चचेरे भाई की बीवी को चोदा जब चचेरा भाई घर पर नहीं था

चचेरे भाई की बीवी को चोदा जब चचेरा भाई घर पर नहीं था

नमस्कार मेरा नाम सुमित है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मैंने “चचेरे भाई की बीवी को चोदा जब चचेरा भाई घर पर नहीं था”

एक साल पहले की बात है, तब मेरे चचेरे भाई की पत्नी आशिका मुझसे करीब 7-8 साल छोटी होगी, उसकी उम्र करीब 30-31 साल रही होगी. आशिका हमारे शहर दिल्ली के पास रहती थी।

वहां से लोग यहां अपना इलाज कराने या खरीदारी के लिए आते हैं। एक बार सुबह मेरा चचेरा भाई अपनी पत्नी आशिका के साथ मेरे घर आया। वह जल्दी में था।

उसने मुझसे कहा कि वह कोर्ट के कुछ काम से तुरंत जा रहा है, आशिका को डॉक्टर से मिलना है, वह शाम को आएगा, फिर दोनों डॉक्टर के क्लिनिक पर जायेंगे। यह कह कर वह चला गया.

मैंने घर का मेन गेट बंद कर दिया और अन्दर आ गया. आशिका घर की लॉबी में डाइनिंग सेट की कुर्सी पर चुपचाप बैठी थी. वो मुझे देख कर खड़ी हो गयी.

मैंने कहा- अरे बैठी रहो, मुझे देख कर खड़े मत रहो. आशिका- हां दादा, ठीक है. आशिका ने आसमानी रंग का टाइट सलवार सूट पहना हुआ था, जिसके ऊपर उसने दुपट्टा डाल रखा था।

जिसके कारण उसके स्तन का कोई भी भाग दिखाई नहीं दे रहा था। लेकिन उसके दोनों अंडरआर्म्स पसीने से भीग गए थे. शायद उसने अपनी अंडरआर्म्स शेव नहीं की थीं.

मैंने कहा- आशिका, सुबह से बहुत गर्मी है, अभी तो पूरा दिन है, चाहो तो नहा लो। आशिका- नहीं दादा, ठीक है, मुझे ज्यादा गर्मी नहीं लग रही है! मैं- अरे देखो तुम्हारी कुर्ती पसीने से भीग रही है!

आशिका- ठीक है दादा, मैं जाऊंगी. आशिका यह देखकर हैरान हो गई कि मैंने देखा कि उसकी बगलों में पसीना आ रहा है, इसलिए वह जल्दी से बाथरूम में चली गई। 2 मिनट बाद:

“अरे आशिका… सुनो… तुमने कपड़े तो लिए नहीं?” मैंने बाहर से आवाज दी. “अरे दादा, कोई बात नहीं, मैं ये कपड़े पहन लूँगी, चिंता मत करो!” आशिका ने थोड़ा झुंझलाते हुए कहा. (चचेरे भाई की बीवी को चोदा)

“इसमें परेशानी की क्या बात है, घर में तो बहुत सारे लेडीज़ कपड़े रखे हुए हैं।” मैंने जवाब दिया। “दादा, मैं नहा रही हूँ, अब कपड़े कैसे लूँगी?” आशिका थोड़ा परेशान हो गयी.

“मुझे बताओ मैं कपड़े दे दूँ?” “दादा जी, आप!!” आशिका झिझक और शर्म से भर गयी. “और क्या, क्या तुम अजनबी हो? तुम तो मेरी बहू लगती हो. मैंने जवाब दिया।

“ठीक है दादा, बस एक सलवार सूट दे दो!” आशिका धीमी आवाज में बोली. “सिर्फ सलवार सूट? और अंडरगारमेंट्स… क्या तुम्हें वह नहीं चाहिए? मैंने पूछ लिया।

आशिका चौंकते हुए बोली- अरे दादा, आप क्यों परेशान हो रहे हैं? प्लीज आप रहने दीजिए! वो थोड़ा गिड़गिड़ाते स्वर में बोली। “अरे नहीं कोई बात नहीं आशिका, मैं अभी तुम्हारे लिए ब्रा और पैंटी लाऊंगा।”

“ठीक है, जो देना है जल्दी दे दो!” आशिका पीछा छुड़ाने वाली आवाज में बोली. “तुम किस साइज की ब्रा पहनती हो आशिका? और हाँ पैंटी भी!” मैने झट से पूछा.

“अरे तुम तो मेरे जेठ लगते हो, आज कैसी बात कर रहे हो?” आशिका ने गुस्से से कहा. “क्यों? तुम ब्रा-पेंटी नहीं पहनती। हर औरत ब्रा-पेंटी पहनती है

तुम तो जवान औरत हो, इसमें जेठ बहू कहाँ आ गया? मैं भी थोड़ा गुस्सा दिखाते हुए बोला। “ठीक है, मुझसे गलती हो गई!” आशिका पूरी तरह परेशान हो चुकी थी.

जेठ और बहू…घर में अकेले…बहू बाथरूम में पूरी नंगी खड़ी है और जेठ बाहर से उसके अंडरगारमेंट्स देने की बात कर रहा है, बहू संकोच और लज़्ज़ा से गड़ी जा रही है

लेकिन जेठजी अश्लील बातें कर रहे हैं। देखते हैं आगे क्या होता है? “दादा, आप मुझे 34 नंबर की ब्रा और 95 नंबर की पैंटी दे दो।” आशिका ने शर्म से कांपते स्वर में विनती की.

“ठीक है, आपके कप का आकार क्या है?” “पता नहीं ‘बी’ होगी या ‘सी’।” आशिका को बहुत गुस्सा आया. “मुझे लगता है कि आपके कप का आकार ‘डी’ होना चाहिए।” मैंने कहा।

“अरे, जब तुम्हें सब मालूम है तो ‘डी’ ले आओ, ले आओ। आज हर चीज़ अपनी सीमा पर पहुँच गयी है। आशिका बहुत गुस्से में लग रही थी. “गुस्सा मत हो… आशिका… मैं अभी ला रहा हूँ!”

कुछ देर बाद मैंने जालीदार ब्रा और पैंटी लेकर बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाया। अन्दर आशिका ने डरते-डरते अपने हाथ अपने दोनों स्तनों पर रख लिये। नीचे उसने गीली काली पैंटी पहनी हुई थी.

“आशिका, कपड़े ले लो!” मैंने बोला आशिका ने दरवाज़े की कुण्डी खोली और दरवाज़ा हल्का सा खोला और अपना हाथ बाहर निकाल कर बोली- लाओ दादाजी!

बाहर से कोई आवाज नहीं आयी, कोई हरकत नहीं हुई. “दादा…दादा…क्या हुआ? मुझे कपड़े दो!” आशिका ने हाथ हिलाया और थोड़ा जोर से बोली.

अब भी बाहर से कोई आवाज़ या हरकत नहीं हुई। आशिका ने थोड़ा सा दरवाज़ा खोला और बाहर झाँका- दादा, दादा… जेठ जी… कहाँ हैं आप? बाहर कोई नजर नहीं आ रहा था.

आशिका को अब थोड़ा डर लगने लगा…पता नहीं क्या हुआ…जेठ जी कहाँ चले गये। एक तो जवान औरत है… वो भी नंगी, ऊपर से भीगी हुई, पराये घर में अकेली… क्या करें?

आशिका ने दरवाज़ा थोड़ा और खोला और अपना पूरा चेहरा बाहर निकालकर चारों ओर देखा… कोई नहीं था… एकदम सन्नाटा! हिम्मत जुटाकर उसने पूरा दरवाज़ा खोला

और धीरे-धीरे कांपती हुई बाहर निकली। साथ ही वो लगातार अपनी दोनों हथेलियों से अपने स्तनों को छुपाने की कोशिश कर रही थी! अपने यौवन के चरम पर खड़ी स्त्री का नग्न शरीर अत्यंत सुंदर लगता है।

5 फीट 1 इंच का थोड़ा छोटा शरीर, गोरा रंग, कमर तक लंबे बाल, काली आंखें, थोड़े मोटे होंठ, भरे हुए गाल आशिका की जवानी को बढ़ा रहे थे। “दादाजी? आप कहां हैं?

कृपया जल्दी आइए… हम बहुत डरे हुए हैं।” आशिका कांपती आवाज में बोली. यहाँ कोई नहीं है। बस मौन! आशिका ने इधर उधर देखा. किचन के सामने एक डाइनिंग टेबल है

किचन के बगल में एक कमरा, उसके बगल में जेठजी का बेडरूम! आशिका धीरे-धीरे बेडरूम की ओर जाने लगी. चौड़े मांसल कंधे, फूले हुए बड़े स्तन जिन्हें आशिका अभी भी अपनी हथेलियों से छिपा रही थी।

पेड़ू थोड़ा बाहर निकला हुआ था और गहरी, बड़ी और एकदम गोल नाभि, जिसकी गहराई 1 इंच और गोलाई 2 इंच होगी! उसके चारों तरफ पानी की छोटी-छोटी बूंदें चमक रही थीं

बेल्ट के नीचे काले रंग की पैंटी कसी हुई थी, जो गीली होकर पूरी चिपक गई थी। बेडरूम में अंधेरा था, अंदर जाने से पहले आशिका थोड़ा जोर से चिल्लाई- दादा… आप अंदर हैं? कोई जवाब नहीं!

आशिका हिम्मत करके अन्दर चली गयी. वह बिजली का बोर्ड ढूंढने लगी। लेकिन शायद उसकी उंगली बिजली के सॉकेट में चली गयी… और एक चीख के साथ आशिका फर्श पर बेहोश हो गयी. (चचेरे भाई की बीवी को चोदा)

कुछ देर बाद बेडरूम की लाइट जली. आशिका फर्श पर पेट के बल लेटी हुई थी. क्या कमाल के कूल्हे थे आशिका के! बड़े-बड़े फूले हुए चूतड़, थोड़े बाहर की ओर निकले हुए।

औरत के गोरे और मोटे, रसीले नितंब, नीचे केले के पेड़ के तने जैसी चिकनी मोटी जांघें, पैंटी दोनों नितंबों की दरारों में खोई हुई थी। अब वह पूरी तरह नंगी लड़की थी!

दो मजबूत हाथों ने आशिका को उठाया. आशिका उसकी बांहों में झूल गयी. दोनों हाथ नीचे झूल रहे थे और बड़े बड़े स्तन इधर उधर गिर रहे थे. आशिका के निपल्स बहुत बड़े और फूले हुए थे

भूरे रंग के कसे हुए निपल्स छाती की खूबसूरती बढ़ा रहे थे. उन हाथों ने आशिका को बिस्तर पर लिटा दिया. आशिका बिस्तर पर बेसुध पड़ी है. तभी दो हाथों ने उसकी गीली पैंटी को खींच कर नीचे सरका दिया.

फिर पैंटी को जांघों से सरका कर उतार दिया. आशिका की चूत साफ़ थी, फूली हुई थी… बीच में एक लाल रेखा खींची हुई थी। अब आशिका बिस्तर पर पूरी नंगी लेटी हुई थी

और उसके सामने उसका जेठ खड़ा था.. मतलब मैं! फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए और आशिका के बगल में लेट गया. मैंने आशिका के गुलाबी होंठों को अपने होंठों में भर लिया

और अपनी जीभ अन्दर डाल दी. आशिका को होश आ रहा था, मैं उसे तेजी से मसलने लगा। वो गर्म होने लगी और हल्की-हल्की ‘आह्म्म… ह्म्म्म्म…’ कहने लगी।

मैंने तुरंत उसकी चूत में दो उंगलियां डाल दीं और अंदर बाहर करने लगा. वह अकड़ने लगी. मैंने स्पीड बढ़ा दी. उसकी गर्म चूत से फ़ज़, फ़च, पक पक की तेज़ आवाज़ें आने लगीं।

आशिका का बदन गर्म होने लगा. मैं तो पहले से ही नंगा था. उसका अच्छा रिस्पॉन्स मिलता देख मैं अपना हाथ उसकी कमर से लेकर उसके चूतड़ों तक ले गया और उन्हें मसलने लगा।

उसके मुँह से ‘आह…’ निकल रही थी और उसकी जीभ भी मेरे मुँह के अन्दर भ्रमण कर रही थी। मैंने भी अपना एक हाथ उसके चूतड़ों से हटा कर उसकी छाती के उभार पर रख दिया

जवाब में उसने भी अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मेरा लंड पकड़ लिया। औरत के हाथ की गर्मी मिलते ही लंड टाइट होने लगा. उसे भी ये अहसास होने लगा था, लंड की गर्मी महसूस होते ही आशिका को होश आ गया.

उसने अपनी आँखें खोलीं और एक तरफ हो गई और जल्दी से ब्लाउज और लहंगा पहन लिया जो पीछे खूंटी पर लटका हुआ था। “दादाजी… आप? अरे ये सब क्या हो रहा है?

“आशिका समय बर्बाद मत करो, आज मेरे साथ रिश्ता बनाओ।” मैं जिंदगी में आपसे कभी कुछ नहीं मांगूंगा. संबंध बनाएं? लेकिन दादा ये तो पाप है. “प्लीज़ आशिका, प्लीज़ बस एक बार!”

“बिलकुल नहीं …” “तो फिर सोचो कि मेरे पास तुम्हारी नंगी तस्वीरें हैं।” “क्या तुम मुझे ब्लैकमेल करोगे?” “नहीं चाहता, मान जाओ…” आशिका सिर झुकाये चुपचाप बैठी थी

Visit Us:-

थोड़ी तेज साँसें ले रही थी। साफ़ था कि वह वासना की आग में जल रही थी, लेकिन एक औरत की सुलभ लज्जा उसके और मेरे बीच एक पतली दीवार की तरह खड़ी थी।

“किसी को पता चला तो?” “यहाँ कोई नहीं है, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा!” “ठीक है, इसके बाद फिर कभी नहीं!” “हाँ, यह स्वीकार्य है। केवल एकबार!” (चचेरे भाई की बीवी को चोदा)

आशिका ने अपना चेहरा ऊपर उठाया और मुस्कुरा दी. फिर वो मेरे पास आकर खड़ी हो गयी. मैंने उसका ब्लाउज पकड़ कर खींचा तो ब्लाउज पूरा फट गया.

मैं उसके 38 साइज के मम्मों को पकड़ कर चूसने लगा. “आह.. धीरे करो जेठ जी… मैं कहीं नहीं जा रही हूं… अपने छोटे भाई की पत्नी के सेक्सी बदन को चोदने का इरादा रखने वाले बुरे आदमी

तुमने मेरी चूत में भयानक आग लगा दी है… अब इसे बुझा दो… आह्ह।” …चूसो इसे!” मेरे भाई की बीवी अब हवस की देवी बन गई थी, उसे लंड चाहिए था, वो ज़ोर से चुदाई मांग रही थी!

मैंने उसके लहंगे की डोरी खोल दी और उसे नीचे गिरा दिया. आशिका ने मेरा लंड पकड़ लिया और नीचे बैठ कर उसे मुँह में लेकर चूसने लगी. अब उसकी शर्म गायब हो गई थी

वह जंगली बिल्ली की तरह व्यवहार कर रही थी। वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी जैसे खा जायेगी. अब मैं भी उसकी चिकनी चूत का रस पीना चाहता था

इसलिए मैंने उसे कंधों से उठाया और बिस्तर पर गिरा दिया। मैं अब 69 की अवस्था में आ गया और अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और खुद अपना मुँह उसकी चूत पर लगा दिया।

मेरी नाक में एक कामोत्तेजक सुगंध भर गई और मेरा लंड उसके मुँह में झटके मारने लगा. मैं अपना लंड आशिका के मुँह में डालने लगा और 4-5 मिनट में ही उसके मुँह में झड़ गया।

वो भी मेरे वीर्य को चटनी की तरह चाट गयी. मैंने कुछ देर तक उसकी चूत को चाटा और फिर मैं सीधा उसके नंगे बदन पर लेट गया। मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा.

मेरे वीर्य के अंश मेरे मुँह में आ रहे थे और आशिका भी अपनी चूत का रस मेरे होंठों पर लगा कर चूस रही थी. मुझे आशिका के चेहरे पर कहीं भी किसी प्रकार की शर्म नज़र नहीं आई।

वो मेरे साथ सेक्स का पूरा मजा ले रही थी. वो अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल रही थी और मेरी जीभ को चूस भी रही थी. जैसे ही मैंने आशिका को चूमा चाटा, मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगा.

उसे भी मेरा लंड खड़ा हुआ महसूस हुआ, तो उसने अपना हाथ नीचे करके मेरा लंड पकड़ लिया और उसे अपनी चूत की दरार में रगड़ने लगी. उसके मुँह से अब सिसकारियाँ निकलने लगी थीं।

2-3 मिनट में ही मेरा लंड मेरे भाई की बीवी की चूत में घुसने के लिए तैयार हो गया. मैंने आशिका से लंड को उसकी चूत के छेद पर रखने को कहा.

उसने मेरे लंड का सुपारा अपनी चूत में रखा और खुद अपने चूतड़ उछाल कर मेरे लंड को अपनी चूत में घुसाने की कोशिश करने लगी. ऊपर से मैंने भी अपने चूतड़ों को झटका दिया

तो मेरा लंड एक ही बार में उसकी चूत में घुस गया. उसके मुँह से खुशी भरी आह निकली और उसका खुशी से भरा चेहरा देखकर मुझमें और जोश भर गया, मैं उसे जोर-जोर से चोदने लगा।

वो भी नीचे से अपने कूल्हे उछाल-उछाल कर चुदाई में साथ दे रही थी और पूरा मजा ले रही थी। थोड़ी देर बाद उसने अपनी एड़ियाँ मेरे कूल्हों पर रख दीं, अपने हाथ मेरी पीठ पर रख दिए

और अपने नाखून मेरी पीठ में गड़ाने लगी। वो वासना से पागल हो रही थी. उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं। उसे बिल्कुल भी शर्म नहीं आ रही थी कि वो अपने जेठ से चुद रही थी.

कुछ मिनट बाद वो अपनी जांघें उठाने लगी. मैं समझ गया कि अब आशिका अपनी चरम सीमा के करीब है. मैं भी अपनी पूरी ताकत से उसे चोदने लगा.

और कुछ ही पलों में वो दहाड़ मारती हुई झड़ने लगी. उसके गले से लॉन्ग लॉन्ग हाँ… जैसी आवाजें निकल रही थीं। मैंने पूरी ताकत से अपना लंड उसकी चूत में गाड़ दिया.

वह थोड़ी थक गयी. उसकी आंखें बंद थीं, यौन संतुष्टि का आनंद उसके चेहरे पर दिख रहा था. लेकिन मेरा काम अभी भी अधूरा था. मैं जानता था कि अब अगर मैंने आशिका को चोदा तो उसे दर्द होगा।

लेकिन फिर भी मुझे भी आनंद पाना था. मैंने 2-3 मिनट तक आशिका की चूत में झटके मारे और अब मैं भी अपने भाई की पत्नी की चूत में झड़ गया. (चचेरे भाई की बीवी को चोदा)

मैं उसके नंगे बदन पर टूट पड़ा और उसके होंठों को चूसने लगा. जब सेक्स में स्त्री और पुरुष दोनों समान रूप से सहयोग करते हैं तो जो आनंद दोनों को मिलता है उसका कोई मुकाबला नहीं है।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds