धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 2

धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “धोबन भाभी की जलती जवानी – देसी भाभी XXX कहानी भाग 2”। यह कहानी सागर की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

देसी भाभी XXX कहानी में मैंने एक सेक्सी भाभी को उसके नशेड़ी पति के साथ रहते हुए उसके ही कमरे में चोदा. उसका पति उसे सेक्स का सुख नहीं दे पाता था.

कहानी के पहले भाग: देसी भाभी XXX कहानी में आपने पढ़ा कि मैंने अपने घर के पास रहने वाली एक सेक्सी जवान धोबन को उसके कमरे में चोदा और अगले दिन की चुदाई का प्लान बनाकर मैं अपने घर आ गया।

अब आगे की देसी भाभी XXX कहानी:

मैं 11 बजे ड्यूटी के लिए निकला.
मैंने 34 नंबर का पैंटी ब्रा का एक सेट खरीदा।

फिर मैंने शराब की एक बोतल होटल से तंदूरी चिकन, बटर चिकन, शाही पनीर, चपाती और गोलू के लिए कैडबरी चॉकलेट, पीने के लिए दूध की एक शानदार बोतल खरीदी।

नूर मेरा ही इंतजार कर रही थी, बोली- इतनी देर हो गयी.
उसने जरूरी काम निपटा लिया था.

मैंने उसे पैकेट हाथ में दे दिया.

उसने पूछा- इसमें क्या है?
मैंने कहा- खुद ही खोल कर देख लो.

मैंने खाने का पैकेट खोल लिया है.
तभी उसकी नजर गोलू की बोतल पर पड़ी.

फिर आख़िरकार जब उसने पैकेट खोला तो उसमें पैंटी और ब्रा देखकर वो खुश हो गई और मुझसे लिपट गई.
उसकी आंखों में आंसू आ गये. (देसी भाभी XXX कहानी)

मैंने उससे खाना खाने को कहा.

मैंने प्लेट में खाना परोस दिया. इसी बीच मैंने उससे एक गिलास और पानी लाने को कहा.
फिर अपनी शराब की बोतल निकाली.

वो हैरान होकर बोली- आप भी?
मैंने कहा- मेरी जान, तुमसे मिलने की खुशी में आज मन हो रहा है.

मैंने अपने गिलास में एक पैग लिया.
फिर मैंने उससे वैसे ही पूछा- क्या तुम भी लोगी?

वो बोली- मैंने आज तक जिंदगी में कभी नहीं लिया. लेकिन अगर आप मुझे जहर भी पीने को देंगे तो भी मैं खुशी-खुशी पी लूंगा। कुछ ही दिनों में मुझे तुम्हारे साथ जीवन भर का आनंद मिल गया।

ये कह कर उसने एक गिलास उठाया और मेरे सामने रख दिया. मैंने उसका भी एक पैग बना लिया.

दोनों ने खुशी मनाई.
मैंने अपना गिलास उसके मुँह पर रख दिया और उसने मेरे गिलास पर मुँह रख दिया।
हम दोनों ने अपना ड्रिंक खत्म किया.

अब हम दोनों नशे में थे.

मैंने जो पैंटी ब्रा मैं लाया था उसे पहनने को कहा।

वो मेरे सामने नंगी हो गयी.
मेरा दिमाग ख़राब हो गया है.

मैंने उसे पेंटी ब्रा नहीं पहनने दी.
उसने उसे अपनी बाहों में ले लिया और चूमना शुरू कर दिया और उसे बिस्तर पर लिटा दिया।

मैंने भी अपने कपड़े उतार दिये.

अब मैं उसके माथे को चूमने लगा.
उसके कानों के पीछे, उसके होंठों पर, उसकी गर्दन पर, उसकी छाती से होते हुए, मैंने उसके Big Boobs को दबाते और चूसते हुए अपने होंठों से उसके निपल्स को चूसना शुरू कर दिया।

वो भी मस्ती में आ गयी. चूमते-चूमते मैं उसके पेट से लेकर उसकी नाभि तक पहुँच गया।
फिर अपने दोनों हाथों से उसकी चूत को फैलाया और अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल दी और उसे चूसने लगा.

वो उत्तेजित हो गई और अपनी कमर उठा-उठा कर साथ देने लगी और मुँह से ‘आह आह ओह ओह सी सी’ की आवाज निकालने लगी। (देसी भाभी XXX कहानी)

उसकी चूत चूसने में मुझे करीब 15 मिनट लग गये.
उसका शरीर अकड़ने लगा और अचानक उसकी चूत से पानी बहने लगा.

मैंने खारे पानी को चाट कर साफ कर दिया.
इधर मेरा लंड खड़ा हो गया और अपने पूरे आकार में आ गया.

मैं खड़ा हुआ और अपना लंड उसके मुँह में दे दिया.
वो उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और अन्दर-बाहर करने लगा।
कभी-कभी मेरा 7 इंच मोटा और 3 इंच मोटा लंड उसके गले तक पहुंच जाता था.
उसके मुँह से गो गो की आवाज आ रही थी.

मैं उसके मुँह में झटके मार रहा था।
कुछ ही देर में मैं उसके मुँह में झड़ गया।
उसने मेरे लंड को चाट कर साफ़ कर दिया.

अब हम दोनों बिस्तर पर लेट गये.

कुछ देर बाद मेरा लंड खड़ा हो गया.
मैंने उसके दोनों पैरों को बिस्तर के किनारे पर फैलाया, दोनों पैरों को अपने कंधों पर उठाया, अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और धीरे से दबाया।

मेरे लंड का सुपारा अभी थोड़ा सा ही अन्दर गया था कि उसकी चीख निकल गई- उई माँ… मैं मर गई… बाहर निकालो इसे, नहीं तो मैं मर जाऊँगी। मैंने थोड़ा इंतजार किया.

मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और उन्हें चूसने लगा।
वह थोड़ा शांत हुई.

मैंने एक झटका दिया और मेरा आधा लंड उसकी Tight Chut में घुस गया.
वह जोर-जोर से चिल्लाने लगी- बाबू, तुमने मुझे मार डाला… मैं मर गयी! ऊह ऊह ओह हे भगवान… कोई मुझे बचा लो! बाबू ने मेरी चूत फाड़ दी!

मैंने झट से अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया.

अब मैं धीरे-धीरे झटके मारने लगा.
पहले तो वो दर्द से कराहती रही, फिर उसे भी मजा आने लगा.

कुछ देर बाद वह स्खलित हो गयी.

जब मेरा लंड उसकी चूत से निकलते हुए पानी के साथ अंदर-बाहर होता था तो हर धक्के के साथ पूरे कमरे में ‘फच फच’ की आवाज आती थी, उसकी चीखें ‘आह आह ओह ओह ओह एसएस एसएस ओह बाबू और चोदो मुझे’ की आवाजें आने लगती थीं। और जोर से राजा और जोर से चोदो मुझे’ की आवाजें गूंजने लगीं।

वो कमर उठा उठा कर साथ देने लगी.
मैं उसके स्तनों को अपने मुँह में लेकर चूस रहा था, उसके निपल्स को अपने होंठों से दबा रहा था।

मेरे लंड का सुपारा उसके गर्भाशय तक पहुंच गया था.

इस बात का अहसास उसके मुंह से निकल रही कराहों से लग रहा था.
मेरा लंड उसकी चूत में बेलन की तरह घूम रहा था.

वो भी अपनी कमर उठा उठा कर कह रही थी- मेरे राजा, मेरी सालों की प्यास बुझा दो।

अब तक वह तीन बार झड़ चुकी थी और ढीली पड़ गयी थी।
वो बोली- बस मेरे राजा, अब बस करो! मैं थक गयी हूँ।

मैंने अपनी गति बढ़ा दी और तेज धक्कों के साथ उसकी चूत में ही स्खलित हो गया।
मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

उस दिन मैंने उसे शाम 7 बजे तक तीन बार चोदा.
वह बहुत खुश थी। (देसी भाभी XXX कहानी)

हाँ, उसने एक बात कही- बाबू, तुम मुझे तब भी चोद सकते हो जब मोनू रात को घर पर होगा।
मैंने कहा- कैसे?

Noor भाभी ने कहा- मोनू को शराब पीने की लत है. तुम रात को उसके साथ मेरे घर पर शराब पीने बैठो. आप कम पीना, उसे अधिक पिलाना।

शराब पीने के बाद वह बेहोश हो जाता है। जब तुम उसे शराब पिलाओगे तो वह बहुत खुश होगा. फिर वो शराब पीकर धुत हो जायेगा फिर तुम मुझे चोद सकते हो।

मैंने कहा- ठीक है.
उसके बाद मैं अपने घर आ गया.

अगले दिन जब मैं ऑफिस के लिए निकला तो सड़क की ओर मुड़ा और नूर से मिलने चला गया। मैंने उससे कहा कि मैं आज रात तुम्हारे साथ प्यार करना चाहता हूँ। वो बोली- ठीक है. शाम को जब आओ तो मोनू के लिए शराब की बोतल ले आना.

मैं ऑफिस के लिए निकल गया.

शाम को मैंने खाने के लिए कुछ नमकीन, बटर चिकन, तंदूरी रोटी और पूरी शराब की बोतल, दो बीयर की बोतलें ले ली।
और मैं घर के लिए निकल पड़ा.

जब मैं नूर के घर पहुंचा तो शाम के 7 बज रहे थे.
वह कपड़े इस्त्री कर रही थी.

वो मुझे देख कर मुस्कुरा दी.
मैं उसकी कातिलाना मुस्कान का दीवाना हो गया; सोचा कि अभी इसे पकड़ कर चोद दूँ।

लेकिन मैंने कंट्रोल किया और उनसे पूछा- मोनू भाई कहां हैं?
वो बोली- कपड़े देने गये हैं.

मैंने पूछा- कब आएंगे?
वो बोली- 9 बजे तक.

मैंने कहा- मैं रात के प्रोग्राम के लिए सामान लाया हूँ!
वो बोली- जब वो आये तो आ जाना. वो तो पीकर ही आएगा. लेकिन मैं उसे बताऊंगी कि बाबू का जन्मदिन है और वह हमें पार्टी दे रहा है। (देसी भाभी XXX कहानी)

मैं सामान लेकर कमरे में आ गया.
मैं रात 9 बजे नूर के घर पहुंच गया.
मोनू भाई खुश थे.

नशे में उसने कहा- बाबू, जन्मदिन मुबारक हो!
मैंने कहा- ऐसे नहीं मोनू भाई, चलो साथ में एन्जॉय करते हैं.

फिर मैंने बैग से शराब और बियर की बोतल निकाली.
तो वह बहुत खुश हुआ.

मैंने नूर से दो गिलास लाने को कहा.
मैंने अपने गिलास में कम और उसके में ज्यादा शराब डाली और उसमें बीयर मिला दी।

मोनू तो पूरा बेवड़ा निकला एक ही सांस में पी गया.
मैंने अभी तक गिलास भी मुँह से नहीं लगाया था.

मैंने फिर उसका गिलास बियर और वाइन से भर दिया.
मैंने उससे खाने के लिए कहा लेकिन वह ज़मीन पर फैल गया।

फिर नूर और मैंने उसे पकड़कर एक तरफ लेटा दिया.
अब मैंने नूर से कहा- अपने लिए एक गिलास ले आओ और खाना भी लगा दो। रात के साढ़े दस बजे हैं.

फिर नूर और मैंने अपने लिए छोटे-छोटे पैग बनाये।
अब हम दोनों थोड़ा सुरूर में थे.

मैंने नूर से ब्लाउज खोलने को कहा.
उसने अपना ब्लाउज खोल दिया.

फिर मैंने उसकी ब्रा भी खोल दी.
अब मैं अपने गिलास से बियर उसके चूचों पर बूंद-बूंद करके चाटने लगा और उसके निपल्स को चूसने लगा.
उसे भी मजा आने लगा. (देसी भाभी XXX कहानी)

जब हमारी वाइन ख़त्म हो गई तो मैंने नूर से खाना परोसने को कहा।
उसने खाना परोस दिया.

हमने प्यार से एक-दूसरे के मुँह में निवाला डाला।

अब खाना खाने के बाद मैंने नूर को पूरा नंगा कर दिया. मैंने भी अपने कपड़े उतार दिये.
देसी हॉट भाभी Chut Chudai के लिए पूरी तरह से तैयार थी.

अब मैंने नूर को अपनी बांहों में उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया.
मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और उसके निपल्स को अपने होंठों से चूसने लगा।

अब मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया, इससे उसकी चूत ऊपर उठ गयी. मैंने अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिए और दोनों हाथों से पकड़ कर चौड़ा कर दिया। फिर अपनी जीभ से चाटने लगा.

मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के अन्दर डाल दी.
वह कराहने लगी.

जैसे ही मेरी जीभ ने उसकी चूत के क्लिटोरिस को रगड़ा, वो उत्तेजना के मारे अपनी कमर को ऊपर-नीचे करने लगी.
उसका शरीर अकड़ने लगा.

फिर उसकी चूत से पानी निकलने लगा.
वह ठंडी हो गयी.

इधर मेरा लंड उफान मार रहा था.
मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और धीरे से एक झटका दिया.
मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया.

वह चिल्ला रही है।
मैंने उसके मुँह पर अपना मुँह रख दिया.
मैंने थोड़ा इंतजार किया.

कुछ देर तक उसके होंठ चूसता रहा, फिर एक जोर का झटका मारा। मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया.
वो चिल्लाई- उई माँ, मर गई! बाबू इसे बाहर निकालो, बहुत दर्द हो रहा है.

नूर आहे भरने लगी.
मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और उन्हें चूसने लगा।
उसका दर्द कम हो गया.

फिर मैंने धीरे-धीरे अपना लंड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।
उसे भी मजा आने लगा; वो भी साथ देने लगी. (देसी भाभी XXX कहानी)

‘धक्के पर धक्के’, मेरा लंड उसकी चूत में अंदर-बाहर हो रहा था। मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

फिर आख़िरकार मैंने जोर से झटका मारा, देसी हॉट भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उसके ऊपर निढाल होकर गिर गया। पास ही उसका पति नशे में धुत्त पड़ा हुआ था.

उस रात, मैंने उसे डॉगी स्टाइल में, दीवार के सहारे खड़ा करके, एक पैर ऊपर करके और मेरी गोद में बैठाकर खूब चोदा और उसकी Moti Gand भी मारी। अब हम थक कर चूर हो गये. मैं सुबह 4 बजे अपने कमरे में चला गया.

दोस्तों मैं उसे 2 महीने तक रोज चोदता रहा.

आख़िरकार मेरी ट्रेनिंग ख़त्म हो गई.
मैंने उससे विदा ली और अपने शहर लौट आया.

दोस्तो, आपको मेरी देसी भाभी XXX कहानी कैसी लगी?

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds