कुंवारी साली को बालकनी में चोदा – Xxx कुंवारी साली चुदाई

कुंवारी साली को बालकनी में चोदा – Xxx कुंवारी साली चुदाई

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कुंवारी साली को बालकनी में चोदा – Xxx कुंवारी साली चुदाई”। यह कहानी संजय की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

Xxx कुंवारी साली चुदाई में मेरी साली ने खुद पहल करके अपनी कुंवारी चूत मेरे लंड से खुलवा ली. उसने सोते समय मेरा लंड पकड़ लिया.

दोस्तो, मेरा नाम संजय है. अब मैं आपको अपनी एक और सच्ची सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ.

पहले मैं आपको बता दूं कि ये मेरे जीवन के सबसे अद्भुत पल थे जो मुझे हमेशा गुदगुदाते हैं।

मैं शादीशुदा हूँ और मेरी पत्नी साक्षी बहुत सेक्सी है.
लेकिन यह Xxx कुंवारी साली चुदाई कहानी मेरी छोटी कुंवारी साली के बारे में है।

ये अभी कुछ दिन पहले की बात है.
मेरे छोटे भाई की शादी थी और मेरी ससुराल से मेरी साली उसकी शादी में कुछ दिन पहले ही आई थी ताकि वह मेरी पत्नी की मदद कर सके।

मैं अपनी साली को लेने बस स्टैंड गयी थी.

जैसे ही वो बस से बाहर आयी तो उसने मुझे देख लिया।
तभी मेरी भी नजरें उससे मिलीं और मैं उसके पास पहुंच गया.

मैंने उसका बैग उठाया ही था कि Devika ने मेरी उंगली पकड़ ली।
मैं उसे देख कर मुस्कुराया और हम दोनों मीठी मुस्कान के साथ आगे बढ़ गए.

मैं उसके साथ पार्किंग में आया और उसका बैग अपनी कार में रखकर हम दोनों बस स्टैंड से घर आ गए।

रास्ते में देविका मुझसे हंसती हुई बातें करती रही.
उसकी हँसी मुझे बहुत राहत दे रही थी और उसे देखकर ही मुझे अंदर से एक मीठी सी अनुभूति महसूस हो रही थी।

मैं आपको बता दूं कि उस वक्त देविका काफी सेक्सी लग रही थी।
उसके टाइट टॉप में से उसके 34 साइज़ के बूब्स बहुत कसे हुए लग रहे थे।

मैंने देखा कि उसकी गांड भी पहले से बड़ी हो गयी थी.
क्योंकि उसने टाइट जीन्स पहनी हुई थी इसलिए उसकी Moti Gand की दरार साफ़ दिख रही थी.

वो बहुत सेक्सी लग रही थी. उसका सांवला रंग उसकी छवि में चार चांद लगा रहा था जिससे वह किसी सेक्सी मॉडल से कम नहीं लग रही थी. (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

लेकिन अभी तक मेरे मन में उसके बारे में कोई गलत विचार नहीं आया था. घर आते ही देविका सबके साथ घुल-मिल गयी और सबके साथ काम में व्यस्त हो गयी।

यह उसी दिन हुआ. घर पर कुछ और मेहमान आ गये थे, जिसके कारण रात को देविका को सोने के लिये जगह नहीं मिली।

मेरी बीवी बोली- आज हम तीनों एक साथ सो जाते हैं.
इस वजह से हम तीनों एक ही बिस्तर पर आ गये.

मुझे याद है मेरी पत्नी रात के 2 बजे उठी और बाथरूम चली गयी. लेकिन वोबाथरूम से वापस आयी तो मेरे पास आकर सो गयी, जिससे मैं देविका और मेरी पत्नी साक्षी के बीच में हो गया. मैं उस वक्त जाग रहा था, लेकिन फिर भी मैंने कुछ नहीं कहा.

फिर मैं देविका की तरफ घूमा तो उसके तने हुए बूब्स मेरे सामने आ गए और उसके टॉप के अंदर से दिख रहे उसके बूब्स की दरार को देखकर मैं उत्तेजित होने लगा। (Hindi Sex Story)

मैं अभी कुछ सोच ही रहा था कि देविका ने अपना हाथ मेरे लंड के पास रख दिया और मैं तुरंत साक्षी की तरफ देखने लगा.

साक्षी गहरी नींद में थी.
मैं कुछ देर रुका और आगे बढ़ने के बारे में सोचने लगा.

अब तक मेरे अंदर भी कामुकता जाग चुकी थी.
मैंने भी उसके एक बूब्स को पकड़ लिया और धीरे-धीरे मसलने लगा।
साथ ही मैं उसके चेहरे की तरफ देखता ही रह गया क्योंकि उसका हाथ अभी भी मेरे लंड पर था.

थोड़ी देर बाद उसकी पकड़ मेरे लंड पर मजबूत होने लगी तो मैं डर गया और मैंने देविका के बूब्स को मसलना बंद कर दिया।

एक पल बाद फिर वासना ने मुझे घेर लिया और मैं उसके करीब आने लगा. तभी देविका जाग गयी.
जैसे ही उसकी आंख खुली, मैंने तुरंत अपना हाथ हटा लिया और सोने का नाटक करने लगा.

देविका ने अपना हाथ मेरे लंड से हटा लिया और धीमी आवाज़ में मुझे जगाने लगी।
मैंने अनजान बनने का नाटक किया और देविका से कहा – क्या हुआ?

उसने बहुत धीमी आवाज़ में इशारा किया और बोली- आप कमरे से बाहर आ जाओ.
ये कह कर वो उठी और बालकनी की तरफ चली गयी.

उसके वहां जाते ही मैंने एक बार अपनी बीवी साक्षी की तरफ देखा और मैं भी उठ कर बालकनी की तरफ आ गया.

देविका और मैं बालकनी में आ गये।
देविका बोली- मुझे मालूम है कि तुम मेरे Big Boobs पकड़ रहे थे.

ये सुनकर मैं डर गया, लेकिन मैंने कहा कि मुझे नहीं पता कि ऐसा क्यों हुआ?
वो बोली- क्या मैं तुम्हें पसंद हूँ?

मैंने कहा- नहीं..पागल हो क्या? अगर कुछ हुआ भी होगा तो गलती से हुआ होगा.
देविका- तुम झूठ बोल रहे हो ना? (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

मैं: नहीं, साक्षी गलती से दबा दिया होगा.
देविका- लेकिन तुम्हें पता है कि ये ग़लत था?

में : हाँ जानता हूँ देविका, लेकिन रहने दो। वैसे भी तुम मेरी आधी घरवाली हो… तो इतना तो हक़ हो ही सकता है!
देविका गुस्से में बोली- तो फिर मुझे चोद भी दो… आख़िर तुम्हारा हक़ है ना?

मैं- सॉरी देविका, मेरे कहने का मतलब ये नहीं था.

लेकिन देविका रोने लगी.
अब तो मेरी गांड फट गयी.

मैं उसके करीब आया और उसे चुप कराने लगा.

देविका बोली- सॉरी जीजाजी, इसमें आपकी कोई गलती नहीं है, ये तो मेरी बुरी किस्मत है.
मुझे समझ नहीं आया कि ‘किस्मत ख़राब है’ का क्या मतलब है?

देविका ने आगे कहा कि मेरी एकमात्र समस्या यह है कि मैं सांवली हूं.. इसलिए मेरा कोई बॉयफ्रेंड भी नहीं है। अगर मेरा बॉयफ्रेंड बना भी तो वह सिर्फ मेरे साथ सेक्स करना चाहता था।

कोई भी मुझे प्यार नहीं करता है। हर कोई बस मुझे चोदना चाहता है. कोई भी मेरे साथ लॉयल नहीं रहना चाहता. इतना कह कर वो मुझसे चिपक कर रोने लगी.

मैं उसे सहला कर शांत करने लगा- अरे देविका, तुम इतनी सी बात पर रोओ मत. मैं तुम्हारा एक ऐसा बॉयफ्रेंड बनाऊंगा जो तुम्हें पसंद करता हो… सिर्फ सेक्स करना नहीं चाहता हो।

देविका- जीजाजी, कोई नहीं मानेगा. मैं सावली हूँ!
मैं: चलो एक काम करो. जब तक तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है, मैं तुम्हारा बॉयफ्रेंड रहूँगा… बताओ अब कोई दिक्कत है क्या?

देविका- तो फिर मेरी कामुकता… अगर मैं बहक गई तो दीदी का क्या होगा?
इतना कहकर देविका हंसने लगी. (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

मैं- देविका चलो कुछ काम करते हैं. अगर ऐसी कोई समस्या है तो हम दोनों सेक्स छोड़ कर कुछ और कर लेंगे. बताओ, ये ठीक रहेगा… करोगे? देविका मुस्कुराते हुए- ठीक है.

फिर हम सोने आ गये.

लेकिन कुछ देर बाद ही दोनों की बातचीत हुई.
मैं चुप हो गया तो देविका बोली- जीजाजी, सुनो.. मुझे कुछ हो रहा है।
ये कहते हुए उसने मेरा हाथ पकड़ लिया.

उसके छूने से मुझे भी कुछ कुछ होने लगा; मैंने उसे खींच कर गले से लगा लिया.
देविका भी मेरा साथ देने लगी.

हम दोनों में वासना जागने लगी; यह आग और भूसी के मिलन जैसा था।
हमारे होंठ मिले.

देविका ने मेरे लंड को कस कर पकड़ लिया और मैं उसके बूब्स को मसलने लगा।

तभी देविका मुझसे अलग हुई और घूम कर गहरी सांसें लेने लगी और मुझे सोने के लिए कहा.
जैसे ही मैं मुड़ा तो देखा कि साक्षी जागने लगी है.

फिर मैंने साक्षी को अपनी तरफ खींचा और उसके मम्मे दबाने लगा. जल्द ही मैंने साक्षी का एक बूब्स अपने मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगा। (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

ऐसा करने से साक्षी एकदम से जाग गई और बोली- क्या कर रहे हो यार.. देविका भी है। उसे पता चल जाएगा, कुछ दिन शांत रहो!

मैं रुक गया और साक्षी से चिपक कर सो गया.
देविका ने ये सब सुन लिया था.

फिर सुबह करीब 4 बजे देविका मेरे पास आई और मुझे हिलाकर धीमी आवाज़ में जगाने लगी- जीजू जीजू!
मैं उठा।

देविका- जीजू बालकनी में आ जाओ.
मैं- ठीक है … मैं आ रहा हूं.

देविका बालकनी में आते ही बोली- सॉरी जीजू.. वो दीदी जाग गई थी.. इसलिए मैंने आपको हटा दिया। लेकिन मुझे भी तुमसे कुछ कहना है.

मैं- हाँ कहो!

देविका- जीजाजी. जब से मैंने आपका लंड पकड़ा है मैं पागल हो गयी हूँ. आपका लंड काफी बड़ा है. बस आज मुझे उसे चूसने दो।

मैं उसकी बात सुनकर हैरान रह गया कि कहां तो वो सेक्स के बारे में बात नहीं करना चाहती थी और कहां वो लंड चूसने की बात कर रही थी.

फिर उसने अपने टॉप के बटन खोल दिए, जिससे उसके आधे मम्मे दिखने लगे.
मैं उसके बूब्स को देख ही रहा था कि मेरे लंड ने अपनी ताकत दिखानी शुरू कर दी।

मैंने कहा- मेरी एक शर्त है!
देविका- मुझे सब मंजूर है, लेकिन प्लीज आज मुझे लंड चूसने दो।

मैं- शर्त ये है कि तुम मेरे साथ सेक्स करोगी. वो भी मेरे भाई की सुहागरात वाले दिन… और तुम ये सब कैसे करोगे, ये तुम्हारी समस्या है. मेरे लंड को देखकर जैसे तुम्हारी कामुकता जाग गयी है वैसे ही मैं भी तुम्हारे बूब्स का दीवाना हो गया हूँ.

देविका- अब बोलोगे भी या अपना लंड भी बाहर निकालोगे? मैं सब कुछ करूंगी, बस आज मुझे ये लंड दे दो! मैंने भी अपना लोअर नीचे किया और अपना 6 इंच का लंड बाहर निकाला और देविका के सामने हिलाने लगा.

जैसे ही देविका ने लंड देखा, उसने उसे कस कर पकड़ लिया और झुक कर लंड चूसने लगी.
मैं भी वासना में खोने लगा. (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

देविका मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.
उसे लंड चूसते देख कर साफ लग रहा था कि लड़की खेली खाई है.

कभी वो मेरे लंड के सिरे को उठा कर अपनी जीभ से चाटती तो कभी लंड को अंदर तक भर कर जोर से काट लेती।

मैं चाह कर भी चिल्ला नहीं पा रहा था क्योंकि साक्षी के जाग जाने का खतरा था.
उधर मुझे भी लंड चुसवाने में बहुत अच्छा लग रहा था.

अचानक देविका ने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और जोर-जोर से ऊपर-नीचे करने लगी।
कुछ पल बाद वो उठी और अपनी पैंटी नीचे खींच दी.

मैंने कहा- अभी ये सब करना संभव नहीं है.
परन्तु वह कहाँ मानने वाली थी; उसके चेहरे पर Chut Chudai की भूख साफ़ दिख रही थी.

देविका ने मेरी एक न सुनी और अपनी चूत मेरे सामने खोल दी और चुदाई की पोजीशन में आ गयी.
वो बालकनी की रेलिंग पकड़ कर अपनी गांड हिलाने लगी.

मैंने देखा कि देविका की चूत पकौड़ी की तरह फूली हुई थी।
हां, थोड़ी काली जरूर थी लेकिन एकदम टाइट थी और टपक रही थी.

मैंने भी अपने लंड को चूत की फांकों में रगड़ा और चूत में डालने की कोशिश करने लगा. लेकिन लंड अन्दर नहीं जा पा रहा था. इससे साफ़ था कि उसकी चूत सील पैक थी. (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

मैं देविका को बालकनी के पास दीवार के पास ले गया और उसकी एक टांग उठा कर फिर से उसकी चूत में लंड डालने की कोशिश करने लगा. हम दोनों आमने-सामने खड़े होकर देविका ने मुझे चूमना शुरू कर दिया।

होंठ होंठ से मिले और पता ही नहीं चला कि कब चूत ने लंड को अन्दर ले लिया.

चूत में लंड के प्रवेश करते ही मुझे चरमसुख प्राप्त हुआ और देविका पागल हो गयी। वो आहें भरते हुए कहने लगी- आह्ह चोदो मुझे मेरे प्यारे जीजू … और अन्दर तक पेल दो. वो धीरे धीरे कराह रही थी. (Hindi Sex Stories)

मेरे धक्के बहुत तेज होने लगे.
वो लगातार आह्ह… आह्ह… करते हुए मेरे लंड से चुदवाने लगी.

उसकी Tight Chut में बहुत दर्द हो रहा था इसलिए मैं देविका के होंठों को चूमता रहा ताकि उसकी आवाज कोई सुन न सके. साथ ही मैं उसके बूब्स को भी जोर-जोर से दबा रहा था।

फिर भी दबी आवाज में उसकी कराहें ‘हा होआ आह मां…’ आह…’ कहकर आ रही थी।

उसकी गर्म चूत को चोदने में बहुत मजा आया.
अब देविका भी साथ देने लगी.

साफ़ दिख रहा था कि देविका कई सालों से सेक्स की भूखी थी।

उसे पता ही नहीं चला कि उसकी चूत से खून निकल रहा है.
मैं भी नहीं रुका और चोदता रहा; उसकी चूत को ठोकता रहा.

काफ़ी देर तक चोदने के बाद उसकी चूत से पच पच की आवाज आने लगी, मतलब उसकी चूत ने मलाई छोड़ दी थी।

देविका मुझे अपने नाखूनों से खरोंचने लगी और मुझे कस कर पकड़ कर मेरे होंठों को काटने लगी. मैं भी झड़ने वाला था, मैंने उसे आँखों से इशारा किया और वो समझ गई और बोली- जीजाजी, मुझे लंड का रस पीना है। (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला और देविका ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया. अगले ही पल लंड ने अपना रस छोड़ना शुरू कर दिया. देविका ने सारा माल चाट लिया.

फिर हम दोनों बाथरूम में चले गये.
उधर देविका को पता चल गया कि उसकी चूत से खून भी निकला है.

मेरा लंड पूरा लाल हो गया था.
देविका के काटने से मेरे होंठों से भी खून निकल रहा था.

यह देख कर देविका मेरे होंठों को अपनी जीभ से चाटने लगी और मुझसे लिपट कर बोली- जीजू, आज मैं बहुत खुश हूँ.
वह रो पड़ी।

मैं थोड़ा असमंजस में था कि साली अभी क्यों रो रही है।
लेकिन मुझे लगा कि अब उसे शांत करना ज़रूरी है।

मैंने उसे चुप कराया और अपना लंड साफ किया और बाथरूम से बाहर आ गया और सोचने लगा कि देविका में कितनी हवस है.

जब मैं कमरे में पहुंचा तो देखा कि साक्षी जाग रही थी.
उसने मेरी तरफ देखा और बोली- सेक्स हो गया क्या?

उसके मुँह से ये बात सुनते ही मेरी हालत खराब हो गई. तभी देविका भी आ गयी.
मैं पूरी तरह से ठंडा हो गया था. (Xxx कुंवारी साली चुदाई)

दोस्तो, मैं इस सेक्स कहानी को यहीं खत्म कर रहा हूं. आपके मन में सवाल होंगे कि मेरी पत्नी ने ऐसा क्यों कहा और देविका क्यों रो रही थी. उन सबका जवाब मैं अगली कहानी में लिखूंगा.

मुझे उम्मीद है कि आपको Xxx कुंवारी साली चुदाई पसंद आई होगी.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds