ससुर बहु सेक्स स्टोरी – मेरे ससुर मेरी गांड चुप-चुप कर देखते थे

ससुर बहु सेक्स स्टोरी – मेरे ससुर मेरी गांड चुप-चुप कर देखते थे

हेलो दोस्तों मेरा नाम कल्पना है। मेरी उम्र 30 साल है। मेरी शादी 4 साल पहले ही हुई है। मेरा फिगर 36-32-38 है। मुझे शादी से पहले सेक्स का भरपूर आनंद मिला है। जिसकी शुरुआत मेरे ही मामा ने की थी। तब से मैंने चुदाई का कोई मौका नहीं छोड़ा। मेरे पति काफी हैंडसम हैं।

जिन्हें देखते ही मैंने शादी के लिए हां कह दिया। शादी के बाद मेरे पति ने मुझे सेक्स में भी खुश किया। पापा जी का अपना छोटा सा बिजनेस है। जिसे अब मेरे पति संभाल रहे हैं। मेरी सास जो स्कूल में प्रिंसिपल हैं। यह कहानी पापा जी और मेरे बीच घटी एक सच्ची घटना है।

मेरी पिछली कहानी – दामाद सास सेक्स स्टोरी

शादी के बाद सब ठीक था। मैंने अपने पिता को कई बार अपने स्तनों को घूरते हुए देखा था। मैं घर पर हमेशा सूट या साड़ी ही पहनती थी। मैं जब साड़ी पहनती थी तो पापा की नजर मेरी कमर पर रहती थी। पापा जी जिनकी उम्र 58 साल है। यह दिखने में साधारण है। सुडौल शरीर, सिर के आधे बाल गायब हो गए हैं।

पापा सीधे दिखते हैं लेकिन है नहीं। शादी के पहले ही साल पति ने मुझे प्रेग्नेंट कर दिया। मेरे सास-ससुर मेरा बहुत ख्याल रखते थे। मेरे पापा ज्यादातर मुझे डॉक्टर के पास ले जाते थे। पति काम में व्यस्त थे या शहर से बाहर थे। जब मेरे पापा मुझे डॉक्टर के पास ले जाते थे। फिर वो मुझे हमेशा गोल गप्पे खिलाते थे जो मुझे सबसे ज्यादा पसंद हैं।

कई बार वह कार में गियर बदलते समय अपना हाथ मेरी जांघ पर रख देते थे। मैं पापा की मंशा समझ गयी थी। क्योंकि मैंने ऐसे कई मर्दों के साथ सेक्स किया था. शीघ्र ही वह समय भी आ गया। जब मैंने एक सुंदर पुत्र को जन्म दिया। घर में सब बहुत खुश थे।

शादी के बाद मामा के साथ ही संबंध बनाए। वो भी तब जब मैं अपनी मां के साथ गांव जाया करती थी. बच्चा होने के बाद मैं हमेशा उसकी देखभाल में लगी रहती थी। वह रात में भी रोता रहता था। जिसकी वजह से मैं और पति ज्यादा सेक्स नहीं कर पाते थे. पापा जी हमेशा मेरे दूध को घूरते रहते थे।

मैं हमेशा ढीले कपड़े पहनती थी। ताकि मैं बेटे को आसानी से दूध पिला सकूं। मेरा झूलता हुआ दूध पापा के लंड को खड़ा कर देता था. कई बार पापा तभी कमरे में आ जाते थे। जब मैं बेटे को दूध पिलाती थी। सच कहूं तो पापा को इस तरह देखकर मेरी चूत गीली हो जाती थी. मेरी चूत की तड़प भी बढ़ती जा रही थी.

पति से भी पूरी चुदाई नहीं कर पाती थी। मैं और मेरे पिता आधे दिन अकेले रहते थे। मेरे लिए अपने पिता को प्रभावित करना आसान था। पापा तो पहले से ही मेरे दीवाने थे। लेकिन शर्म के मारे वे कुछ नहीं कर सके।

मैं चाहती थी कि सेक्स की पहल मेरे ससुर करें। इसलिए मैंने उन्हें और प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। अगले दिन जब पति और मां काम पर गए। फिर मैंने अपनी ब्रा उतारी और ब्लाउज पहन लिया।

मैंने हरे रंग की साड़ी और ब्लाउज पहना हुआ था। बच्चा होने के बाद मेरा पेट कुछ निकल आया था। जब मैं ब्रा नहीं पहनती थी तो मेरा दूध निकलने से मेरा ब्लाउज भीग जाता था।

पापा टीवी देख रहे थे। इसलिए मैंने उसके लिए नाश्ता लिया। मेरा पेट पूरा खुला हुआ था और जो दूध निकल रहा था वह मेरे ब्लाउज को गीला कर रहा था।

(अगर आप भी ऐसे सेक्स का मजा लेना चाहते हैं तो Escort Services in Delhi से लड़कियों को बुक करके अपने अंदर की वासना को पूरा कर सकते हैं)

Escorts Services in Delhi

ऐसा नजारा किसी के भी रोंगटे खड़े कर सकता है। जब सामने नाश्ता रख रही थी। तभी पापा की नजर मेरे ब्लाउज पर पड़ी जिसमें से मेरे क्लीवेज और मेरा गीला ब्लाउज नजर आ रहा था.

पापा ने होठों पर जीभ फेरी और नाश्ता करने लगे। मैं सामने बैठ गयीऔर चाय पीने लगी। पापा की नजर मेरे दूध पर थी और वो मेरे सामने बार-बार अपने लंड को सहला रहे थे.

ससुर – तुम्हारा पेट मल्टीपल प्रेग्नेंसी के बाद बाहर निकल आया है। आप अपनी सास के साथ घूमने जाओ।

मैं – पापा मैं भी यही सोच रही हूँ 

ससुर – बहू, तुम मोटी नहीं हो, प्रेग्नेंसी के बाद तुम्हारी सास भी काफी मोटी हो गई थीं.

तभी मेरे बेटे के रोने की आवाज आने लगी।

ससुर – बहू का लड्डू उग आया है, इधर ले आओ।

मैं – पापा थोड़ी देर में बस लेकर आती हूँ।

मैं अपने कमरे में आ गयी। मैंने अपना ब्लाउज खोला। मेरे दोनों निप्पल बाहर आ गए। मुझे पता था कि पापा मेरे कमरे में जरूर आएंगे। इसलिए मैंने अपना ब्लाउज खोल दिया था।

मैंने दरवाजा भी पूरी तरह से बंद नहीं किया। मैंने अपने बेटे को दूध पिलाना शुरू किया। थोड़ी देर बाद मैंने गेट की तरफ देखा तो पापा वहीं से मुझे देख रहे थे। पापा जी का हाथ उनके लंड पर था.

वो मुझे देखते हुए अपने लंड को सहला रहे थे. तड़प बढ़ाने के लिए मैंने अपना एक हाथ अपनी साड़ी के अंदर डाला और अपनी चूत को मसलने लगी, कुछ ही समय में, कुछ देर में वे वहाँ से चले गए थे।

मैंने कई दिनों तक अपने पिता को अपने शरीर की गर्मी दिखाई। कभी अपना दूध दिखाती है तो कभी अपनी गांड…

एक दिन सुबह पति और मां काम पर गए हुए थे। फिर बहुत तेज बारिश हुई। मैं जल्दी से ऊपर भागी और अपने फैले हुए कपड़े उतारने लगा। कपड़े उतारते समय मैं बहुत भीग गया।

इसलिए मैं बारिश में नहाने लगी। मैंने पीली साड़ी और ब्लाउज पहन रखा था। जो भीगने के कारण पारदर्शी हो गया था। ब्लाउज में मेरा दूध साफ दिख रहा था. मैंने उस दिन पैंटी भी नहीं पहनी थी। तभी मेरी गांड साड़ी में से साफ नजर आ रही थी. मैंने सोचा कि काश पापा भी यहां आ जाते।

कुछ देर बारिश में नहाने के बाद मैं सीढ़ियों के पास खड़ी हो गयी। मैंने अपनी साड़ी उतारी और अपने कमरे में आ गयी । कमरे में घुसते ही मेरी नजर पापा पर पड़ी।

पापा जी मेरे बेटे के साथ खेल रहे थे। पापा ने जैसे ही मुझे देखा वो मुझे देखते रहे। उसकी आंखें मुझे ऊपर से नीचे तक चोद रही थीं। जैसे ही मैं अपने बाथरूम जाने लगी।

पिता ने कहा – बहू तुम बिलकुल भीगी हो, मैं तुम्हें एक तौलिया दूँगा! पहले पानी पोंछ लें फिर बाथरूम जा।

Aslo Read –

Hindi Sexy Videos

पापा मेरे लिए तौलिया लाए। पापा जी मेरे शरीर और बालों से गिरते पानी को देख रहे थे। लेकिन मेरी नजर उसकी पैंट पर थी जिसमें से उसका लिंग साफ दिख रहा था. पापा जी मुझे आँखों से चोद रहे थे पर आगे नहीं बढ़ रहे थे।

मुझे लगने लगा कि पापा थोड़े मोटे हैं। लेकिन मुझे क्या पता, ये तूफान से पहले की शांति है। जैसे ही मैं बाथरूम में दाखिल हुई, पापा भी मेरे पीछे-पीछे आ गए। उनकी आंखों में हवस साफ झलक रही थी।

पापा जी मेरे पास आए और बिना कुछ बोले मेरे ब्लाउज को ऊपर से पकड़ लिया और फाड़ दिया। पापा की इस हरकत से मैं शॉक्ड रह गयी थी, लेकिन मुझे पता था कि आज मेरी चुदाई जरूर होगी। ब्लाउज के फट जाने से मेरे दोनों निप्पल बाहर आ गए. पापा जी ने तुरंत मेरे निप्पल पकड़ लिए।

पापा जी मेरे निप्पल दबाने लगे। मेरे निप्पल दबाते ही दूध की धारा निकली और पिता के मुख पर गिर पड़ी। पापा जी मेरे निप्पल चूसने लगे। मैं आंखें बंद करके इस पल का लुत्फ उठा रही थी।

पापा कभी-कभी मेरी चूचियां चूस लेते थे। कभी जीभ से मेरा पेट चाट लेते। पापाजी की जीभ मेरी नाभि में घूम रही थी। पापा जी का फोरप्ले साबित कर रहा था कि वे अनुभवी खिलाड़ी हैं। पापा जी ने मुझे गोद में उठा लिया।

वह मुझे बाथरूम से बेडरूम में ले गए। पापा ने मुझे बेड के पास खड़ा कर दिया। उसने मेरा गीला पेटीकोट उतार दिया। मैं उसके सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी। पापा जी ने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए।

अब हम दोनों नंगे थे। मेरी नजर पापा के लंड पर पड़ी. पापाजी का लंड कस कर खड़ा था. पापा जी ने मेरे बाल पकड़े और अपने होंठ मेरे होठों पर रख दिए। पापा जी मेरे होठों को चूस रहे थे। कभी काट रहे थे।

ऐसा लगा जैसे कोई हॉलीवुड फिल्म का हीरो मेरे होठों को चूस रहा हो। पापा जी ने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया। मेरा बेटा भी साइड में पड़ा था। पापा जी तुरंत मेरे पास आ गए। उसने मेरी टांगें फैला दीं और अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया.

मेरी गीली चूत की वजह से उसका लंड आसानी से अंदर चला गया. मुझे पापा के लंड का एहसास था। मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं। ताकि पापा को चोदते समय शर्मिंदगी ना उठानी पड़े।

जिस दिन का मुझे इतने दिनों से इंतजार था। आज वह दिन आ गया था। मेरी चूत के अंदर पापा का लंड बाहर आ रहा था. ठहाकों की आवाज पूरे कमरे में गूंज रही थी। मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और अपने पिता के हर धक्का का आनंद ले रही थी।

पापा जी बहुत तेजी से धक्के मार रहे थे। मेरे थनों से जो दूध निकल रहा था। पापा जी उसे चाट रहे थे। पापा की चुदाई से मैं जल्दी ही चरम सुख में पहुँच गयी।

Mahipalpur Escorts

पापा जी अभी भी धक्के मार रहे थे। मेरी चूत पहले से ज्यादा गीली हो गई थी. पापा का लंड भी चूत में फड़फड़ा रहा था. कुछ ही देर में पापा जी ने अपना सारा पानी मेरी चूत में निकाल दिया.

जैसे ही पापा का पानी निकला वो मेरे निप्पलों पर गिर पड़े. पापा जी का लंड देखते ही देखते छोटा हो गया और बाहर आ गया. कुछ देर बाद पापा तुरंत उठे और अपने कपड़े लेकर कमरे से बाहर चले गए।

मैं पापा का लंड चूसना चाहती थी। लंड को चाट कर साफ करना चाहती थी…. लेकिन हवस खत्म होते ही शायद पछतावा हो रहा था।

मैं पापा की चूत से निकलने वाले पानी को अपनी ऊँगली से चाट रही थी. आज बहुत दिनों बाद मेरी चूत की आग शांत हो चुकी थी. मैं कुछ देर ऐसे ही लेती रही, फिर कपड़े पहन कर काम करने लगी।

दोपहर को जब मैं अपने पिता के लिए खाना लेकर गयी। तब वह मुझे देख नहीं पा रहे थे। पापा जी ने जल्दी से खाना खाया। मैं अपने कमरे में आ गयी और अपनी माँ का इंतज़ार करने लगी। मैं बिस्तर पर लेटी हुई थी। मेरा बेटा सो रहा था। तभी पापा मेरे कमरे में आ गए।

ससुर – बहू मुझे तुमसे कुछ बात करनी है।

मैं- हां पापा बोलो।

मैंने एक ढीली कुर्ती और लेगिंग्स पहनी थी। पापा मेरे बगल में बैठे। पापा जी कुछ नहीं बोल रहे थे। बस सोच रहे थे कि बातचीत कैसे शुरू करूं।

मैं – पापा जो बोलना है बोलो।

ससुर – कैसे कहूँ बहू, बस यही सोच रहा हूँ। पापा जी ने मेरा हाथ पकड़ कर कहा….

ससुर – मुझे माफ़ कर दो बहू। आज मैंने तुम्हारे साथ बहुत बुरा किया। जब मैंने आपको इस तरह देखा तो मैं खुद पर काबू नहीं रख सका।

पापा जी ने मुझसे सॉरी कहा और नीचे चले गए। मैंने सोचा था कि पापा अब और भी चोदेंगे। शायद वह मेरे साथ सेक्स करके गलत महसूस कर रहे थे। मैंने सोचा कि शायद मुझे बेशर्म होना पड़ेगा।

मैं अपने पिता के पीछे नीचे चली गयी। पापा जी सोफे पर बैठे टीवी देख रहे थे। मैं उसके ठीक बगल में बैठ गयी।

मैं- पापा जी, आपको माफ़ी मांगने की ज़रूरत नहीं थी।अगर आपके बेटे ने मुझे संभाला होता तो शायद ये गलती नहीं होती.

सच कहूं तो तुमने मुझे जो खुशी दी है। मुझे इसके लिए आपको धन्यवाद देना चाहिए।

मेरी बात सुनकर पापा की आंखें चमकने लगीं। यह कहकर मैं किचन में चली गई। आगे क्या हुआ अगले भाग में बताउंगी।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds