स पर बैठ गई और उनकी पीठ की मालिश करने लगी।

दस मिनट तक मसाज करने के बाद वह उठा और बोला- अब आप ही बताइये, क्या करूं.?
मैंने थनों की ओर इशारा करते हुए कहा- ऐसा ही करो, अच्छा लग रहा था।

जीजा-भाभी, अगर दबाना है तो टी-शर्ट उतारो, फिर मैं तेल लगाकर मालिश करूँगी और सारे बदन को अच्छी तरह मलूँगी।
मैंने अपनी टी-शर्ट उतार दी।

उसने कहा- बाकी कपड़े भी उतार दो।
मैंने कहा – तो मैं नंगा हो जाऊँगा !
उसने कहा- हां, तो फिर लाज छोड़नी होगी, नहीं तो क्या सीखोगे। जब कोई लड़की औरत बनना चाहती है तो उसे नंगा होना पड़ता है। लोवर निकालिये, आपके बट्स की भी मसाज करनी है।

मैंने कहा- बत्ती बुझा दो, मुझे शर्म आ रही है।
तो जीजाजी ने कहा – तुम्हें कैसे पता चलेगा कि कहां ज्यादा दबाना है और कहां कम? तुम उतार दो और नग्न हो जाओ।
मैं ऊपर से बिल्कुल नंगी हो गई।

उसने डॉक्टर की तरह मेरे स्तनों को अच्छे से देखा। फिर उनके निप्पल पकड़कर बोले- ये ढीले हैं।
मैं- तो क्या करें?
फिर उसने मुझे अपनी ओर खींचा और अपनी जांघ पर बिठा लिया और मेरे होठों को चूमने लगा।

पहले तो मुझे अजीब लगा लेकिन कुछ समय बाद मुझे मजा आने लगा और मैं भी उनका साथ देने लगा।
करीब 20 मिनट तक मेरे होठों को चूसा।

फिर कहा- अब निप्पल तो देखो!
मैंने देखा कि निप्पल बहुत टाइट थे।

फिर उसने निप्पल को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा।
उसने मुझे इस तरह बिठाया कि उसका लंड मेरी दोनों जाँघों के बीच मेरी चूत से पूरी तरह चिपक गया था.

वो 15 मिनट तक मेरे निप्पल को चूसता रहा और मुझे नशा होने लगा.
फिर उसने अपना चेहरा हटा लिया, तो मैंने कहा- क्या हुआ, रुक क्यों गए?
जीजा-भाभी, अब तुम्हें ज्ञान भी देना है, और चिंता मत करो, मैं तुम्हें पूरा भोग दूंगा, अब तुम लेट जाओ।

मैं लेट गई और जीजाजी ने मेरे निप्पल पकड़ लिए और बोले- इसे क्या कहते हैं?
मैंने शर्माते हुए कहा- तैसा।
भाई साहब? (निप्पल को पकड़े हुए)
मैं- निप्पल।

जीजाजी- बहुत अच्छा, बहुत अच्छा सीख रहे हो।
फिर वो मेरी जांघों पर बैठ गया और उसका लंड मेरी नाभि से टकरा रहा था.
फिर उसने सरसों का तेल लिया और मेरे निप्पलों को मज़ेदार तरीके से रगड़ने लगा।

20 मिनट तक मसाज करने के बाद जीजा ने मुझे जगाया और खुद लेट गए।
फिर कहा- भाभी, तुम भी वैसे ही करो जैसे मैं तुम्हारी मालिश कर रहा था।

मेरा ध्यान उसके अंडरपैंट्स पर गया तो मैंने उसकी तरफ देखा।
फिर बोले- क्या देख रहे हो, बैठ जाओ, बैठना पड़ेगा।
उसने अपने जांघिया में हाथ डाला और अपनी छड़ी अपने पेट से चिपका ली।

मैं बैठा तो उसका डंडा मेरी चूत पर दबने लगा. मैं गंगना गया।
फिर बोले – आह, भाभी, नितम्बों को आगे-पीछे करके छाती की मालिश करो।

उसकी छाती बहुत सख्त और बालों से भरी हुई थी, फिर मैंने छाती की मालिश करनी शुरू की। अब मुझे लगता है कि मेरे मूत्र पथ से कुछ लीक हो रहा है। वहां खुजली भी होने लगी।

कुछ देर मसाज करने के बाद वो उठा और उसका हाथ सीधा मेरी चूत पर चला गया.
डेढ़ घंटा बीत चुका था और अब तक मैं अपने जीजा का गुलाम हो चुका था।

जब उसने लोअर हटाने को कहा तो मैंने शर्माते हुए हटा दिया।
फिर जब उसने पैंटी के ऊपर हाथ रखा तो उसने पैंटी को भी हटाने को कहा। फिर उसने मेरी चूत को ध्यान से देखा.

उसने एक हाथ से मेरी जाँघों को सहलाया और दूसरे हाथ से मेरी चूत को छूने लगा.
मैं शरमा गया।
उसने कहा- तुम औरत बनने को तैयार हो!

फिर वो और भी मस्त होकर मेरी चूत को सहलाने लगा.
मुझे बहुत मज़ा आने लगा।

जीजाजी मेरी चूत को सहलाते हुए बोले- इसे क्या कहते हैं आशिका?
मैंने शर्माते हुए कहा- बुर!
जीजा – तो फिर चूत और सीना किसे कहते हैं?
मैं- इसे जीजू कहते हैं।

फिर उसने मुझे लिटा दिया और अपनी जीभ मेरी जाँघों के बीच घुमाने लगा और मेरी चूत को चाटने लगा।

मैं तो एकदम पागल हो गया, सिसकते हुए बोला- क्या कर रहे हो जीजा!
उन्होंने कहा- अभी आप एन्जॉय करें।

फिर वो मेरी चूत को चाटने लगा और मैं कोसने लगी.
मैं जीजू का सर अपनी चूत पर दबाना चाहता था लेकिन शर्म के मारे ऐसा नहीं किया।

फिर मुझे पेशाब होने लगा तो मैंने कहा- सुसु आ रही है।
उसने कहा- अब मैं नहीं हिलूंगा। जो आ रहा है उसे आने दो।

जीजू लगातार मेरी चूत को चाटता रहा।
देखते ही देखते मैं सातवें आसमान पर उड़ने लगा।

मैंने अपने जीजा का सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाया और मेरी चूत से गर्म पानी निकलने लगा.
मैं कांपने लगा लेकिन जीजाजी लगातार मेरी चूत को चाटते रहे.

मेरी चूत से जो कुछ निकला, जीजाजी ने उसे पूरा चाटा और कहा- आशिका, तुम अपनी बहन से भी ज्यादा नमकीन हो।
मैं- जीजाजी… Sssss… बड़ा मजा आ रहा है, खुजली बहुत तेज हो रही है, कुछ और करो मैं पागल हो जाऊंगी।
जीजाजी- आशिका, क्या तुम सारा मजा लेने के लिए तैयार हो?

मैं- हां जीजा जी, सारा मजा दे दो, मैंने कभी ऐसे मजा नहीं लिया।
फिर जीजा मेरे पास से हट गए तो मैंने उन्हें पकड़ लिया और कहा-कहां जा रहे हो, और क्या करें?
जीजाजी – मैं कहीं नहीं जा रहा, तैयार हो जाओ, मुझे अभी तुम्हारे चूतड़ों की मालिश करनी है!

मैं- नहीं जीजाजी, आप ऐसा मत कीजिए, आप मेरी चूत चाट लीजिए, मसाज बाद में हो जाएगा।
जीजा – मैं तो तैयार हूं, लेकिन मजा सिर्फ आपको आ रहा है, मुझे भी मजा दे दीजिए न?
मैं- मुझे नहीं पता कि कैसे मजा करना है।

जीजाजी ने अपनी चड्डी मेरे चेहरे के सामने ला दी और बोले- इसे बाहर निकालो और चूसो, जैसे मैं तुम्हारी चूत चाट रहा हूं.
मैं- ये क्या है जीजाजी?
जीजा- इसे लंड कहते हैं, इसके और भी नाम हैं लाड, मुसल नाम तो सुना ही होगा।

मैं शरमा रही थी तो जीजाजी ने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और कहा- तुम्हें अच्छा लगता है, जैसे मैं कर रहा हूं.
जैसे ही मैंने शर्माते हुए उसकी पैंटी नीचे की, एक मोटा पाइप मेरे होठों पर आ गया।
शायद मेरी कलाई से मोटी और बहुत लंबी थी।

जीजाजी ने कहा- अच्छे से चाट लो!
मैं पीठ के बल लेटा हुआ था और वो मेरे ऊपर उल्टा हो गया और मेरी चूत को चाटने लगा और बोला- मेरे लंड को चूसो और चाटो, और पूरा अपने मुँह में ले लो, तुम्हारी बहन पूरा ले लेती है!

मैंने अपना मुंह खोला लेकिन यह मेरे मुंह में नहीं जा रहा था।
मैंने कहा- यह मेरे मुंह से नहीं जा रहा है।
उसने कहा- जो कुछ भी करना हो, जल्दी करो, नहीं तो मैं फिर से तुम्हारे मुंह में डाल दूंगा।

फिर उसने मेरी टांगों को फैलाया और अपनी जीभ मेरी चूत के अंदर डाल दी और अपनी उंगली से मेरी चूत को सहलाने लगा.

मैं केवल उसके लंड के ऊपर से चाट रहा था।
जैसे ही जीजाजी की जीभ मेरी चूत में घुसती, मैं पागल हो जाता।

मैंने उसे अपनी जीभ अंदर रखने को कहा।
फिर उसने अपनी एक उंगली मेरी चूत में डालने की कोशिश की तो मुझे दर्द हुआ.

फिर भी उसने पूरी उंगली डाल दी और आगे-पीछे चलने लगा।
कुछ ही समय में, मैं बहुत उत्तेजित हो गया और अपनी गांड भी उठाने लगा।

उसने कहा-लगता है कि तू अपनी बहन से भी बड़ी वेश्या बन जाएगी। मैं तुम्हें अपनी रखैल बनाकर चोदूंगी।
तभी मेरी चूत से फिर कुछ निकलने लगा.

जीजा ने कहा – तुम बहुत हॉट आशिका रानी हो, मैं तुम्हें एक दिन वेश्या जरूर बनाऊंगा।
जीजाजी की बातें सुनकर मुझे मजा आ रहा था।

फिर वह उठा और बोला- क्या तुम मुझे चोदोगे?
मैंने कहा- यह क्या है?
उसने कहा- क्या तुम अपनी चूत में लंड डालोगे?

मैंने कहा- तेरी अंगुली चली गई तो बहुत दर्द होता है, इतनी मोटी हो गई तो मर जाऊंगी।
उसने कहा- जैसे यह तेरी बहन की चूत में जाएगा वैसे ही तेरी भी चूत में जाएगा।
फिर उसने मुझे बिठाया और खुद खड़ा हो गया और मेरे मुंह में लंड डालने लगा.

उसके लंड का एक तिहाई हिस्सा ही मुँह में जा सकता था.
फिर कहा- ऐसे ही तुम्हें अपनी चूत और गांड फैलानी है।
फिर उसने मेरी चूत में उंगली डाल दी और चोदने लगा.

कुछ देर बाद वे दूसरी अंगुली डालने का प्रयास करने लगे।
तो उसने एक हाथ से मेरे बाल पकड़ लिए और जोर से झटका दिया।

आधे से ज्यादा लंड मेरे मुँह में घुस गया और दो उँगलियाँ भी नीचे से चूत में घुस गईं.
मेरी आंखों से आंसू बहने लगे।

अब वे दोनों तरफ से धक्का मुक्की करने लगे।
कुछ देर बाद मुझे फिर से मजा आने लगा और मैं फिर गिर गया।

बहुत देर तक मेरे मुँह को चोदने के बाद जीजाजी ने कहा – मेरी रानी… मलाई निकलेगी, पूरा पी लो!
इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाता, मेरे मुंह में लंड से क्रीम जैसा कुछ निकलने लगा और मैं उसे चखने लगा.

मलाई का स्वाद अजीब था लेकिन मैंने सब चाट लिया।
तभी जीजा उठे और बोले- 3 बज गए हैं। चलो सो जाओ, सवेरा उठना है। मैं कल रात को तुम्हारी चूत में लंड डालूँगा.

मैं कपड़े पहन कर वहीं लेट गया और जीजाजी भी कपड़े पहन कर मुझसे लिपट कर लेट गए।
मुझे पता ही नहीं चला कि मैं फिर कब सो गया।

आगे की घटना मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि कैसे जीजा जी ने मेरी सील तोड़ दी और मुझे इतनी जोर से चोदा कि एक हफ्ते में ही मैं वेश्या बन गई।

दोस्तों आपको हॉट साली की जवानी कैसी लगी, जरूर बताएं।
आप कहानी के नीचे अपनी टिप्पणियों में मेरी कहानी के बारे में लिख सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds