साले की बेटी को चोदा और उसकी चुत की सील तोड़ दी

साले की बेटी को चोदा और उसकी चुत की सील तोड़ दी

दोस्तों में नाम अमित है आज में आपको बताने जा रहा हु कैसे मेने “साले की बेटी को चोदा और उसकी चुत की सील तोड़ दी”

करीब 20 साल पहले जब मेरी शादी हुई तो मैं 23 साल का था और मेरी पत्नी 19 साल की थी. मेरी पत्नी आशिका का एक भाई रमेश था जो उस समय 13 साल का था।

मेरी शादी के लगभग 15 साल बाद रमेश की शादी हुई। उनकी पत्नी कृतिका 20 साल की थीं. कृतिका मुझसे 18 साल छोटी थी यानि लगभग मुझसे आधी उम्र की।

जवान कृतिका को देख कर मेरा दिल उस पर आ गया. जहां चाह, वहां राह। रमेश की शादी के लगभग 15 दिन बाद ससुर जी का फोन आया कि रमेश और कृतिका का शिरडी जाने का प्रोग्राम बन रहा है

बेहतर होगा कि तुम और आशिका भी आ जाओ। अंधे को क्या चाहिए, दो आँखें। थोड़ी झिझक के बाद मैंने हाँ कह दी और रमेश से बात करके आठ दिन का पूरा प्रोग्राम तय कर लिया।

टूर का पाँचवाँ दिन था, पैर में हल्की सी मोच आने के कारण कृतिका हमारे साथ चलने को तैयार नहीं थी इसलिए मैं, आशिका और रमेश बाहर घूमने निकल गये।

करीब दो घंटे बाद मैं भी बहाना बनाकर होटल लौट आया. जब तक रमेश और आशिका वापस होटल पहुँचे, थोड़ी सी ना नुकुर के बावजूद कृतिका मुझसे चुद चुकी थी।

गनीमत रही कि उस ने यह घटना रमेश या आशिका को नहीं बताई. अगले दिन खाना खाने से पहले मैंने कोल्ड ड्रिंक में व्हिस्की मिलाकर रमेश और आशिका को दे दी, जिससे वो दोनों खाना खाकर सो गये. (साले की बेटी को चोदा)

उस रात मैंने कृतिका को दो बार चोदा, कृतिका मेरी दीवानी हो गयी। मैं अक्सर अपने ससुराल जाता था और जब भी मौका मिलता, कृतिका को चोदता और अपना लंड निकाल लेता।

ये सिलसिला लगातार चल रहा है. बाद में कृतिका ने एक बेटी को जन्म दिया जिसका नाम पूनम रखा गया। कृतिका कहती है कि वह मेरी बेटी है जबकि रमेश समझता है कि पूनम उसकी बेटी है।

पूनम अब 18 साल की हैं और बी.कॉम. अभी भी काम कर रहा है। लंबे अंतराल के बाद पिछले हफ्ते जब मैं ससुराल गया तो पूनम को देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया.

18 साल की मासूम पूनम आलिया भट्ट की कॉपी नजर आ रही थीं. हालाँकि पूनम मुझसे 45 साल छोटी थी, फिर भी मैं पागल हो गया और उसे चोदने के लिए तरह-तरह की तरकीबें सोचने लगा।

अगर मैं पूनम को चोदने के बारे में सोचता तो मेरा लंड खड़ा हो जाता. मैंने शिलाजीत की दो कैप्सूल सुबह शाम खाना शुरू कर दिया ताकि कच्ची कली चोदते समय मेरा लंड कमजोर न हो जाये.

एक दिन मैं लेटे लेटे पूनम को चोदने का प्लान बना रहा था कि तभी कृतिका कमरे में आ गयी. मैंने कृतिका को हजारों बार चोदा था लेकिन आज कृतिका बला की खूबसूरत लग रही थी।

कमरे में घुसते ही वो मुझसे लिपट गई और बोली- पूनम कोचिंग गई है, तब तक हम मजे कर सकते हैं. मैंने कृतिका के होंठों पर अपने होंठ रखते हुए अपना हाथ कृतिका की चूत पर रख दिया।

कुछ देर तक कृतिका की चूत को सहलाने के बाद मैंने कृतिका की लाल रंग की रेशमी सलवार उतार दी और थोड़ी गीली पैंटी को नीचे सरका दिया और अपना दाहिना अंगूठा उसकी चूत में डाल दिया।

अपनी चूत में अंगूठा डलवाते ही कृतिका मुझसे लिपट गई। मेरे कहने पर कृतिका ने अपना कुर्ता और ब्रा उतार दी. मैंने कृतिका की चूची को अपने मुँह में ले लिया। कृतिका मेरी पीठ सहला रही थी

कृतिका ने पहले मेरी टी-शर्ट उतारी और फिर लोअर उतार दिया। अब हम दोनों बिल्कुल नंगे थे. मैं कृतिका की चूत में अपना अंगूठा चला रहा था और कृतिका ने मेरा लंड अपनी मुट्ठी में पकड़ रखा था।

ड्रेसिंग टेबल के पास खड़े होकर फोरप्ले करते समय हम दोनों पूरी तरह से उत्तेजित हो चुके थे, इसलिए बिस्तर पर आ गए। हम एक दूसरे को गले लगाते हुए किस कर रहे थे

फिर मैं 69 की पोजीशन में आ गया और कृतिका की चूत पर अपनी जीभ फिराने लगा. कृतिका ने भी मेरा लंड पकड़ लिया और मेरे लंड को चाटने लगी.

जब लंड मूसल की तरह सख्त हो गया तो मैं कृतिका को चोदने के लिए उठा और कृतिका को पीठ के बल लिटा दिया। मैं कृतिका की दोनों टाँगों को घुटनों से मोड़कर उसकी टाँगों के बीच आ गया।

कृतिका की चूत के होंठ खोल कर मैंने अपने लंड का सुपारा रख दिया और कृतिका की कमर पकड़ ली। मेरा लंड लड़खड़ा कर कृतिका की चूत में जाने को तैयार था

तभी दरवाजे की घंटी बजी। मैंने कहा- कौन आ गया, कबाब में हड्डी? कृतिका एक झटके से उठी और बोली – ये पूनम है, घंटी बजाने का ये स्टाइल उसी का है।

कृतिका ने जल्दी से कपड़े पहने और दरवाज़ा खोलने के लिए दौड़ी। मैं अपनी टी-शर्ट और लोअर लेकर बाथरूम में घुस गया. जब में तैयार होकर बाहर आया तो पूनम आ चुकी थी।

हम तीनों ने खाना खाया. जब पूनम अपने कमरे में चली गई तो मैंने कृतिका से कहा – चलो यार, अधूरा काम पूरा करो। कृतिका ने सिर हिलाकर मना कर दिया और बोली- नहीं, पूनम घर पर है

और वैसे भी मुझे डेंटिस्ट के पास जाना है, समय निकलता जा रहा है। कुछ देर बाद कृतिका डेंटिस्ट के पास चली गई और मैं अपने कमरे में आ गया। कमरे में घुसते ही मुझे पूनम की याद आई

तो मैं उसके कमरे की तरफ चला गया. पूनम का कमरा पहली मंजिल पर था. मैं ऊपर पहुंचा तो पूनम के कमरे का दरवाज़ा भिड़ा हुआ था. मैं कमरे का दरवाज़ा खोलने ही वाला था। (साले की बेटी को चोदा)

कि कमरे के अंदर से आती आवाज़ ने मेरे कदम रोक दिये। मैंने ध्यान से सुना तो समझ आया कि पूनम अपने लैपटॉप पर ब्लू फिल्म देख रही थी. मैंने दरवाज़ा खटखटाया

और साथ ही दरवाज़ा खोलकर अंदर आ गया. मुझे अचानक कमरे में आया देख पूनम चौंक गयी और जल्दी से लैपटॉप बंद करना चाहा. हड़बड़ाहट में वह सीधे बटन दबाने लगी

जिससे लैपटॉप बंद नहीं हो सका। मैंने पूनम की बांह पकड़कर उसे कुर्सी से खड़ा करते हुए पूछा- क्या देख रही हो? पूनम नजरें झुकाये चुपचाप खड़ी रही. “कब से देख रहे हो ये सब?” पूनम चुप रही.

“बोलो, कब से देख रही हो?” इस बार पूनम ने नजरें नीचे करके धीरे से कहा – 15-20 दिन से. मेरी क्लास में एक लड़की है, वो मोबाइल में दिखाती है। उन्होंने दे दिया है.

“क्या तुम लोग सिर्फ देखते हो या कुछ करते भी हो?” “ उसके घर में उसके चाचा रहते हैं, वो अपने चाचा के साथ करती है।” “और आप?” “मैं इसे अपनी उंगली से करती हूं।”

“उसके चाचा उसके घर में रहते हैं और वह अपने चाचा के साथ ऐसा करती है। तुम्हारे घर में भी एक फूफा हैं, तुम क्यों उंगली से करती हो? चलो बिस्तर पर चले।”

इतना कह कर मैंने पूनम का हाथ पकड़ा और उसे बिस्तर पर ले आया. पूनम की स्कर्ट, ब्रा और पैंटी उतार कर सोफे पर फेंक दी और उसे पूरी नंगी कर दिया.

पूनम डरी और कांप रही थी. मैं उसे सहलाते हुए, चूमते हुए, उसे सामान्य करने की कोशिश कर रहा था। मेरा लंड टनटना रहा था. पूनम का हाथ अपने लंड पर रख कर मैं उसके होंठों को चूसने लगा.

कुछ देर बाद मैंने पूनम से पूछा- कैसा लग रहा है? क्या तुम्हें डर नहीं लग रहा? खोयी हुई पड़ी पूनम ने कोई जवाब नहीं दिया तो मैंने उससे कहा- चलो, कोई बात नहीं.

आज कुछ नहीं करेंगे, तुम अपने कपड़े पहन लो. पूनम चुपचाप उठी और कपड़े पहनने के लिए सोफे पर जाने लगी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा कुछ मत करो, बस एक बार मेरा लंड चूस लो।

इतना कह कर मैंने अपना लोअर नीचे सरका दिया और अपना लंड निकाल कर पूनम के मुँह में दे दिया. पूनम धीरे-धीरे मेरा लंड चूसने लगी तो मैं उसकी चुचियां सहलाने लगा.

थोड़ी देर बाद मुझे एहसास हुआ कि पूनम सामान्य होने लगी है. अब मैंने अपना हाथ पूनम की चूत पर रख दिया. पूनम की मुलायम बालों वाली चूत को सहलाते ही मेरा लंड मदहोश होने लगा.

मैंने पूनम से कहा- तुमने मेरा लंड चूस लिया, मैं भी तुम्हारी चूत चाटूंगा. इतना कह कर मैं पूनम की चूत पर अपनी जीभ फिराने लगा. कुछ देर तक हम दोनों 69 की पोजीशन में लगे रहे.

अब मैं अपनी मंजिल से बस एक कदम दूर था. मैंने अपना अगला पत्ता फेंकते हुए कहा- जान, जब इतना कुछ कर लिया है तो एक बार लंड को चूत में ले लो, तुम आराम से लेट जाओ.

मैंने पूनम की ड्रेसिंग टेबल से कोल्ड क्रीम की शीशी निकाल कर पूनम की चूत की मालिश की और थोड़ी सी क्रीम अपने लंड के सुपारे पर लगाई और पूनम की टांगों के बीच आ गया.

पूनम अपनी माँ कृतिका के भारी भरकम शरीर की तुलना में बहुत नाजुक थी लेकिन मैं यह भी जानता था कि सबसे पतली लड़की भी पूरा लंड सहन कर सकती है।

पूनम के पैर मेने अपने कंधों पर टिका दिए मैंने पूनम की कमर पकड़ कर उसे अपनी ओर खींचा तो उसके चूतड़ बिस्तर से ऊंचे हो गये. मैं अपना लंड पकड़ कर पूनम की चूत पर रगड़ने लगा

तो पूनम उत्तेजित होने लगी. उसकी आँखों में सेक्स की चाहत देख कर मैंने उसके चूतड़ों के नीचे एक तकिया रख दिया और अपना लोअर मोड़ कर तकिये पर रख दिया।

पूनम की दोनों टांगें फैलाकर, उसकी चूत के होंठ खोल कर मैंने अपने लंड को सही निशाने पर सेट किया और आगे झुक कर अपने होंठ पूनम के होंठों पर रख दिये.

पूनम के होंठ चूसते हुए मैंने लंड का दबाव बढ़ाया तो मेरे लंड का सुपारा पूनम की चूत में घुस गया. पूनम चिल्लाना चाहती थी लेकिन मैंने उसके होंठ बंद कर दिये।

धीरे-धीरे दबाव बढ़ाते हुए मैंने आधा लंड पूनम की चूत में डाल दिया. काफी ताकत लगाने के बावजूद अब लंड अंदर नहीं जा रहा था तो मैंने पूनम के होंठ छोड़ दिए

और सीधा होकर पूनम की कमर पकड़ ली और आधा लंड अंदर बाहर करने लगा. कुछ देर बाद मेने एक बार अपना लंड बाहर निकाला और उस पर और क्रीम लगायी

और उंगली में क्रीम लगा कर पूनम की चूत में डाल दी. डबल रोटी की तरह फूली हुई गुलाबी रंग की चूत के चीथड़े उड़ने का समय नजदीक आ गया था.

लंड का सुपारा चूत के मुँह पर रख कर धक्का मारा तो टप्प की आवाज के साथ सुपारा अन्दर चला गया और दबाव देते ही आधा लंड अपनी जगह पर पहुंच गया.

मैंने पूनम की कमर पकड़ कर लंड बाहर निकाल कर एक बार जोर से धक्का मारा तो पूरा लंड पूनम की चूत में समा गया. पूनम इतनी जोर से चिल्लाई कि एक बार तो मैं भी डर गया. (साले की बेटी को चोदा)

अब छोड़ने का कोई मतलब नहीं था. मैंने पूनम के आंसू पोंछते हुए कहा- बस, जो होना था हो गया. जब सील टूटती है तो एक बार दर्द होता है और फिर मजा ही मजा आता है.

Visit Us:-

ये लो, अब मौज-मस्ती पर ध्यान दो। ये कह कर मैंने पूनम को धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. पूनम की सील टूटने के कारण मेरा लंड खून से सन गया था.

यह तो किस्मत की बात थी कि पूनम अब सामान्य होकर आनंद ले रही थी। पूनम को चोदते समय मैं उसकी चुचियों से खेलता रहा. जब डिस्चार्ज का समय आया तो दो ही विकल्प थे।

या तो बाहर डिस्चार्ज करो या अंदर डिस्चार्ज करो और या पूनम को गर्भनिरोधक गोली लाकर खिलाऊँ। मुझे दूसरा विकल्प पसंद आया. मैंने पूनम की टांगें अपने कंधों पर रखीं

और झटके मारने लगा. ठोकर लगते ही लिंग मजबूत हो जाता है। डिस्चार्ज का समय नजदीक आ गया है पूनम भी जोश में आकर अपने चूतड़ उछालने लगी

और बोली- मारो फूफा … और जोर से मारो. फूफा मारते रहो, मारते रहो. और जोर से, और जोर से। डिस्चार्ज के समय जब लिंग का सुपारा फूल कर मोटा हो गया

बहुत फंसकर अन्दर बाहर हो रहा था तो पूनम को एक बार फिर दर्द हुआ और बोली- बस करो फूफा, अब बस करो. मर गया फूफा, मर गई तेरी पूनम

जैसे ही लंड से फव्वारा छूटा, मैंने अपनी ट्रेन की स्पीड बढ़ा दी. जब मैं पूरी तरह डिस्चार्ज हो गया तो थक कर पूनम के ऊपर लेट गया.

लंड अभी भी चूत के अंदर ही था और शिलाजीत के प्रभाव से अभी भी ढीला नहीं हुआ था. मैं पूनम पर लेटा हुआ सोच रहा था कि कहाँ मैं 63 साल का बूढ़ा आदमी और कहाँ यह 18 साल की लड़की।

मेरा वजन 110 किलो था और पूनम मुश्किल से 50 किलो का होगी. लेकिन पूनम ने पूरी हिम्मत और शिद्दत से चुदाई करवाई. कुछ देर पूनम के ऊपर लेटे रहने के बाद मैं सीधा हुआ

और पूनम की कमर पकड़कर धीरे-धीरे अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा. अन्दर बाहर करते समय लंड फिर से अकड़ने लगा तो मैंने पूनम के मम्मों को चूसना शुरू कर दिया.

मैं निपल्स भी चूस रहा था और लंड को अन्दर-बाहर भी कर रहा था. पता नहीं कहाँ से इतना जोश पैदा हो गया कि मैं फिर से चोदने को तैयार हो गया।

अब मैंने पूनम को घोड़ी बनाया और उसके पीछे आकर अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया. लंड अन्दर जाते ही मैंने पूनम को चोदना शुरू कर दिया. जैसे-जैसे मैं लड़खड़ाता था

पूनम भी रिवर्स स्ट्रोक लगाती थी. दोतरफा धक्के और मुक्कों से मैं चरम पर पहुंच गया और एक बार फिर मेरे लंड ने पिचकारी छोड़ दी, जिससे पूनम की चूत लबालब भर गई.

जब कृतिका दंत चिकित्सक के कार्यालय से लौटी, तब तक हम तरोताज़ा होकर अपने-अपने शयनकक्ष में पहुँच चुके थे। (साले की बेटी को चोदा)

अब मेरे पास कृतिका पराठा और पूनम पिज्जा है। जब भी मौका मिलता है, जब इच्छा होती है, मैं हाथ साफ कर लेता हूं.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds