सौतेले बेटे से चुदी जब घर पर कोई नहीं था

सौतेले बेटे से चुदी जब घर पर कोई नहीं था

दोस्तो, मैं आशिका दिल्ली से हूँ आज में आपको बताने जा रही हूँ की कैसे में “सौतेले बेटे से चुदी जब घर पर कोई नहीं था”

मैं दूध जैसी गोरी, काले बाल वाली और 38-28-36 के मस्त फिगर वाली शादीशुदा महिला हूं। मैं इतनी कामुक हूँ कि किसी की भी प्यास जगा सकती हूँ।

मैं आप सभी को अपनी सच्ची सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ। लेकिन पहले मैं आपको अपने और अपने परिवार के सभी सदस्यों के बारे में बताना चाहता हूँ।

मेरे घर में हम चार लोग हैं. मैं, मेरे पति रोहन, मेरी बेटी कृतिका और मेरा बेटा हर्ष. मेरा बेटा हर्ष साढ़े अठारह साल का है और कृतिका 20 साल की है. (सौतेले बेटे से चुदी)

मेरे पति अक्सर काम के सिलसिले में बाहर रहते हैं, जिसके कारण मैं अक्सर अपनी उंगलियों से ही अपनी प्यास बुझाती थी। लेकिन दोस्तो, आप तो जानते ही हैं कि उंगली में वो बात कहां होती है

जो कि लंड से चुदने में है. मगर मैं कर भी क्या सकती थी.? एक दिन की बात है, मैं सुबह-सुबह घर में झाड़ू लगा रही थी। तो मैंने देखा कि मेरा बेटा मुझे बहुत ध्यान से देख रहा था

और अपने लंड को पैंट में हल्के से मसल रहा था. मैंने ध्यान दिया तो देखा कि वो मेरी दूध फैक्ट्री को देख रहा था. मेरी चौड़े गले की नाइटी में मेरे मम्मे आधे से ज्यादा दिख रहे थे.

पहले तो मुझे गुस्सा आया, फिर सोचा कि आख़िर ये भी जवान हो गया है. मैं भी समझती थी कि मुझे देखकर किसका मन नहीं टूटेगा.. चाहे कोई भी हो। मेरी तो चूत में आग ही लग गयी थी.

फिर मैं मुस्कुराई और अपने काम में लग गई और उसे नज़रअंदाज़ करने की कोशिश की। इधर दिक्कत ये थी कि मेरे जिस्म की प्यास भी कई दिनों से नहीं बुझी थी इसलिए मैं उसके लंड को नजरअंदाज नहीं कर पा रही थी.

इस घटना के बाद मैंने उस पर नजर रखनी शुरू कर दी. मैंने पाया कि वह अक्सर मुझे देखता रहता है और मुझे छूने की कोशिश करता है। मैंने भी उससे कुछ नहीं कहा और देखता रहा कि वो क्या करता है … और किस हद तक जाता है.

कुछ दिनों के बाद मैं सुबह किचन में काम कर रही थी. मेरी बेटी कृतिका उन दिनों किसी रिश्तेदार के यहाँ गयी हुई थी. उसी समय हर्ष आया और बोला- मां, मुझे प्यास लगी है.

मैंने कहा- अगर प्यास लगी है तो पानी पी लो.. इसमें मैं क्या करूँ? हर्ष ने साफ़ शब्दों में कहा- मां तुम अपना पिछवाड़ा तो इधर करो. ये सुनकर मैं हैरान रह गई.

दरअसल मैं फ्रिज के पास खड़ी थी. लेकिन मैंने इस बात पर ध्यान नहीं दिया. मैं उससे ऊंची आवाज में बोली – क्या कहा तुमने? इस पर उसने मेरी गांड पकड़ कर साइड में कर दी और फ्रिज से पानी की बोतल लेकर चला गया.

मैं सोचने लगी कि आखिर इसकी इतनी हिम्मत कैसे हो गई कि इसने मेरी गांड को छू लिया. मैंने उसे छूट तो दे दी थी, पर मैं भी क्या करती… जब हर्ष मुझे इस तरह देखता है छूता है तो मुझे अच्छा लगता है।

हालाँकि आज से पहले उसने कभी इतनी हिम्मत नहीं की थी. घर का काम ख़त्म करने के बाद हम दोनों ने खाना खाया. फिर बाजार जाने का प्रोग्राम बना. मैं कुछ कपड़े खरीदना चाहती थी.

मैंने उससे बाजार चलने को कहा, तो वो मान गया. हम दोनों तैयार होकर बाजार के लिए निकल गये. मैंने हरे रंग की साड़ी पहनी थी, जिसका ब्लाउज बहुत गहरे गले का था. (सौतेले बेटे से चुदी)

कुछ दूर चलने के बाद हमने बस पकड़ी। बस में बहुत भीड़ थी. हम दोनों बीच में जाकर खड़े हो गये. हर्ष मेरे पीछे खड़ा था. थोड़ी देर बाद मुझे महसूस हुआ कि हर्ष पीछे से अपनी कमर ऊपर-नीचे कर रहा है।

इससे मुझे उसका लंड महसूस हो रहा था. मैंने उससे कुछ नहीं कहा क्योंकि मुझे भी अच्छा लग रहा था. थोड़ी देर बाद हर्ष ने अपना हाथ मेरी कमर पर रख दिया और मेरी तरफ से कोई विरोध न पाकर उसने अपना हाथ आगे लाकर मेरे पेट पर रख दिया।

Visit Us:-

अगले ही पल वो मेरी नाभि को सहलाने लगा. मैंने सोचा कि अब इसकी हिम्मत बहुत बढ़ती जा रही है, इसे पब्लिक प्लेस में ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए। मैं उसे बताने ही वाली थी कि हमारा स्टॉप आ गया है

और हम दोनों उतर गये. हर्ष ने मेरे हाथ में अपना हाथ रखा और हम चलने लगे. मैंने सोचा कि इतनी तो सामान्य बात है. मैंने बस वाली बात वहीं छोड़ दी, उससे कुछ नहीं कहा.

हर्ष मुझसे बोला- माँ, क्या खरीदना है? मैंने कहा- बेटा, मुझे कुछ नाइटी वगैरह खरीदनी है और कुछ इनरवियर भी खरीदने हैं. हम एक शोरूम में गए और नाइटी पसंद करने लगे.

सेल्समैन मुझे नाइटी दिखा रहा था. हर्ष ने एक नाइटी की तरफ इशारा करते हुए सेल्समैन से कहा- भाई, मुझे ऐसी नाइटी दिखाओ. दरअसल ये हाफ नाइटी थी जो घुटनों से थोड़ा ऊपर तक रहती है.

मैं सेल्समैन को मना करने ही वाली थी कि तभी हर्ष ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मैं कुछ नहीं कह पाई। हर्ष ने खुद काले रंग की हाफ नाइटी पसंद की. मैंने क्रीम रंग की फुल नाइटी चुनी.

मैं उन दोनों को लेकर ट्रायल रूम में गई. पहले मैंने फुल नाइटी पहनी, उसका साइज़ एकदम सही था. उसके बाद मैंने अपने बेटे की पसंदीदा हाफ नाइटी पहनी और खुद को शीशे में देखने लगी.

उस नाइटी में मेरे आधे निपल्स दिख रहे थे और घुटनों के नीचे का पूरा हिस्सा नंगा था. मैं इस तरह की नाइटी पहनना चाहती थी, लेकिन कभी नहीं पहन पाई।

मैंने सोचा कि चलो आज अपने बेटे की पसंद से लेकर अपनी ये इच्छा पूरी कर लूं. मेरे बेटे की इच्छा भी पूरी हो जायेगी. मैंने उस नाइटी में अपने मोबाइल से एक सेल्फी ली.

तभी हर्ष ने बाहर से दरवाजा खटखटाया और बोला- मां, मुझे कुछ और भी पसंद आया है, आप ट्राई करो. मैंने हाथ बढ़ा कर उससे कपड़े ले लिये. मैंने देखा तो वो ब्रा थी.

मैंने दरवाजे की दरार से उससे कहा- बेटा, ये तुम छोड़ दो, मैं खुद देख लूंगी. हर्ष धीरे से बोला- माँ, कितनी बार अन्दर बाहर करोगी. इस बार चुनाव मुझे करने दीजिए. आप बस इसे पहनकर साइज चेक करते रहें।

मैंने कहा- ठीक है बेटा.. लेकिन ये साइज छोटा है. हर्ष बोला- आपका साइज क्या है.. आप बताओ? मैंने उसे अपना साइज 36D बताया और कहा कि ट्राई करने की जरूरत नहीं है, अपनी पसंद से ले लेना. तब तक मैं कपड़े पहन लेता हूं.

थोड़ी देर बाद मैं बाहर आई. सारे कपड़ों का बिल बनाया और हम वहां से निकल आये. हमने घर के लिए बस पकड़ी। भीड़ के कारण हम दोनों फिर वैसे ही खड़े हो गये और हर्ष फिर से अपनी हरकतें करने लगा.

मुझे भी इसमें मजा आने लगा. इस बार उसे मेरे दूध दबाने में भी मजा आया. थोड़ी देर में हम दोनों घर पहुँच गये। तब तक शाम के 7:00 बज चुके थे. मैं रात के खाने का इंतजाम करने लगी. (सौतेले बेटे से चुदी)

हर्ष मेरा मोबाइल चला रहा था, तभी अचानक चिल्लाया- वाह वाह माँ, तुम तो हुस्न की परी लग रही हो। तभी मुझे एहसास हुआ कि वो मेरी नाइटी वाली फोटो देख रहा था. मैंने हंस कर कहा- आख़िर पसंद किसने कि है.

हर्ष रसोई में आया और पीछे से मेरी कमर पकड़ ली. वो बोला- माँ प्लीज़ एक बार मुझे नाइटी पहन कर दिखाओ! मैंने कहा- बेटा, काम बहुत है.. बाद में दिखाऊंगी। थोड़ी देर बाद खाना तैयार हो गया. हम दोनों ने खाना खाया.

तभी हर्ष बोला- माँ, अब मुझे पहन कर दिखाओ! मैंने मुस्कुरा कर कहा- ठीक है बेटा, तुम रुको.. मैं चेंज करके आती हूँ। मैं अपने कमरे में चली गई. थोड़ी देर बाद मैं कपड़े बदल कर कमरे से बाहर निकली तो हर्ष मुझे देखता ही रह गया।

उसके सामने एक खूबसूरत परी पारदर्शी नाइटी और अंदर पारदर्शी ब्रा पैंटी पहने खड़ी थी। हर्ष आह भरते हुए बोला- माँ, तुम तो कयामत की देवी लग रही हो… अगर तुम मेरी माँ नहीं होती तो मैं तुमसे शादी कर लेता और तुम्हें जम कर चोदता.

उनकी खुली बातें सुनकर मेरी आंखों में आंसू आ गये. मैंने भी खुल कर कह दिया- क्यों बेटा शादी के बाद ही चोदोगे… क्या ऐसे नहीं चोद सकते? यह सुनते ही उसे 440 वोल्ट का झटका लगा।

उसने मुझे पकड़ लिया और चूमने लगा. मैं भी उसका पूरा साथ दे रही थी. दस मिनट के बाद हमारी चुम्बन ख़त्म हो गया. हर्ष बोला- माँ, मैं तुम्हें कब से चोदना चाहता था, लेकिन डरता था कि तुम मानोगी या नहीं.

मैंने कहा- बेटा, अगर मुझे नहीं करवाना होता तो मैं तुम्हें बस में ही थप्पड़ मार देती. हर्ष बोला- ठीक है माँ… मतलब तुम सुबह से ही चुदने को तैयार थी… अगर मुझे पहले पता होता तो मैं बाज़ार नहीं जाता… दिन भर तुम्हें चोदता रहता।

मैंने कहा- बेटा अब तो सारी रात चोदना. हर्ष ने मुझे गोद में उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया। वो मेरी चिकनी टांगों को चाटने लगा, चूसने लगा. मुझे ऐसा लगा जैसे वो पैरों पर लगी कोई क्रीम चाट रहा हो.

मेरी चिकनी टांगों को चाटते हुए वो मेरी मुलायम जांघों तक आ गया. मैंने उससे रुकने को कहा और अपनी नाइटी उतार दी और बोली- बेटा, क्या तुम मेरा दूध नहीं पियोगे?

हर्ष बोला- माँ, आज मैं तुम्हारे दोनों चुचो का सारा दूध पी जाऊँगा.. पूरा निचोड़ डालूँगा। अब हर्ष मेरी एक चूची को दबाते हुए पीने लगा. वो ब्रा के ऊपर से ही चूची को काटने लगा.

मैंने खुद ही ब्रा पैंटी खोल दी. हर्ष बोला- माँ, आपकी चूत पर बाल हैं. मैंने अपनी चूत को सहलाते हुए कहा- बेटा, मुझे झांटें साफ़ करने का समय नहीं मिला और वैसे भी बालों वाली चूत का भी अपना ही मज़ा है।

आज इसका मजा लो, बाद में चिकनी चूत का भी मजा लेना. यह सुनकर वह अपने काम में लग गया। मेरा बेटा मेरे निपल्स को ऐसे चूस रहा था जैसे कोई छोटा बच्चा दूध पी रहा हो.

बीच-बीच में वो मेरे मम्मों को काट भी लेता था, जिससे मेरी चीख निकल जाती थी. इस सब में मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने उसके सिर पर हाथ रखा और कहा- बेटा, तुम भी अपने कपड़े उतार दो। (सौतेले बेटे से चुदी)

हर्ष ने एक पल में अपने सारे कपड़े उतार दिए और वो पूरा नंगा हो गया. मैं तो उसके लंड को देखती ही रह गई… कितना मोटा मजबूत लंड था। मुझसे रहा नहीं गया और मैंने झट से उसका लंड अपने मुँह में ले लिया

और अपने बेटे का मोटा लंड चूसने लगी. हर्ष तो मानो सातवें आसमान पर पहुंच गया था. जल्द ही हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गये. हर्ष मेरी चूत चाट रहा था और मैं उसका लंड चूस रही थी.

कुछ मिनट बाद हर्ष बोला- मैं झड़ने वाला हूँ. मैंने कहा- बेटा अपनी मलाई मेरे मुँह में छोड़ दो.. मैं इसे पीना चाहती हूँ और तुम मेरा पानी भी पीना. हम दोनों एक साथ ही झड़ गये और दोनों ने एक दूसरे का रस पी लिया।

हर्ष बोला- ये तो अमृत के समान है.. मैं इसे रोज पीना चाहूँगा। मैंने कहा- बेटा, जब चाहो पी लेना.. अभी घर में कोई नहीं है। हर्ष बोला- माँ, लेकिन दीदी आ जायेगी, फिर कैसे होगा? मैंने कहा- तो फिर देखेंगे.

हर्ष अभी भी मेरी चूत चाट रहा था, जिससे मैं जल्द ही फिर से गर्म हो गयी. मैंने कहा- बेटा हर्ष, अब मुझे मत तड़पाओ … अपना लंड मेरी चूत में डाल दो … मुझे चोदो और मादरचोद बन जाओ.

हर्ष ने बिना देर किये अपना लंड मेरी चूत पर सेट किया और एक धक्का दे दिया. मेरी चूत गीली थी, जिससे उसका आधा लंड अन्दर चला गया. मैं चिल्लाई- अरे बेटा, आराम से हर्ष बोला- माँ, तुम तो पापा से इतनी बार चुदवा चुकी हो

फिर तुम्हें दर्द क्यों हो रहा है? मैंने कहा- बेटा, तुम्हारे पापा काफी दिनों से यहां नहीं आए हैं. …और तुम्हारा लंड तो तुम्हारे पापा से भी ज्यादा मोटा है. थोड़ा रुकने के बाद उसने एक और धक्का लगाया और अपना पूरा लंड मेरे अन्दर डाल दिया. मैं दर्द से मरी जा रही थी.

हर्ष मेरे ऊपर चढ़ गया और धीरे-धीरे अपना लंड पेल रहा था, मैं नीचे कराह रही थी- आह आह उई माँ… आह अह्ह्ह्ह… मर गई आह अह्ह… उह… मैं मर गई… मार डाला हरामी।

थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कम हो गया और मुझे भी मजा आने लगा. मैं नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर हर्ष का साथ देने लगी. मैं बड़बड़ा रही थी- आह चोद बेटा… और जोर से चोद… बना दे मेरी चूत को भोसड़ा।

मुझे अपनी रंडी बना लो. हर्ष बोला- आज मैं तुझे अपनी रंडी बना कर ही छोड़ूंगा.. तुझे इतना चोदूंगा.. इतना चोदूंगा कि तू मेरे बाप से चुदना भूल जाएगी. हर्ष की साँसें तेज़ चल रही थीं तो मैंने हर्ष को रुकने का इशारा किया।

जब वह रुका तो मैंने हर्ष को नीचे लिटाया और उसके ऊपर आ गई। मैंने उसके लंड को अपनी चूत में सैट किया और लंड पर बैठ गयी. मुझे बहुत राहत मिल रही थी. फिर मैं अपनी गांड अपने बेटे के लंड पर उछाल-उछाल कर चोदने लगी.

इस दौरान मेरे चुचे गजब के उछल रहे थे, जिन्हें हर्ष पकड़कर चूसने की कोशिश कर रहा था। करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद मैं झड़ गई और शांत हो गई. हर्ष अभी तक नहीं झड़ा था. (सौतेले बेटे से चुदी)

उसने मुझे फिर से लिटा दिया और अपना काम शुरू कर दिया. थोड़ी देर में हर्ष बोला- माँ, मैं भी झड़ने वाला हूँ.. अपना पानी कहाँ निकालूँ? मैंने गांड उठाते हुए कहा- बेटा, अपना पानी अन्दर ही छोड़ दो.. मैं इसे महसूस करना चाहती हूँ।

यह सुनकर हर्ष ने कुछ जोरदार धक्के लगाए और इसके साथ ही उसने अपना पानी भी मेरी चूत में छोड़ दिया. वो मेरे ऊपर लेट गया. हम दोनों बहुत थक गये थे. एक तो बाज़ार की थकान, फिर सेक्स किया. हमें पता ही नहीं चला कि हम कब सो गये.

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds