दोस्त की तलाकशुदा पत्नी को पाटकर चोदा: XXX फ़क कहानी भाग 2

दोस्त की तलाकशुदा पत्नी को पाटकर चोदा: XXX फ़क कहानी भाग 2

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “दोस्त की तलाकशुदा पत्नी को पाटकर चोदा: XXX फ़क कहानी भाग 2”। यह कहानी विकास की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

XXX फ़क कहानी में पढ़ें कि एक दिन मैंने अपने पार्टनर की तलाकशुदा पत्नी को लिफ्ट दी और उसे घर छोड़ने गया. उन्होंने मुझे चाय के लिए अन्दर बुलाया. वहां क्या हुआ कहानी में पढ़ें?

नमस्कार दोस्तो, मैं विकास एक बार फिर से आपका अपनी सेक्स कहानी में स्वागत करता हूँ।

सेक्स कहानी के पहले भाग: XXX फ़क स्टोरी में अब तक आपने पढ़ा था कि कैसे सना और कपिल के तलाक के बाद मुझे एक अच्छा मौका मिला कि सना मुझसे दोस्ती करने को तैयार हो गई थी और आज रात मैं उसे चोदने वाला था।

अब आगे XXX फ़क कहानी:

सना मेरे कंधे पर सिर रखकर बैठी थी और मैं धीरे-धीरे उसकी मखमली बांहों को सहला रहा था।

कुछ देर बाद मैंने आगे बढ़ने का सोचा और सना का चमकता हुआ चेहरा अपने हाथों से ऊपर उठाया।
वह अब हर चीज़ के लिए पूरी तरह से तैयार लग रही थी और उसने अपनी आँखें बंद कर ली थीं।

मैं उसके गुलाब जैसे मुलायम होंठों की ओर बढ़ने लगा और जल्द ही अपने होंठों से उसके होंठों को चूमने लगा। सना ने खुद को पूरी तरह से मेरे हवाले कर दिया था. उसने भी मेरा साथ दिया और अपनी जीभ मेरी जीभ से लड़ाने लगी.

मैंने एक हाथ से उसकी कमर पकड़ी और उसे अपने करीब ले आया.
जल्द ही हम दोनों गर्म होने लगे और सना ने अपने दोनों हाथ मेरे सिर पर रख दिये और मेरे बालों को सहलाने लगी.

कभी मैं उसके होंठों को चूमता तो कभी उसकी जीभ को मुँह में डाल कर चूसता.
जल्द ही मेरा एक हाथ उसकी छाती पर चला गया और गाउन के ऊपर से उसके तने हुए स्तनों को सहलाने लगा।

कसम से उसके स्तन इतने सुडौल थे कि उन्हें सहलाने का अलग ही मजा था. कुछ देर तक हम सोफे पर बैठ कर एक दूसरे को चूमते रहे, फिर मैं उसे बेडरूम की ओर ले गया। (XXX फ़क कहानी)

बेडरूम में खड़े होकर हम दोनों ने एक दूसरे को अपनी बांहों में ले लिया और एक दूसरे के होंठों को चूमने लगे.

दोस्तो, अभी तो शुरुआत थी लेकिन मुझे इतना तो समझ आ गया था कि Sana बहुत ही हॉट औरत थी और वो काफी दिनों से किसी मर्द के साथ नहीं रही थी।

वो मुझे पूरी तरह से चिढ़ा रही थी और मैं भी उसके जोश का जवाब अपने जोश से दे रहा था.
जल्द ही मैंने उसका गाउन उठाया और उसके शरीर से अलग कर दिया।

अब वो अंडरवियर पहने हुए मेरी बांहों में थी.
उसका दूधिया बदन किसी कयामत से कम नहीं था.

उसने भी अपने हाथों से मेरे कपड़े उतारना शुरू कर दिया और जल्द ही मैं भी सिर्फ अंडरवियर में रह गया.
अब मेरा मजबूत बालों से भरा शरीर सना के मुलायम और चिकने शरीर से चिपक गया और उसे सहलाने लगा।

मैं अपने दोनों हाथ उसकी पीठ पर ले गया और पीठ से लेकर उसकी Moti Gand तक सहलाया और उसके होंठों, गोरे गालों और उसकी सुराही जैसी गर्दन पर अपने चुम्बनों की बौछार कर दी।

उसके दोनों हाथ ऊपर किये और उसकी कांख को अपनी जीभ से मलाई की तरह चाटने लगा।
फिर मैं उससे अलग हुआ और नीचे झुक कर उसके छोटे छोटे गुलाबी निपल्स को अपने मुँह में ले लिया.

सना उस समय बहुत उत्तेजित हो गई और मेरे सिर को अपने स्तनों पर दबाते हुए कराहने लगी- सीईईई आआह मम्मीई… चूसो इसे… बहुत दिनों से किसी ने नहीं चूसा है।

मैंने कहा- इसका मतलब तुम बहुत दिनों से नहीं चुदी हो.
वो शराब के नशे में बोली- हां, बहुत दिनों से मेरी चूत को लंड नहीं मिला है.

मैं भी उसकी साफ़गोई से उत्तेजित हो गया और उसके एक निप्पल को अपने दांतों से धीरे-धीरे काटने लगा।

‘आउच…उफ़…’

सना भी उत्तेजना से भर गयी और मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ाते हुए मुझे अपनी छाती पर दबाने लगी.
मैंने बहुत देर तक उसके दोनों स्तनों को बहुत बुरी तरह से चूसा और दबाया जिससे उसके दोनों स्तन लाल टमाटर जैसे दिखने लगे। (XXX फ़क कहानी)

अब मैंने सना को बिस्तर पर लेटा दिया और खुद भी बिस्तर पर लेट गया।
मैं सना के पैरों के पास बैठ गया. वो मेरे सामने सिर्फ पैंटी पहने हुए लेटी हुई थी.

उसका चमकता हुआ गोरा बदन मुझे और भी उत्तेजित कर रहा था.

मैंने उसके एक पैर को अपने हाथों में उठाया और उसकी मस्त जांघों तक चूमने लगा।
ऐसे ही मैंने उसकी दोनों जाँघों पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी। (XXX फ़क कहानी)

इसके बाद मैं अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसकी पैंटी उतारने लगा और सना ने भी अपने नितंब उठाकर उसकी पैंटी उतारने में मेरी मदद की.

अब वो पूरी नंगी लेटी हुई थी और पहली बार मैंने उसकी चूत देखी.
उसकी हल्के गेहुंए रंग की चूत, जिस पर बिल्कुल भी जघन बाल नहीं थे, देख कर मेरे लंड ने भी अंडरवियर के अंदर से उसे सलामी दे दी.

जल्द ही मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया और अपनी जीभ से उसकी चूत को चाटने लगा।
पूरे कमरे में सना की कामुक आवाजें ‘सीईईई सीईई…’ गूंजने लगीं।

मैंने उसकी चूत को अपनी दो उंगलियों से फैलाया और अंदर से उसकी चूत को चाटने लगा.
उसकी चूत पानी से भीग गयी थी. मैंने उसकी पैंटी से उसकी चूत को साफ़ किया और काफी देर तक उसकी चूत को चाटता रहा। (XXX फ़क कहानी)

सना ज्यादा देर तक खुद पर काबू नहीं रख पाई और उसका वीर्यपात हो गया.
मैंने उसकी चूत को फिर से पोंछा और अब मैंने अपनी चड्ढी भी उतार दी.

मेरा फनफनाता हुआ लंड आज़ाद होकर सना के सामने था.

सना अभी-अभी झड़ी थी इसलिए मैंने उसे फिर से गर्म करने के लिए उसे अपने ऊपर ले लिया।
उसने बिना किसी शर्म के मेरी छाती को चूमते हुए नीचे हाथ बढ़ा कर मेरे लंड को पकड़ लिया और सहलाने लगी.

शीघ्र ही सना मेरे लंड के पास पहुँची और मेरे लंड को धीरे-धीरे हिलाते हुए मेरे लंड के टोपे को ध्यान से देखने लगी।
अचानक सना ने मेरे सुपारे को मुँह में ले लिया और कुल्फी की तरह चाटने लगी. (XXX फ़क कहानी)

उस वक्त मुझे स्वर्ग जैसा अहसास हो रहा था.
सना पूरे लंड को अपनी जीभ से चाट रही थी.

मैंने अपना हाथ बढ़ाया और उसकी गोरी गांड को सहलाने लगा.
उसने कुछ देर तक मेरा लंड चूसा और मेरे ऊपर लेट गयी.

मैंने उसे अपनी बांहों में लिया और पलटा दिया और उसके ऊपर आ गया. मैंने उसकी दोनों जांघें फैला दीं.
दोनों जाँघें फैलने से उसकी Tight Chut का मुँह भी खुल गया और उसका छेद साफ़ दिखने लगा।

मेरा लंड बिल्कुल उसकी चूत पर सेट हो गया था.
मैंने उसके चेहरे की तरफ देखते हुए अन्दर डालने का इशारा किया.
उसने भी आंखें बंद करके अपनी सहमति दे दी.

अगले ही पल मैंने जोर लगाया और लंड फिसल कर चूत में घुस गया.

सना के मुँह से ‘आआह..’ की प्यारी सी आवाज निकली.
उसने मेरे बड़े लंड को बड़े प्यार से झेला था.

मैं समझ गया कि इसे ज्यादा दर्द नहीं होगा और मैं इसे तेजी से चोद सकता हूँ। मैंने उसे अपने सीने से लगा लिया और सना ने भी मुझे कस कर गले लगा लिया. (XXX फ़क कहानी)

मैंने अपने लंड को तेजी से अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया और जल्द ही अपनी पूरी ताकत से उसे चोदने लगा।
उसकी मादक आवाजें तेजी से कमरे में गूंजने लगीं.

उसकी गर्म सांसें मेरे चेहरे पर पड़ रही थीं.
उसने अपने नाखून मेरी पीठ पर गड़ा दिए.

हम दोनों पूरे जोश में थे और एक दूसरे का साथ देते हुए Chut Chudai का मजा ले रहे थे.

सना अपनी गांड हिला हिला कर चुदाई करवा रही थी और उसकी अदाएं मुझे पागल बना रही थी.

आज बहुत दिनों के बाद मुझे सना जैसी हॉट लड़की चोदने को मिली। सना मेरा हर तरह से पूरा साथ दे रही थी और मैं उसे अपने बदन से लिपटा कर जी भर कर चोद रहा था। (XXX फ़क कहानी)

बीच-बीच में मैं उसके गालों और होंठों को चूम रहा था और वो अपनी जीभ भी निकाल कर मेरे मुँह में डाल रही थी.

करीब पांच मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मैं रुक गया और अपना लंड बाहर निकाल लिया. अब मैं घुटनों के बल बैठ गया और सना को ऊपर आने का इशारा किया.

सना मुस्कुराते हुए उठी और अपने दोनों पैर फैला कर मेरी कमर में फंसा कर मेरे लंड पर बैठ गयी.
उसने एक हाथ से मेरा लंड अपनी चूत में फंसा लिया और झटके लेती हुई बैठी रही.

उसने लंड को अपनी चूत में ले लिया और अपनी बाहें मेरे गले में डाल दीं.
मैंने भी अपने दोनों हाथों से उसके Big Boobs को पकड़ लिया और सना अपनी कमर हिलाते हुए मेरे लंड को अन्दर-बाहर करने लगी।

वो बड़े मजे से अपनी कमर हिलाते हुए चुदाई का मजा ले रही थी.
हम दोनों ने उस पोजीशन में 5 मिनट तक सेक्स किया और फिर सना अलग हो गई.

मैंने उसे फिर से इशारा किया और घोड़ी बनने को कहा.
सना तुरंत घुटनों के बल बैठ गयी और घोड़ी बन गयी.

मैं उसके पीछे घुटनों के बल बैठ गया और पहले अपने हाथों से उसकी गांड को सहलाया और अपने होंठों से उसे चूमना शुरू कर दिया। उसकी गोरी और चिकनी गांड कमाल की लग रही थी.

कुछ देर चूमने के बाद मैंने उसके नितम्बों को अपने दोनों हाथों से फैलाया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।
सना ने भी अपनी गांड हिला कर लंड को ठीक से सैट कर दिया. (XXX फ़क कहानी)

मैंने उसके नितम्बों को कस कर पकड़ लिया और धक्के लगाने लगा।

मेरे धक्कों से उसके नितम्बों में एक अद्भुत लहर पैदा हो रही थी, जो मुझे उसे और तेजी से चोदने के लिए प्रोत्साहित कर रही थी।

जल्द ही मैंने अपनी पूरी ताकत से उसे चोदना शुरू कर दिया.
मेरे धक्कों से उसके नितम्ब जल्दी ही लाल हो गये।

पूरे कमरे में धमाके की आवाज गूंज उठी.
इस बार न तो वो रुकने को तैयार थी और न ही मैं. वह बस चिल्ला रही थी.

‘आह, और तेज़ और तेज़ करो और और तेज़ करो।’

उसे 15 मिनट तक लगातार चोदने के बाद मैं उसके अन्दर ही स्खलित हो गया।
इस बीच सना भी दो बार झड़ चुकी थी. (XXX फ़क कहानी)

हम दोनों का शरीर पसीने से भीग गया था और हम दोनों थक कर लेट गये.
मैंने सिगरेट जलाई और सना भी उसी सिगरेट से पीने लगी.

आधे घंटे बाद हम दोनों फिर से तैयार हो गये और फिर से चुदाई का खेल शुरू हो गया.

इस बार मैंने सना की गांड भी मारी, जो मुझे बहुत अच्छी लगी.
आज मेरे दिल की इच्छा पूरी हो गयी थी, जिसे देख कर मैं आहें भरता था, उसे मैंने चोद लिया।

दो बार चुदाई करने के बाद हम दोनों नंगे ही सो गये.

सुबह जब हम उठे तो 7 बज रहे थे.
उस वक्त हम दोनों ने दोबारा सेक्स किया.

इसके बाद हम दोनों ने अपने-अपने ऑफिस से छुट्टी ले ली.
अगले दिन तक मैं उसके साथ उसके घर पर रुका और हम बीच-बीच में सेक्स करते रहे.

कभी बेडरूम में, कभी सोफे पर, कभी बाथरूम में नहाते समय, तो कभी सना को फर्श पर लिटा कर… मैं उसे चोदता रहा।
ऐसी कोई पोजीशन नहीं बची थी जिसमें हम दोनों ने सेक्स न किया हो. (XXX फ़क कहानी)

उसके बाद मैं अगली सुबह वापस आ गया.
आज भी मेरे दोस्त की पत्नी के साथ मेरा रिश्ता चल रहा है और कभी मेरे घर पर तो कभी उसके घर पर… जब भी मौका मिलता है हम दोनों सेक्स का मजा लेते हैं.

मुझसे मिलने के बाद सना ने अपनी सभी से रिश्ता तोड़ लिया है और अब वह सिर्फ मुझसे ही चुदाई करवाती है।

मैं काम के सिलसिले में एक-दो बार बाहर भी गया, जहां सना भी मेरे साथ गई और हम दोनों एक होटल में रुके और सेक्स का आनंद लिया।

सना के मेरी जिंदगी में आने के बाद मेरी सेक्स लाइफ पूरी तरह से बदल गई।
जिस तरह के सेक्स की मुझे चाहत थी और मुझे Delhi Escorts के पास जाना पड़ता था, वो अब पूरी हो गई है।

सना कभी भी किसी बात के लिए मना नहीं करती और खुल कर चुदवाती है।

मैं भी उसका पूरा ख्याल रखता हूं और उसे किसी चीज की कमी नहीं होने देता.
वह जो कहेगी, मैं ले आऊंगा. हम दोनों एक दूसरे को पाकर बहुत खुश हैं.

आपको मेरे दोस्त की XXX फ़क कहानी कैसी लगी कमेंट्स में जरूर बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds