बेटे ने माँ का अकेलापन होली पर माँ को चोदकर  दूर किया

बेटे ने माँ का अकेलापन होली पर माँ को चोदकर  दूर किया

दोस्तों मेरा नाम Rahul है, और मैं Udaipur साकेत का रहने वाला हूं। ये कहानी इसी होली के दिन की है, जब मैं और मां दारु पीके बेहक गए। हमारी फैमिली में हम चार लोग हैं, मैं, डैड, मेरी बहन और मेरी मॉम। अब मैं सभी का परिचय देता हूं।

मेरे डैड का नाम Rohit है, और उनकी उम्र 52 साल है। डैड Udaipur के बेहद अमीर व्यक्ति है। हमारा अपना मॉल और रेस्टोरेंट है, जिससे हमारी अच्छी इनकम होती है। इस्लीए हमारा लाइफस्टाइल बेहद पोर्श है। बावजूद इसके मॉम डैड के बीच रिश्ता अच्छा नहीं है।

खैर, मेरी बहन का नाम poonam है, और वो 19 साल की है। बहन मुंबई के एक कॉलेज से बिजनेस मैनेजमेंट कर रही है, इसमें वो वही अपने कॉलेज हॉस्टल में रही है।

बहन भी मॉम की तरह ही बेहद सेक्सी है, और उसके अक्सर अफेयर होते ही रहते हैं।

अब मैं इस कहानी की लीड हीरोइन के बारे में बताता हूं। मेरी मां का नाम Srish है, और मां की उम्र अब 42 साल है। हा मॉम डैड से लगभाग 10 साल छोटी है। जिस कारण वो डैड से सेक्सुअली कभी संतोष नहीं रहता है, और अक्सर बाहर जाके चुदवाया करती है। माँ का अकेलापन मुझसे देखा नहीं जाता था 

मॉम का फिगर 48-38-48 है, और उनकी हाइट 5 फीट 9 इंच है। जिस कारण मॉम काफी हैवी माल लगती है। मेरा भी माँ पे बचपन से ही क्रश है। मैं मां को ही देख-देख के जवान हुआ हूं। और पिछले काफी टाइम से मैं मां को चोदने के फिरक में भी हूं।

अब मैं बिना देर किए कहानी पर आता हूं। बात होली के दिन की है। जब डैड अपने बिजनेस टूर पे द और बहन अपने हॉस्टल में। मैं और मां घर में अकेले द। यह मैं बताता हूं कि मैं और मां बहुत अच्छे दोस्त हैं, और आपस में अपनी हर बात शेयर करते हैं।

क्योंकि होली के दिन दारू की दुकान बंद ही रहती है। इसलिए मैंने पहले ही ब्लेंडर्स प्राइड की एक फुल बॉटल खरीदी ली थी। तकी फ्रेंड्स के साथ दारु पीके होली मन सकुंगा। और ये बात मैंने मॉम को भी नहीं बताई थी। ताकि वो अपने दोस्तों के साथ मिल के गटक न ले।

रात दो बजे का समय रहा होगा। मैं अपने कमरे में सोया हुआ था। की तबी मेरे कमरे में किसी ने प्रवेश किया। अब मैंने हल्की सी आंख खोल के देखा तो मां ही थी। शायद मॉम पार्टी से अभी-अभी ही आई थी। वो अक्सर देर रात दारू पीके अपनी किटी पार्टी से आती है।

मैं वैसे ही आंखें बंद करके लेता रहा, कि तभी मुझे कुछ गिरने की आवाज आई। मैंने आंख खोल के देखा तो मां झुक के अपना फोन उठा रही थी। अब मॉम सिर्फ ब्रा-पैंटी में ही थी, और उनके बड़े-बड़े बूब्स मेरे सामने ही लटक रहे थे।

ये देख मेरी आधी खुली आंखें पूरी तरह से खुल गई, और मेरी धड़कने भी तेज चलने लगी। वाही अब मॉम की हैवी गांड मेरी तरफ थी, जिसे देख मेरा लुंड बिल्कुल टाइट हो गया। मुझे जगता देख मॉम एक स्माइल पास की, और ‘गुड नाइट’ बोल के मेरे साथ ही सो गई।

माँ तो गई पर मेरी नींद वो उड़ चुकी थी। उनकी भारी गांड और मोटे चूचों को अब मैं मसाला चाहता था। पर ऐसा करने के लिए हिम्मत नहीं जूटा पा रहा था। पर मां की गांड सहलाते हुए अपने लुंड को रगड़ के उसका माल निकला दिया, और फिर सो गया।

जब आंख खुली तब 9 बज चुके थे। अब मैंने बहार निकल के देखा तो माँ बहुत पुरानी और पारदर्शी रात पहनने के किचन में काम कर रही थी। मैंने पीछे से जाके मां को गले लगा लिया और उन्हें हैप्पी होली विश कर दिया। मॉम ने भी बदले में हैप्पी होली विश की।

(अगर आप भी ऐसे सेक्स का मजा लेना चाहते हैं तो Escort Services in Delhi से लड़कियों को बुक करके अपने अंदर की वासना को पूरा कर सकते हैं)

Escorts in Dwarka

माँ: तो क्या प्लान है आज का तेरा?

मैं: अभी दोस्तों को कॉल करूंगा, और आपका?

माँ: हमारी होली रात को ही हो गई, वो भी दारु से।

मैं: मतलब आपने रात को ही होली खेल ली?

माँ: हा बेटा, वो दोस्त यूएसए जा रहे थे, इसलिए हम रात को ही होली खेल लिए।

मैं: अच्छा, यानी आप आज होली के दिन भी रंग नहीं लगाने वाली?

माँ: कोई है ही नहीं रंग लगाने वाला।

मैं: मैं हूं ना मां।

माँ: अच्छा ठीक है, लगा लेना बज गया।

अब मैंने मॉम को और ज़ोर से गले लगाया, तो पता लगा कि मॉम ने नाइटी के अंदर ब्रा-पैंटी नहीं पहनी थी। अब मेरा लंड टाइट हो गया, जिसको मॉम भी फील करने लगी। तब भी मेरा फोन बजा, तो मैं मां से अलग हो गया और अपने कमरे में फोन पे बातें करने लगा।

भले ही मैं बात फोन पर कर रहा था, पर दिमाग में तो मां के साथ होली खेलने का प्लान चल रहा था। मैंने फ्रेंड्स को बहाना दे दिया कि मुझे फीवर था, इसलिए मैं नहीं आऊंगा। और मन में माँ को चोदने का प्लान भी बनाने लगा।

तब भी एक आइडिया आया कि क्यों ना मॉम को दारू पिलाने के बाद और होली खेलने के बहाने चोद दें। अब मैं मां को बस चोद देना चाहता था। यही सोचते हुए अब मैं मां के पास पाहुंचा, और एक-दम उदास चेहरा बना के बोला-

मुख्य: मेरे दोस्त भी गद्दार निकले।

माँ: क्यों, ऐसा क्या कर दिया उन्हें?

मैं: वो भी होली खेलने नहीं आ रहे।

माँ: क्यों?

मैं: वो सब बिना बताए ही गोवा चले गए।

माँ: कोई नहीं, हम आपस में ही होली खेल लेते हैं।

मैं: मां, एक बात बोलू, आप गुस्सा तो नहीं करोगी ना?

माँ: नहीं, बोलो बेटा।

मैं: मैंने दारू खड़ी ली थी, ताकी फ्रेंड्स के साथ पियूंगा होली पे।

माँ: अच्छा तो कोई बात नहीं, मैं हूं ना।

मैं: अच्छा, आप साथ दोगे  मेरा?

माँ: ज़रूर दूंगी, पर किसी को पता नहीं चलना चाहिए।

मेन: ज़रूर माँ।

माँ: चल पहले कुछ खायेंगे। उसके बाद अपनी महफ़िल जमायेंगे।

मेन: ठीक है माँ।

और मैंने मॉम के गाल पे एक किस कर दिया।

माँ के चेहरे पर अब एक मुस्कान आ गई थी, जो उन्हें और खूबसूरत बना रही थी। मैं अब रंग और गुलाल लाने के लिए बहार चला गया। लौट के देखा तो मॉम नाइटी उतार के फ्रॉक पहन ली थी, जो साइज में बेहद छोटी थी।

अब माँ की मोती-मोती जाँघों को देख मेरा बुरा हाल हो रहा था। वही उनके 75% बूब्स भी ऊपर से दिख रहे थे। फ्रॉक उनकी भारी गांड को भी धक नहीं पा रहा था। ऐसे में मां की गांड को भी मैं देख पा रहा था। अब मेरे जाते ही मॉम ने मुझे ब्रेकफास्ट करवा दिया

लगभाग 12 बजे से हम दारू की बोतल लेकर बैठ गए। अब मॉम ने बोतल खोली, और हमारे लिए पैक बनाने लगी। मैं भी काफी खुश हो रहा था, कि आज मां को चोदने  को मिलेगा। जिसके मैं बरसो सपने देखता रहा, वो आज मेरे बिस्तर में होगी।

कुछ ही डर में हम दोनों ने 3-3 पैक लगा लिया। मुझे हल्का नशा हो चूका था और अब मां मुझे परी जैसी दिखने लगी थी। तब भी मैंने मॉम की आंखों में देखा, तो वो भी नशे में थी। अब बहाने से मैं अंदर गया, और बाल्टी में रंग घोल के ले आया।

मॉम अब नशे में थी और बोली: ये तू क्या करेगा?

मुख्य: आपको ऊपर से नीचे तक आज रंगूंगा मां।

मां: अभी नहीं, एक दो पैक और लगता है। फिर चाहे जितना रंग लगा लेना।

मुख्य: अच्छा तो फिर जल्दी पैक बनाओ।

माँ: तूने आज मेरी होली मनवा दी, वरना आज दारु कह मिलेगी

अब हमने दो-दो पैक और लगा लिया। फिर उसके बाद मैंने थोड़ा रंग लेके मां के गाल पर लगा दिया। इस्से मॉम चौक गई, और वो भी पलट के थोड़ा रंग मुझे डाल दी। अब मैं थोड़ा गीला हो गया। मैंने पूरी बाल्टी उठाई, या मॉम पे पलट दी, जिसे वो पूरी भीग गई।

अब मां के कपड़े उनसे एक दम चिपक गए। जिस्से मॉम के बूब्स का निपल्स छोड़ सब दिखने लगा। ये देख मेरा लुंड एक-दम से टाइट हो गया। अब मां मेरी तरफ आई और अपने हाथ का रंग मेरे देखे पर रागदने लग गई। उनका ये स्पर्श ने मुझे पागल कर दिया।

अब मैं मां को अपनी तरफ खीचा, और मां की भारी गांड को मसलने लगा। मां मेरी आंखों में देखी, और मुस्कान की। मैं मां का सिग्नल समझ गया, और उनके होठों पर अपने रखने दिए। मॉम भी एक-दम वाइल्ड हो कर मेरे होंथो को चुनने लगी।

Gurgaon Escort Services

देखते ही देखते माँ ने मेरे और मैंने माँ के कपड़े फाड़ दिए। अब हम नग्न हो चुके थे, बस चुदाई बाकी रह गई थी। अब मैं मां को बिस्तर तक उठा के ले गया। वो अब भी मेरे होंठो को चूस और काट रही थी। ऐसा लगा जैसे वो बरसो से लंड की भुखी हो।

बिस्तर पे पते ही माँ ने अपनी जोड़ी फेला दिए, और मुझे चोदने  का इशारा करने लगी। मैंने भी बिना देर किए मां की चुत पे अपने होठ  लगा दिया। और माँ की चटनी के नमकीन पानी को चाटने लगा। मॉम ने भी जितना हो सकता है अपने जोड़ी को फेल दिया और कराहने लगी।

माँ: उम्म आहहह।

अब मैं बीच-बीच में थोड़ा हल्के से चोट पर दांत भी गड़ा रहा था।

माँ: श्ह ओह माय गॉड, बहुत अच्छा करता है तू बेटा, आह आह।

मैं: मां अपने हाथो से मेरे सर को अपनी चोट पर दबने लगी, और मैं भी मां की रसीली चुत  के रस को चाट रहा था।

माँ: आह चूसो मेरे लाल। अपनी माँ की चुत को और अच्छे से चूसो।

मैं: काफी टाइम चुत को चाटने के बाद, अब मॉम की चुत में लुंड दाल दिया।

माँ: आह ओह बेटा, तेरा लंड तो काफी मोटा है।

ये सुनते ही मेरा जोश और बढ़ गया, और अब मैं एक-दम वाइल्ड होके ज़ोर-ज़ोर से शॉट मारने लगा। इससे पूरे कमरे में आहों और थाप-थप की आवाज गूंजने लगी। मां भी नीचे से अपनी गांड ऊंचा-उचल के मेरा पूरा साथ दे रही थी.

हम मां बेटा अब बेहद जंगली हो चुके द। क्योंकि अब मां मेरी पीठ में अपने नखुन गड़ा रही थी। और मैं मां की गर्दन और बूब्स पर अपने दांतों के निशान बना रहा था। 20 मिनट की चुदाई के बाद अब मॉम मेरे ऊपर आ चुकी थी, और फुल साउंड में चिल्ला रही थी।

माँ: आ आह आह आह ओह चोदो मुझे, और ज़ोर से चोदो।

मैं: हाँ माँ, आज आपकी चुत  फाड़ दूँगा, आह।

और मैं नीचे से झटके मारने लगा।

माँ: फड़ दो बेटा, आज पूरे तीन साल बाद किसी जवान लुंड से चुदवा रही हूँ ऊह।

अब मॉम की चुत से फच-फच की आवाज आने लगी थी। वाही मॉम अब और जोर से चिल्ला रही थी। वो बोल रही थी-

माँ: चोदो  मेरे लाल, फड़ दो अपनी माँ की चुत। भर दो अपनी मां की चुत में अपने लुंड का पानी।

मां की बातें सुन कर मैं घपा-घाप मां की चोट मारता रहा। क्या एक घंटे की चुदाई में मां 2 बार झर चुकी थी। लेकिन अब मेरा माल निकालने वाला था। इसलिए अब मैंने मॉम को नीचे पटक दिया, और उनकी चोट में अभी तक के सबसे तेज शॉट मारने लगा।

मां की जान मोती होने के कारण कमरे से अब फट-फट की आवाज आने लगी। लगभाग 75 मिनट की चुदाई के बाद मैंने माँ की चुत में अपना पूरा रस निछोड़ दिया। मॉम भी मेरी आंखों में देख के स्माइल कर दी, और मेरे होने को चुनने लगी।

काफी देर तक मैं मां के ऊपर ही लेता रहा। मॉम अब भी नशे में थी, जो उनकी आंखें बता रही थी। मां के ऊपर लेते-लेते कब नींद आ गई पता ही नहीं चला।

जब आंख खुली तो रात के 11 बज रहे थे। पर माँ मेरे बिस्तर में नहीं थी। मेरा नशा बिल्कुल उतर चुका था। इसलिए मैं बहार निकल के मां को ढूंढने लगा। देखा माँ नाहा  चुकी थी, और रसोई में खाना बना रही थी।

मैं पीछे से जा कर मां को पकड़ लिया, और उनके बूब्स को दबाने लगा. मां भी पलट के मेरे होठो  को चुनने लगी और बोली-

माँ: अभी नहीं बेटा, अब रात के खाने के बाद।

फिर डिनर के बाद मैंने मॉम को जी भर के चोद  दिया। आज होली बीते लग एक महीना हो गया है, पर हमारी चुदाई अब भी जारी है।

आपको सेक्स स्टोरी केसी लगी Wildfantasy पर इससे भी सेक्सी स्टोरी हे जाके पढ़े |

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds