दीदी की विधवा जेठानी को पेला – XXX सेक्सी स्टोरी भाग 2

दीदी की विधवा जेठानी को पेला – XXX सेक्सी स्टोरी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “दीदी की विधवा जेठानी को पेला – XXX सेक्सी स्टोरी भाग 2”। यह कहानी हर्ष की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

होटल रूम चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी बहन की जेठानी के साथ एक होटल के कमरे में था. हम दोनों अपने पहले सेक्स के लिए तैयार थे. मैंने उसे कैसे चोदा?

दोस्तो, मैं हर्ष एक बार फिर से आपका अपनी XXX सेक्सी स्टोरी में स्वागत करता हूं.

अब तक आपने कहानी के पहले भाग: XXX सेक्सी कहानी में पढ़ा था कि माया मेरे लंड से खेलने के बाद मुझसे चिपक कर बिस्तर पर आ गयी थी।

अब आगे XXX सेक्सी स्टोरी:

मैं नीचे से ऊपर तक चूमने लगा. ऊपर आने के बाद माया को पीठ के बल लेटने को कहा.
फिर मैंने उस पर चुम्बनों की बौछार कर दी। कभी-कभी जब माया आह भरती तो दाँतों से काट लेता।

इससे उन्हें बहुत मजा आया.

उसने मुझे अपनी छाती की ओर खींचा और बोली- बहुत हो गया.
मैं उसका इशारा समझ गया और अपने लंड को पकड़ कर लंड के टोपे को उसकी चूत पर ऊपर से नीचे की ओर घुमाने लगा.

लंड के स्पर्श से माया तड़प उठी.
उसने मेरे हाथ से लंड खींच कर अपनी Tight Chut पर रखा और बोली- अब इसे अन्दर जाने दो.

उसके कुछ भी कहने में काफी देर हो चुकी थी, इसलिए मैंने दबाव डाला.
वैसे ही चूत पहले से ही गीली थी, मेरे एक दबाव से लंड चूत को भेदता हुआ गर्भाशय तक पहुँच गया।

माया चिल्लाने ही वाली थी कि मैंने पहले ही अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया था।

कुछ देर बाद उसने अपना हाथ हटा लिया तो वो नशे में बोली- धीरे कर हरामी, क्या मैं गधे जैसा लंड भी बर्दाश्त कर सकती हूँ?

मैं चुपचाप लेटा रहा. उसके स्तनों को सहलाने लगा और उसे फिर से चूमने लगा। कुछ देर बाद माया अपनी चूत को ऊपर नीचे करने लगी. (XXX सेक्सी स्टोरी)

फिर मैंने कहा- अब बर्दाश्त कर रही हो?
वो हंस कर बोली- नहीं, लेकिन मैं सहन कर लूंगी.

उसने जवाब देते हुए मेरा चेहरा खींच लिया और मेरे होंठों पर चूमने लगी.
किस करते करते वो मेरी जीभ को आम की तरह चूसने लगी.
साथ ही वो अपनी Moti Gand ऊपर उठाने लगी.

उसके मुँह से तेज़ ‘हूँ हूँ’ की आवाज़ आने लगी।
मैं समझ गया कि अब माया का धैर्य समाप्त हो गया है।

हम एक दूसरे को होंठों से चूमते हुए सेक्स करने लगे.
जब भी मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकराता तो वो मुझसे चिपक जाती.

मेरे दोनों हाथ उसकी पीठ के पीछे थे, वह उन्हें अपनी बांहों के पास कस कर पकड़ लेती थी और अपनी चूत की जड़ में लगने वाले झटके का जवाब मेरे होंठों को जोर से चूस कर देती थी।

हमारी Chut Chudai ऐसे ही चल रही थी. बीच बीच में उसकी चूत पानी छोड़ रही थी.

आख़िर दुखी होकर उसने मुझे हटा दिया और उठ गयी.
उसने सामने पड़े अपने पेटीकोट से अपनी चूत के अंदर का चिकनापन साफ़ किया।

पेटीकोट हाथ में लेकर जैसे ही वो वापस बिस्तर पर आये तो उन्होंने मुझे लिटा दिया। उसने अपने पैर एक दूसरे के ऊपर रख दिए और लंड को हाथ में ले लिया.

लंड अभी भी गीला था; उसने पेटकोट से लंड को साफ किया, लंड को अपनी चूत पर सेट किया और धीरे-धीरे अन्दर लेने लगी.

धीरे-धीरे पूरा लंड गर्भाशय तक पहुँच गया।
एक बार तो उसने एक मीठी आह के साथ अपने दोनों हाथों से अपने Big Boobs मेरी छाती पर रगड़ दिये और मेरे स्तनों को अपने हाथों में लेकर मसलने लगी।

मुझे भी ऐसा महसूस हुआ जैसे कोई मेरा लंड दबा रहा हो.
माया धीरे-धीरे ऊपर बढ़ रही थी।

जब सुपारा चूत से बाहर निकलने को होता तो वह रुक जाती और फिर चूत को संकरा करके लंड को चूत में लेने लगती।
ऐसा अद्भुत आनन्द मुझे पहली बार मिल रहा था।

दस पंद्रह मिनट की चुदाई में उसकी चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी. वैसे उसकी चूत की जोरदार चुदाई के दौरान मेरे लंड पर मेरी मजबूत पकड़ के कारण कुछ ही पलों में मैं झड़ने वाला था. (XXX सेक्सी स्टोरी)

माया को अपनी चूत का पानी अच्छा नहीं लग रहा था।
उसने एक बार फिर पेटीकोट उठाया और अपनी चूत के अन्दर कपड़ा डाल कर अच्छी तरह से साफ़ कर लिया।

बाद में उसने मेरा लंड भी साफ किया, पेटीकोट एक तरफ रख दिया और वापस अपनी पुरानी पोजीशन में आ गयी और लंड को अपनी चूत से सटाकर धम्म से बैठ गयी. अब उसकी चूत को मेरा लंड लेने की आदत हो गयी थी.

इस पर मेरे मन में एक विचार आया.
मैंने माया से पूछा- क्या हुआ, तुमने तो गधे का ले लिया। अब हाथी का लोगी क्या?

इस पर वो शरमा गई और बोली- सच में यार, मैंने इसे पहली बार देखा और लिया है इतना बड़ा लंड. शादी के बाद आज ही मजा आया. सच में, मुझे नहीं पता था कि इतना बड़ा लंड कितना अद्भुत होता है।

आपमें सबसे खास बात वो है जो किसी और में नहीं है. तुमने तो पांच छह बार मेरी चूत गीली कर दी. तुम मेरी जिंदगी में ऐसा करने वाले पहले आदमी हो, नहीं तो एक बार भी मेरी चूत पानी नहीं छोड़ती.

मैंने कहा- हां, मैंने तुम्हारी चूत का कमाल देखा है. तेरी चूत जिस तरह से लंड को निचोड़ती है, वैसे ही लंड की माँ चुद जाती है. वह हंसी। (XXX सेक्सी स्टोरी)

फिर माया ने धीरे से अपने पैरों को मोड़ा और पीछे ले गयी.
इस वक्त वो मेरे ऊपर सीधी लेटी हुई थी.

माया अपने दोनों घुटनों के बल बैठ कर अपनी चूत हिलाने लगी और अपने दोनों हाथ मेरे कंधों के पीछे और पीठ पर ले गयी।
वो उसी अवस्था में मुंह से होंठों को चूमते हुए चुदवाने लगी.

उसकी सिकुड़ी हुई चूत एक बार फिर मुझे स्खलन की ओर ले जा रही थी.
फिर मैंने अपना दिमाग दूसरे विचारों पर केंद्रित किया और माया की चूत के झड़ने का इंतज़ार करने लगा.

करीब दस मिनट में ही उसकी चूत में झनझनाहट होने लगी. मैं भी उसका बराबर साथ देने लगा.
जब Maya की गांड ऊपर से नीचे की ओर आती तो मैं मोर्चा संभाल लेता और नीचे से ऊपर की ओर अपना लंड पेल देता। जब हम दोनों ये कर रहे थे तो हमारे मुँह से आहें निकलने लगीं.

माया भी समझ गयी थी कि मैं भी झड़ने वाला हूँ।
हमारी ज़ोरदार चुदाई तब ख़त्म हुई जब हम दोनों एक साथ स्खलित हुए।

दोनों ने एक दूसरे को कस कर पकड़ लिया.
हम दोनों के मुँह से गर्म आहें निकल रही थीं.

स्खलन का तूफ़ान गुज़र जाने के बाद भी माया उठ नहीं पाई जैसा कि आमतौर पर औरतें उठती हैं, उलटे उसने अपना हाथ मेरी छाती पर रख दिया और दूसरे हाथ से मेरे बालों में हाथ फिराते हुए बोली- क्या तुम मेरा एक काम करोगे?
मैंने पूछा- बताओ.

वो बोली- अभी नहीं, मैं तुम्हें बाद में बताऊंगी.
मैंने कहा ठीक है.

उसने आगे कहा- मुझे रत्ती भर भी उम्मीद नहीं थी कि मुझे तुमसे इतना आनंद मिलेगा. खैर, जो भी हुआ, एक बात तो सच है कि वक्त और किस्मत से ज्यादा कभी किसी को नहीं मिल सकता। वह आज सच हो गया. फिर मैंने पूछा- तुम इस तरह पहेलियाँ क्यों सुलझा रहे हो? आख़िर आप क्या कहना चाहते हैं? (XXX सेक्सी स्टोरी)

फिर उसने कहा- मैं अपनी बाकी जिंदगी तुम्हारे साथ बिताना चाहती हूं.
मैंने कहा- मेरा भी एक परिवार है.. मेरा भरा-पूरा परिवार है।

फिर वो बोली- मैं तुम्हें हर चीज़ में खुश रखूंगी. जैसा मैं कहती हूँ वैसा करो… बाकी मैं संभाल लूँगी।
मेंने कुछ नहीं कहा।

बातचीत ख़त्म होने के बाद दोनों ने अपने कपड़े पहने और कमरे से बाहर आकर दरवाज़ा बंद कर दिया।
माया ने इस समय जीन्स और स्कर्ट पहन रखी थी, उसका एक हाथ मेरे हाथ में था।

हम दोनों लिफ्ट से नीचे आये.
नीचे आकर वो बोली- कुछ देर बाद डिनर करेंगे तो कैसा रहेगा. चलो एक बार में बैठेंगे और शराब पीयेंगे।
मैंने कहा ठीक है।

हम दोनों बार में अकेले बैठे थे.
उसने शराब का ऑर्डर दिया.
वो मुझसे चिपक कर बैठ गयी.

कुछ देर बाद वेटर टेबल पर वाइन और बाकी सामान रखकर चला गया.

माया ने शराब का पैग उठाया, चियर्स किया और एक घूंट लेते हुए बोली- काश तुम मेरी जिंदगी में पहले आते। खैर जो भी होता है सही समय पर होता है. हर्ष, तुम्हें पाने के बाद मैं तुम्हें खोना नहीं चाहती। (XXX सेक्सी स्टोरी)

मेरी जवानी ऐसे ही बीती. अब जब तुम मेरी जिंदगी में आये हो तो एक बार फिर से जवानी का रस फूटने लगा है.

मैंने पैग खाली कर दिया और दूसरा पैग बनाने लगा.
वो बोलीं- अब नया पैग मत बनाना, आज से हम एक ही बर्तन का इस्तेमाल करेंगे.

यह कहते हुए उसने अपना पैग खाली कर दिया और अपना गिलास एक तरफ रख दिया। उसने मेरे गिलास में एक पैग बनाया और मेरे मुँह से लगा दिया.

मैंने एक घूंट लिया, फिर माया ने भी उसी में से एक घूंट लिया और गिलास मेज पर रख दिया।
अब उसने मेरे परिवार के बारे में पूछा. अंत में उन्होंने पूछा कि मेरी जिंदगी में कितनी महिलाएं आईं।

मैंने सोच कर बताया कि मैं एक औरत से कभी संतुष्ट नहीं होता. मुझे नहीं पता कि कितनी औरतें मेरे साथ सो चुकी हैं. अब तो नंबर भी याद नहीं है.

आखिर उसने मुझसे पूछा- तुम्हें किस तरह की औरतें पसंद हैं?
जब मैंने उससे कहा- मुझे कच्ची कली पसंद है.

यह सुनकर माया एकदम चुप हो गईं।

इस सन्नाटे के बीच कभी वो पैग का एक सिप लेती तो कभी मेरे पैंट के ऊपर से हाथ घुमाती और मेरे सोए हुए लंड को फिर से तैयार करने लगती. बार से फ्री होकर हम दोनों खाना खाने लगे और कमरे में पहुंच गये. (XXX सेक्सी स्टोरी)

उधर कपड़े बदलने के बाद हम दोनों ने सिर्फ हाफ कोट पहना हुआ था.
कोट पहनते समय हमने अपने शरीर पर कोई कपड़ा नहीं रखा था यानि कोट के अंदर हम दोनों नंगे थे.

बिस्तर पर लेटे लेटे ही माया को सेक्स करने का मन होने लगा.
वो बाथरूम में गई और एक गीला कपड़ा ले आई।

लंड को साफ करने के बाद उसने उसे अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी. उसका लंड चूसने का तरीका बहुत अच्छा लगा. कभी अंडकोष को चूमती तो कभी सुपारे पर जीभ फिराती.

धीरे धीरे किस करते हुए वो ऊपर से नीचे तक गांड के करीब आ गयी. उसने एक बार मेरी गांड के छेद को चूमा और बहुत मजा आया. मेरे मुँह से भी सिसकारी निकल गयी.

उसने मेरी कमजोरी को भांप लिया और अपना पूरा ध्यान मेरी गांड पर केंद्रित कर दिया.
अब वो अपनी जीभ से मेरी गांड को बेतहाशा चूमने लगी. कभी-कभी वो अपनी जीभ की नोक को गांड के छेद में फिराने लगती.

सच में मैं जन्नत की सैर करने लगा था. मेरे मुँह से कराहों के अलावा कुछ नहीं निकल रहा था.

जब मुझसे और बर्दाश्त नहीं होता तो मैं अपनी गांड सिकोड़ कर पीछे कर लेता.
इस तरह जबरदस्ती शुरू हो गई.

फिर मैंने माया को उठाया और बिस्तर पर सीधा लिटाया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया.
मेरा लंड बिना किसी दिक्कत के माया की चूत में घुस रहा था।

माया अपनी गांड ऊपर नीचे करती तो मैं लंड बाहर निकालता और झटके से अन्दर डाल देता.
इस तरह बिना रुके पेलमपेल हो रही थी. (XXX सेक्सी स्टोरी)

आधे घंटे के अंदर हम दोनों स्खलन की कगार पर पहुंच गये.
माया ने अपने दोनों हाथ मेरी कमर के ऊपर मेरे कंधों पर रख दिये और अपने दोनों पैरों को मेरे पैरों के चारों ओर लपेट लिया।

अब हम दोनों स्खलन के लिए तैयार थे, हम दोनों पूरी ताकत से पंपिंग करने लगे।

अचानक, जैसे ही दोनों ने अपना पानी छोड़ा, उनके मुँह से ‘आह-उह’ की आवाज़ निकली और इसके साथ ही दोनों एक-दूसरे से लिपट गए।

जब तूफ़ान गुज़रा तो दोनों अलग हो गये।
फिर हम बाथरूम गए, अपना लंड और चूत साफ़ की, वापस आये, एयर कंडीशनर को पूरी तरह ठंडा होने दिया, चादर अपने ऊपर खींच ली और सोने की कोशिश करने लगा।

मैंने माया से पूछा- तुम भी सेक्स में बहुत अच्छी उस्ताद हो? वो बोली- नहीं यार, मैं मेनोपॉज़ तक पहुँच गई थी… वो मेरा बॉस है, उसने किसी डॉक्टर से मेरा इलाज करवाया है।

उसके बाद मुझे फिर से सेक्स की इच्छा होने लगी, लेकिन बॉस के जाने के बाद एक महिला बॉस के आ जाने से सब गड़बड़ हो गया. घर पर कोरोना के कारण लड़कियाँ घर पर ही कंपनी का काम करती थीं और मैं कहीं जा नहीं पाती थी।

जब मैंने तुम्हें हैदराबाद फ्लाइट का टिकट भेजा तो मेरे मन में पक्का विचार था कि चाहे तुम कैसे भी हो, मैं तुमसे ही चुदुँगी। और तुम्हें जी भरकर चोदुंगी और चुदाई करना सिखाऊंगी लेकिन मेरी चाल उल्टी पड़ गयी.

आप कामदेव के अवतार हैं. अब मैं आपकी गुलाम बन गयी हूँ. ऐसी चुदाई पहले किसी ने नहीं की होगी. अब चाहे कुछ भी हो मुझे तुम्हारे साथ ही जीना और मरना है.

जब मैंने उसे वापस बताया कि मेरा भी एक परिवार है।
फिर वो बोली- उसकी चिंता मुझ पर छोड़ दो।

मैंने जवाब में कहा कि मैं कभी किसी की तरफ आकर्षित नहीं हुआ, वैसे भी मुझे नई लड़कियाँ पसंद हैं।
वो बोली- मुझ पर थोड़ा भरोसा करो, मैं तुम्हारी सारी इच्छाएं पूरी कर दूंगी. एक समय ऐसा आयेगा जब तुम स्वयं मुझे छोड़कर कहीं नहीं जाओगे। (XXX सेक्सी स्टोरी)

मैंने कहा- ऐसा आज तक नहीं हुआ और आगे भी नहीं होगा.
माया बोली- लगी शर्त.

मैंने हाथ बढ़ाया तो उसने भी हाथ मिलाया और बोली- अगर तुम मेरे घर से चले जाओ तो तुम जैसा कहोगे मैं वैसा ही करूंगी. यदि तुम हर समय मेरे साथ रहने लगो तो तुम मुझे क्या दोगे? मैंने कहा- इसके लिए एक समय तय कर लो.

वो बोली- मैं तुम्हें दो महीने में अपने घर ले जाऊंगी. मैं तुम्हें एक साल का समय देती हूं, अगर तुम मुझे छोड़ोगे तो मैं हार मान लुंगी। अगर तुम एक साल तक मेरे साथ रहे तो तुम हार मान लेना.

यह कहते हुए उसने अपना हाथ अपने सिर के नीचे रख लिया। मैंने भी अपना एक पैर दूसरे पैर पर रख दिया और अपने दूसरे हाथ से उसे अपनी बांहों में लेकर सो गया.

दोस्तो, आशा करता हूँ आपको XXX सेक्सी स्टोरी के इस भाग में मजा आया होगा.

XXX सेक्सी स्टोरी अभी बाकी है मेरे दोस्त अगला भाग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे

कहानी का अगला भाग: टॉप XXX सेक्सी स्टोरी

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds