सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-3

सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-3

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सेक्सी मौसी को सेक्स के लिए पटाया – मौसी चूत चुदाई कहानी भाग-3”। यह कहानी जतिन की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मौसी को सेक्स के लिए पटाया कहानी में पढ़ें कि जब मैंने मौसी को घोड़ी बनाकर चोदा, मौसी गांड के छेद को देखने के बाद, मुझे लगा कि उसकी गांड भी चोदनी चाहिए। मैंने मौसी को गांड मरवाने के लिए कैसे मनाया?

दोस्तो, मैं जतिन आपको अपनी शिखा मौसी की चुदाई की कहानी बता रहा था.

कहानी के दूसरे भाग:  मौसी चूत चुदाई कहानी में अब तक आपने पढ़ा था कि जब मैंने Shikha मौसी को पूरी नंगी करके चोदना शुरू किया तो कुछ ही देर में वो चरम सीमा पर पहुँच गयी थीं। लेकिन मेरे लंड की भूख इतनी जल्दी कैसे मिटने वाली थी?

अब आगे मौसी को सेक्स के लिए पटाया कहानी:

मेरे लंड के झटकों से मौसी की चूत से पानी बाहर निकलने लगा. मेरे तेज़ झटकों से बिस्तर बुरी तरह हिल रहा था।

“आईईई आह्ह आह्ह इसस्स्स आह्ह आह्ह उन्ह ओह रुको कमीने।” मैं नहीं रुका और मौसी फिर से उत्तेजित हो गयी। इस तरह मैंने काफी देर तक मौसी को ऐसे ही चोदा. (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

अब मैं फिर से मौसी के ऊपर चढ़ गया और अपना लंड पकड़ कर मौसी के मुँह में डालने लगा.

मौसी मेरी मंशा समझ गईं और उन्होंने अपना मुँह खोल दिया.
मैंने आगे झुक कर अपना लंड मौसी के मुँह में डाल दिया और उसे चोदने लगा.

मुझे मौसी के मुँह को चोदने में उतना ही आनन्द आ रहा था जितना उनकी चूत को चोदने में मिल रहा था। मैं मौसी के मुँह में अपना लंड डालने के लिए अपनी गांड हिला रहा था- ओह मौसी आह्ह!

इस समय मौसी की मुँह की चुदाई का अद्भुत माहौल बन रहा था. मौसी के मुँह में अपना लंड डालने के बाद मैंने उन्हें पलट दिया.

अब मेरे सामने मौसी की गोरी चिकनी पीठ और लाजवाब Moti Gand थी.

अपने लंड की चाहत को शांत करने के लिए मैं तुरंत मौसी के ऊपर चढ़ गया और उनके कंधों और कानों को चूमने लगा.

“उंह्ह्ह इस्स्स आह्ह्ह।”

मैं मौसी के सेक्सी बदन को बड़ी बेताबी से चूम रहा था.
इधर मेरा लंड मौसी की गांड में घुसने के लिए दबाव बना रहा था.

कमरे में जोर जोर से “पुच्च पुच्च आउच पुच्च पुच्च” की आवाज़ गूँज रही थी।
मैं मौसी के शरीर को चूमने और चाटने के लिए पागल हो रहा था।

कुछ ही देर में मौसी की चिकनी पीठ मेरे थूक से गीली हो गयी थी.

मैं एक हवसी सांड की तरह लग रहा था.
मुझे लग रहा था कि आज के बाद मुझे कभी मौसी की चूत नहीं मिलेगी या ये दुनिया की आखिरी चूत है.

मैं मौसी के चिकने और सेक्सी चूतड़ को चूमने लगा।

अहा… मौसी के चूतड़ अद्भुत थे… एकदम गोल, सुडौल और चिकने।
मैं मौसी के चूतड़ को बुरी तरह चूम रहा था।

फिर मौसी अपनी गांड इधर उधर हिलाने लगी लेकिन मैंने उसकी गांड दबा दी.

तब कुछ समय के भीतर मेरा लंड मौसी के गांड को चूम करके संतुष्ट था।
अब मेरे दिमाग में मौसी को घोड़ी बनाकर चोदने की योजना घूमने लगी.

मैंने मौसी को घोड़ी बनने को कहा.

“अब मुझे घोड़ी भी बनाओगे?”
“हाँ मौसी।”

“मुझे ऐसे ही चोदो मेरे राजा. मुझे और अधिक परेशान क्यों कर रहे हो?”
“मौसी, मुझे तुम्हें घोड़ी बनाने की बहुत इच्छा है. प्लीज़ घोड़ी बन जाओ!”

अब मौसी बेचारी क्या करती, वह मेरी जिद के आगे झुक गई और तुरंत बिस्तर पर घोड़ी बन गई।

“और कहा अब अपनी घोड़ी पर चढ़ो।”

मैंने झट से मौसी की Tight Chut में अपना लंड सैट किया और उनकी कमर पकड़ कर जोर से अपना लंड उनकी चूत में पेल दिया.

लंड चूत में घुसते ही मौसी फिर से चिल्ला उठीं- आ आह्ह … ओह मेरे राजा. मेरा लंड एक ही झटके में मौसी की चूत में पूरा घुस गया था. मैंने मौसी की कमर पकड़ ली और कराहते हुए उसे चोदने लगा.

मेरा लंड मौसी की चूत में अंदर-बाहर हो रहा था। मौसी मेरे लंड के झटकों से बुरी तरह हिल रही थी.

“आय आह उई…ओह मेरे राजा।”
“हाँ मेरी रानी, मुझे तुम्हें घोड़ी बनाकर बजाने में बहुत मज़ा आ रहा है… आह्ह।”
“अपनी रानी को अपनी इच्छानुसार बजाने। मैं आज तुमसे चुदवाकर धन्य महसूस कर रही हूँ।”

मैं पूरी ताकत से मौसी की चूत में अपना लंड पेल रहा था.

मुझे मौसी के साथ घोड़ी बन कर खेलने में बहुत मजा आ रहा था.
मेरा लंड मौसी की चूत के गुलाबी हिस्से को अन्दर बाहर करने लगा था.

मेरे लंड की मार से मौसी को बहुत पसीना आ रहा था, लेकिन आज मौसी अपनी चूत की आग बुझाने के लिए सब कुछ सहने को तैयार थी. (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

फिर कुछ देर बाद मौसी कांपने लगी और जल्द ही मौसी की चूत से गर्म लावा फूट पड़ा.

मेरे लंड के धक्को से मौसी का लावा नीचे टपकने लगा.
मौसी की दर्द भरी कराहें माहौल को और भी गर्म कर रही थीं- आह्ह आह्ह आह्ह… इसस्स आह्ह ओह मेरे राजा.

मैं पूरी ताकत से मौसी की Chut Chudai कर रहा था.
मौसी की चूत से गर्म वीर्य निकल कर उनकी जाँघों से होता हुआ बिस्तर की चादर पर गिर रहा था।
वो दर्द से कराह रही थी और जोर जोर से लंड को अपनी चूत में ले रही थी.

कुछ देर बाद मैंने मौसी को बिस्तर से नीचे उतारा.
उसने बिस्तर पकड़ लिया और फिर से घोड़ी बन गयी.

“आह आह आह आह… जतिन बहुत अच्छा लग रहा है… आह।”
“तुम्हें यह पसंद आया मौसी… यह तो मेरा बहुत बढ़िया हथियार है।”
“हाँ मेरे राजा।”

मैं अपनी गांड हिला-हिला कर मौसी की चूत में अपना लंड जोर-जोर से पेल रहा था।

तभी मौसी को एक अजीब सी सिहरन हुई और जोर जोर से चोदने से वो फिर से पानी पानी हो गयी. मैंने मौसी की चूत को बहुत बुरी तरह से चोदा था.

अब मेरी नजर मौसी की गांड पर टिकने लगी. मैं बिस्तर पर बैठ गया और मौसी से मेरा लंड चूसने को कहा। मौसी बैठ गयी और मेरे लंड को हाथ में लेकर मसलने लगी.

“बहुत मस्त हथियार है यार… तेरा!”
“हां मौसी, अब से यह सिर्फ तुम्हारा है… जब भी तुम्हारा मन हो मांग लेना. मेरा हथियार तुम्हारे लिए हमेशा तैयार रहेगा।”

“अच्छा!”
“हाँ मौसी।”
“समय आने दो, तब देखूंगी!”
“हाँ हाँ… देख लेना।”

फिर मौसी ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और धीरे-धीरे चूसने लगीं.

मैं मौसी के बालों में हाथ फेर रहा था.
वो जोर जोर से मेरा लंड चूस रही थी.

मौसी को देख कर ऐसा लग रहा था मानो वो बहुत दिनों से लंड की भूखी हो.
वो भूखी शेरनी की तरह मेरे लंड पर झपट रही थी.

“ओह मौसी, बहुत अच्छा लग रहा है। आह्ह बस ऐसे ही मजा देते रहो. अरे मौसी, तुम तो कमाल की खिलाड़ी निकलीं।”

धीरे धीरे मौसी की स्पीड बढ़ती जा रही थी. उसने चूस-चूस कर मेरा लंड गीला कर दिया था. मैंने भी अपना लंड मौसी के लिए खुला छोड़ दिया था- ओह मौसी, जब तक चाहो चूसो इसे. मुझे कोई जल्दी नहीं है. (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

मौसी मेरे लंड को अलग अलग तरीके से चूस रही थी.
मैं भी उसके लंड चूसने के स्टाइल की तारीफ कर रहा था.

मौसी में लंड चूसने का एक अलग ही जोश था. अब मैं खड़ा हुआ और अपना लंड मौसी के मुँह में डाल दिया और खड़े-खड़े ही उनके मुँह को चोदने लगा।

मौसी चुपचाप लंड को मुँह में भर रही थी.
तभी मेरा लंड हिचकोले खाने लगा और मैंने झट से उसे मौसी के मुँह में ठूंस दिया.

मौसी मेरा लंड बाहर निकालने की कोशिश करने लगीं लेकिन मैंने नहीं निकाला.

कुछ ही देर में मेरे लंड का माल बाहर आ गया.
अब मौसी बेचारी क्या करती… मजबूरी में मौसी मेरे लंड का सारा माल पी गईं।

कुछ देर बाद मैंने लंड बाहर निकाल लिया.

“कमीने, तुम बाहर फेंक सकते थे, है ना?”
“अगर मैं इसे बाहर निकालता तो तुम मेरे लंड का रस कैसे पी पाती?” और तुम्हें लंड का रस पिलाना ज़रूरी था मौसी.”

“तुम तो बहुत हरामी निकले।”
इतना कह कर मौसी फिर से मेरा लंड चूसने लगीं और कुछ ही देर में मौसी ने मेरा लंड खड़ा कर दिया.

अब मैंने मौसी को खड़ा किया और फिर से घोड़ी बनने को कहा.

“अभी थोड़ी देर पहले घोड़ी बनी थी, अब फिर घोड़ी?”
“हाँ मौसी।”

मौसी फिर से बिस्तर पकड़ कर घोड़ी बन गयी.
मैं मौसी की गांड में अपना लंड डालने लगा तो मौसी मेरी मंशा समझ गईं और खड़ी हो गईं.

“जतिन यार, मैं इसे अपनी गांड में नहीं डलवाऊंगी।”
“मुझे करने दो, मौसी. “मुझे तुम्हारी गांड चोदने का मन कर रहा है।”

“नहीं यार, गांड में बिल्कुल नहीं. गांड में बहुत दर्द होता है… बदले में तुम जितनी चाहे उतनी चूत चोद सकते हो, मैं बिल्कुल भी मना नहीं करूंगी।” (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

“बहुत देर तक मैंने तुम्हारी चूत चोदी मौसी. अब तो बस तेरी गांड ही बची है. अब तो मुझे तुम्हें अपनी गांड देनी ही पड़ेगी।”

“नहीं यार जतिन, प्लीज़ मेरी गांड मत लेना।”
“मौसी गांड तो लेनी पड़ेगी।”

मौसी बार-बार मुझे अपनी गांड देने से मना कर रही थी लेकिन फिर मैंने उन्हें गांड देने के लिए मना लिया।

अब मौसी फिर से घोड़ी बन गयी.
मैं मौसी की गांड के छेद में थूक लगाकर अपने लंड को सैट करने लगा.

“धीरे धीरे डालना जतिन.मुझे बहुत डर लग रहा है।”
“चिंता मत करो मौसी. मैं इसे आराम से डालूंगा।”

अब मेरा लंड मौसी की गांड में सैट हो गया था.
मैंने उनके Big Boobs को दबाया और एक जोरदार झटके के साथ अपना लंड मौसी की गांड में पेल दिया.

गांड में लंड घुसते ही मौसी जोर से चिल्ला उठीं- आईईईई मम्मी मैं मर गयी, ओह जतिन, बहुत दर्द हो रहा है… लंड बाहर निकाल! (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

मैंने अपना लंड निकाला और फिर से मौसी की गांड में डाल दिया.
मैंने मौसी की कमर पकड़ ली और जोर जोर से उनकी गांड चोदने लगा.

मौसी की कसी हुई गांड चोदने में मुझे बहुत मजा आ रहा था.

दर्द के मारे मौसी की हालत खराब हो रही थी- आईई आईईई ईईई आअहह, धीरे डालो मेरे राजा… आईईई आअहह… क्या आज अपनी रानी की जान लेने का इरादा है? “तेरी गांड चोदने में बहुत मजा आ रहा है. आह, यह तो बहुत बढ़िया गांड है।”

जोरदार धक्को के साथ मेरा लंड अब मौसी की गांड के अंत तक पहुंच गया था.
मुझे मौसी की गांड चोदने में पूरा मजा आ रहा था.

वो ज्यादा देर तक मेरे लंड का गुस्सा सहन नहीं कर पाई और कुछ ही देर में मौसी की चूत से गाढ़ा पानी बहने लगा.

मेरे लंड की जोरदार ठुकाई से मौसी का वीर्य जल्दी ही निकल गया, लेकिन मैं अभी भी पूरी ताकत से मौसी की गांड में अपना लंड पेल रहा था. (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

मौसी की दर्द भरी चीखें मेरे लंड को और भी उकसा रही थीं- आईईई आहह उन्ह उन्ह ओह राजा … तुमने तो मेरी गांड भी नहीं छोड़ी … उसे भी चोद दिया.

“हाँ मेरी रानी, तुम्हें तो मजा आ रहा है ना?”
“हम्म…अभी तो आना शुरू हुआ है. पहले तो बहुत दर्द हुआ।”

मैं मजे से मौसी की गांड चोद रहा था.
मेरी मौसी भी मजे से अपनी गांड मरवा रही थी.

गांड चोदन से मौसी की दर्द भरी चीखें अब आनंद से बदल कर आह्ह आह्ह में बदल गयी थी।

मैंने काफी देर तक मौसी की गांड चोदी.
फिर मैंने मौसी को उठाया और वापस बिस्तर पर ले आया और उसकी टाँगें खोल दीं।

मैंने तुरंत अपना लंड मौसी की चूत के छेद में डाल दिया और फिर से उसे जोर-जोर से चोदने लगा। मेरा लंड फिर से मौसी की चूत में हंगामा मचाने लगा- आअहह आह्ह सस्स्स आह्ह आह्ह सस्स्स उन्ह ओह आह्ह!

मौसी की हालत चुदाई के बाद बहुत खराब हो गई थी.
अब मौसी के शरीर में मेरे लंड को झेलने की ताकत नहीं रही.

इधर मेरा लंड रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था.
तभी एक बार फिर मौसी का पानी निकल गया.

मेरा लंड फिर से मौसी की चूत के पानी से भीग गया था- आअहह आह्ह स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स् आह्ह्ह ओह उन्ह बस्स्स्स्स जतिन, अब मुझे मत चोदो! मैं “बस थोड़ी देर और मौसी।” (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

मैं काफी देर तक मौसी को बजाता रहा.
फिर मैंने मौसी की चूत में अपना वीर्य छोड़ दिया.

मैं पसीने से भीग गया और मौसी के बदन से लिपट गया.

हम दोनों काफी देर तक गले मिले रहे. आज मैं अपनी मौसी को चोद कर बहुत खुश था और मौसी भी अपनी चूत की आग मुझसे बुझवा कर बहुत खुश थी। (मौसी को सेक्स के लिए पटाया)

कुछ देर बाद मौसी उठी और फर्श और बेडशीट पर लगे दाग साफ कर दिये.

इसके बाद मौसी वापस अपने कमरे में जाने लगीं लेकिन मैंने उन्हें नहीं जाने दिया.
मौसी एक बार अपने बच्चों को देखकर चुपके से वापस आ गईं और मेरे साथ नंगी ही सो गईं।

सुबह तक मैंने मौसी को एक बार फिर चोदा.

मौसी जो तेजी से चुद रही थी, उसने अपने कपड़े उठाए और अपने कमरे में चली गई। मैं गहरी नींद में सो गया. कब सुबह हो गयी पता ही नहीं चला.

आपको मेरी मौसी को सेक्स के लिए पटाया कहानी कैसी लगी, मुझे ईमेल करके जरूर बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds