ससुर ने जमकर चोदा और मेरी चूत का सारा पानी निकल दिया

ससुर ने जमकर चोदा और मेरी चूत का सारा पानी निकल दिया

दोस्तो, मेरा नाम आशिका है. आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मुझे “ससुर ने जमकर चोदा और मेरी चूत का सारा पानी निकल दिया”

हमारे परिवार में 4 सदस्य हैं। मैं, मेरे पति, मेरी सास और मेरे ससुर। मेरी उम्र 23 साल है, मेरे पति रमेश 25 साल के हैं, मेरी सास कृतिका 44 साल की हैं और मेरे ससुर मनीष 46 साल के हैं।

मेरी शादी बैंगलोर में हुई थी. मैं अपने बारे में बता दूँ कि मैं बहुत मस्त और सेक्सी शरीर की मालकिन हूँ। मुझे देख कर बूढ़ों का भी लंड खड़ा हो जाता है और मेरी मटकती गांड देख कर आहें भरने लगते हैं.

यह कहानी 6 महीने पहले की है जब मैं प्रेग्नेंट थी और मेरा नौवां महीना चल रहा था, जो कि आखिरी महीना होता है। प्रेग्नेंसी के वक्त मैं घाघरा लुंगड़ी पहनती थी। यह पोशाक अक्सर हमारे इलाके के गांवों में पहनी जाती है।

मेरी सास एक गृहिणी थीं, मेरे ससुर एक डॉक्टर थे जो गाँव के एकमात्र अस्पताल में काम करते थे। मैं वहीं हॉस्पिटल में अपना चेकअप कराती थी और मेरे पापा मेरा चेकअप करते थे.

उस दिन चेकअप के बाद पापा ने हमें इसी हफ्ते डिलीवरी का समय बताया. चेकअप के दूसरे दिन जब सब लोग खाना खा रहे थे, तब मां ने बताया कि मुंबई में उनकी एक सहेली है.

जिसके लड़के की शादी है, इसलिए वह आज ही जा रही हैं. इस पर पिता ने कहा- अकेले कैसे जाओगी, रमेश को भी साथ ले जाओ। मम्मी मान गईं. शाम को ही दोनों चले गये.

अब घर पर मैं और मेरे ससुर ही बचे थे. 15 तारीख को शाम को जब पिता घर आए तो उन्होंने कहा कि 16 तारीख को अस्पताल की छुट्टी है, वह कल घर पर ही रहेंगे। मैंने कहा- ठीक है.

हम दोनों ने खाना खाया और सोने चले गये. मैं सुबह उठी और चाय बनाकर अपने ससुर के पास उनके कमरे में चाय लेकर गयी और जगाकर उन्हें चाय देखकर वापस आ गयी और खाना बनाने लगी.

कुछ देर बाद ससुर जी उठ कर आये. वह नहा चुके थे. जब उसने आकर देखा कि मैं खाना बना रही हूँ तो उसने कहा कि लाओ मैं तुम्हारी मदद कर दूँगा।

मैंने कहा नहीं पापा मैं कर लूंगी. तुम वहीं बैठो, मैं खाना लेकर आती हूँ. मैं खाना लेकर जा रही थी, अचानक मुझे चक्कर आया, मैं दीवार के सहारे गिरी और बेहोश हो गई.

जब मेरी आँख खुली तो मैं अपने शयनकक्ष में थी। शायद पापा मुझे उठा कर लाए थे. पापा भी वहीं खड़े थे. पापा बोले- बेटी, तुम ठीक तो हो? क्या आपको कहीं चोट लगी है?

उस समय मेरी कमर में दर्द हो रहा था. तो मैंने कहा कि पापा मेरी कमर में बहुत दर्द हो रहा है, मैं हिल भी नहीं सकती हूँ.. मेरी डिलीवरी का समय भी नजदीक है, मुझे क्या करना चाहिए?

पापा बोले- चिंता मत करो.. मैं हूँ ना.. मेरे पास एक तेल है, जो बहुत असरदार है। उससे सब ठीक हो जायेगा. तभी पापा वो तेल लेकर आये और बोले- ये लो बहू, ये तेल लगाओ.

जैसे ही मैं तेल लेकर उठने को हुई तो मुझसे चला भी नहीं जा रहा था. मैंने कहा- पापा, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, मुझसे नहीं होगा. इतने में पापा बोले- ठीक है लाओ, मैं लगा दूंगा.. चिंता मत करो.

मैंने कुछ देर सोचा और कहा- ठीक है पापा, अब लगा दो, बहुत दर्द हो रहा है। पापा बोले- तुम लुंगड़ी को साइड में कर लो, तेल लगाने में आसानी होगी.

मैंने वैसा ही किया, पापा ने जैसे ही मेरी कमर पर तेल डाला.. तेल बहुत गरम लगा.. शायद वो तेल ही था। मुझे लगा कि ये कोई आयुर्वेदिक तेल है, जिससे मुझे गर्मी लग रही थी.

पापा मेरी कमर पर बूंद-बूंद करके तेल डाल रहे थे, तो कुछ तेल मेरे पेट पर भी आ रहा था. यह कमर से थोड़ा पीछे की ओर जा रहा था।

मुझे चक्कर आ रहा था और मेरा शरीर कांप रहा था… क्योंकि मेरे पापा पहली बार मुझे छूने वाले थे। फिर पापा ने बिना देर किये एक हाथ मेरे पेट पर और दूसरा हाथ मेरी कमर पर रख दिया.

और मेरे शरीर को सहलाने लगे. मुझे बहुत अजीब लग रहा था, लेकिन अच्छा भी लग रहा था. उसका मजबूत हाथ मेरे पेट और कमर पर चल रहा था. पापा धीरे धीरे मालिश करने लगे. मेरी आँखें बंद थीं.

कुछ देर बाद पापा बोले- बहू, अपनी स्कर्ट नीचे कर लो, मुझे तेल लगाने में दिक्कत हो रही है. जब मैंने घाघरा नीचे सरकाना शुरू किया तो वो नीचे नहीं सरक रहा था.. शायद नाड़ा टाइट था।

पापा मेरी परेशानी समझ गए और नाड़ा भी उनकी तरफ था इसलिए बिना देर किए पापा ने नाड़ा खोला और थोड़ा नीचे सरका दिया. मुझे शर्म आ रही थी, लेकिन मेरे पापा के लिए ऐसा कुछ नहीं था.

क्योंकि ये उनका रोज़ का काम था। पापा ने मेरी स्कर्ट को सिर्फ इतना ही सरकाया था, जहाँ से सामने से मेरे कूल्हे और मेरी जाँघों की नाली दिखाई दे रही थी।

तभी मुझे अचानक याद आया कि आज मैंने पैंटी तो पहनी ही नहीं है. यह याद आते ही मुझे ग्लानि होने लगी. मैं सोचने लगी लेकिन अब कर भी क्या सकती थी.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

पापा मेरी गांड की मालिश करने लगे और हाथ फेरते हुए बोले- तुम्हारे बाल इतने बड़े कैसे हैं, साफ-सफाई नहीं करती हो क्या… प्रेग्नेंसी में ख्याल रखना चाहिए… इन सब चीजों का रिएक्शन भी हो सकता है.

पापा की बात सुनकर मैं डर गई और बोली – मेरा हाथ वहां तक नहीं पहुंचता.. और दिखता भी नहीं है.. इसलिए मैं इसे साफ नहीं कर सकी.. सॉरी पापा.

पापा बोले- सॉरी से कुछ नहीं होगा… इसे साफ करना पड़ेगा क्योंकि अगर आज तुमने इसे साफ नहीं किया तो कल हॉस्पिटल में कोई और तुम्हारे बाल साफ कर देगा… और हो सकता है कि तुम्हारे बाल भी साफ हो जाएं.

सारे स्टाफ के सामने सफाई की… और ये भी हो सकता है कि ये सब मुझे ही साफ करना पड़े, क्योंकि उस वक्त कोई नहीं सोचता कि ये गंदगी किसकी है.

यह सुनकर मेरे मन में डर भर गया कि अब क्या होगा, क्या करूं… क्या न करूं! तभी मेरे मुँह से अचानक निकल गया कि कल हॉस्पिटल में साफ करोगे.. इससे अच्छा है कि आज ही यहीं साफ कर लो.

पापा तैयार बैठे थे, मेरे इतना कहते ही उन्होंने हाँ कह दी और बोले- ठीक है बहू, मैं अभी तुम्हारे बाल साफ़ कर देता हूँ। ये सब बातें सोच कर ही मुझे चक्कर आने लगा, मेरी चूत से पानी टपकने लगा.. मैं कांपने लगी।

पापा बोले- बाल हटाने वाली क्रीम कहाँ है? मैंने कहा- बाथरूम में है. पापा बाथरूम से क्रीम लेकर आए और बोले- तुम तैयार हो ना? मैंने कहा- मैं तैयार हूं पापा.. अब क्या हो सकता है, मां भी नहीं हैं.. अब तो आपको ही करना होगा।

पापा बोले- तुम अपना घाघरा उतार दो, नहीं तो ये खराब हो जायेगा. मैंने भी कुछ नहीं सोचा और उसे अपने पैरों के सहारे नीचे उतार दिया। मैं अपने ससुर के सामने नंगी हो गयी.

ऊपर ब्लाउज में थी. मैंने देखा कि मेरे सेक्सी बदन को देखकर पापा का लंड खड़ा हो गया था और मेरी चूत से भी पानी टपक रहा था. मेरी चूत कांप रही थी.

पापा ने मेरी टांगें पकड़ लीं और उन्हें घुटनों से मोड़कर चौड़ा कर दिया.. जिससे मेरी चूत की फांकें खुल गईं। पापा को मेरी चूत से टपकता हुआ पानी दिखने लगा.

जैसे-जैसे पापा मेरे करीब आ रहे थे, मेरी चूत उतना ही पानी छोड़ रही थी और उतनी ही हलचल कर रही थी। पापा मेरी झांटें साफ़ करेंगे ये सोच कर ही मेरा पानी निकल रहा था… हे भगवान.

इतने में पापा ने धीरे से अपना हाथ मेरी चूत पर रख दिया. जैसे ही पापा ने मेरी चूत पर अपना हाथ रखा तो मेरे बदन में आग लग गयी. मेरे मुँह से आह निकल गई… और मैंने अपनी गांड ऊपर उठा दी.

पापा धीरे धीरे मेरी चूत को सहलाने लगे. मेरी चूत के बाल मेरी चूत के पानी से गीले हो गये थे। पापा भी समझ गए थे कि ये बाल गीले क्यों हैं.

लेकिन वो मुझसे पूछने लगे- क्या हुआ बहू.. तुम्हारी योनि इतनी गीली क्यों है? लेकिन मैं कुछ नहीं बोली.. चुपचाप आँखें बंद करके लेटी रही।

पापा लगातार मेरी चूत को मसल रहे थे.. मैं कुछ नहीं बोल रही थी। मैंने अपने दोनों हाथों से बिस्तर पकड़ रखा था, मेरा शरीर अकड़ने लगा था, मेरा पानी इतना ज्यादा निकल रहा था कि बिस्तर पर टपकने लगा था।

फिर पापा ने क्रीम निकाली और मेरी चूत पर लगा दी और थोड़ी देर के लिए ऐसे ही छोड़ दिया. करीब 10 मिनट बाद चूत को कपड़े से साफ किया.

इस बीच मैं इतनी गरम हो गयी थी अभी पापा का लंड पकड़ लूं और चुदवा लूं। पापा बोले- अब ये साफ हो गया है, इसे गर्म पानी से और साफ कर दूं. जिससे सारी गंदगी साफ हो जाएगी. मैंने हां में सिर हिलाया.

पापा गरम पानी लेकर आये और मेरी चूत साफ़ करने लगे. मेरी हालत इतनी खराब हो रही थी कि क्या बताऊं. दोस्तो, जो लड़कियाँ हैं, वो समझ सकती हैं।

अभी मैं किसी भी हालत में अपने पापा से चुदाई करवाना चाहती थी. इसलिए मैंने अपना दिमाग लगाया और अपने पिता से मेरे लिए एक और काम करने के लिए कहा।

मेरे बगल के बाल भी साफ कर दो, वो भी बड़े हो गये हैं. पापा बोले- ठीक है बहू… अब मैं ये भी करूंगा, तुम अपना ब्लाउज उतारो.

मुझे इसकी प्रतीक्षा थी। मैंने झट से अपना ब्लाउज उतार दिया. मेरे दोनों आम पापा के सामने आ गये. पापा के मुँह में भी पानी आ गया.

उसने मेरे बगल के बालों को भी क्रीम लगाकर साफ किया और गीले कपड़े से साफ कर दिया.

अब शायद पापा से भी कंट्रोल नहीं हो रहा था तो पापा बोले- बहू, तू अभी तक नहाई भी नहीं.. तो मैं तेरे पूरे बदन पर एक गीला कपड़ा डाल देता हूँ।

मैंने भी हाँ में सिर हिलाया. पापा मेरे शरीर पर गीला कपड़ा रगड़ने लगे. उसने कपड़ा मेरी गर्दन पर डाल कर मेरे मम्मों पर गोल-गोल घुमाया तो मेरे मुँह से भी आह निकलने लगी।

पापा भी सब समझ रहे थे. वह मेरे पेट पर आ गए और धीरे-धीरे मेरी कमर के नीचे मेरे पूरे शरीर पर घुमाने लगा। मैं मस्ती में आह… आह करने लगी.

चूँकि मेरा पेट फूला हुआ था इसलिए मेरी चूत में लंड नहीं था इसलिए बड़ा लग रहा था. मैं आंखें बंद करके रो रही थी.

इतनी देर में पता नहीं पापा ने कब अपने कपड़े उतार दिए, मुझे पता ही नहीं चला. उसने अपना लंड मेरे हाथ में दे दिया. उसका लंड इतना गरम और लम्बा था, इसका मुझे एहसास हुआ.

मैंने भी नाटक करते हुए ससुर को धक्का दिया और बोली- आप क्या कह रहे हैं पापा… मैं आपकी बहू हूं. पापा बोले- ज्यादा नाटक मत करो.. मैं सब समझता हूँ।

इतने में पापा ने एक ही झटके में अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे.

मैं भी अपने ससुर का साथ देने लगी. मेरा एक हाथ मेरी चूत पर था. पापा ने अपना लंड मेरे मुँह से निकाला और टांगों के बीच बैठ कर मेरी चूत पर लंड से रगड़ने लगे.

मैंने पापा से कहा- अब मुझे मत तड़पाओ … पापा मुझे जल्दी से चोदो. ससुर ने जैसे ही यह सुना तो उन्होंने जोर जोर से लंड को चूत में पेलना शुरू कर दिया.

पांच-छह धक्कों में ही मेरा सारा पानी निकल गया. मैंने पापा को कस कर पकड़ लिया और मेरे मुँह से आह आह की आवाज निकलने लगी.

पापा मुझे लगातार चोदते रहे और मैं आह आह आह आह आह की आवाजें निकालती रही.

मैं अपने ससुर से कह रही थी- पापा, मुझे और जोर से चोदो… आह चोदो मुझे, चोदो मुझे… ओह ओह माय गॉड, हाय माँ मर गई… इतने दिन हो गए हैं अन्दर गए हुए।

पापा तो असली चोदू निकले, उन्होंने मुझे बहुत देर तक चोदा और अपना रस मेरी चूत में छोड़ दिया।

अगले ही दिन मेरी डिलीवरी हो गई. मेरा एक लड़का हुआ था. 19 तारीख को मेरी सास और पति घर आये.

डिलीवरी के दो महीने बाद से मैंने और मेरे ससुर ने खूब सेक्स किया।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds