मौसी की लड़की को चोदा और उसकी चूत अपने लंड से फाड् दी

मौसी की लड़की को चोदा और उसकी चूत अपने लंड से फाड् दी

प्रिय दोस्तो, मेरा नाम राज है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “मौसी की लड़की को चोदा और उसकी चूत अपने लंड से फाड् दी”

यह घटना मेरे और मेरी मौसी की बेटी के रिश्ते के बारे में है. मैं आपको बता दूं कि मैं दिखने में थोड़ा बेहतर हूं, लेकिन खुद की तारीफ करना गलत लगता है।

फिर भी शायद परिचय के लिए बताना ज़रूरी है. मेरी लम्बाई 6 फीट है और मेरा शरीर गठीला है. मेरी उम्र 26 साल है।

ये करीब एक साल पहले हुआ था. मेरे भाई और भाभी दिल्ली शहर में दो कमरे के मकान में रहते हैं। मेरे भाई की वहां नौकरी है.

मेरी मौसी की लड़की दिल्ली शहर में ही अपनी पढ़ाई कर रही थी. उसका नाम आशिका है. मैं आपको उसके बारे में बता दूं, उसके स्तन बहुत बड़े और अच्छे हैं।

उसके नितंबों का आकार देखते ही मेरा लंड सलामी देने लगता था. अगर आप उसकी झलक देखेंगे तो आपका भी उसके साथ सेक्स करने का मन हो जाएगा.

दिवाली की छुट्टियाँ थीं इसलिए अपने घर जाने से पहले वो एक दिन के लिए भाई के घर आ गयी. संयोग से मैं भी वहीं था.

हालाँकि आज से पहले मेरे मन में आशिका के प्रति कोई बुरे विचार नहीं थे, लेकिन कुछ महीने पहले आशिका एक बार मेरे भाई के घर मेरे घर आई थी।

हम बचपन से ही बहुत अच्छे दोस्त रहे हैं इसलिए हम ऐसे ही मजाक करते रहते थे. उस दिन मजाक-मजाक में मेरा हाथ आशिका के स्तनों पर लग गया और मैंने गलती से उन्हें पकड़ लिया और उसी समय उसके स्तन दब गये।

मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मक्खन का गोला मेरे हाथ में हो. बूब्स दबने से उसके मुंह से ‘उई..’ की आवाज निकली और अगले ही पल मैंने उसके बूब्स छोड़ दिए. वो कुछ नहीं बोली, बस मुस्कुरा दी.

तभी से मैंने इसे पाने की कोशिश शुरू कर दी. उसकी चूत मेरी आँखों में बस गयी थी. इस घटना के बाद मैं लगातार मौके की तलाश में रहता था.

इस बार मौका अच्छा था. आशिका घर आई और मुझे देखकर खुश हुई। फिर हम सब यानि जीजाजी और मैं बाहर जाने के लिए तैयार होने लगे.

जब आशिका तैयार होकर आई तो मैं उसे देखता ही रह गया. वह कमाल की लग रही थी. उसने स्लीवलेस टॉप पहना हुआ था, जिसके साइड से उसके कुछ स्तन दिख रहे थे. वह बहुत अच्छी लग रही थी.

हम सब काफी देर तक इधर उधर घूमते रहे. मैं बार-बार आशिका के करीब चला जाता. कार में भी कभी पीछे की सीट पर से उसके मम्मों को छूता, कभी उसकी कमर पर हाथ रखता. लेकिन आशिका ने कोई विरोध नहीं किया.

अब बाहर खाना खाकर जब हम घर पहुँचे तो सोने का समय आया। भाई का घर छोटा होने के कारण उनके सोने की व्यवस्था एक कमरे में ही थी।

मैंने कहा- आशिका और मैं नीचे सोयेंगे. भैया-भाभी, आप दोनों ऊपर बिस्तर पर सो जाओ. भाई ने कहा- ठीक है सो जाओ. आशिका और मैं एक गद्दे पर एक साथ आ गये थे।

आशिका आई और मेरे हाथ पर सिर रख कर लेट गयी. कमरे की लाइटें बंद थीं. भैया और भाभी सो चुके थे और मैं आशिका के स्तनों और नितंबों को अपने आधे शरीर पर महसूस कर पा रहा था।

मैंने खुद को थोड़ा आगे बढ़ाया और एक तरफ होकर अपना पैर आशिका के ऊपर रख दिया और अपना हाथ उसके स्तनों पर रख दिया। उन्होंने इसका कोई विरोध नहीं किया.

कैदी के मन में क्या है यह समझने के लिए मैंने बस एक मिनट के लिए अपना हाथ रखा… जब कुछ नहीं हुआ, तो मैंने अपनी उंगली से उसके निप्पल को छेड़ा।

उसका निपल सख्त हो गया था. जिसका मतलब था कि आशिका भी गर्म होने लगी थी. फिर क्या… मैं धीरे-धीरे उसके स्तनों को सहलाने लगा और अपना पैर उसकी जांघ पर रगड़ने लगा।

मुझे लगा कि वो यूं ही सोने का नाटक करती रहेगी, लेकिन थोड़ी देर बाद उसने मेरी टी-शर्ट पकड़ ली, अपना चेहरा मेरी तरफ कर लिया और मुझसे चिपक गयी.

मैं एक पल के लिए स्तब्ध रह गया. अब मैं उसकी गर्म साँसें अपने सीने पर महसूस कर सकता था। तभी अचानक भाई जाग गया.. उसकी आवाज सुनते ही मैं डर गया और तुरंत करवट लेकर दूसरी तरफ मुँह करके लेट गया।

भैया उठ कर वॉशरूम में चले गये. दो मिनट बाद वह वापस आया और सो गया. मैंने मन में सोचा कि बहुत अच्छा मौका हाथ से निकल गया.

अब मुझमें इतनी हिम्मत नहीं थी कि पलट कर उसके करीब जा सकूँ। लेकिन उस दिन किस्मत मुझ पर मेहरबान थी. कुछ देर बाद आशिका भी उठी और मेरे करीब मेरी तरफ मुँह करके लेट गयी.

अब मैं समझ गया कि भट्टी में आग लग गयी है. मैंने बिना देर किये उसके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. जैसे ही मैंने अपना हाथ उसके स्तनों पर रखा, उसने तुरंत मेरे होंठों को अपने मुँह में ले लिया

और हम दोनों काफी देर तक ऐसे ही एक-दूसरे के होंठों को चूमते रहे। मैं उसके स्तन दबाता रहा. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उसके हाथ में दे दिया. मेरा लिंग 6 इंच लंबा और थोड़ा मोटा है.

जब मैंने अपना लिंग आशिका के हाथ में दिया तो वह बिना किसी हिचकिचाहट के मेरे लिंग से खेलने लगी. वो मेरे सामान से खेलने में इतनी मशगूल हो गई कि ऐसा लगा ही नहीं कि आशिका को लंड से कोई नफरत है.

इधर मैं उसके स्तनों से खेल रहा था. भैया-भाभी ऊपर बिस्तर पर थे … और हम नीचे मजे कर रहे थे. इस वजह से हम दोनों ज्यादा कुछ नहीं कर पा रहे थे.

लेकिन मैंने धीरे से अपना हाथ उसके लोअर के अंदर डाल दिया. ऐसा लगता है मानो हमारे अंदर आग जल रही हो. उसकी चूत इतनी गर्म हो रही थी कि किसी भी पल फटने वाली थी.

मैंने धीरे-धीरे उसकी योनि को सहलाया तो उसकी कमर बहुत तेजी से थिरकने लगी। उसकी चूत गीली होने लगी थी. अब हम दोनों एक दूसरे को अपने हाथों से मारने की कोशिश कर रहे थे.

मैंने धीरे से एक उंगली चूत के अन्दर डाली और अन्दर की दीवारों को रगड़ने लगा। इससे उसके मुँह से कराह निकल गयी.

इससे पहले कि ये आवाज तेज़ होती, मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और हम दोनों मजा लेने लगे. कुछ ही देर में हम दोनों स्खलित हो गये। फिर दोनों सो गये.

मुझे अफ़सोस था कि मैं कुछ नहीं कर सका.. क्योंकि कमरे में भैया-भाभी भी थे। फिर सुबह आशिका उठी और ऐसे बर्ताव करने लगी जैसे उसके और मेरे बीच कुछ हुआ ही न हो. कुछ देर बाद वह अपने घर चली गयी.

इसके बाद मैं उसे चोदने का मौका ढूंढता रहा. अभी तक सफलता नहीं मिली है, लेकिन जिस तरह का माहौल बना है, उससे उम्मीद थी कि चूत और लंड का मिलन जरूर होगा.

अब मैं आशिका को चोदने का मौका ढूंढ रहा था, लेकिन वो मुझसे बिल्कुल सामान्य तरीके से बात कर रही थी. खैर मैं तो बस मौके की तलाश में था.

दो महीने बाद आशिका का मैसेज आया कि वह घर जा रही है. उनकी ट्रेन कल है और आज से उनकी छुट्टी है.

उसने मुझसे कहा कि वह भाई-भाभी के घर पर नहीं रहना चाहती. उनकी बातों से मुझे लगता है कि मुझे हरी झंडी मिल गई है.

मैंने उससे होटल में रुकने के लिए कहा, लेकिन पहले तो उसने मना कर दिया. फिर मैंने उसे मना लिया.

अब मेरे दिन अच्छे नहीं कट रहे थे. आख़िर वो दिन आ ही गया. आशिका मुझसे मिली. पहले हम दोनों घूमे, खाया पिया और रात को होटल पहुँचे।

लेकिन आज बात ये थी कि आशिका की तरफ से कोई संकेत नहीं मिला कि वो मुझसे चुदाई करवाना चाहती है. उसका ये रवैया देख कर एक बार तो मुझे डर लग रहा था

कि अगर मैंने पहल की और कुछ बोलना शुरू किया तो इज्जत की माँ चुद जायेगी. खैर… हम दोनों खाना वगैरह ख़त्म करके होटल के कमरे में आ गये और लेटने ही वाले थे। मैंने अपनी जींस उतार दी और सिर्फ अंडरवियर में लेटने लगा.

आशिका कुछ नहीं बोली और बस मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा दी. मैंने लाइट बंद करके लेटने को कहा. बिस्तर पर केवल एक कम्बल था। दोनों एक ही कंबल में ढके हुए थे.

मैं धीरे-धीरे उसके करीब गया और उसे अपनी बांहों में ले लिया.. क्योंकि अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था। शायद आशिका भी मेरी तरफ से कुछ होने का इंतज़ार कर रही थी. वो तुरंत मेरे ऊपर आ गयी.

मैंने कहा- इतनी देर बाद ऐसा मूड क्यों हुआ? वो बोली- यही तो मैं तुमसे पूछना चाहती हूँ. मैं तो बस यही समझ गया कि वो तैयार है और मेरी तो गांड फट रही थी.

अगले ही पल हम दोनों सेक्स करने लगे. हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे. मैंने बिना समय बर्बाद किए उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए और उसके मम्मों को बाहर निकाल कर चूसने लगा.

अब उसके मुँह से कामुक कराहों की आवाज आ रही थी. मैंने धीरे से उसके निप्पल को काटा और उसने मेरे बाल पकड़ लिए। मैंने भी अपना लंड निकाल कर उसके हाथ में दे दिया.

वो लंड से खेलने लगी. फिर मैंने उससे मेरा लंड मुँह में लेने को कहा, लेकिन वो नहीं मानी. बहुत मनाने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और फिर कुछ देर बाद मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी.

अब आशिका अपने चरम पर थी. वो मुझसे बोली- मुझे और मत तड़पाओ… धक्के मार कर चोदो मुझे! मैं भी भूखे शेर की तरह उसके ऊपर चढ़ गया और अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा.

जैसे ही मैंने पहला धक्का लगाया तो लंड अन्दर नहीं गया. लेकिन थोड़ी कोशिश करके जब मैंने दोबारा अपना लंड अन्दर धकेला तो आशिका की चीख निकल गई.

उसकी आंखों से आंसू आ गये. यह उसका पहली बार चूत चोदने का मौका था. मैं पहले भी कई बार सेक्स कर चुका था. मेरी बहन की चूत से खून निकल रहा था और उसे दर्द हो रहा था.

कुछ पल रुकने के बाद मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिये. कुछ देर बाद आशिका को भी मजा आने लगा. अब उसके मुँह से ‘आह… आह…’ की आवाजें आ रही थीं।

फिर मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी. अब वो कह रही थी- आह और तेज़… और तेज़! बस 15-20 मिनट में ही हम दोनों झड़ गए.

उस रात मैंने आशिका को तीन बार चोदा। अब जब भी मौका मिलता है, मैं अपनी चचेरी बहन को बुला लेता हूं और उसे चोद लेता हूं.

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds