कोच सर के साथ प्लेग्राउंड में चुदाई का मजा

कोच सर के साथ प्लेग्राउंड में चुदाई का मजा

स्कूल मास्टर सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने स्कूल के एक मास्टर को अपनी जवानी में अपने बड़े मम्मे उछाल कर गर्म किया, फिर उसके लंड का आनंद लिया।

एक नई कहानी शुरू करने से पहले, मैं आपको अपने बारे में बता दूं। मेरा नाम Azra Khan है। मैं Dwarka की रहने वाली हूँ। 
मैं 24 वर्ष का हूं। मेरा शरीर 40-34-42 है। मेरी हाइट 5'5" है और मेरे वजन की वजह से मेरा शरीर भरा हुआ दिखता है।

और दोस्तों मैं आपको यह भी बता दूं कि मैं एक बैडमिंटन खिलाड़ी हूं। मुझे शुरू से ही बैडमिंटन की कोचिंग मिली।

यह कहानी उस समय की है जब मैं 19 साल का था, 12वीं कक्षा में पढ़ता था।

हर साल हमें हमारे स्कूल द्वारा टूर्नामेंट खेलने के लिए भेजा जाता था।
आगे इस कहानी में आप पढ़ेंगे कि कैसे मैंने अपने कोच को डांटा और उसे फसाया।

जब हमें टूर्नामेंट के लिए जाना होता था तो हमें काफी व्यायाम मिलता था।
उसी दौरान यह घटना घटी।

एक रात जब मैं अभ्यास से घर लौटा तो मैं बहुत थक गयी था और नहाने के बाद सोने चला गयी।

बहुत थका हुआ होने के कारण, मैं सुबह देर से उठा और पाया कि मुझे अभ्यास के लिए देर हो रही है।
इसलिए मैंने बस हाथ धोए और चला गयी   और यहां तक कि अपनी ब्रा पहनना भी भूल गयी।
अब जब तक मैं ध्यान कर पाता, तब तक मैं साधना स्थल पर पहुंच चुका था।

दोस्तों मैं आपको बता दूं कि मैं भले ही थोड़ा छोटा था फिर भी मेरा शरीर बिल्कुल वैसा ही था जैसा अभी है।

वहां जाने के बाद मैंने देखा कि वहां कोई लड़की नहीं आई है। मेरे अलावा सिर्फ मेरे कोच थे। हम उन दिनों कोच मास्टरजी को बुलाते थे।
उसने मुझे वार्म अप करने के लिए कहा।

उसमें 3-4 लड़के और आ गए और हम सब मिलकर उस मैदान का चक्कर लगाने लगे।
उस समय मेरे खरबूजे इस कदर उछल-कूद कर रहे थे कि मानो कमीज फाड़ कर बाहर आ जाएं।
यह देख मैं धीरे-धीरे दौड़ने लगा ताकि किसी को पता न चले।

लेकिन यह देखकर कोच को गुस्सा आ गयी   और उन्होंने सजा के तौर पर मुझे हिट स्किपिंग जंप करने को कहा।
मैं बिना कुछ कहे चुपचाप उछल-कूद करने लगी।

दूसरी ओर, मास्टरजी उन लड़कों की प्रैक्टिस कर रहे थे और मैं यहाँ अपनी सजा काट रहा था।
लेकिन मुझे भी इसमें मजा आ रहा था क्योंकि खेलते समय उन लड़कों की नजर मेरी मम्मे पर जा रही थी जो मेरी छलांग लगाकर ऊपर-नीचे हो रही थी। और यह देख उसकी पैंट में टेंट भी बन रहे थे। और मेरी कमीज पसीने से भीग रही थी। जैसे ही मैं रुका, कोच ने मुझे डांटा और मुझे फिर से कूदने के लिए कहा। यह सिलसिला लंबे समय तक चलता रहा। मैं बहुत थक गयी था इसलिए मैंने मास्टर जी से निवेदन किया - सर कृपया मुझे रुकने दो, मैं अब और नहीं कर पाऊंगा। 

यह सुनकर वह मेरे पास आया और मेरे मम्मा को घूरते हुए बोला - ठीक है रुको ! और ऐसे ही वह वापस चला गयी । मैं वहीं बैठ कर सांसें गिनने लगा और पानी पीने लगा। इस बीच, मैंने देखा कि कोच सभी को जाने के लिए कह रहा है। अभ्यास शुरू होने में अभी ज्यादा समय नहीं था, इसलिए सभी ने मना करना शुरू कर दिया, लेकिन कोच ने उन्हें कुछ कह कर मना लिया। यह देखकर मुझे लगा कि मुझे भी जाना चाहिए तो मैं भी अपना सामान लेकर निकलने लगा। लेकिन कोच ने मुझे रोका, कहा- कहां जा रहे हो? मैं- अगर आपने सभी को जाने के लिए कहा तो मैं भी जा रहा हूं। कोच: आपकी सजा अभी पूरी नहीं हुई है। मैं- मास्टर जी, मैं बहुत थक गयी हूँ अब मैं कूद नहीं सकता। कोच: नहीं, अब आपको कूदने की जरूरत नहीं है। मैं डर गयी - तो अब मेरी सजा क्या है?
कमीज के ऊपर से मेरे उभारों को घूरते हुए कोच - वे बहुत कूदते हैं, उन्हें हाथ से पकड़ते हैं और कोर्ट के चारों ओर जाते हैं।
मैं समझ गयी कि भाई अब चूम रहा होगा। मास्टर सेक्स के लिए तैयार है।

और मैं कोर्ट के चक्कर लगाने लगा, साथ ही जानबूझ कर मैं अपनी मम्मे को ऊपर-नीचे करने लगा ताकि ऐसा लगे मानो वह अपने आप ही उछल रही हो। साथ ही वह अपने निपल्स को अपनी उंगलियों से खींच रही थी। 
यह नजारा देखकर कोच की पैंट में कुछ उभार नजर आया। मैंने अपने खरबूजे को और जोर से ऊपर और नीचे धकेलना शुरू किया, लेकिन कोच को दिखाया कि मुझे कुछ नहीं पता। थोड़ी देर यह सुख लेने के बाद मास्टर जी मेरे पास आए और बोले- तुम्हें बहुत पसीना आ रहा है, तुम्हारी कमीज भी पूरी तरह गीली है, इसे सूखने दो। इतना कहकर उसने मेरी टी-शर्ट उतारनी शुरू कर दी। 

इसके बाद उन्होंने कहा- और तुम बिना शर्ट के अपनी यात्रा जारी रखो। अब मुझे कोच को देखने और चुदाई के बारे में सोचने में मज़ा आने लगा था। मैं भी मास्टर जी के हर आदेश का पालन कर रहा था। लेकिन इस बार दौड़ते हुए मैंने जान-बूझकर अपने स्तनों को रखे बिना कमर पर हाथ रखा और दौड़ने लगी। यह देखकर कोच की पैंट में पूरा टेंट बन गयी और उसे छिपाने के लिए वह दूसरी तरफ से उसे सहलाने लगा और मुझे रुकने को कहा। मैं अब बहुत गर्म था, चुदाई अब मेरे सिर पर थी। मेरे दिमाग में एक योजना आई कि मास्टर जल्दी से सेक्स के साथ मुझ पर चढ़ जाए। मैं अपना पेट पकड़कर जमीन पर घुटनों के बल बैठ गयी और दर्द से कराहने लगा, मानो मेरा पेट मरोड़ रहा हो। यह देख कोच दौड़ता हुआ मेरी ओर आया और देखने लगा कि मेरे साथ क्या हो रहा है। तभी मैंने देखा कि कोच की पैंट में बना टेंट बहुत बड़ा लग रहा था।

मुझे इसे चूसने का मन कर रहा था, लेकिन फिलहाल मैंने कुछ भी करना सही नहीं समझा। मास्टर जी ने मुझे वहीं जमीन पर लिटा दिया और मेरे पेट की मालिश करने लगे। मैं विलाप करता रहा। मेरे पेट की मालिश करते हुए मास्टरजी मेरे खरबूजे को छूने लगे। मैं जल्दी से संकेत समझ गयी और "मास्टरजी, मुझे यहाँ भी बहुत दर्द हो रहा है, उनकी भी मालिश करें।" यह कहकर वह अपनी मां का दमन करने लगी। मास्टर जी जल्दी से समझ गए कि मैं भी चटनी के लिए तैयार हूँ और जल्दी से अपना एक तरबूज हाथ में लेकर चूसने लगा, फिर मैं दूसरे हाथ से मसलने लगा। मेरी चूची को दांतों के बीच पकड़कर चबाने लगा, खींचने लगा।

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था; मैं हल्की फुफकार रहा था। फिर उसने अपना मुंह मेरे मुंह में डाल दिया और जोर-जोर से किस करने लगा। साथ ही मैं अपनी चूत को हाथ से सहलाने लगा। जैसे ही मास्टर ने मेरी चूत पर उंगली रखी, मैं गिर पड़ा। मैं बहुत गर्म था।
कोच साहब लगातार किस करते रहे और मेरी चूत साफ करते रहे।

फिर थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड निकाला और मेरे मुँह पर रख दिया और मेरे मुँह को चाटने लगा।
तब तक के अपने अनुभव के अनुसार मुझे उस समय उनका लिंग बहुत बड़ा लगा।
हालांकि उसके बाद मैंने उससे भी बड़े मुर्गा का स्वाद चखा है लेकिन वह उस समय अलग था।

उससे पहले मैंने अपनी उम्र के लड़कों का ही लिंग आजमाया था, उनका लिंग भी छोटा हुआ करता था।

मैं बड़े मजे से उसका लिंग चूसने लगाी।
उसे मजा आने लगा और वह जोर-जोर से मेरा मुंह पीटने लगा और अपना लंड मेरे गले में लेने लगा।

मुझे इस तरह की आदत नहीं थी इसलिए मेरी सांसें अटकने लगीं और मैं सिसकने लगा।
फिर भी वह मेरा मुँह चाटता रहा और मेरे मुँह में गिर पड़ा।

इसके बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी चूत पर बैडमिंटन का बल्ला रगड़ने लगा।
मैं गर्म होने लगा।
और रैकेट की मूठ मेरी चूत में डालकर उसने मुझे रैकेट से चोदना शुरू कर दिया।
थोड़ी देर में मैं फिर गिर पड़ा।

अब तक उसका लंड खड़ा हो चुका था, उसने मेरी चूत से रैकेट निकाला और लंड डालने लगा और मुझे चोदने लगा।
कुछ देर इस तरह घोड़ा बनाने के बाद मैं फिर गिर पड़ा।

अब दो बार गिरने के बाद मेरी हालत खराब हो गई थी, लेकिन कोच अभी भी संतुष्ट नहीं था।
उसने मुझे वहाँ सीढ़ियों पर बिठाया और लिंग मेरे मुँह में डाल दिया और उसे चूसने के लिए कहा।

मैंने उसका लंड अपने मुँह में लिया और मजे से चूसने लगा।
अब उसका लिंग फिर से खड़ा होने लगा।

अब उसने मुझे उन्हीं सीढ़ियों पर लेटा दिया और अपना लिंग मेरी चूत में डाल दिया और जोर-जोर से मारने लगा।
एक खिलाड़ी होने के नाते वह बहुत शक्तिशाली था, इसलिए उसका हर धक्का मेरी चूत को अंदर तक खोल रहा था।

उन धक्कों के कारण मैं बहुत जल्दी नीचे गिर गयी  ।
लेकिन उन्होंने अपना धक्का जारी रखा।

सर मुझे बड़ी ताकत से चोद रहे थे।
यह पहली बार था जब मुझे इतनी ताकत से चोदा जा रहा था।
मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और अब थोड़ा दर्द भी होने लगा था।

अब थोड़ी देर बाद इतनी ताकत से वह गिरने लगा, तो उसने मेरे मुंह में लिंग डाल दिया और फिर से अपना मुंह घोंटने लगा।
और देखते ही मैं एक गरम घड़े से टकराते हुए मुँह के बल गिर पड़ा और शांति से वहीं बैठ गयी  ।
मैं भी बहुत थक गयी था, इसलिए मैं भी कुछ देर ऐसे ही लेटा रहा।

फिर कुछ देर बाद हमने अपने कपड़े खुद पहने और कुछ देर अभ्यास करने के बाद मैं अपने घर लौट आया।
उस दिन के बाद लगभग हर दिन हम सेक्स का आनंद लेते थे।

ऐसे ही एक दिन हमें एक और लड़के ने देखा जो कोचिंग में आया करता था।
मैंने भी उससे अपनी जवान चूत को चूमा था। इस घटना को फिर से किसी कहानी में लिखूंगा।
आज के लिए इतना ही।

तो दोस्तों आपको मेरी कहानी कैसी लगी? मुझे मेल द्वारा बताएं।
उसी तरह मैं फिर से आपके सामने अपनी सच्ची कहानी लेकर आऊंगा।
[email protected]

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds