पापा के बॉस की बीवी को चोदा और उसकी चूत की आग भुजाई

पापा के बॉस की बीवी को चोदा और उसकी चूत की आग भुजाई

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम यश है आज में आपको  बताने जा रहा हु की कैसे मेने “पापा के बॉस की बीवी को चोदा और उसकी चूत की आग भुजाई”

ये बात तब की है जब मैं 12वीं पास कर चुका था और मुझे द्वारका के एक कॉलेज में बीटेक में एडमिशन मिल गया था. हम दिल्ली में रहते हैं. मेरे घरवाले मुझे अकेले दूसरे शहर भेजने से डरते थे.

उन्हें डर था कि मैं वहां अकेला कैसे रहूंगा, मैं कभी बाहर अकेले नहीं गया हूं. लेकिन मुझे अकेले रहना पड़ा. मेरे पापा को मुझे द्वारका छोड़ने आना था तो उन्होंने अपने बॉस से कहा – मुझे छुट्टी चाहिए.

मेरे बेटे का दाखिला द्वारका के एक कॉलेज में हो गया है. मुझे उसे पीजी दिलाने के लिए द्वारका जाना होगा। मेरे पिता एक प्राइवेट बिजनेसमैन के यहां काम करते थे. मेरे पिताजी के मालिक के साथ बहुत अच्छे संबंध थे

जिसके कारण उन्होंने कहा – तुम अपने बेटे की चिंता मत करो, उसे हमारे घर पर ही रखो। वह मेरी पत्नी और बच्चों के साथ वहीं रहेगा. वो लोग भी वहां अकेले रहते हैं. मेरे पापा के मालिक का बिजनेस कई शहरों में है.

यहां एक बात और बता दूं कि मेरे पापा के बॉस की दो पत्नियां थीं. एक तो यहीं दिल्ली में उनके साथ रहता था. दूसरी द्वारका में बच्चों के साथ रहती थी। वह बार-बार वहां आते जाते रहते थे.

इस तरह उन्होंने मेरे पिता को मुझे द्वारका भेजने की बात कही. पिता खुश हो गए कि बेटे को रहने के लिए घर मिल गया. उनकी चिंताएं अब कम हो गई थीं। और मैं अपने पापा के साथ वहां जाने की तैयारी करने लगा. (बॉस की बीवी को चोदा)

अगले दिन हम ट्रेन में बैठे और अगली सुबह द्वारका पहुँच गये। मेरे पिता अपने बॉस के परिवार से पहले से ही परिचित थे. तभी बॉस का फोन भी आ गया था. इसलिए जब उसने दरवाजा खोला तो उसने पापा को पहचान लिया।

हमने उनसे मुलाकात की और बात की. उन्होंने मेरी तरफ देखते हुए पूछा – अच्छा ये आपका बेटा है… बहुत शर्मीला है… इसका नाम क्या है? मैंने कहा – मेरा नाम यश है.

कुछ देर बाद बातचीत के बाद उसने मेरे पिता से कहा – आप चिंता न करें, मेरे पति ने मुझे फोन पर सब कुछ बता दिया है. तुम निश्चिंत होकर घर जाओ… आज से मैं यश की जिम्मेदारी लेता हूं।

फिर हम सबने खाना खाया और शाम को मेरे पापा मुझे उनके घर पर छोड़कर वापस चले गये. अब यहीं से शुरू होता है चुदाई की कहानी. पापा के जाने के बाद ही मैंने सिर उठाकर देखा तो बॉस का घर बहुत आलीशान था.

उनका घर बिल्कुल खाली था। थोड़ी देर बाद मालिक की पत्नी मेरे पास आई। मैं उन्हें आंटी कहने लगा. ये पहली बार था जब मैंने उसे बहुत ध्यान से देखा. आंटी बहुत खूबसूरत थी. आते ही उसने मुझसे पूछा – घर कैसा लगा?

मैंने कहा – बहुत सुन्दर. वो मुस्कुराई और बोली – ठीक है, अब तुम आ गए हो तो मुझे भी ये घर अच्छा लगेगा… बच्चे भी खुश रहेंगे. वह अभी स्कूल से आएंगे. उसने मुझे मेरा कमरा दिखाया.

मेरा कमरा सबसे ऊपर था. मैंने अपना सामान वगैरह रख लिया और बाद में उसे व्यवस्थित करने के बारे में सोचने लगा. सबकुछ ठीक हुआ। मैं भी खुश था. अगले दिन आंटी मुझे मेरा कॉलेज दिखाने ले गईं.

2 दिन बाद कॉलेज शुरू होना था. हम सब आराम से रहने लगे. एक दिन शाम को टीचर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने आये और उस समय आंटी बोर हो रही थीं. तभी वो ऊपर टहलने आई थी.

उस वक्त उन्होंने मैक्सी पहनी हुई थी. इसमें आंटी बहुत हॉट और सेक्सी लग रही थीं. आंटी मेरे कमरे के पास टहल रही थीं और मैं कमरे में से उनकी खूबसूरती को देख रहा था। शायद उनको भी पता चल गया था

कि मैं उनको देख रहा हूँ. वह लाल रेशमी मैक्सी में चल रही थीं। इस रेशमी मैक्सी में उनके पूरे शरीर का हर अंग झलक रहा था. उसके निपल्स भी साफ़ दिख रहे थे. पैंटी की लाइन भी साफ़ दिख रही थी.

सच में आंटी इस वक्त बहुत कामुक लग रही थीं. मैक्सी के गहरे गले से आंटी के दूधिया चूचे मुझे पागल कर रहे थे. हालांकि, उन्होंने मैक्सी के ऊपर कोट जैसी जैकेट पहनी हुई थी, जिसके बटन खुले हुए थे।

उसने मुझे आवाज देकर अपने पास बुलाया. उसकी आवाज सुनकर मैं कमरे से बाहर आया और उसके करीब आ गया. वो मेरे लंड को देखते हुए बोली – मैं बोर हो रही थी तो तुम्हें बुला लिया.. तुम परेशान तो नहीं हो?

मेरा लंड नीचे फूलने लगा था, जिसे देख कर वो कातिल मुस्कान देने लगी. उनकी इस कातिलाना मुस्कान का मतलब साफ़ समझ आ रहा था. मैं भी जवान हूं, मुझे उसके ऐसा करने का मतलब समझने में देर नहीं लगी. (बॉस की बीवी को चोदा)

आंटी बोलीं – मैं तुम्हें कैसी लगती हूँ? मैंने कहा- तुम बहुत खूबसूरत हो. इस पर वो हंस पड़ी और बोली- सच बताओ! मैंने कहा- हां मैं सच कह रहा हूं. उसने कहा- ठीक है. उस वक्त मैंने बॉक्सर पहना हुआ था.

Visit Us:-

उसकी इस कामुक मुस्कान से मेरे रोंगटे खड़े हो गये. नीचे लंड भी मेरी बात नहीं मान रहा था. अब हम दोनों छत पर बनी बाउंड्री वॉल के पास खड़े हो गये. वो मुझे बहुत कामुक नजरों से देख रही थी.

मैं भी दूर से ही उसके एक एक अंग को महसूस कर रहा था. शायद आग दोनों तरफ लगी थी, लेकिन डर के मारे मैं हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था. करीब आधे घंटे तक हम दोनों बस एक दूसरे को देखते हुए चलते रहे.

तब तक बच्चे भी छत पर आ गये। बच्चों की आवाज़ से हमें होश आया और हम दोनों सामान्य हो गये। आंटी मुस्कुराते हुए बच्चों के साथ नीचे जाने लगीं. जाते जाते उसकी हरकत मेरे दिल में घर कर गयी.

वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी. जाते वक्त उन्होंने कहा- तुम भी खाना खाने आ जाओ. मैं उनके पीछे नीचे गया और खाना खाकर कमरे में आ गया. आंटी ने मुझे खाने की टेबल पर खूब झुक कर खाना परोसा

और मेरे लंड की हालत खराब कर दी. इस दौरान एक-दो बार आंटी का हाथ मुझसे टच हुआ. लेकिन मैं भोजन खाता रहा। जब रात हो गई और बच्चे सो गए.. तो वह फिर ऊपर आई। इस बार वह ऊपर कोट पहन कर आई थी.

पहली बार मेरी नज़र उसकी सख्त तनी हुई छाती पर पड़ी। बहुत सुंदर स्तन थे आंटी के। उनके रसीले होंठ, खुले बाल बहुत मस्त लग रहे थे. उसकी लचीली कमर देख कर मैं उसमें खो गया.

वो मेरे करीब आई और बोली- खाना खाने के बाद टहलने चलना चाहिए.. आओ थोड़ी देर टहलते हैं। मैं उठ कर उसके साथ टहलने चला गया. हम दोनों साथ में छत पर टहलने लगे. मुझे सच में मजा आ रहा था.

हम बातें कर रहे थे, अचानक उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और अपनी कमर पर रख कर मेरे बगल में चलने लगी. मैंने भी उसे कमर से पकड़ लिया. उसने हल्के से ‘श्श्श्श्श्श… आह्ह..’ कर दिया। (बॉस की बीवी को चोदा)

फिर वो दीवार का सहारा लेकर रुक गयी. मैंने उसे अपने पास खींच लिया और हम दोनों ने एक-दूसरे को बहुत कसकर गले लगा लिया। वो मुझे चूमने लगी. मैं भी उसे चूमने लगा.

उसने मेरे हाथों को अपने स्तनों पर रख दिया तो मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया। उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मेरी पीठ को सहलाते हुए मेरी गर्दन को चूमने लगी. मेरे बदन में तो जैसे आग लग गयी.

उसके रसीले होंठ मुझे पागल कर रहे थे. मैंने उसके होंठों से अपने होंठ छुए तो गर्म चाशनी जैसा स्वाद आया. तभी आंटी ने अपना एक हाथ नीचे किया और मेरे लंड को पकड़ कर दबाने लगीं.

चांदनी रात में छत पर हम दोनों एक दूसरे में खोये हुए थे. अब तक मेरे लिंग का सुपारा पूरा लाल हो चुका था. फिर उसने अपनी मैक्सी ऊपर की ओर सरका दी और मैंने भी अपना लंड उसकी गीली चूत पर रख दिया.

आंटी की चूत पानी से चिकनी हो रही थी. मुझे लंड का सुपारा चूत पर लगाने में इतना मजा आया कि हम एक दूसरे को कस कर रगड़ने लगे. तभी मेरा लंड आंटी की चूत की फांकों में अपनी जगह बनाने लगा

और साथ ही आंटी ने धीरे से अपने पैर खोल दिये. लेकिन शायद ये जगह सेक्स के लिए सही नहीं थी. मैंने उसे गोद में उठाया और अपने कमरे में ले आया. अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था. मेरा लंड भी लोहे की रॉड की तरह हो गया था.

मैंने आंटी को सीधा लिटाया और उनकी टांगें फैला दीं और धीरे से उनकी चूत की फांकों में सुपारा रख दिया. उधर आंटी की चूत भी लंड लेने के लिए बेकरार थी. मैंने आंटी की चूत पर लंड रखा और अन्दर सरकाने लगा.

मेरा लंड चूत में घुसने लगा. आंटी ने भी अपने पैर पूरे खोल दिये और धीमी आवाज में आवाजें निकालने लगीं. मैं भी उसकी गर्दन पर चूमने लगा. मैंने उसके रस से भरे स्तनों को मसलते हुए अपना लंड अन्दर सरका दिया

और धीरे-धीरे चोदने लगा। आशिका आंटी ‘शीई स्स्सश… हम्म… शश्श..’ कर रही थीं। उसकी मादक सिसकारियाँ पूरे कमरे में मदहोशी भर रही थीं। हम दोनों लगातार एक दूसरे के होंठों को चूम रहे थे.

बीच बीच में मैं उसके निपल्स भी चूस रहा था. मेरा लंड अब आंटी की चूत में तेजी से अन्दर-बाहर हो रहा था. आंटी की चूत इतनी ज्यादा चिकनी थी कि मेरा लंड बिना किसी रुकावट के अंदर बाहर हो रहा था.

हालाँकि मेरे लंड को आंटी की चूत बहुत टाइट लग रही थी. आंटी की कराहें भी इस बात को साफ जाहिर कर रही थीं कि आंटी की चूत को मेरा लंड मोटा लग रहा था. मैं उन्हें आधे घंटे तक लगातार चोदता रहा.

शायद इस बीच उसकी चूत से दो तीन बार पानी निकल चुका था. अब मैं भी अपने चरम पर था. मेरे रोंगटे खड़े हो गए. मैंने उन्हें कस कर पकड़ लिया और झड़ने लगा. कुछ देर बाद मैं शांत हो गया और उसके ऊपर ही ढेर हो गया.

दस मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों ने आँखें खोलीं और एक-दूसरे को प्यार से देखने लगे। आंटी ने मुझे चूमा और कहा कि आज बहुत दिनों के बाद मेरे बदन की आग बुझी है. तुम्हारे अंकल बहुत दिनों में आते हैं. (बॉस की बीवी को चोदा)

इसलिए मुझे अपनी प्यास दबानी पड़ती है. अब तुम मुझे छोड़कर कहीं नहीं जाओगे. मैंने भी आंटी को चूमा और उनके बगल में लेट गया. उस रात हम दोनों ने पूरी रात सेक्स किया.

वो बहुत दिनों के बाद सेक्स कर रही थी. उस रात हमने खूब मजे किये. उस मजे को शब्दों में बयां करना बहुत मुश्किल है.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds