कजिन को चोदा और करा उसकी चूत का उद्घाटन

कजिन को चोदा और करा उसकी चूत का उद्घाटन

हेलो दोस्तों, आज की कहानी में आप जानेंगे की कैसे मैंने कजिन को चोदा और करा उसकी चूत का उद्घाटन जब घर पर कोई नहीं था।

मेरा नाम अमन है, मैं अभी 21 साल का हूँ और मैं अपने माता-पिता और बड़ी बहन के साथ दिल्ली में रहता हूँ। यह मेरी पहली कहानी है जिसमें मैंने अपने मामा की बेटी की चुदाई की थी। अब मैं आपको चुदाई से भरी एक कहानी सुनाता हूँ।

मेरे मामा एक बैंक में काम करते हैं और नोएडा में रहते हैं। मामी हाउस वाइफ हैं, वो अपनी बेटी सपना के साथ रहती हैं, जो अभी कुछ दिन पहले ही 18 साल की हुई है। उनका रंग गोरा और शरीर पतला है। मेरे मामा का एक बेटा भी है जो इस समय लंदन में पढ़ाई कर रहा है।

जो घटना मैं आपको सुनाने जा रहा हूँ वो अभी 20 दिन पहले की है। जब मामी ने मुझे नोएडा बुलाया क्योंकि उन्हें 3 दिन के लिए किसी काम से मायके जाना था। वो जब भी कहीं जाती है तो मुझे सपना के पास ही रहना पड़ता है।

जब मैं मामा के घर पहुँचा तो घर के दरवाजे पर मामी मिलीं। उसने मुझसे कहा कि सपना नहा रही है, तुम बैठो, वो आकर चाय बनाएगी।

इतना कहकर मामी चली गईं।

मैं अंदर गया और बाहर के कमरे में बिस्तर पर लेट गया। अभी 5 मिनट ही हुए थे कि मैंने सपना को अंदर के कमरे में देखा जो केवल एक तौलिया में लिपटी हुई थी। मेरे कमरे की लाइट बंद थी लेकिन उनके कमरे की लाइट जल रही थी। उसके बाद जो हुआ वो मेरी कल्पना से परे था।

सपना ने अचानक से अपने कमसिन बदन से तौलिया हटा दिया। अपनी बहन को पूरी तरह नंगी देखकर मेरी आंखों में आंसू आ गए क्योंकि मैंने अपने जीवन में किसी लड़की को ऐसी नंगी हालत में कभी नहीं देखा था।

उनकी हाइट 5 फीट 6 इंच है। उसके फिगर को ठीक से नहीं बता सकता लेकिन उसके बूब्स 32″ के हैं और पेट के मुकाबले वो बहुत पतली है। और हाँ उसकी गांड बड़ी दिख रही थी उसकी गांड 34 या 36 के आसपास रही होगी।

वो इस बात से अनजान थी कि कोई उसे बिना कपड़ों के देख रहा है। वहाँ से मैं देख सकता था कि उसकी चूत बहुत खूबसूरत लग रही थी। उसे देखकर ही पता चल रहा था कि वो अभी बाल साफ करके आई है। उसकी चूची, गांड और चूत को देखकर मेरा लंड बेकाबू हो रहा था। वो शायद अपनी ब्रा और अंडरवियर ढूंढ रही थी।

अभी 2 से 3 मिनट ही हुए थे कि उन्हें कुछ शक हुआ जैसे घर पर कोई है। वो मेरे बारे में नहीं जानती थी । उसने झट से तौलिया लपेटा और उस कमरे में आ गई जहाँ मैं लेटा हुआ था।

लाइट ऑन करते ही उसने हैरानी से मेरी तरफ देखा और बोली- भैया, आप कब आए? और आप अंदर कैसे पहुंचे?

मैंने उनसे कहा- मैं तब आया था जब मामीजी यहां थीं।

इसके बाद उसने दूसरा सवाल किया- क्या आपने कुछ देखा?

मैंने अनजान होते हुए पूछा- कुछ मतलब है?

वो घबरा कर बोली- मैं बिना कपड़ों के अंदर कमरे में थी?

मैंने कहा- हाँ, मैंने वो सब देखा है।।। लेकिन मैं करता भी क्या।।। क्योंकि इस अवस्था में एक अप्सरा मेरे सामने थी, इसलिए मैं चाहकर भी नज़रें नहीं हटा पा रहा था।

यह सब सुनकर वो डर गई और वहीं सोफे पर बैठ गई। उसके चेहरे को देखकर ही पता चल रहा था कि उसकी धड़कन उसके काबू में नहीं है।

वो कुछ देर चुपचाप बैठी रही।

फिर मैंने पूछा- क्या हुआ?

तो मेरी बहन ने कहा- ये सब नहीं होना चाहिए था।

फिर मैंने कहा- इसमें न तो तुम्हारी गलती है और न ही मेरी। फिर इसमें डरने की क्या बात है?

फिर न जाने उसके मन में क्या आया, उसने अपने दोनों पैर उठाकर सामने टेबल पर रख दिए। वो ठीक मेरे सामने थी जिससे मुझे उसकी चूत साफ दिख रही थी।

मैंने उससे कहा- क्या कर रही हो?

Read More Stories:

हमारे बीच ऐसी बातचीत पहले कभी नहीं हुई थी। इसलिए मैं शांत होने की कोशिश कर रहा था।

वो बोली- सब देख लिया, फिर छुपाने से क्या फायदा? आप जी भर के देखो।

उसकी सफेद और नंगी जांघों को देखकर और उसकी चूत को देखकर मेरा लंड फिर से हरकत में आ गया। मेरी बेचैनी बढ़ती जा रही थी, मेरा हाथ उसे अपने आप सहलाने लगा।

यह सब देखकर वो बोली- यह क्या करने लगे?

मैंने कहा- जिसके सामने कोई अप्सरा आधी नंगा बैठी हो, वो अपने होश कैसे संभाले?

तब उसने कहा- यह अप्सरा अब पूरी तरह नंगी हो सकती है क्योंकि तुमने सब कुछ देख लिया है। लेकिन पहले मैं उसे देखना चाहती हूँ जिसे तुम अपने हाथ से सहला रहे हो।

मुझे और क्या चाहिए था।।। मैंने जल्दी से अपनी पैंट के बटन खोल दिए, फिर अपना अंडरवियर उतार दिया और अपना लंड उसके सामने खोल दिया। उसे देखकर हैरानी से बोली – ये इतना बड़ा होता है क्या?

मैंने कहा- हां, इतना ही बड़ा होता है।

उसने कहा- क्या मैं इसे छू सकती हूँ?

जैसे ही मैंने हाँ कहा, वो सोफे से उठ खड़ी हुई, पूरा तौलिया निकाला और मेरे पास आई और अपने दोनों हाथों से मेरा लंड पकड़ लिया।

मेरी आँखें ट्रान्स में बंद हो गईं।

तभी मुझे अपनी नाक में एक अजीब सी खुशबू महसूस हुई जो मेरी बहन के नंगे शरीर की खुशबू थी। सपना मेरे लंड को सहला रही थी।

मैंने भी अपना हाथ उसकी कमर पर रखा, फिर उसे धीरे-धीरे नीचे लाते हुए उसकी गांड पर हाथ फिराया, तो लगा जैसे माखन पर हाथ चला रहा हूँ।

उसके बाद मैं अपनी जीभ उसकी नंगी जाँघ पर चलाने लगा।

उसने कहा- भैया, रहने दीजिए प्लीज।

मैं कहाँ रुकने वाला था, आगे बढ़ते हुए मैंने अपनी जीभ उसकी चूत के दाने पर लगा दी।

वो इतना बर्दाश्त नहीं कर पाई और मेरे लंड को मुह में लेकर चूसने लगी। हालांकि उसने ऐसा पहले कभी नहीं किया था। वो पास में खड़े मेरे लंड को चूस रही थी जबकि मैं लेटा हुआ उसकी चूत चाट रहा था।

काफी देर तक हम दोनों इसी हालत में एक दूसरे के साथ मजे करते रहे। तभी मुझे लगा कि मेरी पिचकारी छूटने वाली है, तो मैंने उससे कहा, लेकिन पता नहीं वो किस दुनिया में थी।

तभी मेरे लंड से लावा फूट पड़ा। उसके मुंह में कुछ चला गया। फिर जैसे ही उसने अपना चेहरा हटाया, मेरा वीर्य उसके पूरे चेहरे पर मैला हो गया।

उसने अजीब सी शक्ल बनाई और बोली- भाई ये क्या है?

मैंने उससे कहा- यह वीर्य है।

तो वो बोली- तुमने पहले क्यों नहीं बताया?

मैंने उससे कहा- मैंने कहा था लेकिन तुमने नहीं सुना।

उसने कहा- ठीक है, अब तुम्हें मेरा पानी पीना होगा।

मैंने कहा- नहीं, आज तक तो मैंने शराब भी नहीं पी, आज रहने दो, बाद में देखा जायेगा।

पहले वो मुंह धोकर आई। जब वो पूरी नंगी बाहर जा रही थी तो उसकी गांड देखकर मेरा लंड फिर से मजे लेने लगा।

अब वो वापस आकर मेरे लंड पर बैठ गयी और अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी। यह हम दोनों के जीवन का पहला किस था। मैं उसकी और वो मेरी जीभ चूसने लगी।

कुछ देर किस करने के बाद मैं अपनी जीभ उसके निप्पलों पर घुमाने लगा।

बारी-बारी से दोनों चूचों को चाटने के बाद वो उठी और मुड़ी और फिर से मेरे लंड को अपने मुहं में ले लिया। अब उसकी गोरी, मोटी गांड और बिना बालों वाली चूत मेरे मुँह से थोड़ी ही दूर थी।

तो मैंने भी उसकी चूत को पकड़ कर पूरा अपने मुँह में ले लिया।

करीब 10 मिनट तक दोनों इसी अवस्था में रहे तो मैंने कहा- इस बार पूरा रस मुँह में ही लेना। मैं भी तुम्हारा रस मुँह में ही ले लूंगा।

पहले तो उसने मना किया और फिर मान गई।

थोड़ी ही देर में मुझे झटके आने लगे और उसकी चूत से भी कुछ बहने लगा। दोनों ने एक दूसरे का पानी पिया और अलग हो गए।

मैंने उससे कहा- कोई आ सकता है, इसलिए बाकी काम हम रात में कर लेंगे।

तो वो मान गई और हम दोनों ने अपना मुंह धोया और कपड़े पहन लिए।

दिन में जब वो किचन में खाना बना रही थी तो मैंने अपना लंड उसकी गांड पर रख दिया।

वो बोली- भैया रहने दो, रात को जो करना है कर लो, पर अभी मुझे काम करने दो।

मैंने लिप किस किया और टीवी देखने चला गया।

रात को उसने खाना बनाया और दोनों ने साथ बैठकर खाना खाया।

इसके बाद दोनों एक ही बेड पर लेट गए। सर्दियां शुरू हो चुकी थीं तो दोनों ने कंबल ओढ़ लिया। लेकिन अचानक वो उठकर दूसरे कमरे में चली गई।

जब वो वहाँ से वापस आई तो उसने रेड कलर का सेक्सी गाउन पहना हुआ था।

जब मेरी वो में लेटी तो मैंने कहा- आज हमारा सुहागरात है।

इसलिए उसने शर्मा कर चेहरा अपने हाथों में छिपा लिया।

मैंने उनका गाउन उतार कर देखा तो उसने काले रंग की जालीदार ब्रा और पेंटी पहनी हुई थी जिसमें वो काफी सेक्सी और हॉट लग रही थी।

इसके बाद उसने मेरे कपड़े खुद ही उतार दिए। मैंने नीचे अंडरवियर नहीं पहना हुआ था, जिससे पैंट उतरते ही मैं पूरी तरह से नंगा हो गया था।

उसने मेरे लंड को सीधे अपने मुँह में ले लिया, उसके गुलाबी होठों ने मुझे मदहोश कर दिया। मैंने उसकी ब्रा और पैंटी निकाल कर फेंक दी और उसे कहा- मेरे ऊपर आओ।

तो हम दोनों 69 में आ गए।

उसकी चूत से एक अजीब सी महक आ रही थी जो मुझे और भी पागल कर रही थी। काफी देर तक इसी हालत में रहने के बाद सपना को उठने को कहा और अपने लंड पर बैठने को कहा।

वो मेरे पेट पर लेट गई। मेरा लंड उसकी चूत को छूकर खुशी से झूम रहा था। उसने अपने होंठ मेरे होठों पर रख दिए और हम दोनों एक दूसरे के होंठ और जीभ चूसने लगे।

4 से 5 मिनट के बाद मैंने उसे उठाया और कहा- नीचे आओ, आज मैं तुम्हारी नन्ही सी चूत का उद्घाटन करूंगा।

मेरी बहन बिस्तर पर लेट गई। सपना डर गई थी, वो कह रही थी- भैया, सुना है पहली बार चुदाई करने पर बहुत दर्द होता है।

तो मैंने उसे दिलासा दिया- आराम से कर लूंगा, तुम जाकर कोई क्रीम ले आओ।

उसके बाद सपना ने मेरे लंड पर ढेर सारी क्रीम लगा दी, मैंने उसकी चूत पर लगा दी। उसे लिटाकर मैं ऊपर आया और सपना से कहा- दर्द होगा पर बर्दाश्त कर लेना, प्लीज़ चिल्लाना मत।

अब मैंने उसकी एक टांग उठाई और अपना लंड उसकी चूत पर टिका दिया। जब पहला धक्का मारा तो वो अंदर नहीं गया, वो साइड में फिसल गया। कई कोशिशों के बाद आखिरकार लंड का आगे का हिस्सा अंदर चला गया, लेकिन सपना दर्द से कराह उठी।

मैं रुक गया क्योंकि वो बहुत नाजुक लड़की है। थोड़ा आराम मिला तो मैंने धक्का मारा फिर मेरा आधा लंड उसकी चूत को फाड़ते हुए अंदर चला गया लेकिन ये झटका बर्दाश्त नहीं हुआ और वो रोने लगा।
फिर बोली- उम्म्ह…आह…हाय…अरे… भाई निकालो, बहुत दर्द हो रहा है, बाकी कल कर लेना।

मैं रुक गया और बारी-बारी से उसके निप्पलों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। जिसमें ध्यान बटने से उसका दर्द कुछ कम हुआ। अब जब मैंने एक आखिरी धक्का दिया तो मेरा पूरा लंड उसकी छोटी सी चूत में समा गया। लेकिन वो तभी बेहोश हो गई। जिसके बाद मैं डर गया।

लेकिन जल्द ही वो होश में आ गई और मुझे अपने से दूर धकेलने लगी। मैं कहाँ मानने वाला था, कभी उसके होठों को चूस लेता तो कभी उसके छोटे-छोटे निप्पलों को चूस लेता।

करीब 5 मिनट बाद मुझे लगा कि वो अपनी गांड हिला रही है। मैं समझ गया कि अब सपना को दर्द नहीं हो रहा है।

मैंने धीरे-धीरे धक्का देना शुरू किया तो वो भी मेरे साथ मस्ती में डांस करने लगी। काफी देर तक चोदने के बाद जब मुझे लगा कि मैं निकलने वाला हूँ तो मैंने उसकी चूत से निकाल कर उसके मुंह में डाल दिया।तभी मेरा पानी छूट गया जिसे उसने पूरा पी लिया।

अब उसकी बारी थी, वो भी उठकर मेरे मुँह पर बैठ गई। मैंने उसकी भावनाओं को समझा और अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा दी, इस बीच वो भी सख्त और ढीली हो गई।

उस रात हमने ओ पर 3 बार चुदाई की। एक बार मैंने सपना की गांड में लंड देना चाहा, लेकिन वो नहीं मानी और बोली- भाई आज चूत का दर्द सह लूँ, अगली बार गांड का उद्घाटन तुमसे ही करवाऊँगी।

उसके बाद हम दोनों सो गए।

अगले दिन फिर दिन में चुदाई का खेल खेला, जिसके बारे में मैं अगली कहानी में बताऊंगा।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds