धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 1

धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 1

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 1”। यह कहानी सागर की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैं अपने पड़ोस में कपड़े प्रेस करने वाले धोबी के साथ सेक्स किया। उसका पति शराबी था और उसे सेक्स का सुख नहीं दे पाता था. इसलिए मैंने फायदा उठाया.

दोस्त, मैं आपका दोस्त सागर हूँ.
मैं आपको एक और सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ जिसमें मैंने एक देसी भाभी की चूत चोदी!

मैं 4 महीने की रेलवे ट्रेनिंग के लिए अहमदाबाद गया था।

चूँकि रेलवे कॉलोनी में कोई खाली क्वार्टर नहीं था, इसलिए मैं पास की सोसायटी में एक कमरा लेकर रहने लगा।
मैं घर पर दोनों वक्त खाना बना लेता था.

लेकिन सोसायटी के बाहर बने एक कमरे में रहने वाले धोबी से कपड़े धुलवाता और इस्त्री करवाता था। मेरा आने-जाने का रास्ता भी वहीं से था. (देसी भाभी XXX)

अब मैं आपको धोबन भाभी के बारे में बताता हूं.
उसका नाम Noor था… बेहद खूबसूरत… उम्र 25 या 26 साल, सुडौल शरीर, लंबी पतली कमर… शरीर का आकार 34-28-38… स्तन ब्लाउज से बाहर निकलने को बेताब!

एक साल के बच्चे की माँ!
खैर, कोई नहीं कह सकता था कि उसका कोई बच्चा है.

वहीं नूर के पति…मोनू भाई…भाभी से 6 या 7 साल बड़े हैं। चेहरे पर मुहांसे के दाग!
उनका और नूर भाभी का कोई मेल नहीं था.

मैं अक्सर ऑफिस से लौटते समय उसके प्यारे बच्चे को अपनी गोद में खिलता था।
नूर भाभी मुझसे बहुत मुस्कुरा कर बात करती थीं.

भाभी ज़्यादातर कपड़े बाहर टेबल पर इस्त्री करतीं।
मोनू भाई घर-घर से कपड़े इकट्ठा करते थे, उन्हें 4 किलोमीटर दूर नहर पर धोते थे।

वह सोमवार और शुक्रवार को कपड़े धोता था।
वे सुबह उठते, अपना बैग पैक करते और साइकिल पर निकल जाते और शाम को अंधेरा होने तक वापस लौटते।

उसकी कमजोरी यह थी कि वह प्रतिदिन देशी शराब पीता था।
जब वह कपड़े लेकर नहर पर जाता तो अपने साथ शराब भी ले जाता।

दोपहर में खाना खाने से पहले जरूर पीता।
रात को भी जरूर पीता था।

भाभी दिन भर कपड़े इस्त्री करती रहती थी.
बच्चा झूले में लेटा रहता. (देसी भाभी XXX)

भाभी के चेहरे, गर्दन से और ब्लाउज से होते हुए पसीने की बूंदें बहकर अंदर की ब्रा को भी गीला कर देती थीं।
भीगने के कारण ब्रा पतले ब्लाउज में से दिख रही थी और उसके Big Boobs के काले निपल्स ब्रा में से दिख रहे थे।

एक बात और… सोसायटी से कोई भी उनके घर नहीं आता था क्योंकि मोनू भाई कपड़े लाने और पहुंचाने का काम करते थे.
उनका कमरा मैन सड़क से थोड़ा अंदर था जहाँ से कुछ भी दिखाई नहीं देता था।

सिर्फ मैं अपना समय बिताने के लिए उसके पास बैठता था.
मोनू भाई से भी मेरी दोस्ती हो गयी.

हालाँकि, मोनू भाई कम ही नज़र आते थे।
केवल नूर भाभी ही होती थीं.

वो भी मुझसे हंस कर बात करती थी.
वो भी मुझमें दिलचस्पी लेने लगी.

एक दिन मैंने कहा- भाभी, आप बहुत खूबसूरत हो. लेकिन बताओ मोनू भाई आपसे मेल नहीं खाता. आपने उनमें ऐसा क्या देखा कि आपने उनसे शादी कर ली? वह गुमसुम हो गई।

मैंने कहा- क्षमा करें, यदि आपको मेरा पूछना बुरा लगा हो तो!
उसने गहरी साँस ली और अपनी कहानी सुनानी शुरू की:

सागर भाई, मैंने उससे अपनी इच्छा से शादी नहीं की है।
उन्होंने मेरे पिता को एक लाख रुपये देकर मुझे खरीद लिया और मुझसे शादी कर ली.
इसकी पहली बीवी की मौत हो गई थी.

मेरे घर में मेरे पिता भी शराबी थे. जब मैं छोटी थी तभी मेरी माँ की मौत हो गई।

मेरे पिता बहुत बुरे इंसान थे.
दो साल पहले एक रात शराब के नशे में वह मेरे ऊपर चढ़ गया. वह मुझे जान से मारने की धमकी देकर रोज रात को शराब पीकर मेरी Chut Chudai करता था।

फिर एक दिन उन्हें अटैक आ गया. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया.
डॉक्टर ने ऑपरेशन करने के लिए बोला. (देसी भाभी XXX)

पैसे नहीं थे… ये मोनू उसका परिचित था, दोनों साथ में शराब पीते थे।
उसने मोनू के सामने प्रस्ताव रखा कि तुम मुझे एक लाख दो और नूर से शादी कर लो.

मोनू के आगे-पीछे कोई नहीं था.
एकमात्र चीज़ जो ये कमरा है उसके नाम पर है और उसे देने के बाद उसके माता-पिता की मृत्यु हो गई थी।

वह कपड़े धोने और प्रेस करने का भी ऐसा ही काम करता था. लोगों को समय पर कपड़े नहीं देते थे.
काम मानो रुक गया हो.

मेरे पिता अस्पताल में भर्ती थे.
पापा की लगातार चुदाई से मेरा गर्भ ठहर गया था.
दो महीने बीत गए और मुझे उल्टी होने लगी।

मैंने अनिच्छा से मंदिर में मोनू से शादी की और यहां आ गई।
मेरे पिता का अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया.

मैं मोनू के साथ यहां आ गयी.
मोनू को भी नहीं पता था कि मेरे पेट में बच्चा है.

पहली रात मोनू नशे में धुत्त हो गया और रात को मेरे ऊपर चढ़ गया.
दो-चार झटके के बाद वह एक तरफ लुढ़क गया.

ये रोज का नियम बन गया.
फिर कुछ महीनों बाद इस गोलू का जन्म हुआ.
मोनू को पता है कि गोलू उसके साथ सेक्स करने के 7 महीने के अंदर ही पैदा हो गया था.

ये बातें करते हुए हम दोनों कमरे में आ गये.
वो बोली- मुझे नहीं पता कि मैंने ये सब बातें तुमसे क्यों कही! लेकिन मैं तुम्हें पसंद करने लगी हूं.

मैंने उसे अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और अपने सीने से लगा लिया।
उसकी पीठ सहलाते हुए उसका चेहरा ऊपर उठाया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये.
वो मेरे होंठों को चूसने लगी.

मैं उसकी कमर पर हाथ फिराते हुए उसके मम्मों को दबाने लगा.

फिर मैंने उसकी साड़ी का पल्लू हटा दिया और उसके ब्लाउज के बटन खोल दिए. अन्दर उसने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी.
उसकी बगल के बालों से पसीने की गंध आ रही थी. (देसी भाभी XXX)

मैंने ब्रा के हुक खोल दिये.
उसके 34 इंच के स्तन बाहर लटक रहे थे।
गोरे गोरे दूध जैसे स्तनों पर हल्के भूरे रंग के निपल्स गजब लग रहे थे.

मैंने बिना समय बर्बाद किये उनको एक एक करके चूसना शुरू कर दिया.
वह कराहने लगी.

मैं उसके निपल्स को कभी दांतों से काटता तो कभी होंठों के बीच दबा कर चूसता.
मैं खड़ा होकर ऐसा कर रहा था.

मैंने अपने हाथ से उसकी साड़ी पेटीकोट सहित ऊपर उठा दी।
उसकी जाँघों को सहलाते-सहलाते अपना हाथ उसकी Moti Gand पर ले आया और पीछे से उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया और सहलाने लगा।

उसकी पैंटी गीली हो गयी थी.
मैंने प्यार से उसकी चूत में एक उंगली डाल दी.

वह उछल पड़ी और बोली- बाबू, मोनू के आने का समय हो गया है।
उसने अपने कपड़े ठीक किये और बोली – बाबू, आज मुझे सच्चा प्रेमी मिल गया है।

मैं वहां से चला गया.
जैसे ही मैं गली से बाहर निकला तो मुझे दूर से मोनू आता हुआ दिखाई दिया.

उसने कहा, ‘कैसे हैं सर?’ आप ड्यूटी से वापस आ रहे हैं?
मैंने कहा, हां मोनू भाई. (देसी भाभी XXX)

हम अभी आये है.

गुरुवार शाम को जब मैं ड्यूटी से लौट रहा था तो मुझे नूर कपड़े प्रेस करते हुए मिली.
मेरी तरफ देख कर सेक्सी स्माइल दी.

मैं रुका, पूछा- कैसी हो?
उसने कहा- मैं ठीक हूं.

मैंने कहा- मोनू भाई, क्या कर रहे हैं?
वो बोली- धोने के लिए गए है!
मैंने कहा- कब आएंगे?
उसने कहा, “अभी उन्हें समय लगेगा!”
मैंने कहा- कितना?
वो बोली- 9 बजे तक.. 7 बजे तक कपड़े देता है और पैसे ले लेता है, फिर शराब की दुकान पर पीने बैठ जाता है।

वो बोली- मैं चाय बनाती हूँ, पीकर जाना!
मैंने कहा- ठीक है.

वह चाय बनाने अन्दर गयी और बोली, “अन्दर आओ।”
मैं कमरे के अंदर चला गया.

उसने मुझे स्टूल पर बैठने को कहा.

वो बोली- कल सुबह मोनू कपड़े धोने नहर पर जायेगा. मैंने कहा- कितने बजे जायेगा?
वो बोली- सुबह 7 बजे और रात 9 बजे तक वापस आएगा. (देसी भाभी XXX)

मैंने पूछा- खाना नहीं बनाया क्या?
वो बोली- दोपहर का रखा है, मेरा हो जायेगा. मोनू जब शाम को शराब पीते हैं तो नशे में खाना नहीं खाते हैं. बेहोश होकर बिस्तर पर गिर जाता है.

मैंने कहा- तो फिर काम कब करता है?
वो बोली- कौन सा काम?
वो हंस कर बोली- वो नामर्द है, उसका लंड ठीक से खड़ा नहीं होता. इसीलिए उनकी पहली पत्नी से शादी के 8 साल तक कोई बच्चा नहीं हुआ।

उसने फिर से अपनी कहानी सुनानी शुरू की:

वह शराब पीकर आएगा. साथ भी लाएगा और यहीं पिएगा।
वो नशे में अपना लंड मेरी चूत में डाल देता… अन्दर जाता भी या नहीं… डालने के बाद दो-चार झटके लगाता और पलट जाता, पूरी रात बेहोश पड़ा रहता, मेरी चूत में आग लगा देता!
मैं पूरी रात मैं तड़पती रहती हूं.

बेहोश होने के बाद ऐसा लगता है जैसे वह अब होश में ही नहीं आएगा।
मैं सुबह चेहरे पर पानी छिड़क कर उन्हें जगाती हूँ!
यह मेरी जिंदगी है।

वो आगे बोली- बाबू, रात को तो होश ही नहीं रहता कि कोई आकर मुझे चोद भी दे तो उसे पता नहीं चलेगा.
कल मैं पूरे दिन अकेली रहूंगी.

वह सुबह चाय पिएगा, तब तक मैं खाना बनाकर उसके लिए टिफिन तैयार कर दूंगी।
फिर ये चला जायेगा.

वहां वह अपने कपड़े धोएगा और उन्हें सूखने के लिए डाल देगा, फिर पिएगा और खाएगा।
मैं सुबह 10 बजे तक सारे कपड़े इस्त्री कर दूंगी, फिर गोलू को नहला कर, दूध पिला कर सुला दूंगी.

मैं समझ गया कि वो मुझे बुला रही है.
मैंने कहा- मैं ऑफिस से जल्दी आ जाऊंगा.

हम दोनों ने अपनी चाय ख़त्म की.

मैंने उसे अपने पास बुलाया और अपनी गोद में बैठा लिया.
वो एक बच्चे की तरह मेरी गोद में आकर बैठ गयी.

मैंने उसके होंठों पर रख दिया और प्यार से चूसने लगा.
वो भी मेरा साथ देने लगी.

15 मिनट तक चूमा-चाटी के बाद वो गर्म हो गयी. इधर मेरा लंड मेरी पैंट में खड़ा हो गया और उसकी गांड से टकराने लगा. मैंने धीरे से उसके ब्लाउज के बटन खोले और उसके स्तन दबाने लगा। (देसी भाभी XXX)

फिर मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी.
उसके 34 इंच के मम्मे बंधन से आज़ाद हो गये.

क्या गोरे स्तन थे उसके… उन पर भूरे रंग के निपल्स बहुत शानदार थे।
निपल्स लंबे थे, गोलू ने खींच-खींच कर उसे लम्बा कर दिया था।

मैंने निपल को मुँह में ले लिया और चूसने लगा.
वह कराहने लगी.

मैंने धीरे से उसका पेटीकोट उठाया और उसकी पैंटी उतार दी.
उसके बाल घुंघराले थे.

मैंने धीरे से उसकी Tight Chut में एक उंगली डाल दी. वह चिल्ला रही थी।
उसकी चूत पानी छोड़ रही थी जो मुझे अपने हाथ पर महसूस हो रहा था।

मैंने उसे उठाया और अपनी पैंट उतार कर फेंक दी और अपना अंडरवियर भी उतार दिया.
अब मैं फिर से स्टूल पर बैठ गया. (देसी भाभी XXX)

मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और उसकी चूत के छेद को अपने लंड पर सेट करके उसे बैठा दिया.
मेरी चूत गीली होने के कारण मुझे ज्यादा परेशानी नहीं हुई.

जैसे ही वो बैठी, मेरे लंड का टोपा उसकी चूत में आधा इंच गहराई तक घुस गया.
वो चीख पड़ी- आउच माँ मर गई!

मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी कमर पकड़ ली और नीचे की ओर खींच लिया.
अचानक से लंड उसकी चूत की गहराइयों में समा गया.

उसे दर्द हो रहा था… पता नहीं कितने दिनों से उसकी चूत में लंड ठीक से गया ही नहीं था.
दर्द के मारे उसने अपने होंठ भींच लिये।

मैं थोड़ी देर रुका और उसकी चूची चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद मैंने उसे उठाया और फिर नीचे खींच लिया.
अब मेरा लंड उसकी चूत में घुस चुका था.

उसे भी मजा आने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी. वो अपने आप ऊपर नीचे होने लगी.
मैं भी और जोर जोर से धक्के लगाने लगा. (देसी भाभी XXX)

जल्द ही वह झड़ गयी.
उसकी गर्म चूत का रस मेरी जांघों पर फैलने लगा.

अब धक-धक की जगह फच-फच की आवाज आने लगी।
वो खुश हो गयी और मेरा साथ देने लगी.
मेरे लंड का टोपा उसकी चूत की दीवार पर रगड़ रहा था.

वो कराह रही थी, उसके मुँह से ‘ओह ई ओह ई’ की आवाज निकल रही थी.
उसके स्तन ऊपर-नीचे उछल रहे थे।

वह एक बार फिर से झड़ गयी.
देसी भाभी की चूत का रस चिकनाई का काम कर रहा था.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.
वह हांफ रही थी, ऐसा लग रहा था मानों मैराथन दौड़कर आई हो।

कुछ देर बाद उसका शरीर अकड़ने लगा.
उसकी चूत से फिर पानी की धार निकल पड़ी.
अब वो तीसरी बार झड़ चुकी थी.

लेकिन मेरा अभी बाकी था.
मैं धक्के पर धक्के लगा रहा था।
अब वह निढाल हो गयी.

मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और तेज धक्के लगाने लगा.
अब मेरा निकलने वाला था.

मैंने कहा- कहां निकालूं नूर?
वो बोली- बाबू, अन्दर ही छोड़ दो। आज सालों बाद मेरी प्यास बुझी है.

मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.
हम दोनों ठंडे पड़ गए.

उसने मेरे होंठों को चूमा और खड़ी हो गयी.
जैसे ही मेरे लंड से फच की आवाज के साथ उसकी चूत और मेरे लंड से मिश्रित पानी की धार बह निकली.
उसने एक कपड़े से अपनी चूत और मेरे लंड को साफ किया और अपने कपड़े ठीक किये.

मैंने उसके गाल पर किस किया और अगले दिन 11 बजे मिलने का वादा किया.

उसने मुझे फिर गले लगा लिया.
मैंने कहा- कल हम साथ खाना खाएंगे.
फिर मैं चला गया.

कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे

आपको अब तक की देसी भाभी XXX की कहानी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताएं.

कहानी का अगला भाग: देसी भाभी XXX कहानी

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds