मसाज करने के बहाने भाभी को चोदा और अपने बड़े लंड का स्वाद चखाया

मसाज करने के बहाने भाभी को चोदा और अपने बड़े लंड का स्वाद चखाया

दोस्तो, मेरा नाम अमन है. आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “मसाज करने के बहाने भाभी को चोदा और अपने बड़े लंड का स्वाद चखाया”

मैं 2019 में पढ़ाई के लिए बैंगलोर आया था. मैं आते ही एक कमरा किराए पर लेना चाहता था।

एक मकान में कमरा था, जिसमें मकान मालिक के परिवार में 3 लोग रहते थे, मकान मालिक की भाभी और एक भाई और उनकी बेटी.

मैंने भाभी से पूछा- ये सिंगल रूम है या डबल रूम? तो उसने बताया- सिंगल रूम. आपके लिए सिंगल ही सही रहेगा। भाभी ने पूछा- क्या करते हो?

तो मैंने कहा- भाभी, मैं बैंगलोर पढ़ने आया हूँ और यहाँ से पढ़कर घर चला जाऊँगा। उसने पूछा-तुम्हारे माता-पिता कहाँ रहते हैं?

मैंने कहा- आंटी, सब लोग गांव के घर में रहते हैं, मैं शहर में अकेले पढ़ने आया हूं. उसने मुझसे कहा- क्या मैं आंटी लगती हूँ? मैंने कहा- नहीं नहीं, गलती हो गयी. सॉरी सॉरी, आप भाभी हैं!

उसने हल्की सी मुस्कान दी और अपने कमरे में चली गयी. जाते समय उसने मुझसे कहा- अगर तुम्हें कुछ लेना हो तो बता देना. मैंने कहा- ठीक है भाभी!

मैंने अपना कमरा साफ़ किया और किताबें अलमारी में रख दीं। बिस्तर बनाया और सो गये. फिर अगले दिन जब मैं उठा तो मैंने भाभी से पानी की बोतल मांगी.

उसने मुझे बोतल दी और बोली- और कुछ लेना हो तो बता देना. मैंने मन में सोचा कि मुझे तो बहुत कुछ लेना है। फिर मैं अपने कमरे में चला गया.

इस तरह दोस्तो … बहुत दिन बीत गये. भाभी से मेरी थोड़ी बहुत बातचीत होती रहती थी. फिर 2 महीने के बाद मैंने भाभी से पूछा कि भाभी आप क्या करते हो?

तो उसने बताया- वो एक प्राइवेट कंपनी में इंजीनियर है और नाइट शिफ्ट में ड्यूटी करती है। इस तरह मुझे पता चला. फिर धीरे-धीरे हमारी बातें होने लगीं.

मैं पढ़ कर आता था और पानी की बोतल ले जाता था. वो मुझे बहुत अच्छी लगने लगी थी. एक दिन मैंने भाभी से कहा- आप इतनी कोमल कैसे हैं? क्या आप मसाज वगैरह करवाते हैं?

तो वो बोली- नहीं, लेकिन पहले करवाती थी. अब काफी समय हो गया है. मैंने पूछा- क्यों? उन्होंने बताया- पहले मैं पार्लर जाती थी. अब पार्लर बंद है इसलिए.

तो मैंने कहा- भाभी, आप चिंता मत करो. घर पर ही मालिश कराएं। भाभी ने पूछा- घर पर मेरी मालिश करने कौन आएगा? मैंने कहा- भाभी, मैं पढ़ाई करता हूँ और पढ़ाई के साथ-साथ मसाज भी करता हूँ।

तो उसने कहा- क्या तुम मेरी मालिश कर दोगे? मैंने कहा- भाभी, इसमें दिक्कत वाली क्या बात है? तो उन्होंने कहा- ठीक है

तुम्हारे भाई की नाइट शिफ्ट है. शाम को जब वो चले जायेंगे तो तुम मेरी मालिश कर देना. मैंने कहा- ठीक है. अब मैं बेसब्री से इंतजार कर रहा था. और शाम 7:00 बजे चले गए भाई!

फिर मैं भाभी के कमरे में गया और उनका दरवाजा खटखटाया. तो उसने दरवाज़ा खोला. भाभी ने मैक्सी पहनी हुई थी, वो बिल्कुल परी लग रही थीं. मैं तो देखता ही रह गया.

मैंने कहा- भाभी, आप बहुत खूबसूरत लग रही हो. भाभी ने मुझे धन्यवाद कहा और बोलीं- अन्दर आओ और मेरी मालिश करो. ज्यादा बात मत करो, सिर्फ काम पर ध्यान दो।

मैं अंदर गया और बिस्तर पर लेट गया. भाभी बोलीं- लेटने के लिए नहीं बुलाया, जिस काम के लिए आये हो वो करो. तो मैंने भाभी से कहा- आप अपनी मैक्सी उतार दीजिये.

उसने कहा- तुम खुद ही निकाल लो. मैंने कहा- ठीक है. फिर मैं भाभी के पास गया और उनकी मैक्सी उतारने लगा. उसने मैक्सी के नीचे कुछ भी नहीं पहना था, वो पूरी नंगी थी.

आप यहाँ सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते है Visit Us:-

मैं उन्हें देखने लगा. उन्होंने कहा- शरमाओ मत, काम करो. फिर मैंने भाभी से कहा- आप बिस्तर पर लेट जाओ. भाभी ने बिस्तर पर दूसरी चादर बिछाई और लेट गईं.

मैंने उसे भाभी की पीठ पर रखा और थोड़ी मालिश की. मैंने उसके पैरों से लेकर उसकी गांड और चूत तक की मालिश की।

उसने कहा- ठीक है, अब नहा लेते हैं! मसाज करते-करते आप भी गंदे हो गए! मैं और भाभी दोनों नहाने चले गये. नहा कर बाहर आये.

भाभी बोलीं- तुमने मेरी मालिश अच्छी की. मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा है. फिर मैंने भाभी से कहा- क्या हम कुछ कर सकते हैं? तो उसने कहा- और क्या?

मैंने कहा- जब तुमने मालिश करवा ली है, सब देखा लिया है तो मेरी दिल की इच्छा भी पूरी कर दो! तो उसने कहा- तुम मेरे साथ क्या कर सकते हो?

मैंने कहा- आप जो कहेंगी मैं कर सकता हूँ. और मैं इसे इस तरह से कर सकता हूं कि कोई और नहीं कर सकता. तो उसने कहा- तुम नहीं कर पाओगे. मैंने कहा- मैं कर लूंगा.

उसने कहा- मुझे बहुत रफ और डर्टी सेक्स पसंद है. तो मैंने भाभी से कहा- भाभी मुझे भी ये सब अच्छा लगता है. उसने कहा- ठीक है तो चलिए शुरू करते हैं. फिर मैंने कहा- भाभी ठीक है.

हम दोनों बिस्तर पर लेट गए और फ्रेंच किस करने लगे. 10 मिनट तक फ्रेंच किस किया. फिर मैं सीधा बिस्तर से नीचे उतर गया

और भाभी के गोरे पैरों को सूंघने लगा और उन्हें चाटने लगा. मैंने 10 मिनट तक उनके तलवे चाटे.. उसके बाद मैंने भाभी के पूरे पैर चाटे।

भाभी बोलीं- मुझे ऐसे लड़के पसंद हैं जो मेरे पूरे शरीर को चाटें. मैंने कहा- ठीक है भाभी, मैं आपको पूरी तरह संतुष्ट करूंगा. चिंता मत करो, मैं तुम्हारा गुलाम बनना चाहता हूँ।

मैं तुम्हें पीना चाहता हूं मैं तुम्हारे पैरों के नीचे हमेशा रहना चाहता हूं! आशिका भाभी को भी मेरी बात अच्छी लगी. वह बोली- ठीक है गुलाम, आज से तुम मेरी गुलामी करोगे. तुम वही करोगे जो मैं कहूँगी.

फिर भाभी ने मुझे नीचे लेटाया और मेरे मुँह पर अपनी चूत रखकर बैठ गईं और मुझसे उसे चाटने को कहा. मैं कुत्ते की तरह भाभी की चूत चाट रहा था.

मैंने आधे घंटे तक भाभी की चूत चाटी. भाभी मेरे मुँह में झड़ गईं और मैंने उनका अमृत रस पी लिया. फिर भाभी बोलीं- आज तक किसी ने मेरी बगलें नहीं चाटीं.

अपनी जीभ मेरी बगल में डाल कर चाटना. मैं उसकी बगलों को चाटने लगा. फिर उसने मेरे मुँह में थूक दिया. मैं उसका थूक पी रहा था. तभी भाभी उठीं और मुझसे बोलीं- तुम्हारा लंड कितना बड़ा है?

मैंने भाभी से कहा- मेरा लंड 8 इंच का है और बहुत मोटा है. फिर मैंने भाभी को नापकर दिखाया और वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चाटने और चूसने लगीं. फिर मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

फिर मैंने भाभी से कुतिया बनने को कहा. वो डॉगी स्टाइल में आ गयी. मैंने अपने दोनों हाथों से उनके गोरे चूतड़ों को फैलाया और भाभी का एकदम काला छेद दिखने लगा.

वो काला छेद गांड का छेद था. इसकी खुशबू बहुत अच्छी थी. मैंने अपनी 4 इंच लंबी जीभ निकाली और उसकी गांड चाटता रहा. दोस्तों मुझे भाभी की गांड चाटना बहुत पसंद है.

मैंने पूरी जीभ भाभी की गांड में डाल दी और चाटने लगा. भाभी सिसकारियाँ ले रही थी. भाभी बोली- तुम ऐसे ही चाटते रहो! इस जगह को आज तक कोई नहीं चाट सका। मुझे बहुत अच्छा लग रहा है।

मैं आधे घंटे तक लगातार भाभी की गांड में अपनी जीभ चला रहा था, अन्दर-बाहर कर रहा था। उसे बहुत अच्छा लग रहा था.

फिर मैंने भाभी को खड़ा किया एक पैर बेड पर एक जमीन पर. मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और एक झटका मारा. मेरा सीधा लंड उसकी चूत में समा गया और मैं ऊपर नीचे झटके मार रहा था.

मैंने करीब 20 मिनट तक लगातार चोदा, उसके बाद मैं झड़ गया. मैंने भाभी से पूछा- कैसा लगा? तो उन्होंने बताया- मैं बहुत खुश हू. मैंने अपने जीवन में ऐसा कभी नहीं सोचा था. आज मैं बहुत संतुष्ट हूं.

तुम मुझे ऐसे ही खुश करते रहो. मैंने कहा- तुम चिंता मत करो. जब तक मैं बैंगलोर में हूं, तुम्हें हमेशा खुश रखूंगा. उसके बाद हमने 10 मिनट तक आराम किया.

फिर मैंने भाभी से कहा- मैं आपकी गाण्ड मारना चाहता हूँ। भाभी बोलीं- ठीक है, लेकिन तुम्हारा लंड तो 8 इंच का है, अन्दर कैसे जायेगा? मार ही डालोगा

मैंने कहा- नहीं, कुछ नहीं होगा. आप चिंता न करें. मैंने तुम्हारी गांड में जीभ डाल कर बहुत मुलायम कर दि है. फिर किसी तरह मैंने उसे तैयार किया

और उसके बाद उसे डॉगी स्टाइल में करके अपना 8 इंच का लंड उसकी गांड पर रख दिया. फिर धीरे-धीरे पूरा लंड भाभी की गांड के अंदर डाल दिया

और उसके बाद लगातार 15 मिनट तक भाभी की गांड चोदी. भाभी बोलीं- बहुत अच्छा लग रहा है. मुझे ऐसे ही चोदते रहो.

मैं कुछ देर और चलता रहा, फिर मैं भाभी की गांड में ही झड़ गया। हम दोनों बिस्तर पर लेट गये.

थोड़ी देर लेटे रहने के बाद उन्होंने कहा- अब मेरी मालिश करो. सुबह के 4:00 बजे हैं. एक घंटा मसाज करो, फिर सो जाऊंगी. तभी मेरे पति आ जायेंगे.

फिर मैंने भाभी की अच्छे से मालिश की और अपने कमरे में चला गया.

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds