प्रिया को चोद कर उसको अपनी रांड बनाया

प्रिया को चोद कर उसको अपनी रांड बनाया

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम पंकज उदास है और मै लाया हू एक मजेदार स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे प्रिया को चोद कर उसको अपनी रांड बनाया , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

नमस्कार दोस्तों, मैं पवन हूं। मेरा लंड 7 इंच का है। मैं एक बार फिर अपनी कहानी लेकर हाजिर हूं, जो मेरी प्रिया आंटी के बारे में है, जो अब मेरी गर्लफ्रेंड थी. जिस दिन हम दुल्हन को श्रृंगार के लिए ले गए। तब मैं और प्रिया बाहर वेटिंग रूम में थे, उसको में गरम कर चूका था `-

मैं काफी देर तक उसके होठ चूसता रहा । उसके होंठ बिल्कुल नर्म और मुलायम थे. मैं उसके रस का आनन्द लेता रहा. फिर मैंने नीचे से अपनी उंगली योनि में अन्दर-बाहर की तो वो गर्म हो गई और पानी छोड़ने लगी।

मैं: प्रिय प्रिया , तुमने तो चूत का पानी छोर्ड दिया लेकिन मेरा क्या?

प्रिया : तुम चिंतित क्यों हो? मैं अभी यहीं हूं.

वह बालों को सीधा करके घुटनों के बल बैठ गई और मेरी पैंट खोलकर मेरे लिंग को अपने हाथ में ले लिया। फिर पहले हाथ से हिलाया. मैं मज़े ले रहा था और उसके बाल पकड़ कर लंड उसके मुँह के पास ले गया। फिर जब मैंने उसको लंड से खेलने के लिए कहा तो उसने अपना गर्म मुँह खोला और मेरा लंड का टोपा अपने मुँह में ले लिया।

उसने लंड को मुँह में रखकर अपनी जीभ का कमाल दिखाया । फिर धीरे-धीरे मुँह से अन्दर-बाहर करने लगी। मेरा लंड उसके मुँह में नहीं आ रहा था. लेकिन वह फिर भी चूसती रही. में अलग हे दुनिया में पहुंच चूका था , और मेरा लिंग उसके गर्म मुँह में अंदर-बाहर हो रहा था।

वो लगातार मेरे लंड को चूस रही थी और मुँह में रख कर जीभ से खींच रही थी. और मैंने उसके बाल पकड़ लिए और उसके चेहरे को देखता रहा. मेरे लंड को वो बहुत टाइट से चूस रही थी , व

और मैंने उसको मुँह में झाड़ दिया , और उसने मुझे एक थपड मार दिया –

प्रिया : क्या तुम मुझे बता सकते थे की झड़ने वाला है ?

मैं: सॉरी दोस्त. के तुम बहुत अच्छे से लंड चुस्ती हो .

प्रिया : हा-हा, ठीक है. तुमने बताया क्यों नहीं? मैं ऐसा दोबारा कभी नहीं करुँगी .

मैं: तो क्या अब आगे ऐसा नहीं करोगी ?

प्रिया : भूल जाओ कि कोई प्रिया थी.

और वह टूट गया और दुल्हन के पास गया। अब कुछ देर बाद लड़की का मेकअप हो गया और मैं उसे वापस ले आया. रास्ते में हमने कोई बात नहीं की. फिर ऐसे ही ये शादी ख़त्म हो गयी.

रात को जब बारात और दूल्हा-दुल्हन चले गये तो मैं कुछ लड़कियों के साथ विवाह मंडप से घर आ गया। जब सब चले गए तो मैंने प्रिया का हाथ पकड़ लिया.

प्रिया : पवन मेरे हाथ से छोड़ दो.

मैं- अगर मैंने आज छोर्ड दिया तो कभी नहीं पकडूँगा सोच लेना.

प्रिया : ठीक है मत पकड़ना .

मैं: ठीक है.

और प्रिया अंदर चली गयी. उसका पति भी वही था. लेकिन उसने नहीं देखा. मैंने गाड़ी वहीं खड़ी कर दी और सोचा, अब दोस्ती ख़त्म, और वही सिगरेट पीने लगा। तो प्रिया ने आवाज़ दी “पवन “।

प्रिया : सॉरी पवन .

मैं: हाँ कहो, मैं जा रहा हूँ, जल्दी बताओ।

प्रिया : क्या सचमुच तुम मुझे छोर्ड रहे हो ?

मैं: तो मुझे क्या करना चाहिए?

प्रिया : मुझे सेक्स करना है.

मैं (अंदर से ख़ुशी से): तो आओ लंड चूसो मेरा।

प्रिया : हाँ नहीं, चलो शादी के मंडप में चलते हैं।

मैं: लेकिन अब क्या फायदा?

प्रिया : मेरे घर पर झूठ बोला गया है कि मेरा पर्स वहीं छूट गया है. तो वहा चलो .

फिर हम कार में बैठे और चल दिए और जैसे ही हम कार में बैठे , उसने मेरा लंड बाहर निकाला और सीधे अपने मुँह में ले लिया और चूसना शुरू कर दिया । जब तक हम साथ थे, उसने चूस-चूस कर लंड लाल कर दिया था.

क्या गजब का लंड चूस रही थी और हम वहां पहुंच गये. फिर हम उस कमरे में गए जहां दुल्हन को शादी से पहले रेस्ट के लिए बिठाया जाता है । फिर मैंने प्रिया के होंठों को चूमना शुरू किया और उसके होंठों को चूमता रहा। मैंने नीचे की दरार में उंगली डाल कर उसे तैयार किया और फिर प्रिया की चूत निकाल कर उसे नंगी कर दिया.

प्रिया ने भी अपनी टांगें फैला दीं और बोली: पवन , मेरी जान, अब नहीं रहा जा रहा . अपना लंड मेरी योनि में डालो.

और अब मैंने अपनी ऊँगली उसकी चूत मे डालकर उसकी चूत को खोल दी . उसकी चूत गुलाबी और गरम थी और मैं उसके ऊपर आ गया। फिर मैंने उसकी चूत पर लंड को रगड़ना शुरू कर दिया । प्रिया मज़ा लेती रही और बोली-

प्रिया – अब चोदो यार. मुझे तुम्हारी लंड की ज़रूरत है मेरी जान. डाल दो मेरी चूत में

फिर मैंने उसकी चूत पर लंड का टोपा रखा और धीरे-धीरे चोदना शुरू किया । और मैंने उसकी चूत की गर्मी को फील किया , अब लिंग उसकी योनि के अन्दर-बाहर हो रहा था और मैं उसकी योनि चोद रहा था।

और साथ-साथ मैं उसका स्तन भी दबा रहा था. बीच-बीच में होंठ और स्तन चूस रहा था उसकी चूत बहुत टाइट थी और मुझे बहुत मजा आ रहा था .

उसकी चूत ने ५ मिनट बाद पानी छोर्ड दिया और मई भी थक गया था , तो उसकी चूत में लंड डालकर आराम करने लगा अब वो फिर से त्यार थी चुदने के लिए .

अब मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी. उसका उसकी चूत पूरी रहा से लाल गई और और उसकी चूत में गर्मी के कारण मेरे लंड बुरा हाल हो गया था । और में उसकी चूत को चोदते रहा

फिर प्रिया बोली- मुझे रस पीना है .

मैं खुश हो गया और फिर में उसकी चूत को छोडकर उसके मुँह को चोदने लगा ये. और रस उसके मुँह में छोड़ दिया अब में और वो शांत हो गए

फिर हम कुछ देर तक चूमा-चाटी करते रहे और मैंने कहा- आई लव यू. इसके बाद प्रिया ने मुझे आई लव यू टू बोला –

प्रिया – पवन मेरी जान, मुझे बहुत पसंद है. अब जब मौका मिलता है हम दोनों फिर से शुरू हो जाते ,

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे प्रिया को चोद कर उसको अपनी रांड बनाया ,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds