कुँवारी चिंकी की सील तोड़ बुर चुदाई की और उसे रंडी बना दिया – 2

कुँवारी चिंकी की सील तोड़ बुर चुदाई की और उसे रंडी बना दिया – 2

हेलो दोस्तों, कैसे हैं आप, आप सभी को मेरा नमस्कार और भाभियों और सेक्सी जवान लड़कियों को बहुत सारा प्यार।

दोस्तों, मैंने आपको बताया कि कैसे मैंने चिंकी की सील तोड़ बुर चुदाई भाग 2 की और उसे रंडी बना दिया लेकिन मैं चिंकी की गांड को चोदना चाहता था, लेकिन मेरी इच्छा भी जल्द ही पूरी हो गई।

तो जैसे ही चिंकी मेरे कमरे से निकली, मैं छत पर था, अभी 15 मिनट ही बीते थे कि चिंकी की छोटी बहन सोनी आ गयी। दोस्तों, मैं आपको सोनी के बारे में बताता हूँ.

सोनी चिंकी से भी ज्यादा गोरी है और उसकी आंखें बिल्कुल काली हैं और उसका फिगर एकदम कयामत लगता है. सोनी का फिगर साइज 28 24 30 था.

जैसे ही सोनी छत पर आई तो वो मेरी तरफ ही देख रही थी. इसलिए सोनी मुझे हॉटशॉट कहती थी.

सोनी-हॉटशॉट यहाँ क्या हो रहा था?

मैं- मैंने कहा क्या हो रहा था, मुझे कैसे पता?

सोनी- इतना नम्र मत बनो दीदी और मैंने देख लिया है कि तुम क्या कर रहे थे।

मैं: तुमने क्या देखा?

सोनी- आप और दीदी किस कर रहे थे और भी बहुत कुछ.

मैं: तो प्लीज किसी को मत बताना.

सोनी- लेकिन एक शर्त है?

मैं क्या?

सोनी- जो भी मांगूंगी, देना पड़ेगा.

मैं: ठीक है. मैंने कहा बताओ तुम्हें क्या चाहिए.

सोनी- अभी नहीं, समय आने पर ठीक है.

मैं- ठीक है.

यह कह कर वह नीचे चली गयी लेकिन मैं सोचने लगा कि सोनी क्या मांगेगी। फिर मैं भी नीचे चला गया. खाना खाकर सो गये. अगले दिन जब मैं उठा तो मैं अपने घर के गेट पर खड़ा होकर स्कूल जाने के लिए तैयार हो रहा था. मैंने देखा चिंकी और सोनी भी तैयार होकर स्कूल जाने लगीं. लेकिन चिंकी मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी और सोनी भी।

फिर मैं स्कूल चला गया और शाम को जब घर आया तो शाम को 6 बजे चिंकी मुझे छत पर मिली. जैसे ही मैं छत पर पहुंचा तो देखा कि चिंकी पहले से ही मेरा इंतजार कर रही थी.

मैं चिंकी की छत पर गया और उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और 15 मिनट तक उसे चूमता रहा और उसके मम्मों को भी दबा रहा था. फिर चिंकी बोली आरुष नीचे थोड़ा दर्द हो रहा है मैंने कहा चिंकी मैं पागल नहीं हूँ उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर रख दिया और बोली आरुष यहाँ दर्द हो रहा है. मैने कहा इसकी भी दवा है.

चिंकी बोली, मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और कहा- ये तुम्हारी चूत के दर्द की दवा है. चिंकी थोड़ा शरमा कर हंसने लगी तो मैंने चिंकी से फिर से कुछ करने को कहा. उसने सिर हिलाया और कहा ठीक है, लेकिन कब. पूछने पर और किस समय, मैंने कहा कि मेरे घर के सभी लोग 3 दिन के लिए गाँव जा रहे हैं, मैं घर पर अकेला हूँ।

चिंकी बोली- ठीक है, मेरी माँ भी मेरी नानी के घर गयी है, घर में मैं, सोनी और पापा ही हैं। मैंने कहा फिर ठीक है फिर मैं किस करके नीचे आया और माँ से पूछा गाँव कब जाना है तो माँ ने कहा कि कल ही जाना है तो मन ही मन बहुत खुश हुआ कि अब चिंकी की जान 3 दिन है. मैं तुम्हें जी भर कर चोदूंगा.

माँ ने कहा कि मैंने चिंकी और सोनी दोनों को कह दिया है कि दोनों में से कोई एक आकर तुम्हारा खाना बना देगी. यह ठीक है। मैंने भी मन में कहा कि मेरी तो लॉटरी लग गई, अब मैं चिंकी को दोपहर में घर पर ही चोद सकता हूँ। था । फिर खाना खाने के बाद मैं सोचने लगा कि अब चिंकी को कैसे चोदूँ। सोचते-सोचते मैं कब सो गया, मुझे पता ही नहीं चला।

सुबह उठा तो माँ जाने के लिए तैयार थी। करीब 10 बजे मम्मी, पापा और मेरा भाई सब चले गये। उनके जाते ही मैं नहाया और दुकान से 2 पैकेट मैनफोर्स कंडोम, आई पिल्स और 400 एमजी viagra टेबलेट ले आया। और मैंने अपने दोस्त को फोन करके कहा कि मैं 4 दिन तक स्कूल नहीं आऊंगा, तुम सब संभाल लेना, ठीक है.

फिर मैंने सोचा कि क्यों ना ब्लू फिल्म की एक सीडी लाऊँ और मैंने अपने दोस्त को बताया कि वो मुझसे 2 गली दूर रहता है, तो उसने जल्दी से मुझे सीडी दे दी और चला गया।

दोपहर करीब एक बजे दरवाजे की घंटी बजी, मैंने दरवाजा खोला तो चिंकी थी। उसने जींस और टॉप पहना हुआ था. टाइट जींस की वजह से चिंकी की गांड साफ दिख रही थी और उसने लाल रंग का टॉप पहना हुआ था.

पहने हुए मैंने कहा आज क़यामत लाने का इरादा है. तो वो मुस्कुराई और एक के होंठ चूमकर बोली यहाँ.

चिंकी बोली तुम क्या खाओगे मैं तुम्हारे लिए क्या बनाऊं मैंने कहा आज तो मैं तुम्हें ही खाऊंगा जान. मैंने कहा, तुम बैठो, मैं अभी आता हूँ, मैं रसोई में गया और दूध के साथ viagra की एक गोली पी ली। viagra लेते समय मैंने दुकानदार से यह भी पूछा कि इसका असर शुरू होने में कितना समय लगता है, तो दुकानदार ने कहा 30 – 45 मिनट में.

फिर मैंने चिंकी को अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों को काटने लगा. चिंकी, दर्द हो रहा है. प्रिय, आराम से करो. फिर मैंने चिंकी के मम्मों को उसके टॉप के ऊपर से सहलाना शुरू कर दिया. अब चिंकी का हाथ धीरे-धीरे मेरी जीन्स पर आ गया। उसने जाकर अपनी जींस की ज़िप खोली और मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी.

और मैं उसके टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसकी पीठ को प्यार से सहला रहा था. अब मैंने चिंकी का टॉप उतार दिया और उसने नीले रंग की ब्रा पहनी हुई थी.

फिर मैं चिंकी के पेट को प्यार से सहला रहा था, वो अचानक कामुक हो गयी और उसके मुँह से कराहें निकल रही थीं। फिर मैंने चिंकी की जीन्स खोल दी और उसने भी मेरी जीन्स खोल दी. चिंकी ने नीले रंग की पैंटी भी पहनी हुई थी. फिर मैंने उसे उठाया और कमरे में ले जाकर बिस्तर पर उल्टा लेटा दिया और फिर धीरे से उसकी पीठ के बल लेटा दिया। मने अपने हाथ से उसकी पीठ को सहला रहा था.

तभी मैंने देखा कि मेरे सामने नारियल का तेल रखा था, मैंने चिंकी को सीधा किया और उसकी ब्रा और पैंटी उतार दी, फिर मैंने तेल लिया और उसके स्तनों पर लगाया और फिर चिंकी के स्तनों की मालिश करने लगा। अब चिंकी भी थोड़ी जोर से सांस लेने लगी. यह शुरू हो गया और उसके Big Boobs और बड़े हो गए थे।

अब मुझे भी दवाई की वजह से थोड़ी गर्मी महसूस होने लगी थी. फिर मैंने पंखा चालू कर दिया, लेकिन दोस्तों उस समय ठंड बहुत थी, लेकिन मैंने पंखे की स्पीड धीमी रखी. फिर मैंने अपने हाथ में तेल लिया और चिंकी की चूत पर लगाया और फिर उसकी चूत की मालिश करने लगा और उसकी चूत में एक उंगली भी डाल दी और अंदर-बाहर करने लगा, लेकिन चिंकी की चूत अभी भी बहुत टाइट थी, चिंकी को अब थोड़ा सा दर्द होने लगा था।

फिर मैंने उसकी Tight Chut में दो उंगलियाँ डाल दीं और जोर-जोर से अन्दर-बाहर करने लगा। अब चिंकी की सांसें थोड़ी तेज हो गई थीं और वो अपनी गांड हिला रही थी. अब मैंने देखा कि चिंकी एक बार झड़ चुकी थी, वो शांत हो चुकी थी, फिर मैं उसकी टांगों के बीच आ गया और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा। चिंकी आअह्हह आआह…..ओह्ह जैसी मादक आवाजें निकाल रही थी। ……..ऐसे ही आरुष…………आह ऊऊह ह्ह्ह्म्म्म ह्ब्ब्ब्ब ऊऊ अहा यस यस

अब और मत चाटो आरुष, अब मुझे मत तड़पाओ, अपना लंड मेरी चूत में डाल दो, अब मैं भी थोड़ा गर्म हो गया था, मैंने अपना लंड चिंकी के मुँह में डाल दिया और वो मजे से चुसवा रही थी। फिर 10 मिनट तक चूसने के बाद चिंकी कहने लगी कि कितना तरसा है, प्लीज़ अब डाल दो।

अब चिंकी और मुझे जब भी सेक्स करना होता है तो हम Delhi Escorts सर्विस से होटल बुक करते हैं और होटल में जाकर खूब सेक्स मचाते हैंचिंकी को भी मेरा लौड़ा बहुत पसंद है पर मुझे अब चिंकी की बुर मेंअपना लैंड डालने में मजा काम आता है क्योंकि उसकी टाइट बुर फैल चुकी है

दोस्तों आज के लिए बस इतना ही आपको चिंकी की सील तोड़ बुर चुदाई भाग 2 कैसा लगा हमें कमेंट के माध्यम से बताएं 

इसी तरह की और कहानियां पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले नई-नई Hindi Sex Stories पहुंच पाए।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds