पति के कहने पर गैर मर्द से चुदी | Hindi sex story

पति के कहने पर गैर मर्द से चुदी | Hindi sex story

मैंने टीचर के साथ सेक्स का मजा तब लिया जब मैंने कंप्यूटर क्लास लेनी शुरू की. मेरे पति को चुदाई का बहुत शौक था. उन्हीं के उकसाने पर मैंने टीचर का लंड लिया.

यह कहानी सुनकर मजा लें.

यह मेरी पहली और पूर्णतया सच्ची कहानी है.

हाय , मैं आपकी सेक्सी भाभी फातिमा !

यह बात सन 2003-04 की है.
हम लोग बरेली में सुभाष नगर में रहते थे. मेरे हसबैंड जिला निर्वाचन कार्यालय में थे.

हम सरकारी कॉलोनी में रहते थे. हमारा क्वार्टर कॉलोनी के लास्ट में थोड़ा अलग था। (Hindi sex story)

ईमानदारी से बताऊं  … उन दिनों की याद करके मेरी चूत अभी भी चौड़ी हो जाती है और पानी छोड़ने लगती है।

मेरी शादी का आठवां साल था, मैं दो बच्चों की सुपर डुपर सेक्सी मॉम / आपकी भाभी या साली जैसा आप चाहो।

मेरे हसबैंड भी बहुत सेक्सी हैं।
मैं भी टंच माल थी … मेरी हाईट 5 फीट 4 इंच है चूची 36 कमर 34 और मस्त कूल्हे और गांड।

हम दोनों सेक्स का पूरा मजा लेते थे डेली!
मेरे हसबैंड 1 या 2 राउंड चोदे बिना नहीं छोड़ते थे, मुझे बिना चोदे हसबैंड सोते नहीं थे।
मैं भी पूरे जोश और मन से चुदवाती थी।

मेरे पतिदेव wild fantasy की कहानियां भी पढ़वाते थे। उसी से मुझे प्रेरणा मिली अपनी सत्य कथा लिखने की।

69 मेरा और पति देव का प्रिय पोज है।
लन्ड चूसने और चूत चटवाने का मुझे खूब शौक हो गया।

मेरे हसबैंड नेपाल से खरीदकर वीसीडी प्लयेर लाये थे और चोदने से पहले तीसरे चौथे दिन 1-2 ब्लू फिल्म जरूर दिखाते थे.
नंगी फिल्म देखकर मुझे उनसे अपनी चूत

फड़वाने में दुगना मजा आता था और कल्पना शक्ति भी बढ़ जाती थी। (Hindi sex story)

अब असल घटना:
यह कोई कहानी नहीं है ये बल्कि पूर्णतया सच मेरे जीवन के परमानंद प्राप्ति के क्षणों का वृत्तांत है।

मैं हाउसवाइफ थी तो पति से कहती- यार, मैं दिनभर खाली रहती हूं, मैं कोई पार्ट टाइम जॉब करना चाहती हूं।
पति ने कहा- तुम्हारे पास कोई टेक्निकल क्वालिफिकेशन तो है नहीं … इसलिए तुम्हें कोई ठीक ठाक जॉब मिलना मुश्किल है।

मैंने कहा- तो फिर क्या करूं?
तो उन्होंने कहा- कोई ट्रेनिंग कर पहले! (Hindi sex story)

मैंने कहा- बताओ क्या करूं?
उन्होंने कहा- सोचता हूं।

2 दिन बाद पतिदेव ने कहा- तुम कंप्यूटर का कोर्स कर लो।

उन्होंने ही लगभग आधा किलोमीटर दूर एक ठीक ठाक इन्स्टीट्यूट, जिसका नाम सी सेट था, में मेरा एडमिशन करा दिया।
ट्रेनिंग शुरू हो गई।

इंस्टीट्यूट एक 26-27 साल के लड़के का था, गहरा सांवला रंग तंदुरुस्त 5 फीट 7-8इंच लम्बा।
वही सिखाता था … गौरव नाम था उसका!

तीसरे दिन उसने पढ़ाने के बहाने मेरी हथेली छुई।
बस मुझे तो करेंट लग गया.

(क्या आप भी ऐसी चुदाई का मजा लेना चाहते हैं तो Delhi Escort Services से लड़कियां बुक करके आप अपनी अंतर्वासना को शांत कर सकते हैं)

Mahipalpur Escort Services

अगले दिन उसने फिर हथेली छुई।
अब वो मुझे पढ़ाते समय और बच्चों को दूसरा काम देकर भगा देता था।
और इस प्रकार 7-8वें दिन उसने पूरा हाथ दबा दिया।
मैं कुछ नहीं बोली। (Hindi sex story)

वो अब समझ गया कि अब लाइन क्लियर है; बस इंजन स्टार्ट करने की देर है।

वह अब मुझे बिल्कुल अकेले पढ़ाता और धीरे धीरे मेरी हथेली के बाद मेरी बांह भी बड़े प्यार से सहलाने लगा।
मैं तो बस सीधे वासना के समुंदर में गोता लगाने को तैयार थी।

मैंने तो वैसे भी उसे पहले दिन देखकर ही उसका लन्ड लेने का मन बना लिया था. मुझे काला लन्ड बहुत पसंद है, ब्लू फिल्मों में देखकर बहुत मन होता था।

इस बीच रात में मेरे पति ब्लू फिल्म दिखा के चोदते थे तो मैं गौरव के ख्यालों में और जोर जोर से चुदवाती थी।
मेरी चूत की झील कम्प्यूटर टीचर के लन्ड का गौरव खिलने की इंतजार में थी।

धीरे धीरे वो हथेलियों के पिछले भाग से मेरे 36 साइज की चूचियां छूने लगा और अगले दिन दबाने भी लगा।

इस बीच रात को मुझे मेरे पति मेरी चूत चाटकर पगला देते थे और इस दौरान बीच में बहुत ही अश्लील गपशप भी होती थी।

इसी दौरान एक दिन गौरव की चर्चा छिड़ गई.
वो भी गर्म थे और मैं तो चूत चटाई से मदहोश थी।

मैंने बता दिया कि वो मुझे छूने की कोशिश करता है। (Hindi sex story)
ये सुनकर पतिदेव बहुत खुश हुए।

अब गौरव हथेलियों के पिछले भाग से मेरे दूध भी खूब दबाने लगा।
मेरी कल्पनाओं को पंख लग जाते।

उसने अब मुझे सन्डे को भी बुलाना शुरू कर दिया।

वो मुझे सन्डे को 11 बजे बुलाता और उस वक्त सिर्फ 4-5 छोटे छोटे बच्चे ही आते थे। वो बच्चों को आधा एक घंटा पढ़ाकर उनको काम दे देता और छुट्टी कर देता.
और उसके बाद मुझसे मजा लेता.

पहले सन्डे को ही उसने अच्छी प्रगति कर ली।
उसने मेरे दूध बाहर से दबाने शुरू कर दिया मुझे बहुत मजा आया।

बस अब मैं चुदवाने के लिए बेकरार थी।
वो भी आश्वस्त हो गया कि माल तैयार है। (Hindi sex story)

उस दिन रात को पति ने फिर 1 ब्लू फिल्म दिखाई जिसमें दो काले भयंकर अफ्रीकन हथौड़े जैसे लौड़े एक मस्त गोरी औरत को चोद रहे थे।
पति ने पूछा- अगर तेरे साथ ऐसा हो तो?
मैंने कहा- तो क्या … मुझे तो बहुत मजा आयेगा।

पति मेरा जवाब सुनकर बहुत खुश हुए।
वो मुझसे सेक्सी कहानियां सुनने के भी बहुत शौकीन हैं।

उस देखकर मुझे गौरव का लौड़ा याद आ गया।

फिर पतिदेव ने मेरी चूत  का रस पिया मैंने उनका सुपारा चूसा।

इस बीच फिर चुदायी चर्चा शुरू हो गई.
पति ने पूछा गौरव के बारे में पूछा.
तो मैंने पति का मूड समझने के लिए बता दिया कि वो मेरी हथेली पूरी तरह से दबाने लगा है और कभी कभी मौका मिलने पर पूरी बांह भी सहला देता है।

पति ने चटकारे लेकर बोला- अब वो चोद के ही रहेगा तुझे!
मैंने नाटक करते हुए कहा- अजी हां … रहने दो ऐसे ही दे दूंगी क्या मैं? (Hindi sex story)

और दिन तो उसकी मेरी छुआ छुई ही हो पाती थी; फिर आया सन्डे … उसने मुझे 1 घंटा लेट यानि 12 बजे बुलाया.
मैं पहुंची तो वहां 2 बच्चे और थे।
उसने उनकी भी आधा घंटे बाद छुट्टी कर दी और मुझे पढ़ाने आ गया।

हम दोनों अकेले … उसने हथेलियों से शुरू कर हाथ सहलाना शुरू कर दिया।
पर थोड़ी ही देर बाद वो मेरे दूध दबाने लगा.

मेरी चूत गीली होने लगी.

उसने अब हाथ अंदर डाल दिया और दूध दबाने लगा।

इस बीच उसने कंप्यूटर पर ब्लू फिल्म लगा दी.
फिल्म में मेरा फेवरेट काले लौड़े से गोरी मैम चुद रही थी मतलब लौड़े पे सुहागा!
इधर मैं चुपचाप दब रही थी अब वो मेरे निप्पल सहला रहा था।

मैं चूत सागर में डुबकी लगाने लगी और मेरा हाथ एक  कब उसका लौड़ा सहलाने लगा, मुझे पता ही नहीं लगा।

उसने कमरा अंदर से बंद कर दिया।(Hindi sex story)

धीरे धीरे उसने मेरे जांघ सहलाने और दबाना शुरू कर कर दिया, मेरे अंदर आग सुलगने लगी और मेरी चूत का तंदूर गर्म होने लगा।

अब उसने मुझे खड़ा कर दिया. उसकी उंगली मेरी चूत में बोरिंग कर रही थी और उसके होंठ मेरे होंठों का रस पी रहे थे।
मैं चुदाई के सागर में गोते लगाने लगी।

उसने मेरा नाड़ा खोल दिया, मैंने फटाक से अपना पायजामा खोल दिया.

वो मेरा एक दूध पीने लगा और दूसरे से कभी दूसरा दूध दबाता कभी मेरी चूत की मुनिया को सहलाता।
मैं बहुत गर्म हो गई थी।

उसने मेरी पैंटी भी निकाल दी। वो मुझे ऊपर की मंजिल पर बने एक छोटे कमरे में ले गया वहां एक तख्त पर बिस्तर लगा हुआ था।

मैंने भी उसकी पैंट और अंडरवीयर निकाल दिया.
उसका सात साढ़े इंच का काला लंड देखकर मुझसे रहा न गया और गप से मैं उसका लंड चूसने लगी.

वैसे भी बी एफ दिखाकर पति ने मुझे एक्सपर्ट बना दिया था। (Hindi sex story)

Dwarka Escort Services

मुझे उसका जवान काला लंड चूसने में बहुत मजा आ रहा था. उसको भी बहुत मजा आ रहा था.
वो अब मेरा सिर पकड़ कर अपने लंड से मेरे मुंह में झटके मार रहा था.

मैं मस्त हो गई; मैंने दो उंगलियां अपनी चूत में डाल रखी थी जिससे चूत बहुत गीली हो गई.

वो मुझे मुंह में लगभग 7-8 मिनट चोदता रहा।
उसके बाद मेरे दूध दबाने और पीने लगा।

मेरी चूत बहुत गर्म हो गई थी; मैंने उसको कहा- मेरी चूत चाटो।
उसके बाद तो तो उसकी जीभ ने जो मेरी चूत की मसाज की आय हाय क्या बताऊं … वो मेरी चूत के दाने को लेमनचूस की तरह चूस रहा था.
उई मां … मर गई … चुद गई मैं तो! (Hindi sex story)

5-7 मिनट चूसने के बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और अपना सात साढ़े सात इंच का लौड़ा मेरी चूत में डाल और गपागप चोदने लगा।

आय हाय … क्या चोद रहा था वो … क्या बताऊं!
मेरी चूत तो धन्य हो गई।

थोड़ी देर बाद उसने मुझे मेरी टांगें उठा के चोदा और झाड़ दिया।

इसके लगभग एक हफ्ते भर बाद मैं अपने पति से चुदाई के दौरान बहुत गर्म थी, गपशप में मैंने पति को बता दिया कि उसने चोद दिया मुझे!
यह सुनकर मेरे पति बहुत खुश हुए, बोले- बधाई हो तुझे!

फिर उन्होंने पूरा किस्सा सुना मेरी गौरव से चुदाई का जो मैंने ऊपर बताया।

एक दो दिन बाद वो बोले- उसको घर बुला रात को! बोलना कि पति नहीं हैं घर पर!

फिर उसने मुझे मेरे ही घर पर चोदा और उसके बाद यह हर हफ्ते का काम हो गया. (Hindi sex story)

मेरे पति दरवाजे की दरार से देखते थे. वो लाइव मुझे चुदता देखकर बहुत खुश होते थे.
उसके चोदने और जाने के बाद पति भी चोदते थे.
पति बोलते भी थे- आज ऐसा करना वैसे करना!
और मैं वैसे ही सेक्स  टीचर के साथ  करती थी। (Hindi sex story)

, लगभग डेढ़ साल तक हर हफ्ते चोदा गौरव ने मुझे कभी ऑफिस कभी घर पर!
फिर मेरे पति का ट्रांसफर देहरादून हो गया हो गया।

मैं पति का तहेदिल से शुक्रिया करती हूं कि उनके मार्गदर्शन और पूर्ण सहयोग से मैंने गैर मर्द के मस्त काले साढ़े सात इंची लन्ड का परमानंद लिया।

आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी  [email protected] पर मेल करके बताए.

(Hindi sex story)

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds