पड़ोसन भाभी की काली चूत मारी और भाभी की प्यास भुजाइ

पड़ोसन भाभी की काली चूत मारी और भाभी की प्यास भुजाइ

मैं 28 साल का युवक हूं, मैं उदयपुर में रहता हूं यह कहानी मे मेने अपनी पड़ोसन भाभी की काली चूत मारी और भाभी की प्यास भुजाइ

जिसने मेरी जिंदगी बदल दी रचिता मेरे पड़ोसी के चाचा की बहू है जो 30 साल की है और जिसकी शादी राहुल से हुई थी, मेरी कहानी शुरू करने से पहले, उसके कामुक शरीर का भ्रमण करें ..

रचिता लगभग 5 फीट 5 इंच फुल बॉडी फुल बॉडी की मालकिन है, जिसके फिगर को देखकर ही लंड पागलों की तरह फड़फड़ाने लगता है, रचिता 36-32-38 फिगर की मालकिन है और

एक बात जो रचिता को सबसे खास बनाती है वो है उसका सांवला रंग, हम इस बारे में आगे जानने वाले हैं, रचिता की शादी 18 साल की उम्र में राहुल से हुई थी,

शादी के 1 महीने बाद ही अँधेरी काम पर चला गया था राहुल, राहुल साल में कभी-कभी 1-2 बार घर आता है लेकिन जब भी आता है तो रचिता को चोदने के बाद ही जाता है.

ये बात मुझे तब पता चली जब एक बार मैंने गलती से उन्हें छत पर चुदाई करते देख लिया, लेकिन रचिता फिर भी राहुल से खुश नहीं थी, इसकी वजह थी राहुल का अँधेरी से प्यार, असल में राहुल यहां घर पर बहुत कम ही रहता था।

अँधेरी से उदयपुर आने के बाद भी वह बिना घर आए जगह-जगह भटकता रहता था, इसके पीछे का राज था उसकी हवस।

जिसके बारे में मुझे बाद में पता चला, हालांकि रचिता का फिगर किसी भी मुर्गा को थूकने के लिए काफी है, लेकिन राहुल को रचिता पसंद नहीं थी क्योंकि रचिता देखने में खूबसूरत नहीं थी…

इतना होते हुए भी कई लोग रचिता की चूत के पीछे पागल थे, अब मैं आपको अपने बारे में थोड़ा बता दूं, मैं उदयपुर में फ्रीलांसर हूं और खूब कमाती हूं और मेरे पास खाली समय भी है, जिसमें मुझे तरह-तरह की लड़कियों से मिलना पसंद है। उसे चोदने का समय मिलता है

कभी टिंडर से तो कभी मस्त चिकनी-चुपड़ी लड़की को फुसलाकर उसकी चूत को मोटा करने का मौका मिल जाता है, लेकिन रचिता का फिगर देखकर कई बार उसका नाम लेकर मुक्का मारकर उसने लंड की हालत खराब कर दी…

वैसे तो मुझे ऐसी लड़कियां पसंद हैं जो देखने में तो बदसूरत होती हैं लेकिन उनके फिगर को देखकर किसी का भी पानी निकल सकता है। साथ ही मैं हमेशा से काली चूत का दीवाना रहा हूँ, क्या पता मुझे गोरी चूत से ज्यादा काली चूत को चोदने में मजा आता है। भला क्यों आता है….!

रचिता ज्यादातर घर के कामों में व्यस्त रहती थी इसलिए मुझे कभी उससे अकेले में बात करने का मौका ही नहीं मिलता था, नहीं तो मैं उसे अपनी जिंदगी बना लेता और उसकी चूत को बर्बाद कर देता, लेकिन एक दिन संयोग से रचिता छत पर घूम रही थी, उसने बुर्का पहन लिया। छत

कसम से उसे बुर्के में देखकर, लंड अचानक पैंट से बाहर आने को तरस गया, लेकिन किसी तरह मैंने अपने आप को संभाला और रचिता के नग्न शरीर पर अपनी कामातुर दृष्टि डाली, मैं बेशर्मी से उसे देख रहा था और रचिता भी मुझे देख रही थी।

हमारी छत एक-दूसरे के पास थी तो वह मुझसे ज्यादा दूर नहीं थी, कपड़े सुखाते हुए जब वह मेरी तरफ आई तो मैंने कहा

और भाभी, आप पहली बार सामने आई हैं, मुझे यह भी नहीं पता था कि इस घर में कोई लड़की रहती है या नहीं (रचिता से एक-दो बार उनकी मौजूदगी में मेरा परिचय हुआ था)।

रचिता- शरमाते हैं, क्या करें, काम बहुत है

मैंने कहा- और भाभी, राहुल भैया कब आने वाले हैं, आप उनके बिना अकेले कैसे रहती हैं?

रचिता – अब क्या बताऊँ वो तो साल में एक दो बार ही दर्शन देते हैं, बाकी समय तो अफ़सोस होता है……

मैं- अरे ये तो बहुत बड़ी प्रॉब्लम है, शादी को 10 साल से ज्यादा हो गए हैं, फिर आप राहुल भैया के साथ ज्यादा दिन नहीं चल पाए, अँधेरी जाने के पहले के दिन आपके लिए यादगार रहेंगे.

रचिता- किस दिन तुम्हारे भाई मुझे बिल्कुल पसंद नहीं करते, उन्हें मेरा चेहरा बिल्कुल पसंद नहीं है, बस मेरे शरीर को नोंचो…। कबाब, अब भाभी नीचे चली गईं और मैं उस झटकेदार अंकल से राजनीति की बातें करने लगा)

इसके बाद रचिता भाभी कई बार छत पर आने लगीं और हमारी नॉर्मल बातें होतीं, बीच-बीच में मैं रचिता भाभी की दर्द वाली नस पर हाथ रख देता, जिससे उनकी उत्तेजना बढ़ जाती, वो समझ चुकी थीं कि मैं बार-बार उनके सेक्स की बात कर रहा था ज़िंदगी। मैं अप्रत्यक्ष रूप से इसका उल्लेख क्यों करता हूं)

एक दिन मैंने भाभी से पूछा कि आप उस दिन क्या कह रही थीं, वह कहते-कहते रुक गईं।

तब रचिता भाभी ने मुझे बताया कि वह राहुल से बहुत परेशान है, न तो वह उसे पसंद करता है, न ही उसके साथ सेक्स करता है, उसने उससे जबरदस्ती शादी की क्योंकि वह दिखने में बहुत बदसूरत है और रचिता भी एक गरीब परिवार से है।

दोनों तरफ से जबरन शादी हुई थी, राहुल को रचिता की शक्ल बिल्कुल पसंद नहीं थी, न जाने क्यों उसे करीना कपूर जैसी खूबसूरत और गोरी लड़की चाहिए थी जबकि वह खुद दिखने में राजपाल यादव जैसा था और 8 तारीख को उसने बड़े-बड़े सपने देखे थे। फैलाना।

भाभी ने यह भी बताया कि शुरू में कुछ समय तक महिला का भूखा राहुल उसके साथ संबंध बनाता था, लेकिन 1 महीने बाद जब वह अँधेरी जाता था और एक साल बाद वापस आता था तो वह उसके साथ मारपीट करता था

और जंगली सेक्स करता था, जो रचिता को ये पसंद नहीं था और राहुल साल में 1-2 बार ही घर आता था जिससे रचिता की बुदबुदाती चूत की आग बढ़ती जा रही थी.

रचिता भाभी ने बताया कि राहुल अँधेरी में रहकर अच्छा पैसा कमाता था और वेश्याओं से संबंध बनाता था। उड़ा देते थे, कभी बंगलौर या पुणे जाकर किसी सुन्दर वेश्या को होटल बुलाकर उसके साथ बिस्तर साझा करते थे।

यही वजह थी कि रचिता की सेक्स लाइफ के बारे में पूरी तरह से सुना गया था।

मैंने भाभी से पूछा कि आपको ये सब कैसे पता चला?

तब भाभी ने कहा ये कमीना खुद मुझे ये सब बताता है जिससे मैं परेशान हो जाऊं और कहूं कि तुम बिल्कुल भी खूबसूरत नहीं हो मैं खूबसूरत लड़कियों को ही भोगता रहूंगा पैसे देकर

खैर….. मैंने विषय बदलते हुए कहा

रहने दो ननद, तुम्हारे पति तुम्हें संतुष्ट नहीं कर सकते, लेकिन अभी तुम्हारी बहुत जवानी बाकी है, तुम्हें भी इससे अच्छा कोई और रास्ता खोजना चाहिए।

भाभी बोलीं- क्या मतलब?

मैंने कहा- क्या आप सेक्स के लिए खुद को कंट्रोल कर सकते हैं

तो भाभी ने कहा-बिना सेक्स के मेरी हालत खराब हो जाती है लेकिन किसी तरह मुझे खुद पर काबू रखना है, अब मैं क्या करूं, क्या आपके पास कोई रास्ता है? (भाभी और मैं एक दूसरे को कामातुर निगाहों से देख रहे थे)
मैंने जानबूझ कर कहा- अब तो उंगली से काम लेना पड़ेगा, अब यही एक रास्ता बचा है।

तो भाभी ने कहा- 10 साल उंगली से ही काट दिए, मैंने सोचा मर्दों की बात करोगे।

तो मैंने कहा- मेरी मर्दानगी तुम्हारी चीखों को दबा सकती है

रचिता ने कहा- अब चाहे कितनी भी चीखें निकल जाएं, मुझे फर्क नहीं पड़ता

यह सुनकर मैं अपनी छत से उसकी छत पर चला गया और जैसे ही रचिता अपनी भाभी के पास गई वह हट गई।

तो मैंने कहा-लगता है तुम्हारी गांड में भी दम नहीं है.

रचिता भाभी – उसने शरमाते हुए अपना पल्लू गिरा दिया, अपने होठों को चबाते हुए और मेरे लंड को देखकर मेरे और करीब आ गई.

मैंने भाभी को बाहों में भर लिया और उनके मोटे होठों पर अपने होठों को लगा कर बेतहाशा चूमने लगा, मेरे होठों को चूमते हुए एक हाथ भाभी की पीठ को सहला रहा था और एक हाथ से उनकी मोटी गांड को दबा रहा था.
5 मिनट तक रचिता के काले होठों का जूस पीने के बाद हम एक बार के लिए अलग हो गए।

रचिता ने कहा चलो कमरे में चलते हैं

रचिता ने छत का दरवाजा बंद किया और मैं उसे गोद में उठाकर कमरे में ले गया, और कमरे में ले जाकर मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया।

उसका पल्लू गिर चुका था, उसके बड़े मोटे बूब्स निकलने को बेताब थे.

उसके चेहरे पर बरसों की प्यास साफ झलक रही थी और मेरा लंड भी काली चूत की गहराइयों में जाने को बेताब हो रहा था.

मैं रचिता के प्यार में पड़ गया

फिर से उसके होठों को चूमते हुए एक हाथ उसके ब्लाउज के ऊपर से उसके मोटे काले बड़े स्तनों को दबा रहा था और दूसरा हाथ उसके सिर को कस कर पकड़ कर उसके होठों को खा रहा था.
इस स्रोत पाठ के बारे में अधिक

मैंने रचिता को बेतहाशा चूमते हुए लिटा दिया, उसकी साड़ी उठाई और उसकी चूत के ऊपर अपना हाथ ले लिया और मेरा हाथ उसकी चूत को चड्डी के ऊपर से रगड़ने लगा, रचिता की चूत से पानी छूटने लगा.

रचिता को लगातार किस करते हुए मेरा हाथ उसकी चूत में गहराई तक जाने को तरस रहा था और रचिता अपने हाथ से मेरे लंड को अंडरवियर के ऊपर से रगड़ने लगी.

10 मिनट तक उसके होठों को चूसने के बाद रचिता ने मेरी पैंट की जिप खोली और मेरे लिंग को बाहर निकाल कर आज़ाद कर दिया.

2 सेकंड तक मेरे बिना काटे लंड को देखकर उसने अपनी लार टपकाते हुए प्यासी आँख से लंड को देखा और पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया.

मेरा लंड रचिता के होठों की चपेट में आ गया था, रचिता लॉलीपॉप की तरह लंड चबा रही थी.

बरसों की प्यासी रचिता अपने लंड पर ऐसे टूट पड़ी जैसे कोई प्यासा पानी पर टूट पड़े।

आह आह उम्म उम्म एक पोर्नस्टार की तरह रचिता मेरे लंड को बेतहाशा आगे-पीछे घुमा रही थी

मैं स्वर्ग में चल रहा था

5 मिनट तक बेतहाशा लंड चूसने के बाद मैंने रचिता को पकड़ कर लिटा दिया और एक-एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए.

रचिता को अगर कोई नग्न शरीर के साथ देख ले तो उससे ज्यादा खूबसूरत दुनिया की कोई औरत नहीं दिख सकती.

रचिता के मोटे पहाड़ जैसे स्तन देखकर मैं पागल हो गई

उसके निप्पल बहुत लंबे थे, यह देखकर मेरा लंड चौंक गया.

जैसे ही उसने नीचे देखा तो मुर्गा हिलने लगा, भूरे रंग के कपड़ों के पीछे छिपी रचिता की काली चूत शरमा रही थी।

मैं इसे अब और बर्दाश्त नहीं कर सकता

मैडम रचिता की चूत पर टूट पड़ीं

69 पोजीशन में मैं और रचिता निर्वस्त्र थे और एक दूसरे के शरीर को उठा रहे थे।

एक तरफ मैं रचिता की काली चूत को बेतहाशा चूस रहा था और गीला कर रहा था, वहीं रचिता भी उतने ही जोश से मेरे लंड की भयंकर चुदाई कर रही थी.

रचिता कभी जीभ से चारों दिशाओं में घुमाकर लंड की टोपी को चिकोटी काटती है, तो कभी पूरे लंड को आगे-पीछे घुमाकर लंड को अपने मुँह में घुमा लेती है.

मैं रचिता की चूत के अंदर अपनी ज़ुबान डालते हुए अपनी ज़ुबान से उसकी चुदाई करते हुए चूत का जूस पी रहा था.

रचिता ने मेरा लंड अपने गले के अंदर ले लिया और अपने मुँह में चोदने लगी

अब लंड ने जवाब देना शुरू किया,

रचिता के गले में उतरकर मुर्गा ने पिचकारी छोड़ दी और रचिता ने सारी सामग्री सीधे अपने गले में निगल ली।

इधर रचिता भी कुछ देर बाद उसकी चूत को चूसकर अपना रस निकालने लगी।

अब कुछ देर हम दोनों गले मिलकर बातें करने लगे, रचिता कहने लगी कि अब तो उसे हर रात मेरे साथ रंग लगाना है, और वह मेरी वेश्या बनकर मेरे साथ चुदाई करती रहेगी, रचिता के ऊपर लेटे उसकी बातें सुनकर मुर्गा खड़ा हो गया फिर से ऊपर।
इस बार बिना ज्यादा समय गवाए मैंने तुरंत रचिता को उल्टा कर दिया और उसके बाल खींचे और अपना लंड उसकी चूत में गांड की तरफ कर दिया.

और रचिता के बाल खींचते हुए पीछे से उसकी चुदाई करने लगा।

रचिता जोर-जोर से बोलने लगी

हाय अल्लाह मेरी चूत को गधा बना दो

भाड़ में जाओ कुतिया भाड़ में जाओ बहन अपने वेश्या भाड़ में जाओ

मेरी काली चुत भाड़ में जाओ

मेरी प्यास बुझाओ

उसकी गंदी बातें सुनते हुए मैं उसकी चूत को धक्का दे रहा था, मैं रचिता की काली चूत में आसानी से पेलहम कर रहा था, और उसे गालियां दे रहा था और अपनी वेश्या समझकर चोद रहा था.

उसका मुँह घुमा कर उसके होठों को चिकोटी काटते हुए वो उसकी चूत को टाइट करने लगा.

रचिता ने जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया

अब रचिता मेरे ऊपर बैठी काउगर्ल पोजीशन में आ गई थी और तूफान एक्सप्रेस चलाने लगी और अपनी चूत को आगे-पीछे चोदने लगी।

क्यों दीदी तेरा पति तेरी चूत नहीं चोदता?

बहन की नौकरानी

मेरे लड़के को ले लो

मैं गाली देकर उसकी चूत का वाद्य बजाता रहा, रचिता भी जोश से गंदी-गंदी बातें कहकर चुदाई कर रही थी.

माँ चोदने वालों

मेरी काली चूत को बेवकूफ बनाओ

मेरे पति नपुंसक हैं, बहुत दिनों बाद किसी आदमी ने मेरा हाथ छुआ है, मैं तुम्हारे लंड को पूरी तरह से निचोड़ने के बाद ही मानूंगी.

मेरी गंदी चूत को मार डालो, इस काली वेश्या को फाड़ दो

अब मैं फिर से उसकी चूत को उल्टा लेटा कर खेलने लगा, इसी बीच मैनी अचानक अपना लंड उसकी चूत से निकाल कर उसकी गांड में डालने लगा.

रचिता की गांड के छेद ने मेरे लंड को आसानी से पकड़ लिया जैसे रचिता इसी का इंतज़ार कर रही हो

मैंने सोचा- रचिता ने कई लोगों से अपनी गांड मरवाई होगी, नहीं तो लौड़ा बिना थूके इतनी आसानी से अंदर नहीं जा सकता था।

निश्चय ही रचिता ने अपने पति के अभाव में अनेक लड़कों के साथ अपनी प्यास बुझाई होगी।

यही सोचकर मैं उसकी गांड को लगातार चोदने लगा

रचिता बोली छोड़ भोस्दिके छोड़

मेरी काली गांड को फाड़ दो

मैं मजे से रचिता की मोटी 38 इंच की गांड को चोदने लगा

करीब 15 मिनट के बाद मैं रचिता की गांड में गिर गया.

अब रचिता और मैं एक दूसरे को गले लगाने लगे और उसे बताया कि अचानक उसके पागल ससुर ने उसे नीचे से बुलाया, तो उसे जाने दो, लेकिन रात 8 बजे रचिता फिर से ऊपर आई और फिर लगभग 1 बजे तक घंटा, मैंने रचिता की चूत और गांड का आनंद लिया।

इस तरह रचिता और मैं पिछले 2 साल से चूत के लंड की पागल दुनिया में घूम रहे हैं. मैं आपको अगले भाग में बताऊंगा दोस्तों इस कहानी पर अपना प्यार लुटाएं और मुझे बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी। कहानी कैसी लगी, मुझे अपनी मेल आईडी पर फीडबैक जरूर दें ताकि मैं जल्द से जल्द दूसरा भाग आपके लिए ला सकूं।

अपने विचार कमेंट और मेल में बताएं, अच्छा रिस्पॉन्स मिलने पर मैं आपको अपनी जिंदगी की दूसरी लड़कियों की कहानियां भी सुनाऊंगा। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds