भाई ने जमकर चोदा जब में सो रही थी

भाई ने जमकर चोदा जब में सो रही थी

नमस्कार दोस्तो, मैं आशिका हूँ, आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मुझे मेरे “भाई ने जमकर चोदा जब में सो रही थी”

मैं द्वारका से हूं. मेरा फिगर 32-30-36 का है. जो किसी का भी लंड खड़ा कर दे.

मेरे घर में भाई, मम्मी-पापा और मैं ही हैं. ग्रेजुएशन के बाद मैं सरकारी नौकरी की तलाश में थी। उसी दौरान मुझे एक एग्जाम के लिए मुंबई जाना था.

उस समय मेरा भाई भी मुंबई में रहकर नौकरी की तैयारी कर रहा था. वह मुंबई में किराये पर कमरा लेकर रहता था। मैंने उसके साथ रहने का फैसला किया था और अपनी परीक्षा देने के लिए मुंबई चली गई।

मैं नियत समय पर मुंबई आ गई. मेरा भाई मुझे लेने आया था. उसी दिन सुबह मेरी परीक्षा थी इसलिए मैं सीधे परीक्षा देने चली गई। चार घंटे बाद मैं एग्जाम देकर फ्री हुई तो भाई के कमरे में चली गई.

मैंने देखा वो एक छोटा सा कमरा था. इसमें केवल एक बिस्तर, एक कुर्सी और एक अलमारी रखने की जगह थी। भाई के अकेले रहने के हिसाब से ये कमरा ठीक था. वहां एक अटैच्ड बाथरूम भी था.

मैं अपने भाई के साथ उसके कमरे में आकर फ्रेश हुई. भाई ने खाने का इंतजाम किया था तो उसने खा लिया. फिर मैं नहाने चली गई. तो नहाने के बाद मैंने टी-शर्ट और लोअर पहना. (भाई ने जमकर चोदा)

इस टाइट टी-शर्ट में मेरे बत्तीस इंच के मम्मे मस्त लग रहे थे। मैं नहा कर आई और भाई के पास आकर बैठ गई. मैंने देखा कि भाई मुझे बहुत कामुक नजरों से देख रहा था.

मैंने उसकी आँखें पढ़ लीं. लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा कुछ देर बाद उसका फोन आया.. तो वह अपने फोन में लग गया। थोड़ी देर बाद वह बाहर चला गया. उस वक्त मैं कमरे में अकेली थी.

मुझे भी थोड़ी थकान महसूस हो रही थी तो मैं बिस्तर पर लेट गई. मैं भी अपने फोन में लग गई. थोड़ी देर बाद भाई आया और बोला – चलो बाहर घूमने चलते हैं. अब मुझे भी थकान से राहत मिल गई थी

तो मैं उठ कर तैयार हो गई और उसके साथ चल दि. घूमने के बाद हम दोनों रात को 10 बजे घर आये.. बाहर खाना वगैरह खाया था। कमरे में आकर मैं बिस्तर पर लेट गई.

चूँकि वहाँ कोई दूसरा बिस्तर नहीं था और हम दो भाई-बहन थे, इसलिए मेरा भाई भी मेरे साथ ही लेट गया। भाई और मेरे बीच ज्यादा खुलापन नहीं था. इसलिए वो भी चुपचाप लेटा हुआ था और मैं भी चुप थी.

थोड़ी देर में बोली भाई – मुझे नींद आ रही है.. मैं सो रहा हूँ। यह कहकर वह सो गया। लेकिन मुझे नींद नहीं आ रही थी. जब भाई सो गया तो मैंने उसका फोन उठाया और देखने लगी.

मैंने जैसे ही फोन ऑन किया तो देखा कि उसके फोन में भाई बहन की सेक्स स्टोरी खुली हुई थी. उसे देख कर मेरा दिमाग घूम गया. चूंकि ये सेक्स कहानी चुदाई की कहानी थी

तो मुझे इसे पढ़ने में मजा आ रहा था. मैंने यह पूरी कहानी पढ़ी। सेक्स कहानी पढ़ने के बाद मेरा मन सेक्स करने का करने लगा. मैंने भाई की तरफ देखा, वो सो रहा था.

मेरा एक हाथ मेरी चूत पर था. मेरे मन में और भी चुदास चढ़ने लगी. मैं भाई के लंड को बड़े ध्यान से देख रही थी. जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने धीरे से अपना एक पैर भाई के ऊपर रख दिया और सोने का नाटक करने लगी.

कुछ देर तक जब भाई की तरफ से कोई हलचल नहीं हुई तो मैंने अपना एक हाथ उसके पेट पर रख दिया. मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. अब भी भाई गहरी नींद में लग रहा था.

तो मैंने धीरे से अपना एक हाथ बढ़ाया और अपने भाई के लंड पर रख दिया. जैसे ही मैंने उसके लंड पर हाथ रखा तो मुझे कुछ महसूस हुआ. अब मेरी सांसें गर्म होने लगी थीं. (भाई ने जमकर चोदा)

मैंने सोने का नाटक करते हुए धीरे से कहा- आआआं… इससे भाई थोड़ा सहम गया. उसकी इस हरकत से मेरी तो बिना लंड लिये ही फट गयी. हालाँकि, उस रात कुछ नहीं हुआ.

अगले दिन सुबह जब मैं सो रही थी तो मेरा भाई नहाने गया हुआ था. मैंने धीरे से अपनी आँखें खोलीं और देखा कि वह केवल अंडरवियर में बाथरूम से बाहर आया।

मैं सोने का नाटक करते हुए उसकी तरफ देखने लगी. मेरा भाई अंडरवियर में मेरी तरफ लेट गया… और मेरे माथे पर चूमा। मैंने अपनी आँखें बंद रखीं. भाई ने मेरा एक हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया

Visit Us:-

और मेरे करीब लेट गया. मुझे महसूस हुआ कि भाई का लंड खड़ा हो रहा था. कुछ पल बाद भाई ने मेरा हाथ हटाकर अपना अंडरवियर उतार दिया. अब वह बिल्कुल नंगा था. मैं थोड़ी डरी हुई थी.

वो मेरे बगल में लेट कर मुठ मारने लगा. लंड हिलाते समय जब मैंने उसके लंड का विकराल रूप देखा तो मेरी दिल की धड़कन बढ़ गयी.

शायद उसे अहसास हो गया था कि मैं जाग रही हूँ क्योंकि मेरी साँसें तेज़ हो गयी थीं। वो अचानक रुका और मेरे कान के पास आकर धीरे से बोला- आशिका, तेरी गांड बहुत मस्त है

प्लीज़ एक बार अंदर डाल दू मैंने कोई उत्तर नहीं दिया. वो फिर से मुठ मारने लगा. मैं उसके लंड को देखते हुए सोने का नाटक कर रही थी.

फिर पांच मिनट तक लंड हिलाने के बाद वो अपने लंड को हाथ में लेकर बाथरूम में चला गया और शायद दो मिनट बाद लंड का रस निकालकर वापस आ गया.

बाथरूम से आने के बाद वो मुझे उठाने लगा. मैं उठ कर बाथरूम में घुस गई. मैं नहा कर बाहर आई तो भाई ने कहा- नाश्ता कर लो. मैने बनाया है मैंने कहा- ठीक है.

उसके बाद भाई ने कहा- पापा का फोन आया था तो मैंने उन्हें कल आने को कहा है. हम दोनों आज घर नहीं जायेंगे. तुम्हें कोई परेशानी तो नहीं है ना? मैंने हंस कर कहा- नहीं.

फिर वह अपनी क्लास के लिए निकल गया. उनके जाने के बाद मैंने Wildfantasy.in साइट खोली और भाई बहन की चुदाई की कहानी पढ़ने लगी. इस समय मैं बहुत कामातुर हो लगी थी.

मैंने अपनी चूत में उंगली की और खुद को शांत करके लेट गयी. कुछ देर बाद खाना बनाया और थोड़ा खाकर फिर लेट गई. शाम पांच बजे भाई वापस आये. हम दोनों ने साथ में खाना खाया.

इस दौरान हम दोनों बातें करने लगे. वह मेरी पढ़ाई के बारे में पूछने लगा. मैंने उनसे पूछा – भाई, कम से कम भाभी से तो मिलाओ. उसने मेरी तरफ देखा और बोला – मारोगे क्या.. मेरा कोई नहीं है. (भाई ने जमकर चोदा)

उनका रवैया देख कर मैंने विषय बदल दिया. कुछ देर बाद मैं बिस्तर पर लेट गई. लेटे-लेटे ही मुझे नींद आ गयी. कुछ देर बाद मुझे एहसास हुआ कि मेरे बूब्स को कुछ हो रहा है.

मैंने बिना जागे हल्के से आंखें खोलीं तो भाई ने मेरे बूब्स को दबाना शुरू कर दिया था. अब मेरी नींद पूरी तरह टूट गयी, लेकिन मैंने आँखें नहीं खोलीं. वो मजे से मेरे बूब्स को दबा रहा था.

मुझे मजा आ रहा था इसलिए मैंने भी उसे नहीं रोका. फिर वह बिस्तर से उठ गया. मैं तो बस लेटी रही. तभी मुझे बाथरूम का दरवाज़ा खुलने की आवाज़ सुनाई दी.

आवाज सुनकर मैंने हल्के से आंख खोली तो देखा कि वो बाथरूम में घुस गया है. कुछ पल बाद वो अचानक बाथरूम से बाहर आया तो मैंने देखा कि वो पूरा नंगा था.

उसका आठ इंच लंबा लंड मेरी आंखों के सामने लोहे की तरह खड़ा हो गया. मैंने अपनी आँखें पूरी तरह से बंद कर लीं, शायद भाई ने यह देख लिया था।

भाई मेरे बगल में लेट गया और अपनी एक टांग मेरे ऊपर रख दी. अगले ही पल उसने बेधड़क मेरा एक हाथ अपने लंड पर रख दिया. मैंने महसूस किया कि भाई का लंड बहुत टाइट और मोटा था.

मैंने उसका लंड पकड़ लिया तो उसने मेरी तरफ देखा और मुस्कुरा दिया. मैं भी हंसी और खड़ी हो गई. भाई ने मुझे अपनी बांहों में खींच लिया और पागलों की तरह मुझे चूमने लगा.

मैं भी उसका साथ दे रही थी. भाई मेरे बूब्स को दबा रहा था. कुछ ही देर में भाई ने अपनी बहन को नंगी कर दिया. वो बोला – तुम बहुत सेक्सी हो. प्लीज लंड चूसो.

उसने मुझसे अपना लंड मुँह में लेने को कहा तो मैंने सिर हिला कर मना कर दिया. उसने कुछ नहीं कहा। फिर मैंने उसकी तरफ देखा और बिस्तर पर लेट गई. वो मेरी चूत को चूसने लगा.

मैं पागल हो गई थी मैं सिसकारने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… इस फोरप्ले में कब उसने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया, मुझे पता ही नहीं चला. मैं भी मजे से उसका मोटा लंड चूसने लगी.

कुछ देर बाद मैंने कहा- भाई, अन्दर घुसा दो.. अब रहा नहीं जा रहा है। भाई मेरे ऊपर आया और मेरी चूत पर थोड़ा सा थूक कर उसे चिकना कर दिया. (भाई ने जमकर चोदा)

फिर लंड को मेरी चूत की फांकों में डाल कर हल्का सा रगड़ने लगा. मैंने अपनी गांड उठाई तो उसने लंड अन्दर पेल दिया.

उसका मोटा लंड मेरी चूत में घुसा तो मेरी चीख निकल गयी. भाई ने मेरे मुँह पर हाथ रखा और थोड़ा और अन्दर पेल दिया.

मैं- आआहह निकालो भाई… नहीं प्लीज़ आ… बहुत दर्द हो रहा है. प्लीज बाहर निकालो प्लीज… भाई ने अपना लंड बाहर नहीं निकाला और मुझे चूमने लगा.

मैं उसके चुम्बन से कुछ दर्द भूलने लगी थी. साथ ही किस करते-करते उसने एक जोरदार शॉट लगा दिया. इस बार उसका आधा लंड मेरी चूत में घुस चुका था.

अब तो मेरी साँसें पूरी तरह से थम चुकी थीं। मेरे हाथ-पैरों ने काम करना बंद कर दिया था और मेरी चूत से खून आने लगा था… आंखों से आंसू बहने लगे थे।

मेरी हालत देख कर वो थोड़ी देर के लिए रुक गये. मुझे चूमने और सहलाने लगे. मैं थोड़ा सामान्य हुई, तभी उसने फिर से एक जोरदार शॉट मारा और पूरा लंड अन्दर पेल दिया.

मेरी तो चूत फट गयी थी. मुझे असहनीय दर्द हो रहा था. मैंने उसे बहुत रोका, लेकिन भाई ने मेरी एक न सुनी. कुछ देर रुकने के बाद उसने धीरे-धीरे शॉट मारना शुरू कर दिया.

जब मेरा दर्द कम हुआ तो उसने स्पीड बढ़ा दी. ‘आआ आआआआ भाई ने मेरे कान में पूछा – मजा आ रहा है? मैंने हंस कर उसे चूम लिया

और कहा- आह … तुम बहुत बेरहम हो भाई … लेकिन अब मजा आने लगा है. उसने पूछा- दीदी… फुल स्पीड में चोदूँ क्या? मैंने कहा- हां भाई चोदो!

मानो उसने मेरी चूत में पिस्टन चला दिया हो. मेरी चुत ने रस छोड़ दिया, जिससे चुत को लंड का मजा मिलने लगा. मैं कामुक होने लगी.’आआआआआआआआआआआआआआआआआआआआआ।

थोड़ी देर में भाई ने सारा रस मेरी चूत में छोड़ दिया और मेरे ऊपर लेट गया. कुछ देर तक हम ऐसे ही पड़े रहे. उसके बाद भाई मेरे बगल में ही सो गया.

मैंने उठने की कोशिश की, लेकिन मैं उठ नहीं पा रही थी. मैं यह बर्दाश्त नहीं कर सकी। भाई ने मुझे उठाया और बाथरूम में ले गया. वहां उसने मेरी चूत को साफ किया.

वो मेरी चूत को साफ करते करते मेरी चूत में उंगली करने लगा. मुझे फिर से मजा आने लगा. हम दोनों एक बार फिर से सेक्स का मजा लेने लगे. (भाई ने जमकर चोदा)

उस दिन अपने भाई से चार बार चुदाई की. भाई ने मुझे चोद कर मेरी हालत ख़राब कर दी थी. सेक्स करने के बाद हम दोनों कब सो गए, मुझे पता ही नहीं चला. अगले दिन वापस घर आ गई.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds