टीचर ने वर्जिन स्टूडेंट की बुर चुदाई की और उसे रंडी बना दिया

टीचर ने वर्जिन स्टूडेंट की बुर चुदाई की और उसे रंडी बना दिया

नमस्कार पाठको आज की ऋतु जी की कहानी आरव की ज़ुबानी Wildfantasy.in के पाठकों को मेरा नमस्कार मैं आरव फिर से लेकर आ गया हूं आपके लिए एक तड़पती भड़कती कहानी जिसे पढ़कर आप कामवासना से भर जाएंगे।

अब आगे की वर्जिन स्टूडेंट की बुर चुदाई की कहानी:

मेरा नाम Zeeshan Khan है मैं 25 साल का एक जवान हसीन मर्द हूं मैं Delhi का रहने वाला हूं

मैं एक टीचर हूँ और बच्चों के घर जाकर उन्हें ट्यूशन पढ़ाता हूँ.. क्योंकि किसी के घर जाकर पढ़ाने से अच्छा खासा पैसा कमाया जा सकता है।

और दूसरा कभी कभी स्टूडेंट की मम्मी, बुआ, आंटी से भी रिश्ते बन जाते है. खैर अब में आपको एक मजेदार कहानी सुनाऊंगा जो मेरे और मेरी एक स्टूडेंट के साथ हुई एक Virgin student ki bur chudai की कहानी है.

मैंने कभी जिंदगी में भी नहीं सोचा था कि मेरे साथ कभी ऐसा होगा वह भी एक स्टूडेंट के साथ तो खास कर।

यह लगभग 10 महीने पहले हुआ था.. मुझे उस समय एक-पर-एक ट्यूशन पढ़ाने का प्रस्ताव मिला.. मुझे एक लड़की को पढ़ाना था और वह 12वीं कक्षा में अंग्रेजी की छात्रा थी और मैं रुपये देने पर सहमत हुआ। 1200 प्रति माह.. तो मैं उसे पढ़ाने चला गया। रखना। उस लड़की अनन्या की उम्र 18 साल थी और वो बहुत गोरी थी.

उसकी मुस्कुराहट अद्भुत थी… उसके छोटे स्तन, छोटी गांड… लेकिन उसके लंबे बाल उसकी कमर तक पहुँचते थे। वह धीरे-धीरे बड़ी हो रही थी और मैंने उसे केवल 4 महीने तक पढ़ाया।

फिर उसके बाद कुछ पर्सनल प्रॉब्लम की वजह से मैंने उसे पढ़ाना बंद कर दिया.. लेकिन फिर भी उसके पेपर में बहुत अच्छे नंबर आए।

तो इस साल भी मुझे उसे पढ़ाने के लिए बुलाया गया.. कि करीब 5 महीने पहले जुलाई में गर्मियों की छुट्टियों के बाद जब मैंने उसे देखा तो मैं एकदम दंग रह गया.. क्योंकि जिस लड़की को पढ़ाने के लिए मैंने छोड़ा था.. उसके पास ये और था उस वक्त मैंने जो लड़की देखी थी.. कुछ ही महीनों में उसमें बहुत सारे बदलाव आ गए।

उसके मम्मे एकदम बड़े हो गये थे, गांड भारी हो गयी थी, चेहरा जवानी से खिल गया था और अब वो पूरी जवान हो गयी थी. उसका बदन इतना भरा हुआ था कि अगर वो किसी के भी सपने में आ जाये तो उसके लंड से पानी निकल जाये. उसके गाल टमाटर की तरह थे और उसे इस रूप में देखकर कोई भी रोमांचित हो जाएगा।

फिर मैंने उसे पढ़ाना शुरू कर दिया.. इस साल में मैंने उसे पढ़ाने की बजाय खुद ही पढ़ाना शुरू कर दिया और में हर समय उसके बूब्स और शरीर को घूरता रहता था और किसी भी तरह से उसे छूने की कोशिश करता था.. लेकिन मैंने केवल यही प्रयास किया. कई बार मैं उसके गाल सहलाता या उसकी पीठ थपथपाता।

तो एक दिन अनन्या लोअर पहन कर पढ़ने आई और कुछ देर बाद मेरी नज़र साइड से उसके लोअर पर गई.. लोअर थोड़ा नीचे था। लेकिन उसने पैंटी नहीं पहनी हुई थी और मैंने भी सही मौका देखा और उसके लोअर में चार उंगलियां डालकर उसे पकड़ लिया, ताकि मैं उसकी कमर या जांघ को छू सकूं और उसे नीचे खींच लिया और उसने सॉरी सर कहा.

मैंने पूछा कि क्या मैंने अन्दर कुछ नहीं पहना था, जिससे ये नीचे सरक गया. तो उसने शर्म से अपना सिर झुका लिया और अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा लिया और शायद मुस्कुरा दी. तभी मैंने कहा कि इसमें किसी की गलती नहीं है. आपकी त्वचा इतनी मुलायम और मुलायम होती है कि उस पर कपड़े फिसल जाते हैं।

जैसा नाम वैसा ही शरीर और वो मेरी तरफ देखने लगी. तो मैंने उसके चेहरे को सहलाते हुए कहा कि चलो अब अपना सवाल पूछते है.. लेकिन दोस्तों उस दिन उसने बिना सोचे समझे पढ़ा और अगले ही दिन से मुझे उसके व्यवहार में बदलाव नजर आने लगा.

अब वो मेरे करीब बैठने लगी और जब भी कोई आता तो तुरंत खिसक कर दूर बैठ जाती और इन तीन-चार दिनों में मुझे एहसास हुआ कि अगर उसे ठीक से संभाला गया तो वो फंस जाएगी.

फिर मैंने बहुत सोचा कि क्या करूँ? तभी मेरे मन में एक विचार आया और जब में अगले दिन उसे पढ़ाने गया तो मैंने उसकी संस्कृत की किताब में छुपकर एक पतली सी किताब रख दी जिसमें एक लड़के और एक लड़की के सेक्सी सीन थे.. क्योंकि मुझे बहुत अच्छी तरह से पता था कि यह संस्कृत में लिखी हुई है . अगर उसे समझ नहीं आता… तो वह इस किताब को कम पढ़ती है। फिर अगले दिन मैंने उसे पढ़ाना शुरू किया और करीब 20 मिनट तक पढ़ाने के बाद मैंने उससे कहा कि अनन्या आज हम संस्कृत पढ़ेंगे.. तुम अपनी किताब निकालो।

उसने अपनी संस्कृत की किताब निकाली और फिर मैंने कहा कि 7वें पेज खोलो और वह ज्यो ही किताब असली तो असली से वो छोटी सी किताब निकली आई.. वो एकदम चकित हो गई और हदबड़ाकर उसे मिर्ज़ा छुपाने लगी। तो मैंने कहा कि क्या छुपी हुई हो.. क्या अपना बाजार छुपी हुई हो? दिखाओ.. यहां रहो वो कुछ भी नहीं बोली.. लेकिन इसके पहले वो कुछ कर दोस्तों मैंने दोनों किताब उसके हाथ से छीन ली और बिल्कुल सही उसका अंजान फिल्म देखने लगा और मैंने जैसे ही वो किताब देखी तो कहा कि हे भगवान सोम्या तुम अभी से यह किताब देखने लगी हो? तो वो बिल्कुल सही कहा गया और बोली कि नहीं सर वो सर मुझे पता नहीं यह कहां से है? तो मैंने कहा कि सच तो यह है कि यह कहां से हो अन्यथा अभी तो मैंने देखा है.. लेकिन अबफे पापा, माँ को दिखाओगे.. लेकिन वो अब क्या बोलती?

फिर वो अब एकदम उदास बोली कि सच में नहीं पूछा कि ये कहां से मेरे बेग में आई? तो मैंने अपना हाथ आगे बढ़ाया और कहा कि इसे लो रख लो और वापस ले आओ और खुद ही इसे थोड़ा बहुत पढ़ कर चला आया। फिर अगले दिन वो बिल्कुल सही डेरी मेरे पास पढ़ें आई और मैंने उसे थोड़ी देर से लाइक्स का नाटक किया और फिर मैंने पूछा कि वो किताब वापस की या नहीं.. तो वो बोली कि सर में खुद नहीं पूछा कि वो किताब मेरे पास कहानी से ? तो में बोला कि कहा वो किताब लाओ मुझे दो.. में उसे कहीं दूर फ़ास्ट बिस्तर.

वो बोली कि सर वो तो मैंने अंदर छुप कर दी.. में उसे डांटने लगा और कहा कि नालीक जहां ना फंसना हो वहां पर फंसोगी.. लेकर जाओ आओ और वो जल्दी से चले गए और खाली हाथ वापस आई। तो मैंने कहा कि किताब में कहा गया है तो उसने हाथ में डाला हुआ और सलवार में फसी हुई किताब बाहर मुझे दी। तो मैंने कहा कि बहुत अच्छा.. अब तुम छुपने के तरीके सीख गए.. लेकिन वो बहुत उदास दिख रही थी।

फिर मैंने उस किताब को अपनी जेब में कल रख लिया और पूछा कि अब तक तुमने इस किताब का क्या किया? तो वो बिलकुल चुप थी.. मैंने कहा कि मैंने कहा कि ये सही है या नहीं.. सच सच है? तो वो बोली कि हां एक बार जांच थी. तो मैंने पूछा कि क्या देखा था? तो वो बोली कि यूक्रेन के बहुत से संस्थानों की फोटो थी। तो मैंने कहा कि क्या चाहिए वो सारी फोटो? तो वो बोली कि हां और मैंने कहा कि तुम्हें कैसे पता चला कि ये सना है और अब उसके जवाब से बहुत खुशी हुई..

वो बोली कि वो सब पापा, मम्मी चुपकर रात में करते हैं। अब मेरा दांव सही बैठा और मैंने कहा कि ओह तो तुम अब रात में भी जगने लगे हो? तो वो मुझे देखने लगी और वो बोली कि नहीं सर वो एक बार गलती से देखी थी। तो मैंने कहा कि बहुत बढ़िया.. क्या कुछ अच्छा लगा या यूँ ही टाइम पास हो गया? तो वो एसिटेंट शर्मा गया और मेडिकल मेडिकल ले लिया कि अब वो सब देखकर एेक्ट मास्ट होल है और मैंने कहा कि क्या देखा? तो वो बोली कि वो सब कुछ जो उस किताब में था।

फिर मैंने ठीक है कहा और बोला कि क्या किया तो यह सब नहीं? वो बोली कि नहीं सर। मैंने उसके कंधो पर हाथ की शीट में कहा कि देखो, तुम मुझे बताओ कि सब कुछ बिल्कुल सही कर रहा है और घर में किसी को भी कुछ भी पता नहीं चल पाया है। तो वो बोली कि सर मैंने कुछ नहीं किया और फिर मैंने कहा कि ठीक है और वो दिन निकल गया। अगले दो दिन तक उसकी आँखें नहीं निकलीं और तीसरे दिन वहाँ नहीं गया.. वो जब मैं तो बिल्कुल चुप था और मुझसे पूछा कि तुम दो दिन तक क्यों नहीं आये? तो मैंने कहा कि तुम बहुत झूठ बोलती हो इसलिए में नहीं आया।

वो बोली कि सच में सर मैंने तुमसे कोई झूठ नहीं बोला बस एक बात छुपी थी। तो मैंने कहा कि वो क्या? और बोली कि सर इस साल समर के समय में अपनी मौसी यहां पर गई थी। पर साधु ने वहां मैत्री सनाथ बातें की थीं.. यह सब बताया था और कहा था कि अगर तुम रात को जागकर मैडम, पापा को देखो तो ज्यादा सपना आना.. इसलिए मैंने एक बार वो देखा था। फिर मैंने कहा कि वहां पर क्या हुआ.. सच सच बताओ. तो वो बोली कि बहन ने एक लकड़ी का डंडा मेरे साथ डाला था.. तो मैंने कहा हे भगवान आप मेरा क्या करवा रही हो? और दोस्तों ने एक बार मेरी इसमे भी डाली थी.

तो मैंने कहा कि कैसे क्या हुआ? तो वो बोली कि मुझे बहुत ज्यादा जलन हुई थी और खून भी निकला था.. लेकिन मुझे कुछ देर बाद बहुत अच्छा लगा। तो मैंने कहा कि सच सच बताओ यह सब कितना बार किया? और यह काम कब करता था? तो वो अब बिल्कुल सही उत्तर देने लगी और बोली कि रात में हम दोनों एक साथ सॉल्व थे। हमने उस समय यह किया और बस 4 बार किया।

मैंने कहा कि ठीक है चलो जो हुआ सो हुआ.. लेकिन तुम्हारा मज़ा आया कि नहीं? तो वो छोटी सा हँसी और हाँ बोली। तो मैंने अपने पेंट में तन्य लंदन की ओर इशारा करते हुए कहा कि अगर तुम लकड़ी की जगह वहां डालती हो तो कुछ समानता आती है और वो बहुत गौरव से पेंट का उठा हुआ हिस्सा देखने लगी।

फिर मैंने कहा कि जल्दी से इसे पकड़कर देखो कि लकड़ी इससे मोटी है या नहीं और उसने अपना एक हाथ थोड़ा आगे बढ़ाया. तो मैंने खुद ही उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया और बोला कि अब बताओ? तो वो बोली कि ये तो इससे भी पतला है और मैंने उसके हाथ में लंड पकड़कर दो-तीन बार ऊपर नीचे किया और फिर उसका हाथ हटा दिया और मैंने कहा कि क्या तुम इसे देखोगे? तो वो बोली कि अगर कोई आ गया तो क्या होगा? फिर मैंने कहा कि निकाल लूँ.. कोई आएगा तो किताब ऊपर ही रख दूँगा.. फिर तुम देखना.

उसने हाँ में सिर हिलाया और बिना समय बर्बाद किए मैंने ज़िप खोली और किताब ऊपर रख दी और उसे देखने के लिए कहा। तो उसने नीचे झुककर देखा और बोली कि यहाँ तो कुछ भी नहीं है. तो मैंने कहा कि अरे बेवकूफ़ अपने हाथ से तो देखो.. उसने अपना हाथ डालकर मेरा लंड अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया और फिर मैंने कहा कि अब जल्दी से इसे बाहर निकालकर देखो. तो उसने अपना हाथ मेरे अंडरवियर में डाल दिया.. तो उसका मुलायम उंगलियों वाला हाथ मेरे बालों में उलझता हुआ मेरे लंड तक पहुँच गया।

फिर उसने लंड बाहर निकाला और उसे देखकर शरमाते हुए बोला कि यह तो बहुत मोटा और लंबा है.. मैंने कहा कि क्यों अच्छा है? उसने हाँ कहा और फिर मैंने कहा कि अभी अंदर डाल दो और बाकी कल देखना. दोस्तो, मुझे डर लग रहा था.. क्योंकि उसकी माँ कभी भी चाय लेकर आ जाती थी और मेरा प्लान अच्छा चल रहा था। फिर अगले दिन मैंने कहा अनन्या कल तुम्हें कैसा लगा? वह मुड़ी और बोली कि उसे यह पसंद आया और मैंने कहा कि मुझे भी यह पसंद आया.

क्या तुम्हारे हाथ बहुत मुलायम हैं और क्या तुम मुझे पकड़ोगे? तो उसने हाँ में अपना सिर हिलाया और वैसे ही मैंने उसके ऊपर एक किताब रख दी और उससे अपना लिंग बाहर निकालकर सहलाने को कहा. वो किसी अनुभवी इंसान की तरह मेरे लिंग का हस्तमैथुन करने लगी. फिर कुछ देर बाद मैंने उससे कहा कि बस इतना ही. अब रहने दो और जैसे-तैसे मैंने ज़िप लगाकर अपनी पढ़ाई पूरी की.. लेकिन अब मैं लगभग हर दिन उससे हस्तमैथुन करवाता हूँ।

उसकी जाँघों को सहलाते हुए उसके एकदम कसे हुए मम्मों को भी दबाने लगा। मुझे बहुत मजा आता था. फिर एक दिन मैंने उसके मम्मे दबाते समय जब मजे में उसकी दोनों आंखें बंद कर लीं तो मैंने उससे पूछा- अनन्या, कितना अच्छा होता अगर मैं इसमें तुम्हारा भी डाल देता और उसे मजा दे देता.

वो तुरंत बोली कि हाँ सर मुझे बहुत मज़ा आएगा और फिर मैंने पूछा कि आप मुझसे क्या करवाना चाहेंगे?

उसने हाँ कहा.. लेकिन तभी किसी के आने की आहट से हम सामान्य हो गये और अब मुझे लगा कि यह तो लगभग फंस गयी है.. लेकिन अब में इसे कहाँ और कैसे चोदूँगा? और मैं इसी झमेले में लगा रहूंगा.

फिर एक दिन अचानक जब में उसे पढ़ाने गया तो करीब दस मिनट के बाद उसकी माँ आई और बोली कि अनन्या बाज़ार जा रही है और सर के जाने के बाद दरवाज़ा अंदर से ठीक से बंद कर लेना में अभी आती हूँ.

फिर वो चली गई.. तो अनन्या उठी और जाकर दरवाज़ा बंद कर दिया.. तो मैंने उसका एक हाथ पकड़कर खींचा और अपने ऊपर बैठा लिया और उसके दोनों बूब्स दबाने लगा और उसे किस करने लगा तो अनन्या कहने लगी कि तुम बहुत अच्छी हो और वो भी मुझसे कहने लगी और उसकी सांसें तेज हो गयी.

तो मैंने झट से उसे अलग किया और अपना लंड निकालकर उसके हाथ में दे दिया और कहा कि आज देख लो और वो मेरा लंड पकड़कर देखने लगी. तो मैंने उससे किस करने को कहा और उसने किस किया.. मैंने सोचा कि आज एक बार इसे चोद ही लूँ वरना पता नहीं कब वर्जिन लड़की को चोदने का मौका मिलेगा?

तो मैंने उसे सोफे पर लेटा दिया, उसकी लेगिंग्स और पैंटी नीचे खींच दी और उसकी कुंवारी चिकनी चूत देखने के बाद मैं उसे चूमने से खुद को नहीं रोक सका।

जब मैंने उसे चूमा तो वह कराहने लगी और सिसकियाँ लेने लगी। तो मैंने उसकी चूत पर थूका और एक उंगली अन्दर डाल दी और वो जोर-जोर से कराहने लगी।

आह्ह उह्ह माँ सर नहीं सर आह्ह. तो मैंने जल्दी से अपनी उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसके मम्मे भी दबा रहा था. वो कहती रही कि आह्ह सस्स सिसिसिस, ससी सुर्रर्रर्र, वो आह्ह करती रही और मेरा हाथ जोर जोर से पकड़ रही थी.

तो मैंने देखा कि अब उसे मज़ा आने लगा है.. तो मैंने लंड पर बहुत ज़ोर लगाया और लंड को चूत के पास कर दिया. उसकी चूत बहुत गर्म थी और यह बात अच्छी तरह से बता रही थी कि यह मेरे लंड का दर्द नहीं था, सहना एक सपना था.

तो मैंने उसके दोनों हाथों को अपने हाथों से पकड़ा और उसके मुँह को अपने मुँह में ले लिया और फिर पूरी ताकत से एक धक्का लगाया और लिंग को अंदर डाल दिया।

वो मेरी पकड़ से छूट नहीं पाई.. लेकिन उसका मुँह मेरे मुँह से बाहर आ गया और वो ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगी.. प्लीज़ सर इसे बाहर मत निकालो, मुझे मत छोड़ो.. आह हाँ हाँ प्लीज़ मुझे छोड़ दो आह सर प्लीज़ . और रोने लगी.

मैंने फिर से एक बक्कबॉल स्ट्राइक के साथ अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया और वो लगातार चिल्लाती रही. तो मैंने कहा कि बस हो गया डार्लिंग, अब दर्द नहीं होगा. तो उसने वास्तव में कहा कि नहीं अहाघागा, कोई सरप्लस अगाघा नहीं, कृपया बाहर निकालो और वह अपनी कमर उठाने लगी और हिलने लगी। तो मैंने भी अपना दबाव डाला और उसे चोदने लगा, 20-25 धक्को के बाद वो शांत हो गयी।

मैंने जोर से, जोर से, ‘आहा सर, आहाहा’ कहा और देखने लगी. तो मैं भी होश में आया और लगातार स्टॉक का उपयोग करना शुरू कर दिया।

वो अब पूरे जोश में थी और मुझे दिखा रही थी कि मुझे वर्जिन होने का कितना आनंद मिल रहा है.. पूछो मत और उसकी कराहें ‘उहह..’ सुनकर मेरी उत्तेजना और बढ़ गई। मैंने शुरुआती बर्तनों का सामान पहले ही बेच दिया और मैंने चोदना जारी रखा और कॉन्स्टेंटाइन के 20 मिनट बाद मैं झड़ने वाला था.

मैंने झट से लंड बाहर निकाला और एक ही बार में पूरा अंदर डाल दिया. फिर वो एकदम हिलने लगी.. मैंने उसके हाथ में लिंग पकड़ाया और उससे मुठ मरवाई.. 4-6 बार हिलाने के बाद लिंग ने पिचकारी छोड़ दी और मेरा गर्म लावा उसके हाथ पर भी लग गया.

तो मैंने रूमाल से उसका हाथ साफ किया और उसने मेरे हाथ की नोक देखी.. फिर उस पर लिखा और कहा कि तुम बहुत अच्छी हो अनन्या और उसने भी जवाब दिया कि तुम भी बहुत अच्छी हो. फिर कुछ देर बाद हम दोनों ने अलग-अलग कपड़े पहने.. थोड़ा दर्द हुआ।

फिर मैंने उसे अपनी गोद में बिठाया, उसके दोस्त को सहलाया, उसका मामूली दर्द कम किया। फिर कुछ देर बाद वो उसके घर से बाहर आया.. अब उसके बाद जब भी हमें मौका मिलता.. हम सेक्स करते हैं।

मैं तो अब सोच रहा हूं ट्यूशन टीचर की जॉब के साथ-साथ Delhi Escorts Agency में जिग्लो एस्कॉर्ट की जॉब कर ही लू 

तो दोस्तों आपको मेरी Virgin Student Ki Bur Chudai की कहानी कैसी लगी मुझे कमेंट के माध्यम से बताइए ऐसी ही और कहानियां पढ़ने के लिए Wildfantasy.in को सब्सक्राइब करें

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds