सगी बहन को चोदा और उसकी इच्छाएं पूरी की और उसे चरमसुख दिया भाग 2

सगी बहन को चोदा और उसकी इच्छाएं पूरी की और उसे चरमसुख दिया भाग 2

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “सगी बहन को चोदा और उसकी इच्छाएं पूरी की और उसे चरमसुख दिया” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

कहानी का पिछला भाग: सगी बहन को चोदा और उसकी इच्छाएं पूरी की और उसे चरमसुख दिया भाग 1

बहन बोली – उसने मुझसे कहा कि तुम्हें मोबाइल दिलाकर मुझे क्या मिलेगा। मुझे लगा कि शायद बात बन सकती है, इसलिए मैंने उससे कहा कि वह जो चाहेगा, मैं उसे दे दूँगी।

फिर उसने मुझसे कहा- ठीक है, कल मैं तुम्हारे लिए एक मोबाइल और एक नया सिम कार्ड ला दूँगा, लेकिन आज तुम्हें मेरा एक काम करना होगा।

मैंने झट से कहा, “बताओ, मुझे क्या करना होगा?”

आगे की कहानी;

तो उन्होंने मुझे तेल दिया और कहा- मेरी मालिश कर दो, मेरे शरीर में बहुत दर्द हो रहा है।

मैं तुरंत मान गयी, उसने अपने अंडरवियर को छोड़कर अपने सारे कपड़े उतार दिए और सीधा लेट गया। मैंने खुश होकर उसकी खूब मालिश की।

फिर उसने कहा- प्लीज़ मेरी जाँघों की भी मालिश कर दो।

मैंने तेल लिया और उसकी जांघों पर मालिश करने लगा। तभी अचानक मेरा ध्यान उसके अंडरवियर पर गया, उसमें तंबू बन गया था।

दादाजी बोलने लगे- इसे थोड़ा और बढ़ाओ।

मैंने कहा- ज्यादा ऊपर करोगी तो अंडरवियर खराब हो जायेगा।

जैसे ही इतना कह कर उसने अपना अंडरवियर उतार दिया। वो मेरे सामने पूरा नंगा हो गया। मैं अचानक चौंक गयी और बिस्तर से नीचे आ गयी।

उसने मुझे पकड़ लिया और बोला- तुम्हें मोबाइल चाहिए या नहीं?

मैंने कहा- मुझे घर जाना है।

उसने मुझसे कहा- अगर तुम मेरी मालिश नहीं करोगे तो अपना मोबाइल भूल जाओ।

मुझे नहीं पता कि मुझे क्या हुआ और मैं सहमत हो गयी। फिर उसने मुझसे अपने लंड की मालिश करवाई और वो दो मिनट में ही स्खलित हो गया।

मैंने कहा- अब ठीक है?

उन्होंने कहा- हां बेटा, तुमने मुझे मजा दे दिया है … अब तुम जो भी मांगोगी, मैं तुम्हें दिलवाऊंगा।

इसके बाद मैं वहां से आ गयी। अब मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। मैंने सोचा कि अगर मेरे दादा जी मेरी मालिश करके मुझे मोबाइल फोन दिला देंगे तो मैं रोज उनकी मालिश करूंगी। (सगी बहन को चोदा)

अगले ही दिन दादा जी ने मुझे एक नया मोबाइल लाकर दिया और मैंने फिर से उनके लंड की मालिश की और घर आ गयी।

जब मैं अगले दिन वहां गई तो वह पहले से ही बिस्तर पर नंगा लेटा हुआ था और अपना लंड हिला रहा था।

मैंने झट से दरवाज़ा बंद किया और पूछा कि आज तुम ऐसा क्यों कर रहे हो?

उसने मुझसे कहा- आज मैं तुम्हारी मालिश करना चाहता हूं, इसलिए ऐसे लेटा हूं।

मैंने कहा- मुझे नहीं करवाना।

उसने कहा- देखो, अगर तुम अपने सारे कपड़े उतार कर मुझे अपना बदन दिखाओगी तो मैं तुम्हें 5000 हजार दूंगा और तुम मुझे जो चाहो वो करने दोगी.. तो मैं तुम्हें 10000 दूंगा।

इतने पैसे का नाम सुनते ही मैंने हां कह दिया। फिर दादा जी ने खुद ही एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया।

उसने मुझसे कहा- बहुत दिनों के बाद मैंने इतनी खूबसूरत चूत देखी है।

उसने मेरी टांगें खोलीं और मेरी चूत चाटने लगा। मैं ‘आअहह ईईईई…’ करती रही।

मैंने कहा- तुम थोड़ा जल्दी करो, मुझे घर जाना है।

उसने अपना मुँह मेरी चूत से हटाया और मुझे अपना लंड चूसने को कहा, मैंने वैसा ही किया। फिर वो मेरी टांगों के बीच आ गया और अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगा।

मैं भी अपने आप पर काबू नहीं रख पाई और बोली- दादा जी, प्लीज़ अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो।

उसने मुझसे पूछा क्या तुमने कभी चुदाई करवाई है?

मैंने कहा नहीं…

यह सुनकर वो बहुत खुश हो गया और उसका लंड अब मेरी चूत में घुसने के लिए तैयार था। जैसे ही उसने अपने लंड से धक्का मारा तो लंड फिसल गया और मेरे मुँह से ‘आहह..’ निकल गया।

उसने कई बार ऐसा ही किया, लेकिन उसके लंड में इतनी ताकत नहीं थी कि वह मेरी जवान सील तोड़ सके। फिर उसने मुझसे लेटने को कहा, मैं लेट गया।

अब दादाजी मेरे पीछे से डालने लगे और मैंने अपनी टाँगें आपस में चिपका लीं ताकि उन्हें लगे कि लंड चूत में जा रहा है और वैसा ही हुआ। (सगी बहन को चोदा)

दादाजी 3 मिनट में ही स्खलित हो गये और मुझसे बोले- मुझे तुम्हारी चूत चोदने में बहुत मजा आया।

मैंने मुस्कुराते हुए कहा- लाओ मेरे पैसे।

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करे :

तो वादे के मुताबिक उसने मुझे 10,000 रुपये दिए और हर दिन मेरे साथ सेक्स करने लगा, लेकिन आज तक उसे नहीं पता कि मैंने उसे धोखा दिया है। आज तक उसका लंड मेरी चूत में कभी नहीं गया।

शहनाज़ की ऐसी गरम बातें सुनकर मेरा लंड भी आकार लेने लगा।

फिर मैंने शहनाज़ से कहा- मम्मी पापा को यह सब न बताने के लिए तुम मुझे क्या दोगी?

उसने कहा- मैं पैसे दे सकती हूं, मैं अपनी एक सहेली से आपकी सेटिंग करवा सकती हूं।

मैंने कहा- तुम मेरी सेटिंग बन जाओ।

वह शरमा गयी।

मैंने फिर कहा- देखो शहनाज़… अगर तुम्हें मेरा लंड चाहिए तो मेरा ले लो।

वो बोली- भैया, ये सब ग़लत है।

मैंने कहा- अच्छा, तुम्हें उस गंदे बुड्ढे के साथ ऐसा करते हुए शर्म नहीं आई?

उसने कहा- ठीक है.. लेकिन किसी को बताओगे तो नहीं?

मैंने कहा- मेरी जान … मैं मरते दम तक किसी को नहीं बताऊंगा।

वो मुस्कुराई, जिसे मैंने उसकी सहमति समझी।

तभी मैंने उसे अपनी बांहों में पकड़ लिया और चूमने लगा। वो भी मेरा साथ दे रही थी। मैंने सोफे पर ही उसकी टी-शर्ट उतार दी। उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी। उसके 32 साइज़ के चूचे घर की रोशनी में मोतियों की तरह चमक रहे थे।

मैंने उसके चुचो को चूसना शुरू कर दिया और वह भी मुझे प्यार से अपने स्तन चूसने दे रही थी।

फिर मैं उसे अपने कमरे में ले आया और उसे पूरी नंगी कर दिया। इसके अलावा मैं खुद भी पूरा नंगा हो गया। मेरा 7 इंच का लंड देख कर उसकी आंखें चमक उठीं।

यह पहली बार था जब उसने इतना बड़ा और सख्त लंड देखा था। मैंने उसे अपना लंड चूसने के लिए भी कहा, उसने तुरंत लंड को अपने मुँह में ले लिया और किसी पोर्न स्टार की तरह उसे चूसने लगी।

क्या बताऊँ… उस पल के बारे में सोच कर मैं उत्तेजित हो गया और मैंने उसके मुँह को ज़ोर से चोद दिया। बाद में मैं उसके मुँह में स्खलित हो गया। मेरी बहन ने मेरा सारा वीर्य पी लिया और मेरे लंड को चाट कर साफ़ कर दिया।

फिर मैंने भी उसकी चूत को बहुत प्यार से चाटा और वो भी एक बार झड़ गयी।

अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और मेरा निशाना मेरी बहन की चूत पर था। एक ही बार में मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया था।

लंड घुसते ही वो एकदम से बिस्तर पर उछल पड़ी और चिल्लाने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…

उसकी चूत से कुछ खून भी निकला।

मुझे भी लग रहा था कि उस बुड्ढे ने सच में मेरी बहन को जरा सा भी नहीं चोदा है। वो रोने लगी.. और मैं उसे चूमने लगा।

फिर मैंने पूरी ताकत से अपना पूरा लंड अपनी बहन की चूत में डाल दिया। वह चिल्लाने लगी। मेरा लंड उसकी चूत की पूरी गहराई तक उसे चोद रहा था। (सगी बहन को चोदा)

थोड़ी देर तक रोने और चिल्लाने के बाद मेरी बहन अब अपनी चूत उठा-उठा कर मेरे लंड का स्वागत कर रही थी।

ये देख कर मैंने अपनी स्पीड थोड़ी बढ़ा दी। मेरे धक्कों से वह चरम सीमा पर पहुँच गयी और दूसरी बार स्खलित हो गयी।

अब मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा, वो तुरंत घोड़ी बन गयी। मैंने अपना डाला 

पूरी ताकत से पीछे से उसकी चूत में लंड डाला और दस मिनट की जोरदार चुदाई के बाद मैं और मेरी बहन एक साथ स्खलित हो गये।

मैं उसकी चूत में अपना लंड डाले हुए ही उसके ऊपर गिर गया।

अब मेरी बहन मुझसे बोली- भाई, आज से मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ। आज तुम्हारे लंड से मुझे वो सुख मिला जिसके लिए मैं तरस रही थी। मैंने कभी उस बूढ़े आदमी के लंड का मजा नहीं लिया।

फिर हम दोनों सो गये और अगले तीन दिन तक हम घर से बाहर नहीं गये, बस चुदाई ही चुदाई करते रहे। मैंने अपनी बहन की गांड भी मारी और उसे दादा जी से चुदवाने में मदद भी की। उसने दादा जी से खूब पैसे ऐंठे।

फिर कुछ महीने बाद मेरी बहन की शादी हो गयी और वो अपने ससुराल चली गयी। आप सभी को मेरी यह कहानी कैसी लगी? कृपया मुझे कमेंट करके बताएं।

लेखक के अनुरोध पर ईमेल आईडी नहीं दी जा रही है।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह सगी बहन को चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds