मैंने हनीमून के दौरान पहाड़ों पर रण्डी बनके करवाया गैंगबैंग चार लड़कों के साथ!

मैंने हनीमून के दौरान पहाड़ों पर रण्डी बनके करवाया गैंगबैंग चार लड़कों के साथ!

हाय दोस्तों मेरा नाम जूली है और ये मेरी पहली सेक्सी कहानी है। मैंने हनीमून के दौरान पहाड़ों पर रण्डी बनके करवाया गैंगबैंग चार लड़कों के साथ में।ये घटना मेरे साथ पिछले साल हुआ जब मैं अपने पति के साथ पहाड़ो में घुमने गई। पहले अपने बारे में थोड़ा बता दू। मेरी उम्र 21 साल है, 5’6” गोरी, 36-28-35 का फिगर और फेस से एकदम मासूम। मैं और मेरे पति ने हिमाचल में यात्रा योजना किया अप्रैल में। हम अपने बचाओ को मेरी मम्मी के घर छोड के गए थे। रास्ते में एक लैंड स्लाइड की वजह से हमें होटल पोहंचते 6 बज गए। मैं तो रास्ते में कार में सो रही थी लेकिन मेरे पति कार चला के ठक चुके थे।

होटल में चेक इन करने के बाद हम थोड़ा सा घूमने के लिए निकले और डिनर कर के 9 बजे तक रूम में वापस आ गए। मेरे पति ने शरब पी ली थी और अब वो सोने लगे थे। मैं टीवी देखते देखते बोर हो गई और अपने पति को उठने की कोशिश करने लगी। लेकिन वो तो बेहोश हो के सो रहे थे। तो मैंने सोचा के अकेले ही घूम के आती हूं। जब मैं बहार निकली तो लगभग सब दुकान बंद हो चुकी थी। दूर एक दुकान खुली थी तो मैं उसी तरह जाने लगी। रस्ते में और यहां में दो लड़के सिगरेट पेशाब रहे थे।

जैसे ही मैं उनके पास से निकली तो वो आप में कुछ बोल के हसने लगे। मैं उन्हे इग्नोर कर के शॉप पे पोहंची और कॉफी का ऑर्डर किया। इतनी ही डर में वो दो लड़कों में से एक मेरे पास आ के बैठा गया। उसे अपना नाम राघव बताया और मैं कॉफी की नंगे में उससे बात करने लगी। उसे बता के वो अपने तीन दोस्तो के साथ घुमने आया है और उसके एक दोस्त की अगले माहे शादी है। उसे अपना होटल भी बताया, जो के मेरे होटल से दो बिल्डिंग डोर था। कुछ डर हमारी बात चली और फिर मेरी कॉफी आ गई। मैंने उसे अलविदा बोला और जाने लगी।

मैं थोड़ा सा आगे गई के राघव मेरे पिचे आ गया और कहने लगा के उसके होटल तक चालू। जब मैंने क्यों पूछा तो कहता की बातें करेंगे और क्या। समझ तो मैं गई थी की इस्का ध्यान मेरी बॉडी पर है। लेकिन मैंने हां करदी क्यूकी मेरा भी मूड बन रहा था मौसम की वजह से। उसके कमरे में पोन्चे तो एक दोस्त उसके कमरे में बैठा था। राघव ने उससे बहार इंतजार करने के लिए बोला और वो चला गया। मैं बिस्तर पे बैठा गई। राघव मेरे साथ बैठा और मेरे जांघों पर हाथ रख के बातें करने लगा। धीरे धीरे उसे हाथ सहलाना शुरू कर दिया।

मुझे मजा आने लगा था। मैंने अपना हाथ उसकी पंत पर रगड़ने लगी। उसका लुंड बोहुत बड़ा था और उसके पंत में से फील हो रहा था। राघव ने मुझे किस करना शुरू कर दी और मेरे स्तन दबने लग गया। अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था। आईने उसे पंत के बटन खोल के लुंड बहार निकला लिया। मैं उसका लुंड देख के बालों में रह गई। मेरे पति के लुंड से डबल मोटा था राघव का। मैं झुक के लुंड को चुनने लगी। राघव ने मेरा सर पक्का और मेरे मुह को छोडने लगा। अचानक से दरवाजे पे दस्तक हुई। राघव ने पूछा के को है तो उसके दोस्त ने बोला की, “मैं हूं गौरव अब जल्दी से खोल दरवाजा।”

मैं पीछे हो के कपड़े सेट करने लगी और राघव ने दरवाजा खोला। दरवाजा खुलते ही उसके तीनो दोस्त और आ गए। उन में से एक ने कामरे का दरवाजा ताला कर दिया। उनमे से एक लड़का काफ़ी बॉडी वाला था। वो बोला, “ये रैंड कितने में मणि?” मैं शर्म से लाल हो गई। राघव बोला के ये रैंड नहीं है कॉफी शॉप पे मिली थी। वो लड़का मेरे पास आया और बोला, “मेरा नाम अक्षय है और तुझे जन्नत की सेर करवा दूंगा, जितने पैसे तू बोले।” उस से शराब की बडबू आ रही थी। मैंने मजाक में ही बोला 10,000 लुंगी। लेकिन इतने में अक्षय और गया और पैसे ले के आ गया।

उसे मेरे सामने पूरी नोटो की गद्दी रख दी और बोला, “ये 50,000 है, हम चारो की रात बना दे अब।” मुझे समझ नहीं आ रहा था की ये क्या हो रहा है। तो मैंने उन कहा के ठीक है लेकिन कोई वीडियो या फोटो नहीं खिचेगा। और वो चारो फैट से मान गए। रात के 12 बज रहे हैं और मुझे अपने कमरे में समय से पोहंचने की टेंशन हो रही थी। मैंने सोचा जल्दी से इनका काम करता हूं, मेरे भी भूले-बिसरे और पैसे भी मिल जाएंगे। मैंने अक्षय को पंत उतारने का इशारा किया और सात लड़कों ने पूरे कपड़े उतरे दिए।

उन चारो के लुंड इतने बड़े बड़े बड़े तो मैं डर गई। फिर उनमे से एक लड़के ने मुझे कहा के चुना शुरू कर, “पैसे किस बात के ले रही है।” मैं घुटनो पर बैठा और पहले लड़के का लुंड पका के हिलाने लगी। इतने में राघव मेरे पिचे आ के मेरे कपड़े उतरने लग गया। मेरे बूब्स देख के तो जैसे वो पागल ही हो गए। राघव ने मुझे बिस्तर पे लाए और चारो में ऊपर आ के मेरे साथ खेलने लगे। एक लडका मेरी जींस उतरने लगा। अक्षय और उसका दोस्त ज़ोर ज़ोर से मेरे बूब्स चूस रहे थे। इतने में राघव ने अपना लुंड मेरे होठों पर रागदना शुरू कर दिया।

मैने लुंड चूसना शुरू कर दिया। अक्षय ने जो लडका मेरी जीन उतर रहा था उस से पुचा, “समीर गिली है क्या इस रंद की?” तो समीर बोला पूरी तरह से और फिर उसे एक उन्गली और दाल दी। मैं अब सच में बोहुत हॉर्नी हो चुकी थी। मैने राघव का और ज़ोर से चुनना शुरू कर दिया। मेरे चुने चुने ही वो झड़ गया। मैने कम थूक दीया। इतने में अक्षय उठ के आया और मेरे मुह में अपना लुंड घुसने लगा। समीर भी अब मुझे बहुत तेजी से उंगली कर रहा था। अक्षय ने ज़ोर से मेरे बाल पकडे और मेरे गले तक लुंड घुसने लगा।

मैं सांस भी नहीं ले पा रही थी। वो मेरे मुह में लुंड घुसते हुए मेरे स्तन पे थप्पड़ मारने लगा। इतने में चौथा लड़का अपना लुंड हिलाते हुए आया। मेरे बूब्स पे उद्देश्य कर के ज़ोर से मुठ मारने लगा और मेरे बूब्स पे ही झड़ गया। समीर बोला, “लुंड चाहिए तुझे रंदी?” मैंने हां में सर हिला दिया। समीर ने एक ही झटके में सारा लुंड और घुसा दिया। मैं चिल्लाने की कोषिश कर रही थी लेकिन मेरे मुह में अक्षय का लुंड था। मुझे 5 मिनट ऐसे ही चोदने के बाद दोनो ने जग बदल ली। और मुझे कुटिया की तरह होने के लिए बोला। फिर अक्षय ने मेरी चुत में लुंड डालना शुरू किया। समीर ने अपना लुंड मुझसे चुस्वाना शुरू किया। करीब 10 मिनट मुझे चोदने के बाद अक्षय बिस्तर पे ले गया और मुझे ऊपर बुलाने लगा।

मैं समीर का लुंड तेजी से हिलाने लग गई। और वो मेरे मुह में झड़ गया और मुझे पीने के लिए बोले लगा। मेरे मन करने पर उसे मुझे ज़ोर से थप्पड़ मारा और बोला के, “साली किस बात के पैसे ले रही है। रैंडी है औकत में रह।” मैं डर गई और मैंने सह पेशाब लिया। मुझे उल्टा जैसा लगा लगा लेकिन मैंने कंट्रोल कर लिया। फिर मैं अक्षय के ऊपर चली गई। उसे मेरी चुत में लुंड एडजस्ट कर के तेज तेज मुझे छोडने लगा। इतने में राघव दोबारा से आ गया और मेरे गांद पे थप्पड़ मारने लगा। मैं ज़ोर ज़ोर से ‘आह्ह्ह’ कर रही थी। और फिर मैं भी झड़ गई। राघव ने मेरी गांद पे लुंड रागदना शुरू कर दिया।

अक्षय मेरी चुत में ही झड़ गया। मौका देखते ही राघव ने मुझे उसका लुंड गिला करने के लिए बोला। मैंने अच्छे से चाट के उसका लुंड गिला कर दिया। वो मेरे पीछे गया। मेरे बूब्स दबने लगा और अपना लुंड मेरी गांद के बीच में रागने लगा। फिर उसे मेरे गान में एक ही झटके में पूरा का पूरा लुंड घुसा दिया। मेरी तो जैसे जान ही निकल गई। मैंने इस से पहले कभी गुदा नहीं किया था। मैं रो रही थी और राघव मुझे पगलो की तरह बीएसएस छोडे जा रहा था। बाकी सारे लड़के मुझे रंडी बुला रहे थे और हस रहे थे।

राघव ने अपना लुंड निकला और मुझे घुटनो पर बेथने के लिए बोला। वो मेरे मुह पे झडने वाला था। और मैं देखता हूं की बाकी लड़के भी उठ के मेरी तरह आ रहे हैं। राघव मेरे फेस पे झड़ गया। बाकी लड़के मेरे मुह की तरफ लुंड पकाड़ के हिला रहे थे। तबी समीर ने मेरे ऊपर सुसु करना शुरू कर दिया। मुझे समझ नी आ रहा था की ये अचानक क्या कर रहे हैं। मैं कुछ बोल पाटी तब तक बाकी लड़कों भी मेरे ऊपर पेश करने लगे। अक्षय बोला के, “इससे पी वर्ना पैसे नहीं मिलेंगे।” मैने उन चारो का पेशाब पिया।

उसके बाद मैं वॉशरूम में नहीं के 4 बजे अपने होटल जाने के लिए तैयार हो गई। मेरी गंद बोहुत दुख रही थी और मैं बड़ी मुश्किल से चल पा रही थी। तो उन में से एक लड़का मुझे होटल तक छोडने आया। मैंने उससे सड़क पे ही कोने में दीया और अपने काम में चली गई। मेरे पति को कुछ पता नहीं चला लेकिन मेरी इस किससे के बाद जिंदगी बदल गई। मैं रंदी की तरह चुड़ी और 50,000 भी काम लिए। मैं और कहानियां भी लिखूंगी। अगर आपको मजा आया तो मेरी कहानी को शेयर कर दो!

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds