लंदन की ट्रैन में मिली आंटी को चोदा उन्ही के घर पर

लंदन की ट्रैन में मिली आंटी को चोदा उन्ही के घर पर

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “लंदन की ट्रैन में मिली आंटी को चोदा उन्ही के घर पर” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

मैं लंदन में रहता हूं, अब मैं 27 साल का लड़का हूं, आवरेज बॉडी और हाइट गुड लुकिंग है

जब मैं चंडीगढ़ में था, मैंने अपने गांव में बहुत मज़ा किया था

मैं पहले से ही अपने से बड़ी उम्र की महिलाओं में ज्यादा दिलचस्पी रखता था

और मेरी एक प्रेमिका थी, जिसके साथ मैं चुदाई करता था अक्सर बकवास करते हैं, लेकिन यह बात पुरानी हो गई है।

आज की बात यह है कि यहां विदेश में पैसा है तो सब कुछ खरीद सकते हैं

और यहां किसी का डर नहीं है, जो चाहिए वो आसानी से मिल जाता है

तो मेरे दिन भी ऐसे ही गुजरे। एक दिन जब मेरी छुट्टी थी और मेरे सभी दोस्त काम पर थे

तो मेने सोचा चलो बाहर घूम के आते है तो मे तैयार होकर घूमने के लिये निकल पड़ा।

मैंने अपने घर के पास के स्टेशन से ट्रेन पकड़ी और मध्य लंदन के लिए रवाना हो गया।

ट्रेन में इतने यात्री नहीं थे, मैं अखबार पढ़ने लगा, दो-तीन स्टॉप ही रहे होंगे

कि एक एशियाई महिला मेरे सामने वाली सीट पर आकर बैठ गई।

वह करीब 40 साल की लग रही थी और सलवार कमीज पहनी हुई थी जो विदेशों में बड़ी-बड़ी महिलाएं पहनती हैं।

फिर उसे बुरा न लगे तो अपना न्यूज़ पेपर पढ़ने का नाटक करने लगा

और उसे देख कर मेरा लंड खड़ा होने लगा. उसने मुझसे पूछा कि क्या तुम भारतीय हो

मैंने कहा हां, फिर वह मुझसे हिंदी में बात करने लगी, पूछा कि क्या यह ट्रेन स्टेशन जाएगी

(स्टेशन का नाम पूछकर) मैंने कहा हां, उसने कहा ठीक है धन्यवाद, मैंने कहा कि आपको वहां जाना है, उसने कहा हां।

फिर उसने पूछा कहाँ जॉब पर जा रहे हो मेने बोला नही बस यूही घूमने जा रहा हूँ छुट्टी जो है

तो उसने कहा कि अच्छा है, तो मैंने पूछा कि तुम वहाँ क्यों जा रहे हो

तो उसने कहा कि मैं एक दोस्त से मिलने जा रही हूँ।

मैंने कहा ठीक है और हम बात करने लगे उसके स्टेशन पर आते आते हम अच्छी तरह से बात करते रहे

मे उसकी पूरी बॉडी को घूर रहा था उसे पता चल गया था

लेकिन हमारे बीच सामान्य बात हो रही थी उसका स्टेशन आने वाला था

मुझे उसका नंबर मांगने का ख्याल आया पर मुझे लगा शायद ना दे तो मे चुप रहा

तब उसने मुझे बोला फिर कभी मिलेंगे मेने हाँ बोला तो बोली केसे मिलेंगे मुझे अपना नंबर दो मेरे दिल मे तो लड्डू फूटने लगे

मे खुश हो गया शायद बात बन जाये और नंबर दे दिया और

उसका नंबर माँगा तो उसने बोला मे तुम्हे कॉल करूँगी मेने ओके बोला.

फिर वो चली गयी, मेरे दिमाग में बहुत से गंदे ख्याल आने लगे

और मैं जल्दी से घूमा और वापस घर आ गया

और उसका नाम की मूठ मारी, तब मुझे थोड़ी राहत मिली

पर दिल मे ये भी लग रहा था की शायद वो कॉल ना करे

ऐसे ही 1 -2 दिन बीत गए और 2 दिन बाद शाम को मेरे मोबाइल पर एक मैसेज आया

जिसमें लिखा था हाय हाउ आर यू, नीचे लिखा था आशिका मुझे नहीं पता मैं उसका मैसेज देखकर बहुत खुश हुआ

और जवाब दिया नमस्ते मैं ठीक हूं आप कैसे हैं तो उसका जवाब आया मैं ठीक हूं

और हमने कुछ देर चैट की फिर रात करीब 11:30 बजे मेरे मोबाइल पर मैसेज आया

क्या कर रहे हो सो रहे हो क्या मैंने कहा नहीं , मैं अभी जाग रहा हूँ।

अभी तक सोये नहीं तो कहा नहीं, मैं अपने पति का इंतजार कर रही हूं

सुबह 11 बजे से रात 12 बजे शॉप पर ही होते है और उनका एक बेटा है

जो लगभग 18-19 साल का है, वह लंदन से बाहर कहीं पढ़ता था

और कभी-कभार ही घर आता था, वह घर पर अकेली होती या अपने पति के साथ दुकान जाती थी

फिर हमने कुछ देर बातचीत की। और फिर उसने मुझसे कहा कि शायद मेरे पति आ गए हैं

कल बात करते हैं मैं तुम्हें फोन करती हूं मैंने कहा ठीक है लेकिन शाम को करना

उसने कहा हां फिर अगले दिन मैंने उसे शाम को फोन किया तो उसने कहा कि 5 मिनट बाद फोन करती है।

फिर उसका फोन आया उसने कहा कि वो बोली वो अपने पति से बात कर रही थी

फिर उसने कहा कि क्या बात है, आप मुझसे बात करने के लिए इतने उत्सुक हैं

मैंने कहा ऐसा कुछ नहीं है, बस ऐसे ही, मुझे अपने से बात करने में मजा आता है दोस्त।

मैं समझ गया कि वो ऐसी बाते क्यों करती है, तो मैंने पूछा कि तुम्हें मुझसे बात करने में इतना मजा क्यों आता है

तो वह बोली, मैं घर पर अकेली बोर हो रही हूं, इसलिए किसी से बात करने में मजा आता है

और हमारी बातें काफी देर तक चलती रहीं। जब तक हम एक दूसरे से बात करते

हम दोनों जानते थे कि हम क्या चाहते हैं, लेकिन हम दोनों में से कोई भी यह नहीं कह सकता था

ऐसे ही एक और दिन बीत गया, उस शाम हम बातें कर रहे थे

तो मैंने उससे कहा कि कल मेरी छुट्टी है तो उसने कहा हम कल पूरे दिन बात करेंगे।

मेने बोला पक्का करेगे तो उसने बोला तुम यहा आ सकते हो कल वेसे घर पर कोई नही होगा

10 बजे के बाद मैंने हां कहा और अगले दिन का इंतजार करने लगा

मेरे दिमाग़ मे ये ख्याल था ही की कल ज़रूर उसको चोदूंगा तो मैंने पूरी तैयारी कर ली

दूसरे दिन सुबह 9 बजे उठा और अच्छे से कपड़े पहन कर सेंट लगा कर चला गया।

उसके बताए स्टेशन पर मिलने गया और उसे फोन किया।

उसने फोन उठाया और कहा कि तुम अभी कहां हो। मे कब से तुम्हारा वेट कर रही हूँ मेने बोला सॉरी थोड़ा लेट हो गया

मैं अभी इस स्टेशन पर हूं उसने मुझे रास्ता दिखाया और मैं उसके घर के दरवाजे के बाहर पहुंच गया

और उसने डोर खोला वो क्या लग रही थी उसने साड़ी पहनी हुई थी और

उसकी सफ़ेद बॉडी अजीब लग रही थी उसके बूब्स ब्लाउज के बाहर आने को बेताब थे.

मैं उसे देख कर दंग रह गया और अंदर जाते ही मैंने कहा आंटी आप क्या लग रही हो

उसने कहा आप भी खास लग रहे हो मेने बोला आपसे जो मिलने आना था

वो कातिल मुस्कुराई और बोली उहह क्या ऐसी क्या खास बात है मुझमे मेने बोला खास बात ही तो है

घर मे कोई ना हो और मुझे मिलने के लिये बुलाओ और मेने नज़र नीचे कर ली

सोचा शायद बुरा ना मान जाये पर वो उसने कहा कि क्या तुम मेरे साथ फ्लर्ट कर रहे हो

मैंने कहा मैं फ्लर्ट नहीं कर रहा हूँ पर इस तरह हमारे मिलने से

और एक दूसरे के लिये तैयार होने से दोनो को पता है की दोनो क्या चाहते है

पर बोल नही पाते वो थोड़ी सी शरमाई और किचन की और जाने लगी.

मुझे अजीब लगा, उसने कोई जवाब नहीं दिया, शायद वो भी चाहती थी कि मैं शुरू करूँ।

उसने किचन से आवाज लगाई, चाय या कॉफी क्या लोगे?

तुरंत ही अंदर गया और उसे पीछे से पकड़ के गले पर किस करने लगा

वो चौक गयी और बोली ये क्या कर रहे हो, मे बोला मैं तुम्हें चाहता हूं

उसने कहा नहीं, तुम क्या कर रहे हो, यह गलत है, तुम मेरे बेटे जेसे हो

लेकिन वह मुझसे छुटकारा पाने की कोशिश नहीं कर रही थी, शायद वह पहले से ही गर्म थी।

मेने बोला ड्रामा मत करो और उसके होठों को चूसने लगा

वो भी मेरा साथ देने लगी, वो मुझसे ज्यादा हॉट थी, मैं सीधे ही उसके बूब्स दबाने लगा.

फिर वो थोड़ी सी खुल गई और कहने लगी कि जल्दी क्या है, अब तो पूरा दिन है

मैं भी उसे धीरे धीरे चूसने लगा और उसके बूब्स दबाने लगा

वो सिसक रही थी, मैं धीरे से उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा, वो सिसकने लगी और मेरा हाथ उसकी चूत पर जाते ही

उसने मेरा हाथ अपनी चूत पर दबा दिया और ज़ोर-ज़ोर से सिसकने लगी

उसकी आँखें बंद थीं लेकिन वो मेरी पीठ पर हाथ फिरा रही थी

वो शायद थोड़ी शर्मा रही थी, अब मैंने उससे कहा चलो बेडरूम में चलते हैं।

उसने कहा हाँ जब हम बेडरूम में पहुँचे तो उसने मुझे गले से लगा लिया

और अपना सिर मेरे सीने पर रख दिया मैंने उससे कहा कि तुम मुझसे शर्माती क्यों हो

तो बोली पराये मर्द से शर्म तो आयेगी ही ना उसने मुझे बताया उसको अपने पति से सेक्स मे मज़ा नही आता

अब पूरे दिन घर में बैठकर ऑनलाइन पोर्न फिल्में देखती, वो भी किसी के साथ सेक्स करना चाहती थी

और वो भी एक युवक के साथ, तो उसने मुझे अपना दोस्त बना लिया, मैंने कहा ठीक है

फिर मैं तुम्हें असली मज़ा दूंगा और उसे किस करने लगा

काफ़ी टाइम किस्सिंग और बूब प्रेस्सिंग करते करते हम नंगे हो गये

मैं उसकी नंगी चूत को छूने लगा, वो बहुत गर्म थी और धीरे-धीरे मेरे लंड पर हाथ फेरने लगी

फिर उसकी चूत में ऊँगली करते करते सक करने लगा और कुछ देर बाद वो झड़ गयी और

ज़ोर से मुझसे लिपट गयी और बोली आज काफ़ी टाइम बाद मेने ऐसा महसूस किया है

की मे जन्नत मे हूँ फिर मैंने उससे अपना लंड चूसने को कहा, उसने मना कर दिया, उसने कहा कि उसे यह पसंद नहीं है.

मैंने कहा कोई बात नहीं उसने कहा अगली बार शायद वो चूस सकती है

लेकिन अभी नहीं और उसने कंडोम निकाल कर मेरे लंड पर लगाया दिया

और बिस्तर पर टांगें ऊपर करके सो गई उसकी शर्म जा चुकी थी

मेने उसकी चूत पर लंड टिकाया और अंदर डालने के लिये प्रेस किया तुरंत थोड़ी मुश्किल के बाद चल गया

वो सिसकने लगी, मैंने शॉट लगाना शुरू किया, हमने उसी अंदाज में चुदाई की

और फिर थोड़ी देर बाद दोनों एक साथ झड़ गये

फिर ऐसे ही बेड पर बाते करने लगे और मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया।

इस बार मैंने उसे पीछे से दूसरे अंदाज में चोदा, हमने उस दिन 2 बार उसकी चुदाई की

और जब भी फुर्सत मिलती हम चुदाई करते थे

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds