पुरानी क्लासमेट के साथ पहली चुदाई की रात: क्लासमेट चुदाई XXX

पुरानी क्लासमेट के साथ पहली चुदाई की रात: क्लासमेट चुदाई XXX

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “पुरानी क्लासमेट के साथ पहली चुदाई की रात: क्लासमेट चुदाई XXX”। यह कहानी पंकज की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

नमस्कार दोस्तो, मैं पंकज एक बार फिर आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ।

यह कहानी मेरे स्कूली जीवन से शुरू हुई जब मैं उन्नीस साल का था और 12वीं कक्षा में था। हमारा स्कूल आसपास के क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय था। इसीलिए हर साल नए लड़के-लड़कियां वह एडमिशन लेते है।

हर साल की तरह उस साल भी हमारी क्लास में बहुत सारी नई लड़कियाँ आईं और हम सभी हरामी किस्म के लोगों को अपने लंड हिलाने का मसाला मिल गया। (क्लासमेट चुदाई XXX)

हमारे विद्यालय में खेलकूद एवं अन्य कार्यक्रम भी आयोजित किये जाते हैं। अतः सितम्बर माह में हमारे विद्यालय को अन्य विद्यालयों के साथ एक प्रतियोगिता में भाग लेना था।

इसका मतलब यह था कि सभी छात्रों के लिए स्कूल का अवसर उपलब्ध था। यह प्रतियोगिता छात्रों के लिए एक बड़ी उपलब्धि साबित होने वाली थी।

इस प्रतियोगिता में पहले तहसील स्तर पर, फिर जिला स्तर पर, फिर राज्य स्तर पर और आगे नेशनल लेवल में भीखेलने की संभावनाएं थीं।

जब हम सभी को इसके बारे में विस्तार से बताया गया तो हमारी कक्षा की लड़कियाँ इसमें भाग लेने लगीं। जब तक हम लड़के बैठे रहे, लड़कियाँ हँसने लगीं। वह लड़कों पर कमेंट करने लगी.

अब ये मामला इज्जत का सवाल बन गया था. मामला लड़कों के अहंकार तक आ गया था.

अंततः मैं खड़ा हुआ और सर से मेरा नाम भी लिखने को कहा। इतने में मेरा दोस्त भी खड़ा हो गया और बोला- सर, मेरा नाम भी लिख दीजिए.

अब मैंने अपना नाम तो लिखवा लिया, लेकिन मैं चिंतित था क्योंकि मुझे स्कूल का प्रतिनिधित्व करना था। हमें स्कूल स्तर से एक साथ शुरुआत करनी थी। (क्लासमेट चुदाई XXX)

वहां से हमारा चयन हो गया और हम लोग तहसील स्तर के लिए खेलने गये, जिसमें हम चार लड़के और चार लड़कियाँ थीं। खास बात यह थी कि सभी प्रतियोगियों का चयन मेरे स्कूल से ही हुआ था।

वहां से हमारा चयन जिले स्तर के लिए हुआ और फिर वहां हम हार गए, लेकिन इस स्तर तक आने का हमें एक उपहार भी मिला, जो नकदी के रूप में था।

अब हम आठों ने फैसला किया कि हम इस पैसे का उपयोग स्कूल के सभी छात्रों के साथ पिकनिक मनाने में करेंगे।

दिन तय हुआ और हम सब अपने अध्यापकों के साथ पिकनिक पर गये। रास्ते में चलते हुए हम सबने खूब एन्जॉय किया.

लेकिन हुआ ये था कि मैं और राधिका (मेरी क्लासमेट) कार में पीछे बैठे थे और मेरे साथ दो लोग और भी थे. यह 8 सीटर कार थी, जिसमें पीछे 4 लोगों के बैठने की जगह थी।

हम दोनों पीछे बैठे थे, वो मेरे करीब बैठी थी. रास्ते में मुझे नींद आ गयी तो मैं सो गया. सोते समय मैंने अपना सिर उसके कंधे पर रख दिया और नींद में सरकते समय मेरा सिर उसके स्तनों पर जा टिका।

मैं ऐसे ही सो रहा था, तभी हमारी कार रुकी और सब लोग चाय पीने चले गये. वो मुझे उठा नहीं पा रही थी, लेकिन गाड़ी रुकने के कारण मैं उठ गया.

मुझे अपनी स्थिति देखकर शर्मिंदगी महसूस हुई और मैंने उससे सॉरी कहा।
तो उसने कहा- किस बात के लिए सॉरी?

मैं- इसीलिए क्योकि मैं तुम्हारे कंधे पर सो गया.
तो वह हंस पड़ी.

अब लड़की हंसी तो फंसी, ये बात लगभग सच है. मैंने कुछ नहीं कहा और मैं भी मुस्कुरा दिया. चाय के बाद गाड़ी फिर चल पड़ी। (क्लासमेट चुदाई XXX)

कार में बैठने के बाद मुझे फिर से नींद आ गई, इस बार भी वही हुआ लेकिन इस बार मैं उसकी गोद में सो गया। वो मेरे सिर को सहलाने लगी और ऐसे ही मजा लेने लगी.

अब तक वो मुझसे प्यार करने लगी थी. दिलों में प्यार पनपता रहा. न मैंने जताया, न उसने कुछ कहा. हम दोनों साथ बैठ कर बातें करते. मैं उसके साथ टिफिन का खाना खाता था, वह मेरा खाना अपने साथ शेयर करती थी।

कई बार तो मैं चेक करने के लिए आधी खाई हुई कोई चीज रख देता था और वो मेरी झूठी चीज बड़े प्यार से खा लेती थी. हम दोनों ने एक दूसरे की आंखों में प्यार देखा लेकिन कुछ कह नहीं पाए.

ऐसे ही मेरी 12वीं क्लास की परीक्षा ख़त्म हो गयी लेकिन उसने मुझे कभी कुछ नहीं बताया. कहीं न कहीं मैं भी उसे बहुत पसंद करने लगा था.

इसी तरह हमारा स्कूल पास हुआ और फिर कॉलेज का समय आ गया. फिर पता चला कि वो और मैं दोनों एक ही शहर में कॉलेज में पढ़ते हैं.

मैंने उसका नंबर लिया और उसे कॉल किया. वह मेरी आवाज सुनकर बहुत खुश हो गई और बोली कि कितने दिनों के बाद मैं तुम्हारी आवाज सुन पा रही हूं।

फोन पर हुई बातचीत से ही पता चला कि हम दोनों एक ही शहर के अलग-अलग कॉलेजों में अपनी आगे की पढ़ाई कर रहे हैं.

इस तरह हमारी बातचीत बढ़ने लगी.
एक दिन मैंने उससे पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है या नहीं?

उसने शरमाते हुए कहा- नहीं.
फिर मैंने कहा कि क्या तुम्हें कोई चाहिए.. या तुम्हें कोई पसंद है?

इस बारे में उसने मुझसे कुछ नहीं कहा, बस चुप रही. मैं यह जानने के लिए उत्सुक था कि उसके मन में मेरे लिए क्या है।

लेकिन न तो उसने मुझे बताया और न ही मुझसे ये सवाल पूछा कि क्या मैं किसी को चाहता हूं. अगर उसने मुझसे यह पूछा होता, तो शायद मैं उसके प्रति प्रेमवश उसे कुछ बता देता। (क्लासमेट चुदाई XXX)

खैर.. इस तरह हम रोज बातें करने लगे और मैं उससे रोज यही बात पूछता रहता था।

एक दिन उसने ‘आई लव यू’ कह दिया. ..’ क्योंकि मैं भी उसे आई लव यू बोलने के लिए तरस रहा था, इसलिए मैंने तुरंत कह दिया ‘आई लव यू टू…’.

फिर हम दोनों रोज बातें करने लगे. हम दोनों मिलने लगे और बाहर घूमने जाने लगे.

ऐसे ही एक दिन हम दोनों एक पार्क में घूमने गये थे और वहीं बैठे हुए थे. मैं अपना हाथ पीछे ले गया तो उसकी कमर को छू गया.

मैंने सॉरी कहा तो उन्होंने कहा- कोई बात नहीं, आप अपना हाथ रख सकते हैं.

मैंने फिर सॉरी कहा तो उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी कमर पर रख दिया. जब मैंने उसकी आँखों में देखा तो उसकी शरारती मुस्कान ने मुझे अंदर से गर्म कर दिया।

धीरे-धीरे ये सब करना अब हम दोनों का रोज का काम हो गया था. अब स्थिति ऐसी हो गई थी कि जब तक हम दोनों एक दूसरे को छू नहीं लेते थे, संतुष्ट नहीं होते थे. (क्लासमेट चुदाई XXX)

हम साथ-साथ बैठते थे, मैं उसकी गोद में सिर रखकर लेटा रहता था, हम दोनों बातें करते रहते थे। लेकिन इससे आगे कुछ नहीं हो रहा था.

लेकिन मैंने उससे सेक्स के बारे में बात करना शुरू कर दिया, इसलिए धीरे-धीरे हम दोनों फोन सेक्स करने लगे।

अब उसका भी मन करने लगा लेकिन उसने अपनी तरफ से कुछ नहीं कहा. मैं उसका पागलपन समझ गया.

मैंने उससे कहा- अब जब हम मिलेंगे तो यही काम करेंगे. तो वो गुस्से में बोलीं- कैसे करेगा.. मैं भी देखती हूँ. आख़िरकार वह दिन आ ही गया जब मेरे कमरे में कोई नहीं था।

आज तो वो पूरी रात मुझसे Chut Chudai करवाने वाली थी. मैंने उसे फोन किया तो वो भी खुश हो गई लेकिन उसने ऐसा जाहिर किया कि वो आना नहीं चाहती.

मैंने भी कहा- ठीक है.. देख लेना.. अगर तेरा मन न हो.. तो मत आना।

कुछ देर बाद उसने खुद फोन किया और कहा- मरो मत… मैं आ रही हूं!
मैं खुश हुआ।

मैं जल्दी से मेडिकल स्टोर पर गया और वहां से दस पीस कंडोम का एक पैकेट खरीद लिया. दस क्योंकि हम नए चोदू थे, हमे यह भी नहीं पता था कि कंडोम कैसा दिखता है।

मैं अपने कमरे में आ गया. वहां देखा कि वह पहुंच चुकी है.

मैंने कहा- तुम्हे तो बहुत जल्दी है … क्या बात है मेरी जान.

उसने कहा- ठीक है.. तुम मुझे बुला कर कहीं चले गए और जब मुझे आता हुआ देखा तो कहा कि मैं जल्दी में हूँ। सुनो… मैं कुछ नहीं करना चाहती. मैं तो बस तुम्हारे साथ रहने आयी हूँ. लेकिन यदि आप यह कर सकते हो, तो कर लो।

उनकी आखिरी लाइन मेरे लिए ग्रीन सिग्नल थी. मैं उस पर कूद पड़ा. मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगा. (क्लासमेट चुदाई XXX)

यार, क्या सेक्सी थी वो… मैं तुम्हें बताना भूल गया कि उसके 36 साइज़ के Big Boobs हैं। होंठ चूसते चूसते मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी, अब वो मेरे सामने ब्रा में थी।

मैं उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबा रहा था… और उसके मम्मों को चूसने के बाद मैं नीचे पहुंचा और उसकी जींस का बटन खोल दिया। उसने खुद ही जींस उतार दी.

अब वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में थी और मैं पूरे कपड़े में था.

फिर उसने मेरे कपड़े उतार दिए और फिर क्या.. खेल शुरू हो गया.

हमारा चुदाई कार्यक्रम अपना काम करने के लिए तैयार था। हम दोनों एक दूसरे से बहुत जोश में चुम रहे थे.

मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके चूचों को चूसते हुए और उसे चूमते हुए धीरे-धीरे उसके पेट तक पहुँच गया। वहां से मैं उसकी पैंटी के पास आया और उसे अपने दांतों से खींच कर उसके शरीर से अलग कर दिया. (क्लासमेट चुदाई XXX)

अब वो भी नंगी थी और मैं भी… मैं लगातार उसके स्तन दबाता रहा और चूसता रहा।

फिर मैं धीरे-धीरे अपनी उंगली नीचे ले गया और उसकी जांघ पर फिराने लगा। इस समय मैं उसके होंठों को चूम रहा था, एक हाथ से उसके स्तन दबा रहा था और दूसरा हाथ उसकी चूत पर फिरा रहा था।

फिर मैंने धीरे से एक उंगली उसकी चूत में डाल दी, वो सिहर उठी. लेकिन मैं कहां रुकने वाला था.

ऐसे ही उसे चूमते हुए मैंने उसकी चूत में अपनी उंगली डाल दी और अन्दर-बाहर करता रहा। कुछ ही देर में उसकी टांगें खुल गईं. अब मेरी उंगली और उसकी चूत उंगली से चुदाई का मजा ले रही थी.

वोहवस के नशे में कराहती रही.

कुछ देर बाद मैंने उससे जमीन पर बैठने को कहा. मैंने उससे अपना लंड चूसने को कहा तो उसने मना कर दिया. लेकिन मैं कहां मानने वाला था.

जब मैंने उसे नीचे बिठाया तो वह हंसने लगी. मैंने उसकी कमर पर चिकोटी काटी तो उसका मुँह खुल गया. मैंने उसी वक्त अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया.

उसका मन हुआ तो वो धीरे धीरे लंड चूसने लगी. कुछ ही देर में वो लंड को ऐसे चूसने लगी जैसे लॉलीपॉप चूस रही हो. उसने मुझे गर्म कर दिया. मैंने भी उसमें उंगली करके उसे सेक्स की आग में जला दिया.

आग दोनों तरफ लगी थी. मैंने कंडोम का पैकेट निकाला और एक निकालकर अपने लंड पर चढ़ा लिया। अब मेरा लंड कंडोम पहन कर तैयार था. लेकिन उससे पहले मुझे उसे थोड़ा और तड़पाना था.

मैंने अपना लंड इधर उधर हिलाया. मैंने उसके स्तनों की मालिश की, उसकी Tight Chut में उंगली की, उसके पेट को चूमा। उसे पूरी तरह उत्तेजित कर दिया. (क्लासमेट चुदाई XXX)

फिर उसने मेरा लंड पकड़ लिया और बोली- अब इसे इधर उधर मत करो.. छेद में डालो।

मैंने अपना लंड सैट किया और उसे चोदने लगा. जब मैंने लंड का टोपा उसकी दरार में रखा और धक्का दिया तो लंड फिसल गया।

मैंने बहुत कोशिश की, लेकिन लंड अन्दर नहीं जा रहा था. मुझे नहीं पता था कि जो पहले कभी न चुदा हो उसे चोदने में थोड़ा समय लगता है।

फिर मैंने उससे मेरा लंड पकड़कर अन्दर लेने को कहा. उसने लंड को पकड़ा और चूत के छेद में डाल दिया. मैंने धीरे-धीरे दबाव डाला तो अब लंड अन्दर जाने लगा। उसे दर्द होने लगा. (क्लासमेट चुदाई XXX)

वो दर्द से कराहने लगी, ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और मुझसे उसे बाहर निकालने के लिए कहने लगी.

लेकिन मैंने कुछ नहीं सुना. मैं उसे जोर जोर से चोदने लगा.

मेरा पूरा कमरा चुदाई के इस रंगीन कार्यक्रम में डूब गया. फच फच की आवाज आने लगी. कुछ देर बाद उसे भी चुदाई का मजा आने लगा. वो अपनी Moti Gand उठा उठा कर मुझसे चुदवाने लगी. बहुत जोरदार चुदाई हो रही थी.

बीस मिनट के बाद मैं झड़ गया और उसकी चूत की सील भी टूट गयी.

आधे घंटे बाद फिर से जमावड़ा शुरू हो गया। मैंने उसके स्तनों के बीच अपना लंड डाला और उसे चोदा, उसका मुँह चोदा और फिर उसकी गांड भी चोदी। हम दोनों का चुदाई का कार्यक्रम पूरी रात चलता रहा.

वह सुबह जाने में सक्षम नहीं थी, इसलिए मैंने उससे कहा कि अभी यहीं रुको.

उसने मुझसे कहा- मैं रुकने वाली नहीं हूं … मुझे नहीं पता कि तुम मेरा कौन सा छेद चोदोगे. मैंने कहा- मैं अभी कुछ नहीं चोदूंगा, सिर्फ मम्मे चूसूंगा. (क्लासमेट चुदाई XXX)

उन्होंने हंस कर मुझे हरी झंडी दे दी. मैं स्तन चूसने लगा.

मैंने उसे दो दिन तक अपने पास रखा और वो भी पूरी नंगी होकर. उसने मुझे भी कपड़े नहीं पहनने दिए. जब भी हम दोनों का मन होता तो अपना लंड उसके मुँह में डाल देता या उसकी चूत में डाल देता।

हमारा प्यार बहुत लंबे समय तक चला. बाद में मैं उसे कई जगहों पर ले गया और कई बार चोदा. लेकिन अब मैंने उससे ब्रेकअप कर लिया है.’

अभी कुछ दिन पहले उसका फोन आया था और उसकी डिमांड पर मैंने उसे दोबारा चोदा.

अब हम बात नहीं करते, लेकिन जब भी हमें सेक्स करना होता है तो हम सीधे चुदाई की बात करते हैं.

आपको मेरी ये क्लासमेट चुदाई XXX कहानी कैसी लगी? कृपया मुझे कमेंट करके बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds