सैक्स की प्यासी पड़ोसन आंटी की खूब चुदाई की

सैक्स की प्यासी पड़ोसन आंटी की खूब चुदाई की

हाय दोस्तों, मैं आपके लिए एक नई कहानी लाया को जिसका नाम हे “सैक्स की प्यासी पड़ोसन आंटी की खूब चुदाई की” अपनी सच्ची जीवन की कहानी लेकर आया हूँ।

मैं कोलकाता का रहने वाला हूं। मेरे परिवार में हम 4 लोग हैं। मैं, मेरी छोटी बहन और मेरे माता-पिता।

हमारे घर के बगल वाले घर में एक परिवार रहता है। मैं उन्हें अंकल आंटी ही कहता हूं। अंकल और आंटी की शादी को अभी 7 साल ही पूरे हुए थे और उनका एक 3 साल का लड़का भी है।

हमारे घर अगल-बगल हैं, इसलिए उनसे हमारा रिश्ता घर जैसा है। आंटी हमारे घर आती रहती हैं। बेहद खूबसूरत बदन की मालकिन हैं। आंटी का फिगर 34-32-36 है। आंटी जब चलती हैं तो उनकी गांड और बूब्स सबको अपना दीवाना बना लेते हैं.

मुझे शुरू से ही आंटी बहुत पसंद हैं, आंटी का हमारे घर आना-जाना लगा रहता था, इस वजह से मेरी उनसे अच्छी बातचीत हो जाती थी. आंटी भी मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में जानती थीं। आंटी बहुत खुले विचारों की थीं इसलिए मैं कभी-कभी आंटी की गर्दन और गांड पर हाथ फेर देता था जो मुझे बहुत अच्छा लगता था.

एक दिन आंटी का फोन खराब हो गया तो वो हमारे घर आ गईं और हमारे घर के लैंडलाइन फोन से कॉल करने लगीं. लेकिन जब आंटी रिद्धिमा का फोन नहीं आया तो उन्होंने मुझे फोन करने को कहा. कॉल करने के बहाने आंटी की गांड को छूते हुए मैं फोन डायल करने लगा और अपना लंड आंटी की गांड के ऊपर सेट कर दिया और कॉल करने लगा. मैंने फोन आंटी को दे दिया।

जब तक आंटी बात कर रही थी, मैं बाथरूम में गया और आंटी का नाम लेकर एक मुट्ठी बाहर आ गया.

मैं आकर अपने कमरे में बैठ गया और आंटी भी आकर मेरे पास बैठ गईं और हम दोनों बातें करने लगे, सेक्स की बातें होने लगीं. मैंने आंटी से उनकी सेक्स लाइफ के बारे में पूछा।
फिर आंटी ने बताया- तुम्हारे अंकल सेक्स बिल्कुल नहीं करते, बस दिन भर अपना काम करते रहते हैं. वो मुझे साल में 10-12 बार ही चोदते हैं। आजकल वे बिल्कुल भी सेक्स नहीं करते हैं।

तभी मैंने मजाक में आंटी से कहा- क्या मैं आपकी मदद करूं?
इस पर आंटी कातिलाना मुस्कान के साथ अपने घर चली गईं।

फिर कुछ देर बाद जब मैं आंटी के घर गया तो आंटी का बच्चा सो रहा था और आंटी दूसरे कमरे में चादर ठीक कर रही थी। मैं आंटी के पीछे गया और आंटी को पकड़ लिया.
तो आंटी मुझसे कहने लगीं- ये ठीक नहीं है, कोई आएगा।

इतने में आंटी पलट गईं और जैसे ही आंटी घूमीं तो मेरे होंठ उनके होठों से मिल गए. मैं किस करने लगा लेकिन आंटी दिखावटी रूप में उससे पीछा छुड़ाने की कोशिश करने लगीं.

और जब मैं नहीं गया तो आंटी भी मेरा साथ देने लगीं। अब मैं आंटी के कुर्ते के ऊपर से बूब्स को दबाने लगा और आंटी आह-उम्ह कहने लगीं. इतने में मेरी मां ने मुझे फोन किया तो मुझे जाना पड़ा और मैं आंटी को चूम कर आया और उनसे कहा- तुम सलवार कुर्ते में बहुत खूबसूरत लगती हो।

फिर दूसरे दिन आंटी अपने बच्चे को लेकर वापस आ गईं। फिर वो ब्लैक सलवार कुर्ते में आईं। क्या कयामत लग रही थी उस ड्रेस में, क्या बताऊं दोस्तों!

उस वक्त मेरे घर पर कोई नहीं था और आंटी ने मुझे फोन करने को कहा।
तो मैंने फोन रख दिया और फोन आंटी को दे दिया। और आज मैं भी आंटी के पास बैठ गया और आंटी के शरीर से खेलने लगा. कभी उनके होठों पर, कभी उनकी गर्दन पर उंगली रख देता, फिर धीरे से आंटी के कुर्ते के अंदर हाथ डालकर उनके बोब दबा देता. उनके बोबे को दबाते हुए मैंने आंटी की ब्रा का हुक खोल दिया और अब मैं कुर्ते के ऊपर से ही आंटी के बोबे को अपने होठों से काटने लगा.

फिर मैं धीरे धीरे नाभि पर हाथ फेरते हुए नाभि को चाटने लगा और अब आंटी भी धीरे धीरे गर्म होने लगी और वो भी मेरी टी शर्ट में हाथ डालने लगी.

फिर मैंने धीरे से आंटी की सलवार की गांठ खोली और पैंटी के ऊपर से ही आंटी की चूत को सहलाने लगा.

मैंने देखा कि आंटी की चूत में पानी आ गया था. फिर मैंने धीरे से एक उंगली अपनी चूत में डाली और अपने मुँह में ले ली और फिर वही उंगली आंटी के मुँह में दे दी. अब मैंने आंटी की पैंटी उतार दी और उनकी चूत को देखने लगा.

इसी बीच आंटी ने फोन काट दिया और जोर-जोर से मेरे होठों को चूमने लगीं. आंटी मेरा पूरा साथ देने लगीं और धीरे-धीरे मेरे सारे कपड़े उतार दिए।
आंटी मेरे 6 इंच लंबे और 3 इंच मोटे लिंग को देखती रहीं, फिर बोलीं- मेरे पति का बस 4 इंच का ही है.
और वो मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर सहलाने लगी.

फिर मैं आंटी को गोद में लेकर अपने बिस्तर पर ले आया और उन्हें बिस्तर पर लिटाकर हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे.

लेकिन किस्मत ने हमारा साथ नहीं दिया। इसी बीच आंटी का बेटा रोने लगा और बाहर किसी ने दरवाजे की घंटी बजाई।
तो मैं जल्दी से कपड़े पहन कर बाहर देखने चला गया, तभी डाकिया बाहर डाक देने आया। मैं पोस्ट लेकर वापस आ गया।
लेकिन तब तक भाभी ने भी अपने कपड़े ठीक करवा लिए और सॉरी कहकर मुझे चूम कर अपने घर चली गई क्योंकि आंटी को भाभी को लेने जाना था इसलिए वह चली गईं।

अब उसकी भाभी के आने के कारण अब मैं उसके घर नहीं जा सकती थी।

फिर 2 दिन बाद मेरे परिवार वाले 5 दिन के लिए हमारे गांव गए। वहां किसी की शादी थी। मैं उनके साथ नहीं गया। तो मां आंटी को मेरा ख्याल रखने के लिए कहकर चली गई।
चाचा भी अपने किसी काम से बाहर गए हुए थे। तभी आंटी की भाभी आंटी के घर आ गई थी।

तो मैं घर पर अकेली थी तो आंटी ने मुझे अपने घर डिनर पर बुलाया। मैंने। इस समय ब्लैक गाउन में आंटी बेहद खूबसूरत लग रही थीं। मैं अब पकड़ कर चोदना चाहता था… पर बुआ की भाभी होने के कारण ऐसा नहीं कर पा रही थी.

फिर हम दोनों ने साथ बैठकर खाना खाया और कुछ देर बातें कीं।
फिर आंटी बोलीं- तुम भी यहीं सो जाओ। हम दोनों घर में अकेले हैं।
इसलिए मैं भी वहीं रुक गया।

फिर आंटी और आंटी की भाभी और उनका बच्चा एक कमरे में सो गया और मैं दूसरे कमरे में सो गया।

मुझे नींद नहीं आ रही थी, मैं मोबाइल में दीवानगी के किस्से पढ़कर आंटी का नाम फुसफुसा रहा था, तभी आंटी मेरे कमरे में आ गईं.

तो मैंने आंटी को गोद में ले लिया और जोर-जोर से किस करने लगा. वह भी मेरा साथ दे रही थी। फिर मैं किस करते हुए आंटी के गाउन के ऊपर से उनके बूब्स दबाने लगा.

फिर मैंने आंटी का गाउन उतार दिया और ब्रा के ऊपर से उनकी 34″ मम्मियों को दबाने और चाटने लगा। उस वक्त आंटी काली ब्रा पैंटी में बेहद खूबसूरत लग रही थीं। फिर मैंने आंटी की ब्रा पैंटी उतार दी.
आंटी ने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए और हम एक दूसरे के नंगे बदन को देखने लगे। अब मैं और आंटी सेक्स के लिए तैयार थे.

और फिर से हम दोनों एक दुसरे को किस करने लगे. अब मैं आंटी के गूदे को हाथों से रगड़ने लगा, एक हाथ से आंटी के गूदे को दबा कर दूसरे गूदे को मुँह में लेकर चूसने लगा. मैं ऐसे ही करवटें लेने लगा और आंटी भी जोर-जोर से सिसकियां लेने लगीं.

अब मैं अपने एक हाथ से आंटी की चूत को सहलाने लगा. आंटी की चूत में पानी आ गया था. अब मैं आंटी की चूत चाटने लगा. उसने मेरे बालों में हाथ डाला और अपनी चूत पर जोर से दबाने लगी और आह-उह की सिसकियां लेते हुए जोर-जोर से गिर पड़ी.

मैंने उसकी चूत को चाट कर साफ किया.

फिर आंटी भी मेरे लंड को मुँह में लेकर चाटने लगीं. वो मेरे लंड को अश्लील वीडियो की तरह चाट रही थी, कभी वो अपनी जीभ मेरे लंड के ऊपर चलाती तो कभी पूरा लंड अपने मुँह में ले लेती. मैं तो जन्नत में चला गया था जब आंटी मेरे लंड को चाट रही थीं.

थोड़ी ही देर में मेरा वीर्य आंटी के मुहं में रह गया और आंटी ने मेरे लंड को चाट कर साफ़ कर दिया.

फिर हम दोनों फिर से किस करने लगे। अब मैं आंटी के एक बूबे को अपने हाथ से रगड़ने लगा और दूसरे बोबे को मुँह में लेकर चूसने लगा.
तभी आंटी बोलने लगीं- मुझसे अब और नहीं सहा जाता। इसे जल्दी चोदो!

फिर मैंने आंटी की चूत पर थोड़ा सा तेल लगाया और थोड़ा सा तेल अपने लंड पर लगाकर आंटी की चूत में डालने लगा. लेकिन आंटी ने कई दिनों तक सेक्स नहीं किया था जिससे उनकी चूत टाइट हो गई थी.
तो मैंने एक हाथ से लंड को कस कर पकड़ा और ज़ोर से धक्का दिया. मेरे लंड का टॉप आंटी की चूत में चला गया और वो जोर जोर से चिल्लाने लगी उम्म्ह…आह…हाय…ओह…और वो बोलने लगी कि लंड निकालो.

मैंने आंटी के होठों पर अपने होंठ रख दिए और कुछ देर किस करने लगा. जब आंटी नॉर्मल हुईं तो अपनी गांड को आगे-पीछे करने लगीं.

फिर मैंने धीरे-धीरे धक्का देना शुरू किया। फिर अचानक मैंने एक जोर का धक्का दिया जिससे मेरा लंड आंटी की चूत में काफी अंदर तक चला गया और आंटी की आँखों से आंसू आने लगे. फिर मैं कुछ देर रुका और आंटी को किस करने लगा.

जब वो नॉर्मल हो गई तो मैंने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. इसी बीच जोर-जोर से सिसकियों के साथ आंटी का झगड़ा हो गया। अब आंटी के खो जाने के कारण चूत से पछ-पच की आवाजें आने लगीं, जो पूरे कमरे में गूंज रही थी.

और अब मैंने धक्कों की रफ़्तार भी बढ़ा दी, जिससे अब मेरा लंड सीधे आंटी के गर्भाशय पर लग रहा था, जिससे आंटी को और मज़ा आने लगा.
अब अपना होने ही वाला था तो मैंने आंटी से पूछा- अपना जूस कहाँ डालूँ?
तो बोली – मेरी चूत में डाल दो, बहुत दिन से प्यासी है !
फिर कुछ मिनटों के धक्का-मुक्की से मैं और आंटी दोनों एक साथ गिर पड़े।

फिर कुछ देर मैं आंटी के ऊपर लेटा रहा।

मैं आंटी को किस करता हुआ साइड में लेट गया और आंटी से बातें करने लगा.
फिर मैंने उससे भाभी को चोदने को कहा तो उसने कहा- मैं उससे बात करूंगी.

तभी मेरी नजर गेट पर पड़ी। उसकी भाभी गेट पर खड़ी हमें देख रही थी और अपने होंठ दबा रही थी।

मैंने उसकी भाभी को इग्नोर किया और आंटी को जोर जोर से चोदने लगा. फुफफुच की आवाज पूरे कमरे में गूँज रही थी। जब मैं उसे चोद रहा था तब आंटी कराह रही थी।

आंटी ने अपनी टांगें खोलीं और बोलीं- आह मजा आ गया… और चोदो और जोर से चोदो!

जब मेरा वीर्य निकलने वाला था उसी समय आंटी ने भी अपना जल छोड़ दिया। मेरा सारा वीर्य उसकी चूत में निकल गया.

अब बुआ को डर था कि कहीं वह गर्भवती न हो जाए, इसलिए अगले दिन उसने अपने पति से चुम्बन करवाया और बुआ गर्भवती हो गईं। मेरे लिंग से उसका एक बेटा हुआ, जिसने बाद में मुझसे कहा कि वह मेरा बच्चा है। बच्चे के जन्म के बाद आंटी वहां से चली गई थी।

खैर वो तो बाद की बात है, फिर कभी बताऊंगा।

अब आंटी ने पहले तो पूरे मजे के साथ मस्त अंदाज में अपनी गांड की चुदाई की। फिर जब मैंने उनसे कहा कि तुम्हारी भाभी भी चुदासी है।
उसने मुझसे पूछा- तुम्हें कैसे पता?

मैंने अपनी चाची का चेहरा उस खिड़की की ओर कर दिया जहाँ मेरी माँ खड़ी थी और अपने आप को रगड़ रही थी।
आंटी एक पल के लिए झिझकी, फिर भाभी को कमरे में आने को कहा, वो गरम नौकरानी कमरे में आ गई.

फिर हम दोनों ने मिलकर आंटी की ननद को चुदाई का मज़ा चखाया. चूँकि उसकी ननद अभी भी एक सीलबंद पैक थी, इसलिए आंटी को लगा कि उनकी चूत का खुलना ज़रूरी है, नहीं तो वह उन्हें बदनाम कर सकती थीं।

मैंने उसे अपनी बाँहों में भर लिया और उसे चूमने लगा। देखते ही देखते आंटी ने उसे पूरी तरह नंगा कर दिया। मैंने उसे अपने लंड के नीचे ले लिया.

जैसा कि मैंने लिखा कि ये उसका फर्स्ट टाइम सेक्स था, तो जैसे ही मैंने लंड लगाया वो बहुत जोर से चीखने लगी. आंटी ने अपना मुंह दबाया और मुझे फुल स्पीड से चोदने को कहा. थोड़ी ही देर में उसकी ननद की सील टूट गई और वह भी सेक्स का मजा लेने लगी।

केवल दो दिनों में मैंने उसकी गांड से लेकर चूत और मुँह तक के सभी छेदों को चोद दिया।

अब हम तीनों मस्ती के साथ चुदाई का मजा ले रहे थे।

पांच दिन बाद पता चला कि मां को दो-तीन दिन और लगेंगे। मौज-मस्ती की ये घड़ियाँ मुझे अभी कुछ दिनों के लिए और मिली हैं।

आंटी मेरी रखैल सी हो गई थीं, मैंने उनके साथ हर तरह के सेक्स का लुत्फ उठाया।

अपने विचार कमेंट और मेल में बताएं, अच्छा रिस्पॉन्स मिलने पर मैं आपको अपनी जिंदगी की दूसरी लड़कियों की कहानियां भी सुनाऊंगा। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Hyderabad Call Girls

This will close in 0 seconds