बर्थडे के दिन टीचर को चोदा और उसकी हवस की प्यास बुझाई

बर्थडे के दिन टीचर को चोदा और उसकी हवस की प्यास बुझाई

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “बर्थडे के दिन टीचर को चोदा और उसकी हवस की प्यास बुझाई” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

मेरा नाम रमेश है मैंने सोचा कि अपने साथ हुई घटना के बारे में भी आपको बता दूं।

मेरी उम्र 22 साल है और मैं उदयपुर का रहने वाला हूं। मेरा शरीर ठीक है और मेरी हाइट 5 फीट 9 इंच है।

तो आपको ज्यादा बोर न करते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ। ये बात 2 साल पहले की है जब मैं एक स्कूल में पढ़ने जाया करता था।

उस स्कूल में 6 महिला शिक्षक और 2 पुरुष शिक्षक थे। एक मैडम थीं.. जिनका नाम आशिका था।

वह करीब 30 साल की थी और दिखने में खूबसूरत थी। दोस्तो जो भी उसे एक बार देख ले।

तो बस देखता ही रह जाये, वह 5 फीट 5 इंच की एक खूबसूरत महिला थी। उसके बूब्स क्या बताऊँ? क्या मस्त थे और गांड के बारे में.. तो कुछ बोल ही नहीं सकता

आशिका को जब पहली बार देखा था.. वो मुझे बहुत अच्छी लगी थी. लेकिन में बहुत ही शर्मिला था.. तो कुछ बोल नहीं पाया.

जब मुझे स्कूल में 1-2 महीने हो गए.. सब मुझसे खुलकर बात करने लगे। आशिका भी मुझसे सबसे ज्यादा खुलकर बात करती थी।

वह मेरे पास आने की कोशिश करती रही। एक दिन आशिका ने मुझे बताया कि उसका पति उदयपुर के बाहर नौकरी करता है।

और वह दो महीने में एक बार ही घर आता है। आशिका और उनकी एक बेटी दोनों उदयपुर में रहती हैं। उनकी बेटी करीब 7 साल की है।

आशिका हमेशा अपनी हर एक बात मुझसे शेयर करती थी और मुझसे बहुत खुलकर बात करती थी।

एक दिन आशिका ने मुझसे पूछा कि क्या मेरी कोई गर्लफ्रेंड है? में थोड़ा सोच में पड़ गया कि ये क्या पूछ रही है. मैं थोड़ा शर्मीला था।

तो आशिका कहने लगी कि तुम मुझसे क्यों शरमा रहे हो.. फिर मैंने ना में सिर हिलाया.. तो वो हंसने लगी और बोली झूठ मत बोलो।

तो मैंने कहा सच में मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.. तो आशिका बोली तुम इतने अच्छे हो तुम्हे कोई मिली नहीं.. फिर मैंने कहा कि नहीं मुझे ये सब पसंद नहीं है.

एक दिन आशिका ने मुझे घर बुलाया.. उसकी बेटी का जन्मदिन था.. तो स्कूल से सिर्फ मुझे ही बुलाया गया। सो मैं शाम को आशिका के घर चला गया।

घर जाकर देखा तो केवल आशिका और उसकी बेटी और आशिका की बहन ही थी.. तब पता चला कि स्कूल से सिर्फ मुझे ही बुलाया गया था।

हम तीनों ने बर्थडे मनाया.. उस वक्त रात के 9 बज रहे थे। तब आशिका ने कहा कि भोजन करके जाओ।

पहले तो मैंने मना किया, लेकिन बाद में आशिका की जिद पर मैं मान गया।

आशिका की बहन के घर में उसके बेटे की तबीयत बिगड़ी तो उसके पास फोन आया। इसलिए वह करीब 10 बजे बिना खाना खाए निकल गई।

अब हम घर में अकेले थे। फिर करीब 10:45 बजे हमने खाना खाया और खाना खाने से पहले ही आशिका की बेटी सो चुकी थी।

जब हम खाना खा रहे थे तो हमें पता ही नहीं चला कि 11:45 बज चुके थे। रात अधिक होने के कारण घर जाने का कोई साधन नहीं मिल रहा था।

लेकिन मैं वहां रह भी नहीं सकता था.. तो मैंने आशिका को जाने के लिए कहा। तो आशिका ने कहा, ऐसी रात में तुम्हें कुछ भी जाने को नहीं मिलेगा।

आज रात तुम यहीं रुक जाना. मैंने मना किया पर वो नहीं मानी तो मुझे रुकना पड़ा।

फिर खाना खाने के बाद में टीवी देखने लगा और आशिका फ्रेश होने चली गई। मैं टीवी देखता रहा।

तो मैंने देखा कि आशिका नाइटी पहन कर मेरे पास आकर बैठ गई.. क्या बताऊँ?

दोस्तों में तो उसे देखता ही रह गया। आशिका उस नाइटी में क्या लग रही थी?

तो टीवी देखते हुए आशिका ने मुझसे कहा कि उसका पति लगभग 4 महीने से घर नहीं आया है और फिर मुझसे कहा कि क्या तुमने कभी किसी के साथ सेक्स किया है।

मैं बस उसे देखता रह गया, ये क्या पूछ रही है? इससे पहले कि मैं कुछ कह पाता, आशिका ने अपना हाथ मेरी पैंट पर रख दिया.. मुझे थोड़ा डर लग रहा था।

मैंने ऐसा कभी नहीं किया था। वह फिर मुझसे पूछने लगी।

तो मैंने कहा नहीं, तो उसने कहा क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगे? यह सुनकर मैं पागल हो गया।

लेकिन मैंने आशिका से कहा कि नहीं, ये गलत है.. तो वो कहने लगी कि मैंने करीब एक साल से सेक्स नहीं किया है. जब भी उसका पति आता है।

तो वो अपने ही काम में लगे रहते है. मेरे साथ कुछ नहीं करते।

इतना कहकर वो पैंट के ऊपर से मेरे लंड को हाथ में पकड़ कर हिलाने लगी. मैं कहता रहा कि यह गलत है।

मत करो.. लेकिन वो नहीं मानी। फिर आशिका मेरे पास आई और मेरे होठों को चूमने लगी.. अब मैं भी उसका साथ देने लगा।

मुझे भी मज़ा आने लगा। फिर मैंने आशिका के बूब्स को नाइटी के ऊपर से धीरे-धीरे दबाना शुरू कर दिया.

आशिका धीरे-धीरे आवाजें निकालने लगी और सिसकियां देने लगी.. हम्म ऊ ससिस और बोलने लगी और जोर से दबाओ.. आज इसका सारा दूध पी लो।

फिर मैंने आशिका की नाइटी उतारी.. आशिका ने नीचे कुछ भी नहीं पहना हुआ था। मैंने पूछा.. तो वो कहने लगी कि ये तुम्हारे लिए ही कुछ नहीं पहना है.

फिर मैं आशिका के स्तनों पर टूट पड़ा और एक हाथ से उनके स्तनों को दबाने लगा और एक-एक स्तनों को मुँह में लेकर चूसने लगा।

अब शोर मचाने लगी है.. आज इसका सारा दूध पी लो। फिर मैंने अपना एक हाथ आशिका की चूत पर रखा और उनकी चूत को सहलाने लगा.

कहने लगी आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह इसकी सारी खुजली दूर कर दो.. आज से ये तुम्हारी गुलाम है और जोर-जोर से शोर करने लगी।

ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह। फिर मैंने आशिका की चूत पर अपना मुँह लगाया और चाटने लगा.

कितना अच्छा अहसास है। फिर आशिका मुझसे कहने लगी कि रमेश अब और मत सताओ.. अपना लंड मेरी चूत में डाल दो.

फिर मैंने कहा पहले अपने मुँह में चूसो.. फिर मेरा 6.5 इंच लम्बा लंड और 2.5 इंच मोटा लंड देखकर वो बोली.

मेरे पति से मोटी है और चूसने लगी.. क्या बताऊँ? दोस्तों कितना मज़ा आ रहा था.

फिर मैंने अपना लंड आशिका की चूत पर रख दिया और रगड़ने लगा.. आशिका तड़प रही थी. फिर मैंने एक झटका मारा लेकिन लंड अंदर नहीं गया.

क्योंकि आशिका की चूत टाइट थी और आशिका ने कई दिनों से सेक्स भी नहीं किया था और उसका पति का इतना मोटा भी नहीं था.

मैंने फिर से एक झटका मारा.. इस बार लंड का सुपाड़ा पूरा अंदर चला गया और आशिका के मुंह से आवाज आने लगी.. वो चीख पड़ी.

आआह्ह्ह वह दर्द में थी। फिर मैंने एक और झटका दिया और मेरा 6.5 इंच लम्बा लंड पूरी तरह से आशिका की चूत के अंदर चला गया.

वो जोर से चिल्लाई.. करीब 40 मिनट बाद में झड़ने वाला था.

मैंने पूछा कि इसे कहां निकालना है। तो आशिका ने कहा अंदर रहने दो। फिर मैंने उसकी डॉगी स्टाइल में भी चुदाई की।

मैंने आशिका से कहा कि अब मैं तुम्हारी गांड को मारना चाहता हूं .. फिर उसने मना करना शुरू कर दिया

फिर मैंने भी इससे ज्यादा जोर नहीं दिया। उस रात हमने 4 बार सेक्स किया.. उसके बाद हम नंगे ही सो गए।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds