घर आयी भाभी को चोदा जी भर के अपने कमरे में!

घर आयी भाभी को चोदा जी भर के अपने कमरे में!

मेरा नाम रोहित है। मेरी उम्र 25 है, और मुझे भाभियाँ बहुत पसंद है। उनको चोदने में मुझे बहुत मजा आता है। इस कहानी में मैं बताऊंगा कि कैसे मेने अपने घर आई दूर की भाभी को चोदा जी भर के अपने कमरे में।

ये चुदाई की कहानी तब की है, जब मेरे घर वाले चंडीगढ़ से बहार गए हुए समर वेकेशन मनाने के लिए। लेकिन मैं नहीं गया था। और इसी वजह से मुझे जन्नत देखने को मिली।

मैंने आज तक कभी सेक्स नहीं किया था। इसलिए मैं अक्सर पॉर्न वीडियो लगा कर बड़ी टीवी को मोबाइल से कास्ट करके खूब देखता रहता था। शाम का टाइम था, और मैं पोर्न वीडियो देख रहा था, जिस्मे कीरेन ली, डार्लिंग दानिका (दोनों पोर्नस्टार हैं) की खूब जाम के चुदाई कर रहा था।

मैं वीडियो देख कर अपना लंड हिला रहा था। मैं सोचता रहा था, कि काश मैं भी किसी को ऐसे ही छोड़ पाता हूं। और फिर मैं अपने लंड को तेज से हिलाते हुए सारा पानी निकला देता हूं। उसके बाद में उठ कर मिरर के सामने नंगा खड़ा होकर अपने आप की शक्ल देख कर पूछता हूं?

मैं (ख़ुद से): साले कब तक हिलेगा तू? कब तुझे चोदने का मौका मिलेगा? तू ऐसे ही मर जाएगा हिलाते-हिलाते। शरम कर। कोई भाभी को फसा ले जाके, नहीं तो तेरा कुछ नहीं होने वाला। ” भाभी को चोदा “

फिर मैं शावर के लिए चला गया, और जैसे ही शॉवर लेके बहार आया, मुझे मेरे मोबाइल की रिंगटोन सुनायी दी। मैंने कॉल पिक की।

पापा : कहा हो रोहित? कितनी देर से कॉल कर रहा हूं। उठा क्यों नहीं रहे हो?

मैं: मैं शावर ले रहा था पापा।

पापा: सुनो, मेरे बॉस की बीवी हमारी चंडीगढ़ आई हुई है। और कोई होटल नहीं मिल रहा है उनको, क्योंकि सारे फुल है टाइम है। तो वो हमारे यहां कुछ दिन रुकेंगे। मेरी बात हो गई है उनसे, तुम उन्हें एयरपोर्ट के पास होटल मयूर से पिक कर लो। मैं उनका नंबर तुम्हें भेज कर रहा हूं।

मैं: उनके पापा यहां क्या काम है हमारी चंडीगढ़ में? ” भाभी को चोदा “

पापा: यह हमारे अनुबंध के लिए एक जरूरी बैठक है। इसलिए उसके प्रति ईमानदार रहें। नहीं तो तुम्हारे पापा की जॉब खतरों में चली जाएगी रोहित।

मैं: ओके पापा, गुड बाय।

पापा: जाओ जाके ले आओ वहा से।

Escorts in Delhi

तो अब मैं तैयार हो कर उनको चुनूं के लिए निकला। शाम के 7 बज रहे थे। फिर मैंने कार निकली, और उनको लेने एयरपोर्ट के पास मयूर होटल पे पाहुच गया। मैंने कार पार्किंग में लगाई, और उन्हें कॉल करने लगा।

फ़ोन: ट्रिंग, ट्रिंग, ट्रिंग।

भाभी : हेलो।

मैं: हेलो भाभी, मैं रोहित बोल रहा हूं। वो पापा ने आपको लेने को बोला था। आप कहा पे हो? मैं पहुंच गया हूं मयूर होटल।

भाभी: मैं मयूर होटल के सामने खड़ी हूं रोहित. ” भाभी को चोदा “

मैं: मुझे दिख नहीं रही हो आप?

भाभी: मैंने पिंक कलर की साड़ी पहन राखी है। हाथ हिला रही हूं, ध्यान से देखना।

फिर मैंने ध्यान से देखा, तो अपनी बाएं की तरफ एक महिला दिखाई दी। फिर मैंने भी हाथ दिखा के बोल दिया-

मैं: आ गया मैं।

भाभी : ठीक है।

भाभी रोड के उस पार खादी थी, जिस वजह से मुझे दिखाई नहीं दी। फिर मेन रोड क्रॉस करके उनकी तरफ जाने लगा। जब मैं उनकी तरफ पहचान तो मैं चौक गया उन्हें देख के। मैंने मन में ही सोचा-

मैं: क्या माल है यार।

भाभी की उम्र 26-27 साल की होगी। भाभी ने पिंक ट्रांसपेरेंट साड़ी पहन राखी थी। टाइट स्लीवलेस ब्लाउज़ पहनना था साथ में नहीं। खुले हुए स्टाइलिश बाल उनके। भाभी का नाम रिद्धिमा था।

उनके बूब्स को जब ध्यान से देखा, तो 34″ साइज के तो होंगे ही मेरे हिसाब से। और मस्त उबरी गांड थी उनकी। उनका पेट एक-दम फ्लैट था। थोडा मोटा था बेली में उनकी, जो उनके पेट को सेक्सी बना रहा था। ” भाभी को चोदा “

उनकी उबरी हुई गांड देख के मेरा तो पूरा दिमाग खराब हो गया। मेरा मन तो कर रहा था, कि अभी सड़क पर ही भाभी जी को छोड़ जाम कर। उनके नाखून पर पीली नेल-पॉलिश, और हाथो में सेब घड़ी पहनी थी। और ये उनकी हॉटनेस को काफी ज्यादा बुरा रहा था।

अब मैंने ये भी सोचा था, कि रोहित इसको तो किसी हाल में भी छोड़ना ही था, फिर चाहे जो हो जाए। मैं ये सब उन्हें देख के सोच ही रहा था, कि वो बोली-

भाभी: हैलो, कह खो गए?

मैं: कुछ नहीं भाभी जी, बस कुछ याद आ गया था।

भाभी: ऐसा क्या याद आ गया, जो इतना खो गए?

मैं: कुछ नहीं बस ऐसे ही।

आप यही रुकिए, मैं कार टर्न करके लाता हूं यही।

भाभी : ठीक है। ” भाभी को चोदा “

फिर मेन कार टर्न करके उनके पास लाया। फिर कार से जल्दी उतार कर उनकी तरफ वाले गेट की तरफ का दौरा, और गेट खोल के अपना सर नीचे झुक के बैठने को कहा. इसके चेहरे पर काफी मुस्कान आ गई थी, और वो अंदर बैठ गई। इस घटना से वो बहुत खुश हुई, और मैंने अपना इंप्रेशन जमा दिया।

मैं: भाभी जी, आप कितनी देर से यहां इंतजार कर रही थी?

भाभी: आधा घंटा हो गया होगा मेरे हिसाब से। पहले तो मैंने ऑनलाइन होटल सर्च किया, लेकिन सारे फुल थे।

मैं: हमारी चंडीगढ़ में अच्छे होटल कम है, इस कारण से सारे भरते रहते हैं।

भाभी: यहां से कितना दूर है घर?

मैं: बस 4 किमी है। 5 मिनट लगेंगे हम लोगो को।

भाभी जी आपने कौन सा परफ्यूम लगाया है। महक काफी अच्छी है। माइंड फ्रेश कर देने वाली।

भाभी : अच्छी है ना?

मैं: हा, बहुत ताज़ा। वैसे एक बात बोलू भाभी?

भाभी : हा बोलो। ” भाभी को चोदा “

मैं: आप बहुत खूबसूरत हो।

भाभी: अच्छा जी, फ्लर्ट कर रहे हो?

मैं: नहीं, जो हकीकत है वो बोल रहा हूं।

भाभी: बस भी करो अब।

मैं: आपका नाम क्या है भाभी जी?

भाभी : निशा।

मैं: अच्छा नाम है।

भाभी : धन्यवाद।

और हम घर पहुंच जाते हैं। मुख्य कार पार्क कर्ता हू। और मैं जल्दी से कार से उतर कर भाभी की तरफ का गेट खोल देता हूं।

भाभी: सो स्वीट ऑफ यू।

मैं: आपका स्वागत है। ” भाभी को चोदा “

अब मैं उनका ट्रॉली बैग कार से निकलाता हूं। फिर शायद उनके पति का फोन आता है। वो फोन पे बात करने लगती है, और मैं उनकी पोलरी बॉडी को अपनी आंखों से स्कैन करना स्टार्ट कर देता हूं। खास कर भाभी की गांड और टाइट बूब्स, जो ब्लाउज से बहार आने के लिए तड़प रहे थे, इतना टाइट ब्लाउज उन्हें पहन रखा था।

भाभी (फोन पे बात करते हुए): हा, मैं पहुंच गई हूं। हा ठीक हूं। हम्म, ठीक है अलविदा।

मैं: चलो अंदर चलते हैं।

फिर हम अंदर आते हैं। मैने पहले से ही कमरे का एसी ऑन कर दिया था, जिसका रूम काफी चिल्ड हो गया था। भाभी को भी कमरे में अब काफी अच्छा लग रहा था। फिर मैं गया रेफ्रिजरेटर से दो गिलास में कोल्ड ड्रिंक ले आया। और फिर हम लोगो ने वो पी ली।

मैं उन्हें पीते हुए देख रहा था। क्या रसीले यार का सम्मान करते हैं। मन तो कर रहा था लिपलॉक कर लू। फिर मैंने आपने को कंट्रोल किया। ” भाभी को चोदा “

भाभी: 2 दिन मेरी मीटिंग है रोहित। तो क्या दिन क्या मैं यहां रुक सकती हूं?

मैं: बिल्कुल भाभी। ये भी कोई पूछने वाली बात है? आपका जब तक मन करे आप रुक सकती हो। आप अपना ही घर समझिए।

भाभी: सो स्वीट ऑफ यू रोहित। और कोई नहीं है क्या घर पर क्या?

मैं: मम्मी-पापा वेकेशन के लिए गए हुए हैं। वो हफ्ते बाद आएंगे।

भाभी: तुम क्यों नहीं गए हम्म?

मैं: मैं मम्मी-पापा के साथ बोर हो जाता हूं। ” भाभी को चोदा “

भाभी: तो Gf के साथ जाना अच्छा लगता है?

मैं: GF तो मील पहले।

भाभी: कोई GF ही नई बनाई अभी तक? स्मार्ट और हैंडसम हो, फिर भी सिंगल हो?

मैं: हम्म, आप जैसी खूबसूरत लड़की मिलती ही नहीं है।

भाभी : अच्छा जी! मैं इतनी अच्छी लगती हो तुम्हें? तुम ना, फ्लर्टिंग से बाज़ नहीं आओगे। कितना टाइम हो गया?

मैं: रात 8:30 बजे हो गए। आप चाहें तो फ्रेश हो जाए। मैं डिनर का इंतजार करता हूं।

भाभी : हा. बाथरूम किधर है यार?

मेरा बैग कहा है?

मैं: इधर यहां पर है भाभी बाथरूम।

फिर भाभी फ्रेश होने चली गई। और मैं भी रात के खाने के लिए तैयारी करने लगा। जब गेट खुला तो भाभी ने घुटनों तक लंबी वाली नाइटी पहन राखी थी। फिर वो अपने बाल तौलिये से पोंछे हुई आई, और पूछने लगी-

भाभी: क्या बना रहे हो?

मैं तो उनको देखता रह गया। उनके बड़े-बड़े बूब्स का क्लीवेज साफ-साफ दिख रहा था. और उनकी नाइटी बस घुटनो तक ही थी। और उनकी टांगें मस्त मलय-दार गोरी-गोरी लग रही थी। मन तो कर रहा था उनके जोड़े को किस कर लू नीचे से ऊपर तक।

मैं: कुछ नहीं भाभी बस। आप नाइटी में बहुत हॉट लग रही हो। ” भाभी को चोदा “

भाभी : अच्छा जी?

इस बात से भाभी शर्मा गई। और फिर वो कमरे में चली गई (मेरे स्टडी रूम में)।

भाभी : ये किसका कमरा है?

मैं: मेरा है।

और फिर मैं उनको दूसरा दिखाता हुए बोला-

मैं: जिस्मे बड़ा डबल बेड है। वो मम्मी-पापा का है।

भाभी: मैं तो इसी में आराम से.

मैं: ये आपका घर है। आप जहां चाहें वहां लेते।

मैं मन में सोचते हुए: निशा भाभी आपको इसी बेड पे छोड़ूंगा मैं जाम कर। बस टाइम आने दीजिए।

फिर हमने डिनर खाया और सोने के लिए चल पड़े।

भाभी: तुम कहाँ सोने वाले हो?

मैं: अपने कमरे में? ” भाभी को चोदा “

भाभी : हम्म।

मैं: क्या हुआ भाभी?

भाभी: कुछ नहीं, बस नई जगह है, और अकेले बेडरूम में थोड़ा अजीब लगता है। और डर भी। ठीक है शुभ रात्रि।

मैं: शुभ रात्रि।

फिर हम सोने चले गए। मेन लाइट बैंड करके सोने लगा। लेकिन मुझे वासना की आग सोने नहीं दे रही थी। मानो कह रही हो “जा, और छोड़ जाके अपनी निशा भाभी को”।

लेकिन मैं जल्दीबाजी में कुछ गड़बड़ नहीं करना चाहता था।

मैं सब कुछ धीरे-धीरे प्लान के अनुसार करना चाहता था, और भाभी को पट्टा के छोड़ना चाहता था। रात को 2 बजे मेरी नींद खुलती है। और मेरा लंड खड़ा हुआ देख कर मुझसे रहा नहीं जाता है। ” भाभी को चोदा “

फिर मैं मोबाइल की टॉर्च ऑन करके भाभी वाले के कमरे की तरफ जाता हूं, और धीरे से कमरे का दरवाजा खोल के अंदर घुस जाता हूं.

फ्लैशलाइट से मैं उनके मस्त फिगर को घूरने लगता हूं। वो रात में कमाल लग रही थी। उनकी गोरी-गोरी जांघों को देख कर चूमने का मन करने लगता है। और फिर मैं उनकी गांड को देखता हूँ। उसके बाद बूब्स को देखता हूँ।

ये सब देख कर मुझसे रहा नहीं जा रहा था। फिर मैं अपने हाथों से उनकी गांड को छूने जा रहा होता हूं, तब भी वो करवा ले लेती है। इससे मैं थोड़ा डर जाता हूं, और छू जाता हूं टॉर्च बैंड करके। फिर मैं वापस अपने कमरे में लौट जाता हूं।

फिर अगली सुबह 8 बजे।

भाभी : उठो रोहित। देखो 8 बज गए हैं। मुझे मीटिंग के लिए निकलना है। जल्दी तैयार हो जाओ।

मैं (मैं आधी नींद में): हा उठ रहा हूं भाभी।

फिर भाभी फ्रेश होने चली गई, और मेन ब्रेकफास्ट बनाने लगा। आज उन्हें ऑफिस मीटिंग के लिए जाना था। तो अनहोन साड़ी पहन राखी थी। क्या हॉट लग रही थी वो। काली पारदर्शी साड़ी, बिना आस्तीन का ब्लाउज, मेरा तो देखा के लंड खड़ा हो गया सुबह-सुबह। ” भाभी को चोदा “

मैं: मीटिंग में भाभी सब आपको देखेंगे आज।

भाभी : अच्छा जी।

फिर फ्रेश होके और ब्रेकफास्ट करके हम होटल के लिए निकल पड़े, जहां भाभी की मीटिंग थी। मैने कार ना लेते हुए बाइक से जाने का प्लान बनाया, ताकी भाभी जी के बूब्स का मज़ा ले सकु।

भाभी: कार से नहीं चलोगे रोहित?

मैं: नहीं, असल में भाभी कार से जाने लायक रोड अच्छी नहीं है। और कार से टाइम भी लगेगा।

भाभी: चलो जैसा तुम्हें ठीक लगे।

अब मैं भाभी को बिठा के निकल पड़ा, और जब भी मैं ब्रेक लगता उनके दोनो बूब्स मेरे पीठ में धस जाते। और मुझे मज़ा आ रहा था ऐसा करने में। ऐसा कर-करके मैंने रास्ते भर खूब भूलभुलैया के लिए।

मैं: भाभी अब हम पंहुच गए। कितने बजे मीटिंग खत्म होगी, मैं लेने आ जाऊंगा?

भाभी: मैं कॉल करूंगी तुम्हें। 1 बजे तक शायद। मेन कॉल करुंगी। ” भाभी को चोदा “

मैं: ठीक है अलविदा।

और मैं भाभी को मीटिंग में छोड़ कर वापस आ गया। फिर मैं सो गया। 2 बजे भाभी की कॉल आती है।

भाभी: हैलो रोहित, अब आ जाओ लेने।

मैं: हा भाभी।

मैं बाइक लेकर वही रास्ते भर ब्रेक लगा-लगा कर भाभी के बूब्स का मज़ा लेता हुआ आया। फिर भाभी बोली-

भाभी: मुझे प्यार लगी है रोहित, देखो कहीं पानी की बोतल मिल जाए।

मैं: नारियल पानी पीती है आप?

फिर हम रास्ते में नारियल पानी की दुकान पर रुक के पानी पीते हैं। उसके बाद बाहर ही रेस्टोरेंट पे लंच भी करते हैं। और फिर घर आते हैं।

भाभी : तुमने तो कमर तोड़ दी बाइक पर। ” भाभी को चोदा “

आह, कमर दर्द होने लगी।

मैं: भाभी जी, मैं चलती हूं देता हूं, और साथ में मालिश भी कर दूंगा। आपका दर्द बिल्कुल गायब हो जाएगा। अब मैं मूव लेने जाता हूं। तब तक वो एसी रूम में बैठक के आराम करती है।

भाभी : लाओ मैं लगाऊंगी।

मैं: मैंने आपको दर्द दिया है, तो मैं ही लगाऊंगा।

भाभी: ठीक है, तुम्हें लगाओ।

फिर भाभी को मैंने सोफे पे पेट के बल लिटा दिया।

मैं: पहले भाभी मैं आपकी पूरी पीठ की मालिश करूंगा। उसके बाद मूव लगाऊंगा। इससे दर्द जल्दी से खत्म हो जाएगा।

भाभी: नहीं रोहित, केवल कमर पर लगा दो काफी है।

मैं: नहीं भाभी, ऐसे आपका दर्द पूरी तरह नहीं जाएगा।

फिर मैंने डर ना करते हुए उनके ब्लाउज का हुक और ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया। इसे भाभी चौक गई।

भाभी: मेरे ब्लाउज और ब्रा का हुक क्यों खोला? ” भाभी को चोदा “

मैं: ताकी आपकी ब्रा और ब्लाउज में तेल ना लग जाए।

(क्या मस्त बदन था निशा भाभी का। एक दम गोरा और चिकना। मन तो कर रहा था चूम लू। और नीचे मस्त उबरी हुई गांड का तो क्या ही कहना)

फिर मैंने तेल उनके बदन पे डाल के मालिश करना शुरू किया। मुझे काफी मजा आ रहा था। मैं सोचता रहा था कब इसको इसी पोजीशन में चोदने का मौका मिलेगा। मैं भाभी जी के कंधो से लेकर नीचे तक खूब मालिश कर रहा था। फिर मैंने उनसे पूछा-,

मैं: अब कैसा लग रहा भाभी?

भाभी: बहुत अच्छा लग रहा है। करते रहो ऐसे ही।

कुछ देर मालिश करते हुए मैंने ध्यान दिया, कि वो सो गई थी। इसका मैं फैदा उठा कर उनके बूब्स की साइड की तरफ धीरे-धीरे मालिश करते हुए पहुचने लगा। अब मेरा लंड पूरा टाइट हो चूका था, और मुझसे रहा नहीं जा रहा था।

भाभी: बस करो रोहित, आराम मिल गया।

मैं: हा (मैं सोचता हूं कितना मजा आ रहा था यार)। ” भाभी को चोदा “

फिर भाभी ने उठ कर ब्लाउज और ब्रा का हुक लगाने ले लिए कहा, और मैंने लगा दिया। फिर वो उसे कर मम्मी-पापा के कमरे में सोने के लिए चली गई। और मैं भी अपने कमरे में सोने के लिए चला गया।

इसके आगे क्या हुआ, वो आपको अगले हिस्से में पता चलेगा। दूसरी सेक्स की कहानी पढ़ने के लिए wildfantasystory.com पर जाएं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds