मामा मामी को नींद की गोली देने बाद मामा की बेटी को चोदा

मामा मामी को नींद की गोली देने बाद मामा की बेटी को चोदा

दोस्तों आज में जो कहानी सुनाने जा रही हु उसका नाम हे “मामा मामी को नींद की गोली देने बाद मामा की बेटी को चोदा” मुझे यकीन की आपको ये कहानी पसंद आएगी|

नमस्कार दोस्तों, मैं उदयपुर से रोहित रॉय हूं। मेरी पिछली कहानी थी: मैं तेरा तू मेरी

यह हॉट सेक्स भाई बहन की कहानी मेरे और मेरी चचेरी बहन के बारे में है।

वह मेरे मामा की बेटी है और उसका नाम आशिका है।

आशिका की उम्र बाईस साल है और वह अभी एमएससी कर रही है।

मेरी बहन का फिगर 30-28-32 बहुत फिट है। वह गोरा रंग और सुस्वाद यौवन का संगम है।

वैसे तो हम दोनों एक दूसरे से इतने खुले हैं कि मामा के घर में हम दोनों ने दो बार खुलकर सेक्स किया है.

अभी पिछले महीने ही आशिका हमारे घर कुछ दिनों के लिए आई थी। उनके आने से मुझे बहुत खुशी हुई।

मैंने सोचा बहुत दिनों के बाद आशिका की गर्म जवानी का स्वाद चखूंगा।

उन्हें आए हुए दो दिन हो गए थे, लेकिन तब तक मुझे मौका नहीं मिल रहा था। मैं उसे चोदने के लिए तड़प रहा था।

ये बात वो भी जानती थी. पर वो भी साली मेरे मजे ले रही थी।

वह दिन भर मां के पास ही रहती और रात को भी मां के कमरे में ही सोती थी। मैं अपने पिता के साथ अपने कमरे में सोता था।

तीसरे दिन मैंने आशिका से कहा- चलो आशिका, आज मैं तुम्हें घुमाने ले चलता हूँ।

वह भी मुझसे कहीं मिलना चाहती थी, इसलिए झट मान गई। मेरी मां ने भी हमें जाने के लिए हां कह दिया।

इसलिए हम दोनों भाई-बहन बाइक लेकर घर से निकल पड़े। कुछ दूर जाकर मैंने उसे एक बाग में बिठाया

और चूमा और कहा- यार क्यों तड़पा रही हो? बताओ तो तुम क्या चाहती हो वो छूटते ही बोली- चुदना।

मैंने कहा- फिर पास क्यों नहीं आ रही थी? चलो अब किसी होटल चलते हैं। वहां मैं तेरी चूत का छेद ढीला करता हूँ।

उसने होटल जाने से मना कर दिया और कहा- नहीं, होटल में नहीं

वहां बहुत खतरा है। हम इसे अपने घर पर ही करेंगे आप बस थोड़ा सब्र रखें।’

मैंने कहा- एक रास्ता है। उसने कहा- क्या? मैंने कहा

मैं कुछ एंटी-एलर्जी दवाई लेता हूं, आप शाम को अपने मां-बाप को खिला देना।

उसने कहा- इससे क्या होगा। मैंने कहा- उन्हें नींद आ जाएगी।

उसने कुछ नहीं कहा, तो मैंने दवा ले ली। और हम दोनों घर आ गए।

किस्मत ने उस दिन मेरा साथ दिया। रात को खाना खाने के बाद

आशिका ने अपने माता-पिता को दूध पिलाया, फिर उसमें दवा मिला दी।

एक घंटे से पहले इसका असर नहीं होने वाला था। हम सब बैठ कर बातें करने लगे।

इसके बाद जब हम सोने जा रहे थे कि अचानक लाइट चली गई।

उस रात बहुत गरमी पड़ रही थी तो मेरे पापा ने कहा- आज बहुत गरमी है, हम सब हॉल में सोयेंगे।

यह सुनकर मुझे बहुत खुशी हुई। आशिका भी मेरा खुश चेहरा देखकर हँसने लगी।

पापा ने हॉल में बेड लगा दिया। पापा एक तरफ सो गए, मम्मी बगल में सो गईं।

आशिका अपनी माँ के पास लेट गई और मैं उसके पास लेट गया।

पापा ने बत्ती बंद की तो पूरा अँधेरा हो गया। अंधेरा इतना था कि बगल वाले को देखना भी मुश्किल था।

मैं सबके सोने का इंतजार कर रहा था। एक घंटे के बाद जब सब सो गए तो मैंने आशिका को धीरे से सहलाया।

वह भी सो रही थी। लेकिन जब मैंने उसे हिलाया तो वह जाग गई। मैं धीरे से उसे मम्मी से थोड़ा दूर ले गया।

वो मेरे कान में धीरे से फुसफुसाई-क्या कर रहे हो रोहित? मैं- जब से तुम आए हो, मैं तुम्हारे लिए तड़प रहा हूं।

आप भी मुझे एन्जॉय कर रहे हैं। लेकिन आज मुझे मौका मिला है, मैं इस मौके को हाथ से जाने नहीं दूंगा।

आशिका- यार मुझे डर लग रहा है। मौसी और मामा बाजू में सो रहे हैं।

अगर उन्हें भनक लग गई तो हम दोनों काम से निकल जाएंगे।

मैं- कुछ नहीं होगा डार्लिंग, हम बिल्कुल आवाज नहीं करेंगे।

डरो मत मैं सब संभाल लूंगा। उसने दवाई ले ली है। उसकी नींद टूटने की कोई उम्मीद नहीं है।

मेरी बात सुनकर वह थोड़ी आश्वस्त हुई। फिर हम दोनों मां-बाप से अलग हो गए और दूर लेट गए।

आशिका ने कहा- चलो, बाहर छत पर चलते हैं। मैं- लेकिन पड़ोस के लोगों की नजर लग जाने का खतरा था।

मैंने उसे मना करते हुए माँ के कमरे में जाने को कहा। वो इसके लिए मान गई और हम दोनों उठकर मम्मी के कमरे में आ गए.

अब मैंने आशिका के होठों पर अपने होंठ रख दिए और बरसों के भूखे शेर की तरह उसे चूमने लगा।

मैं अपनी बहन को जोर-जोर से किस कर रहा था। आशिका भी अपनी तरफ से पूरा जवाब दे रही थी।

कभी मैं अपनी जीभ आशिका के मुंह में डाल देता तो कभी आशिका अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल देती।

हम दोनों के जोरदार किस से आशिका के होंठ लाल हो गए। इधर मेरे हाथ अब आशिका की माँ पर चल रहे थे।

मैं उसकी मांओं को जोर से दबाने लगा। आशिका को इतना जोर से दबाना दर्द कर रहा था

लेकिन उसके होंठ मेरे मुंह में होने के कारण आवाज नहीं कर पा रही थी।

उसने अपने हाथों से घबराहट दिखाते हुए मुझे रोका। मै समझा। अब मैंने अपना रास्ता बदल लिया है।

मैंने अपने कपड़े पहले ही उतार दिए थे। अब मैंने आशिका की सलवार की गांठ खोली और उसकी सलवार उतारने लगा।

आशिका ने मुझे रोका। आशिका- रोहित, मौसी कभी भी उठकर यहां आ सकती हैं

इसे पूरी तरह से मत उतारो। आप जो भी करना चाहते हों करों।

फिर मैंने उसकी सलवार उसके घुटनों तक नीचे कर दी

और साथ में उसकी पैंटी भी नीचे कर दी। अब मैं अपनी बहन आशिका की चूत को मसलने लगा.

आशिका भी मेरे लंड के लिए तड़पने लगी. वो मुझे जोर जोर से किस करने लगी। वो अपने हाथों से मेरी पीठ को सहलाने लगी.

अब मैंने उसे किस करना बंद कर दिया और चूत की तरफ सरकने लगा.

मुझे पता था कि जब चूत चाटी जाती है तो प्यार बहुत गर्म हो जाता है।

एक बार जब वह गर्म हो जाएगी तो वह नियंत्रण नहीं कर पाएगी।

चूत चाटने के दौरान उसकी आवाज बाहर आ जाएगी. तभी मैंने अपना अंडरवियर आशिका के मुंह में डाल दिया।

उसका मुँह बंद करके अब मैंने धीरे से अपनी जीभ आशिका की चूत पर लगाई.

मेरी जीभ का स्पर्श अपनी चूत पर महसूस करते ही आशिका सिहर उठी। उसके शरीर में करंट दौड़ने लगा।

वासना से अभिभूत होकर उसने चादर को अपनी मुट्ठी में जकड़ लिया।

उसकी टांगें फैली हुई थीं और मैं भी जितना हो सके अपनी जीभ अंदर करके उसकी चूत को मजे से चाटने लगा.

वो उसकी चूत का एक एक दाना अपने दांतों से काटने लगा.

कभी-कभी वह अपनी जीभ निकालकर छेद में अपनी उंगली डाल देता।

फिर पीछे से चूत चाटने लगता है. इससे आशिका कुछ ही पलों में काफी गर्म हो गई। वह तड़पने लगी।

अचानक वह अपने शरीर को कस कर कांपने लगी। उन्हें परम आनंद की प्राप्ति हो रही थी और उन्होंने अपना जल छोड़ दिया।

मैंने उसकी चूत से निकला सारा पानी बिना बर्बाद किए पी लिया।

मैंने अपनी बहन की चूत को जीभ से चाट कर पूरा साफ किया.

आशिका की साँसें तेज़ हो गयीं। वह हांफ रही थी। मैंने उसके मुँह से चड्डी हटा दी

और उसे फिर से चूमने लगा और उसके स्तनों को दबाने लगा।

अब मैंने आशिका का टॉप उठाया और उसकी ब्रा साइड में रख दी और

उसकी माँ को अपने मुँह में लेकर उसके निप्पल चूसने लगा… कभी-कभी काट भी लेता।

तेज आवाज न निकले इसके लिए आशिका ने अपने होठों को दांतों के बीच दबा लिया था।

अब आशिका फिर हरकत में आने लगी। वह मुझे अपनी बाँहों में खींच रही थी। मैं उसका एक दूध चूसने लगा।

वह भी खुशी-खुशी अपना दूध मुझे पिलाने लगी। इस समय वह मुझे गोद में बिठाकर बच्चे की तरह खिला रही थी।

वो खुद अपनी माँ की निप्पल को अपनी दो उँगलियों के बीच दबा कर मुझे दूध पिला रही थी।

मैं भी उसका एक दूध चूस रहा था और दूसरा मसल रहा था।

अब आशिका फिर से गर्म हो गई- रोहित प्लीज अभी अंदर डाल दो… मुझसे अब और नहीं सहा जाता।

मैंने आशिका को सीधा लिटा दिया और उसके ऊपर आ गया।

मैंने अपनी चड्डी वापस आशिका के मुँह में डाल दी और अपना लंड उसकी चूत पर टिका दिया

और धक्का देने लगा. लेकिन लंड फिसल रहा था, उसे चूत का छेद नहीं मिल रहा था.

आशिका मेरी समस्या समझ गई। उसने अपने हाथों से लंड को उसकी चूत के छेद पर रख दिया.

अब मुझे छेद का संकेत मिला। मैंने आशिका का हाथ पकड़ लिया और जोर से मारा।

मेरा आधा लंड चूत में घुस गया. आशिका के शरीर में दर्द की लहर दौड़ने लगी।

उनकी आंखों से आंसू आने लगे। लेकिन उसके मुंह में चड्डी घुसी हुई थी

और मैंने उसके हाथ पकड़ लिए… तो वह कुछ नहीं कर पा रही थी।’

मैंने फिर से जोर का झटका मारा और इसी के साथ पूरा लंड अंदर चला गया.

आशिका केवल ‘उम्म माह मां… अमर गई मैं…’ कह सकी।

वह कितना दर्द सह रहा था, यह उसके आंसुओं से ही पता चल रहा था।

मैंने अपनी कज़िन की टाइट चूत को चोदना जारी रखा. फिर धीरे-धीरे वो नॉर्मल हुई फिर उसे भी सेक्स में मजा आने लगा।

मैं लंड को पूरी तरह से बाहर निकाल देता और एक तेज़ झटके से पूरा लंड अंदर डाल देता.

अब मैंने आशिका के मुँह में फंसा चड्डी भी उतार दी थी। हम दोनों की जोरदार चुदाई हो रही थी।

आशिका- रोहित प्लीज इतना तेज झटका मत लगाओ, दर्द होता है, बस अंदर बाहर करते रहो।

रोहित- हां बेटा, अब तुम्हें दर्द नहीं होगा। मैं उसे जोर से चोदने लगा।

आशिका- आह… आह… ओह… रोहित को ये खुशी बहुत दिनों बाद मिली है

आह जोर से… रुको नहीं उम्म मम्म ओह आह… साले कितना अंदर तक पेले रहा है।

आपको भी अपनी बहन को चोदने में बहुत मज़ा आ रहा है

रोहित- हां माय डियर… आज मैं तुम्हें चोद कर पूरी तरह से खुश कर दूंगा।

मेरा पूरा लंड आशिका की गरम और गीली चूत में जा रहा था.

उसकी चूत के टुकड़े-टुकड़े उड़ रहे थे। मैं उसे जोर से चोदने वाला था।

आशिका- रोहित आह… अरे हां… जोर से करो… आह मैं निकलने वाली हूं।

मैं- हाँ बेबी, मैं भी बस आने ही वाला हूँ… जल्दी बोलो जूस कहाँ रखूँ?

आशिका- अपनी जान मेरी चूत में डाल दो, बहुत दिनों से उससे मुलाकात नहीं हुई।

मेरी चूत को भी तेरे रस का इंतज़ार है… अंदर सींचो.

मैं पूरी तेजी से उसकी चुदाई करने लगा। अचानक मेरे लंड से गर्म पानी का फव्वारा छूटा.

आशिका की चूत से भी पानी छूटने लगा जैसे ही उसने अपनी चूत में मेरे पानी का गर्म अहसास महसूस किया।

हमारा पानी एक हो गया और आशिका की जांघों से बहने लगा।

जब मेरा लंड छोटा होकर बाहर निकला तो मैं उसके ऊपर साइड में हो गया. आशिका भी उठने लगी।

मैं- कहाँ जा रही हो डियर? आशिका- मैं अपनी चूत साफ करके आऊंगी। मैं- अंदर रहने दो कल टेबलेट लेकर आऊंगा।

आशिका ने फिर से उसी तरह अपनी पैंटी पहन ली। लोअर ठीक से पहना और हम दोनों वापस हॉल में आ गए और सो गए।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds