क्लासमेट को अपना गुलाबी मोटा लंड चुसवाया और बन गया मोटे लंड का मालिक

क्लासमेट को अपना गुलाबी मोटा लंड चुसवाया और बन गया मोटे लंड का मालिक

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम पंकज उदास है और मै लाया हू एक मजेदार स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे मैंने अपने क्लासमेट को अपना गुलाबी मोटा लंड चुसवाया मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

मैं एक गुलाबी मोटे लम्बे खूबसूरत लंड का मालिक हूँ.

खूबसूरत लंड या नंगा लंड हर मर्द की चाहत होती है. क्योंकि हर औरत लंबे लंड से खेलने, उसे चूसने, चूत चोदने और सेक्स करने के लिए बेताब रहती है; चाहे वह कितनी भी सती-सावित्री क्यों न हो.
हर महिला अपने जीवन में कम से कम एक बार लक्ष्मण रेखा पार करती है।
यह समय हर महिला के जीवन में अलग-अलग समय और परिस्थितियों में एक बार आता है।

आइए मैं आपको अपनी ओरल सेक्स, लंड चूसने की कहानी सुनाता हूँ और यह भी बताता हूँ कि लड़कियों और महिलाओं को कैसे प्रभावित किया जाए या उत्तेजित किया जाए।

मैंने बहुत सी कहानियाँ पढ़ी हैं जिनमें लिखा होता है कि वो सच्ची घटनाओं पर आधारित हैं… लेकिन उनमें लिखी बातें और घटनाएँ उतनी रोमांचित नहीं करतीं जितनी होनी चाहिए।
शायद सच्चाई की कमी रही होगी.

जो भी घटना मैं आपको बताऊंगा वो कोई कहानी नहीं है.
जैसे-जैसे आप पढ़ेंगे, आपको पता चलेगा कि आपने क्या पढ़ा है।

अभी मेरी उम्र 37 साल है.
यह तभी संभव है जब आप बातचीत करने में कुशल हों, हास्य की भावना रखें और सुर्खियों से दूर रहें।

सबसे पहले तो आपको ये पता होना चाहिए कि आप किसी भी लड़की या महिला को फंसाकर उससे दोस्ती, दोस्ती और सेक्स नहीं कर सकते.
इसमें समय लगता है. आत्मविश्वास की जरूरत है.

मैंने अपने जीवन में 14 लड़कियों से ना सुना है।
इसमें वे लोग शामिल नहीं हैं जिनसे मैंने मारपीट की है, थप्पड़ मारा है या ज़ोर से तमाचा मारा है.
न ही उन अप्सराओं का… जिनके साथ जोरदार थप्पड़ खाकर बनाए गए थे शारीरिक संबंध.

मैं आपसे कहानी शुरू करता हूँ शुरू से, उम्र 19 साल।
मैंने कभी कोई चूत नहीं चोदी थी; न ही इसकी कोई जानकारी थी.

मैं और मेरा दोस्त रवि , जिसकी माँ हमारे स्कूल में जूनियर क्लास को पढ़ाती थी, दोनों पास की आखिरी बेंच पर बैठे थे।

दिवाली आने वाली थी, 5 दिन बाकी थे.
सर्दी आ गई थी.

मैं आखिरी बेंच पर दीवार की ओर मुंह करके बैठ गया।
जैसे ही चौथा पीरियड शुरू हुआ. सभी छात्रों ने पढ़ाई शुरू कर दी क्योंकि यह एक अंग्रेजी व्याख्यान था और उप प्राचार्य द्वारा संचालित किया गया था।

सभी अपने-अपने मन से पढ़ने लगे।
रवि का ध्यान पढ़ाई की ओर भी था.

अचानक उसका बायां हाथ मेरी जांघ पर छू गया.
जैसे ही उसका हाथ मेरे लंड पर पड़ा तो उसने पूछा- जेब में ये बड़ी सी चीज़ क्या है?
मैंने कहा- मेरा लंड!

वह उसे जोर जोर से दबाने लगा.
मेरा लिंग पहले से ज्यादा टाइट और उत्तेजित हो गया.
वह ऊपर-नीचे होने लगा।

मेरा मोटा लंड उसके हाथ में नहीं आ रहा था.
वह बार-बार कह रहा था कि यह बहुत मोटा लंड है.

दस मिनट तक वो मेरा लंड हिलाता रहा.
मुझे भी मजा आ रहा था, ऐसा मुझे कभी महसूस नहीं हुआ था.

वह पूरी तरह नशे में धुत था.
रवि ने पेन नीचे फेंक दिया और बेंच के नीचे चला गया।

नीचे रवि मेरे पैंट में ढके हुए लंड को सहलाने लगा. वो 2 मिनट तक मेरे लंड से अपना गाल सहलाता रहा.

मैं डर गया और जब मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने मेरी पैंट की ज़िप खोल दी और अपना हाथ मेरे अंडरवियर में डाल दिया.

मैं उसे रोक नहीं पा रहा था.
इतने में उसने मेरे मोटे लंड को चारों तरफ से पकड़ कर हिलाना शुरू कर दिया.
मुझे मजा तो बहुत आ रहा था लेकिन साथ ही डर भी लग रहा था कि कहीं मैं पकड़ा न जाऊं.

तभी वाइस प्रिंसिपल क्लास में आये, मैं डर गया.

क्लास में सभी लोग सतर्क हो गये.
मैं अपना नंगा लंड लेकर बैठा था. रवि मेरे लंड को जोर जोर से हिलाता रहा.

रवि उस वक्त सेक्स का दीवाना था!
मैं डर के मारे चुप रहा.

रवि फिर कहने लगा- तुम्हारा लिंग बहुत लम्बा और मोटा है, मैंने ऐसा लिंग कभी नहीं देखा। तुम्हारा लंड बहुत सेक्सी है.

वो कहने लगा- क्या तुमने कभी सेक्स किया है?
मैंने कहा नहीं।
वो बोला- ये तो चूत फाड़ने वाली लंड है.
मैंने कहा- तुम्हें कैसे पता?

वो बोली- मैंने 5 लड़कों का लंड चूसा है.

ये सुनकर मैं दंग रह गया.

उन्होंने कहा- और अब बारी है तुम्हारे मोटे और लंबे लंड की.
ये सुनकर मैं और भी डर गया.

फिर रवि नीचे गया और मेरे नग्न लिंग के टोपे से उसके गालों को सहलाने लगा।
फिर वो मेरे टोपे को मुँह में लेने लगा.

मैंने उसे 2-3 मिनट तक ऐसा करने दिया और फिर रवि को उठा लिया.
उसने अभी भी अपने बाएँ हाथ से मेरा नंगा लिंग पकड़ रखा था, जिसे वह ज़ोर-ज़ोर से हिला रहा था।

मेरा लिंग पहले कभी नहीं चूसा गया था, मैं आनंद ले रहा था और मुझे एहसास हो गया था कि मेरे जैसा कोई दूसरा लिंग नहीं है, जिसे मैं एक साधारण लिंग समझ रहा था।

अचानक चपरासी ऑर्डर लेकर आया और वाइस प्रिंसिपल को अपने साथ ले गया।
रवि ने मुझसे कहा- चलो, अब हम दोनों मेरे घर चलते हैं. वो मेरे घर जाकर मौज करेंगे और आधी छुट्टी के बाद वापस आ जायेंगे.

मैं रवि के साथ उसके घर गया.
रवि के घर में कोई नहीं था और न ही वह आने वाला था.

उस खाली घर में मैं और रवि मौज-मस्ती करने चले गये.

मैं अपने लिंग पर आने वाले आनंद को महसूस करना चाहता था।

रवि के घर पहुँच कर उसने मुख्य द्वार बंद कर दिया, मुझे सोफे पर बिठाया, मेरे पैरों के बीच घुटनों के बल बैठ गई, ज़िप खोली और मेरे लिंग को नंगा कर दिया।

रवि मेरे लिंग को ऐसे देखने लगा जैसे वह उसका दीवाना हो!
फिर उसने कहा- वाह, तुम्हारा लंड तो बहुत सुंदर है और मोटा भी और लंबा भी… मेरे मुँह में पूरा नहीं समाएगा.
मैंने कहा- वो अभी सो रहा है, एक बार उसे खड़ा तो होने दो फिर मुझे बताना.

ये सुनकर वो और भी जोश में आ गया और मेरा नंगा लंड चूसने लगा.

मैंने अपने दोनों हाथ सोफे पर रखकर आँखें बंद कर लीं

और वो लिंग चूसता रहा, मुझे इतना आनंद पहले कभी नहीं आया था।

रवि मेरे लिंग को चाटता रहा और जितना हो सके उसे अपने मुँह में लेने की कोशिश करता रहा।

रवि मेरे लिंग को चाट रहा था और जितना हो सके उसे अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रहा था।

3-4 मिनट में ही मेरे लंड को मजा आना शुरू हो गया.
मेरा लिंग लम्बा और टाइट होने लगा.

रवि ने मेरी आँखों में देखा और पुच पुच की आवाजें निकाल कर मुझे बताने की कोशिश की कि तुम्हारा लिंग लम्बा और टाइट होता जा रहा है।
और उसने अपने लिंग को जोर जोर से और गहराई तक धकेलना शुरू कर दिया।

रवि मुझे किस करते हुए मेरा लंड भी हिला रहा था.
जब मेरा लंबा लिंग उसके मुँह में फंसने लगा तो उसने उसे अपने मुँह से बाहर निकाला और तेजी से मेरे लिंग का हस्तमैथुन किया और बोला- ओह हो… तुम्हारा लिंग बहुत लंबा है, यह मेरे मुँह में पूरा नहीं समाएगा।

तब तक मुझे अपना लंड चुसवा कर बहुत मजा आ चुका था और मैं उत्तेजित हो चुका था.
मैंने जबरदस्ती रवि का सिर पकड़ लिया और उससे अपना लिंग चुसवाने लगा और रवि से अपना लिंग चुसवाने लगा।
रवि आवाजें निकालने लगा.

मैंने उसका सिर छोड़ दिया.
रवि ने दोनों हाथों से मेरे लिंग को जड़ से पकड़ लिया और बोला- अपनी पैंट उतारो!

मैंने अपनी पैंट उतार दी और रवि के सामने बैठ कर बिना हाथों का इस्तेमाल किये अपना लम्बा लिंग हिलाने लगा।

उसने फिर से मेरे लिंग को जड़ से पकड़ लिया और मेरे नंगे लिंग के टोपे पर अपने होंठ रख दिए और बोला- बताओ कैसे चूमना है?
मैंने उसका सिर पकड़ कर कहा- मेरी टोपी चूसो.

रवि मेरे नंगे टोपी को चूसने लगा.
वो मेरा लंड चूसते हुए नीचे की ओर जाने लगा.

मैंने उससे कहा कि वह सिर्फ मेरे लिंग का सिर चूसे और नीचे न जाए।

रवि ने अब मेरी बात मानी और मेरा नंगा टोपी चूसता रहा।
मैं आह आह की आवाज के साथ मजा ले रहा था.
टोपे के चूसने से लिंग और भी फूल कर लम्बा हो गया.

मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और अपना सिर ऊपर उठा लिया।

रवि बड़े मजे से और पूरी ताकत से मेरा लिंग चाट रहा था और मैं अपना लिंग चुसवाने के परम आनन्द का अनुभव कर रहा था।

रवि ने अपने दोनों हाथों से मेरे लिंग को कस लिया, मेरी आँखें खुल गईं और मैं रवि की ओर देखने लगा।
रवि ने मेरी तरफ देखा और अपने हाथों से अपने लिंग पर पकड़ मजबूत कर ली.

मैं आह आह आह करने लगी.
ये मेरे लंड के साथ पहली ज़बरदस्ती थी.

मेरा लिंग और भी टाइट हो गया.

रवि ने अपने लिंग को कस कर मुठ मारना शुरू कर दिया और कुछ मिनट तक लगातार मेरी तरफ देखते हुए मुठ मारता रहा।
मैं रवि से कह रहा था कि वो मेरे लिंग को कस कर पकड़ ले और जोर-जोर से हस्तमैथुन करे।

रवि मेरा लंड सहला रहा था.
उसने कहा- 15 मिनट हो गए, कब निकलोगे?

मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और रवि की मां सोनम के बारे में सोचने लगा.
मुझे रवि की माँ सोनम बहुत सेक्सी लगती थी.

मैंने सोनम को चोदने का मन बना लिया था. मैं रवि की माँ सोनम को चोदना चाहता था.
ये संभव हुआ रवि के साथ सेक्स करने के बाद.
मेरा लंड, जिसे रवि चूस रहा था, अब और टाइट हो गया था.

अब मैंने दिल में सोनम के बारे में सोचते हुए रवि का सिर पकड़ लिया और उसे अपना लंड जड़ तक चूसने के लिए मजबूर करने लगा.
मैं रवि को अपना लंड चुसवाने के लिए मजबूर करने लगा.

मैंने उससे कहा कि वह अपने दोनों हाथों से मेरे लिंग का हस्तमैथुन करे और मेरे लिंग के सिर को चूसता रहा। तो 5 मिनट में मैं स्खलित हो जाऊंगा.

सोनम के बारे में सोच कर मैं रवि के साथ जबरदस्ती कर रहा था और सोनम को चोदने की इच्छा को प्रबल कर रहा था.
मैंने अपने दिल और दिमाग दोनों को आश्वस्त कर लिया था कि सोनम की चूत अब ज्यादा दूर नहीं है.

मैंने अपना लंड रवि के मुँह में पेल दिया.

फिर हम दोनों स्कूल चले गये.

मैं उसी दिन शाम 5 बजे रवि की मां सोनम से मिलने उसके घर गया.
लेकिन उस दिन मुझे सोनम घर पर नहीं मिली.
मैंने रवि के साथ मस्ती की और घर आ गया।

मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे मैंने अपने क्लासमेट को अपना गुलाबी मोटा लुंड चुसवाया ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds