मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोद के किराए के पैसे वसूल किए | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोद के किराए के पैसे वसूल किए | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी

WildFantasy के सभी पाठको को मेरा नमस्कार मेरा नाम मोहित है मैं आज आपको रितु जी की तरफ से कहानी प्रस्तुत करने जा रहा हूं यह मेरी कहानी है यह एक सच्ची घटनाओं पर आधारित कहानी है इसके सभी पात्र असली है 

यह कहानी मकान मालकिन की कुंवारी बेटी की चुदाई के बारे में हैं पहले मैंने अपने मकान मालिक की बेटी को नैन मटक के करके फसाया और फिर बाद में उसकी चुत से अपने गरम लंड की आपको ठंडा किया मकान मालकिन की बेटी पक्की कच्ची कली थी उसने आज तक कभी सेक्स नहीं किया था मैंने उसे Rough Sex का चरमसुख दिया और उसके मन की अंतर्वासना ओ को अपना मोटे लंड से ठंडा किया

दोस्तो, मेरा नाम मोहित है. मेरी उम्र 24 साल है और मेरी हाइट 5 फीट 10 इंच है. रंग सांवला है और लंड की बात करूँ तो एकदम काला मोटा लंड है. इसकी लंबाई 7 इंच है.

मैं आप सभी को एक सेक्स कहानी बताना चाहता हूँ जो मेरी जिंदगी का एक खूबसूरत हिस्सा है।

ये हॉट रोमांटिक रोमांस स्टोरी तब की है जब मैंने कॉलेज खत्म करने के बाद कोचिंग ज्वाइन की थी.
मैंने वहां रहने के लिए एक मकान किराये पर ले लिया था.

यह कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी और एक ही परिवार की लड़कियों के बीच वैली उचक घटना है.

इसकी शुरुआत ऐसे हुई कि मैंने बी.टेक. मेरी पढ़ाई भिलाई से हुई.
इसके बाद मैं कोचिंग के लिए Delhi आ गया.

घर ढूंढते-ढूंढ़ते मैं एक ऐसे घर के पास पहुंचा, जिसके गेट पर लिखा था कि यह घर किराए पर उपलब्ध है।

ये देख कर मैंने घंटी बजाई.
अन्दर से एक 50-55 साल की आंटी निकलीं.

उसने पूछा- क्या हुआ?
मैंने कहा- किराये पर मकान चाहिए.

उन्होंने मेरा परिचय पूछा.
मैंने अपने बारे में सब कुछ बता दिया.

फिर उन्होंने नियम व शर्तें बतायीं.
उन्होंने ये सब बताते हुए ये भी कहा कि कमरे में शराब नहीं पीनी चाहिए, कमरे में साफ-सफाई रखनी चाहिए और लड़की से कोई अफेयर नहीं करना चाहिए.
मैंने कहा- हां ठीक है.

फिर आंटी कमरा दिखाने लगीं.
मुझे कमरा तो पसंद आ गया लेकिन आंटी का स्वभाव थोड़ा सख्त लगा.

अब मैं क्या करता, मुझे जल्द से जल्द एक कमरा लेना था।
मैं भी मान गया और एडवांस में पैसे देकर चला गया.

करीब एक हफ्ते के बाद मैं अपना सारा सामान लेकर कमरे में आ गया.
अगले ही दिन कोचिंग ज्वाइन कर ली.

मैं रोज सुबह कोचिंग क्लास के लिए निकल जाता था और दोपहर को लौटता था।
ऐसा ही चलता रहा.

पढ़ाई बहुत अच्छी चल रही थी.
इसी बीच मकान मालिक से भी परिचय हो गया।

कोचिंग में बहुत सारी खूबसूरत लड़कियाँ आती थी. कोई जीन्स, कोई स्कर्ट, कोई कुछ और। ऐसा लग रहा था मानो ये हुस्न की परियाँ पढ़ने नहीं बल्कि लड़कों पर बिजली गिराने आती हैं।
उनको देख कर ऐसा लग रहा था मानो वो आपस में होड़ कर रहे हों और बता रहे हों कि मैं सबसे हॉट और सेक्सी हूं.

कोचिंग की शुरुआत से ही वह लड़कों के दिल, दिमाग और लंड में बस जाना चाहती थी.
बिना ब्रा के छोटे छोटे टाइट बूब्स  , जिनमें स्तन के बीच में पहाड़ की चोटी की तरह निपल्स दिख रहे थे।
मानो कह रहे हों कि आओ और मुझे दबा-दबा कर बड़ा बनाओ। मैं कब तक इतनी छोटी बनी रहूंगी.

किसी के बूब्स भरे हुए हैं, सेक्सी बिग बूब्स , उनकी गोलाई मानो कह रही हो कि मुझे इस ब्रा की कैद से बाहर निकालो… मैं आज़ाद होना चाहती हूँ। मुझे ऐसे कैद में मत रखो, मुझे बाहर निकालो और निचोड़ो।

उन मोटे चुच्चे को देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो चिल्ला कर कह रहे हों कि इनमें अपने होंठ डालो… और सारा दूध पी जाओ!

टी-शर्ट के ऊपर से दिखाई दे रहे गोल-गोल स्तन इतने आकर्षक लग रहे थे कि जब भी उन स्तनों का rani वहां से गुजरता था तो मेरी नजर बस उन स्तनों पर ही टिक जाती थी।

मैं तुरंत उन स्तनों को मापना शुरू कर देता कि किसका साइज क्या है.

जब भी कोचिंग शुरू या खत्म होती तो मैं सीढ़ियों के पास जाकर खड़ा हो जाता ताकि लड़कियों की हिलती कमर और साथ ही स्तनों के हिलने से दाएं-बाएं हिलते थिरकते चूतड़ मुझे पागल कर देते। .

आह… क्या बताऊं, ये देखते ही मेरी चड्डी के अंदर हलचल शुरू हो जाती. ऐसा लग रहा है जैसे अपना लंड बाहर निकाल कर मुठ मार लूं. लेकिन ऐसा भी नहीं हो सका.
पूरी कोचिंग के दौरान मैं बस उसी के बारे में सोचता रहा.

कमरे में आकर मेरा पहला काम अपने लंड को हिलाना था.
एक बार पानी टपक जाता तो आत्मा को शांति मिल जाती.

इस प्रकार बहुत दिन बीत गये।

चाचा-चाची को देख कर मैं यही सोचता था कि इनके कोई औलाद है भी या नहीं. अगर नहीं तो क्यों नहीं…और अगर हां तो वो कहां हैं.

मेरा कमरा घर की पहली मंजिल पर था. मेरे कमरे के बगल में एक छत थी.
मैं हर शाम वहां टहलता था.

एक दिन ऐसे ही टहलते हुए मेरी नज़र कैंपस के गेट पर गयी.
वहां एक कार रुकी.

उसमें से एक सुन्दर लड़का निकला और उसने वहाँ खड़े चाचा-चाची के पैर छुए।
इसके बाद वह घर के अंदर आये.

मैंने सोचा कोई रिश्तेदार होगा.
बाद में पता चला कि वह उनका बेटा था.

अगले दिन जब उससे बात हुई तो पता चला कि उसका नाम मयूर है और वह नागपुर में एक कंपनी में काम करता है.
वह दो दिन की छुट्टी पर घर आया हुआ है।

उसने भी मेरे बारे में पूछा और फिर इधर उधर की बातें होने लगीं.
दो दिन बाद वह भी चला गया.

फिर कुछ महीनों के बाद सुबह-सुबह जैसे ही मेरी आँख खुली तो मुझे छत से किसी के पायल की छन-छन की आवाज़ सुनाई दी।

जैसे ही मैं बाहर गया तो एक लड़की छत से नीचे आ रही थी.
उसके खुले बाल, बालों से टपकती पानी की बूंदें ऐसे लग रही थीं मानो अभी-अभी नहायी हों.

left उसकी मटकती गांड से उसकी पैंटी की लाइन दिख रही थी और दिल को चीर रही थी.
बलखाती ने कमर में नेकर बाँध रखा था।

मेरी नजर ऊपर से नीचे की ओर गई, जिसमें उसकी मॉडल जैसी खूबसूरत टांगों ने मुझे एकदम से हिला दिया.
देखने पर ऐसा लग रहा था मानो कोई फूल की कली खिली हुई हो, जो चारों ओर अपनी सुगंध फैला रही हो और भौंरों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हो।

वह अगले ही पल पलटी और तुरंत मेरी नज़रों से ओझल हो गयी.

लेकिन मेरे लंड ने अपनी जवानी के तत्वों को पहचान लिया था और वह अपनी पूरी क्षमता पर पहुँच गया था।
साला मेरी चड्डी फाड़ कर बाहर आने को उतावला हो रहा था।

मेरा दिल तेजी से धड़क रहा था.
बस अफ़सोस इस बात का था कि मैं उसका चेहरा नहीं देख सका।

उसने पीछे मुड़कर देखा तो उसने अपना चेहरा चुनरी से ढका हुआ था.

उसके जाने के बाद मैंने देखा कि उसने कुछ सूखने के लिए छोड़ दिया था और उसे अपनी चुनरी से ढक दिया था।

पास जाकर देखा तो उसने अपनी पैंटी और ब्रा सूखने के लिए डाल रखी थी।
मैंने ब्रा को डोरी से उतार दिया और उसमें कैद उसकी चुचियों के बारे में सोचने लगा कि उनका आकार कैसा होगा… उनमें कितना रस भरा होगा… क्या कभी मुझे उन्हें हाथ में लेने का मौका मिलेगा.
ब्रा के बाद पैंटी भी निकाली तो मैं उसे सूंघने से खुद को रोक नहीं पाई.

वाह… जवानी की क्या मादक खुशबू है यार… क्या मुझे कभी उस छेद का आनंद लेने का मौका मिलेगा।
यही सब सोचते हुए वह कमरे में दाखिल हुआ।

कमरे में आकर उसने लंड से सिक्सटी वन किया और खुद को थोड़ा शांत किया.

फिर जब मैं क्लास में गया तो आज मुझे किसी तितली को देखने का मन ही नहीं हुआ, मैं बस अपनी उस परी के बारे में सोचता रहा।

कोचिंग से वापस आने के बाद मैं बार-बार छत से आँगन की तरफ देखता, लेकिन वो दिखाई नहीं देती थी।

मेरे मन में उस बला की खूबसूरती के दर्शन की बड़ी उत्कंठा थी, परंतु बहुत देर तक प्रतीक्षा करने पर भी वह प्रकट नहीं हुइ।

उसी शाम वह पास की दुकान पर चीनी लेने गया…और जब वह नहीं खरीद सका तो मैंने दुकानदार से पूछा कि भाई, उसके घर में कितने लोग रहते हैं?

आप लोग जानते हैं कि मोहल्ले के दुकानदारों को कुछ नहीं पता.

वही हुआ… दुकानदार ने चाचा-चाची की पूरी फैमिली हिस्ट्री खोली और बताया कि चाचा-चाची, उनका एक बेटा, जिससे मैं पहले ही मिल चुका था, उनकी मंझली बेटी शहनाज है। जो दूसरे शहर में कॉलेज की पढ़ाई कर रही है और उसकी एक बेटी है जिसका नाम आशिका है। उसने अभी यूपी से 12वीं कक्षा पास की है। मैं गर्मियों की छुट्टियों में अपने नाना-नानी के घर कहीं गया हुआ हूँ।

मैंने दुकानदार को धन्यवाद कहा और अपने घर की ओर चल दिया।

दुकान से वापस आते समय मैंने देखा कि एक लड़की आँगन में झाड़ू लगा रही है।
शायद ये वही लड़की थी जिसे देखने के लिए मेरी आंखें सुबह से तरस रही थीं.

जब देखा भी तो बहुत कुछ देखा… आह क्या सीन था.
वो थोड़ा झुक कर झाड़ू लगा रही थी, जिससे उसके स्तन टी-शर्ट से ही बाहर झाँकने की कोशिश कर रहे थे।
उसके स्तन लगभग 32 साइज़ के रहे होंगे.

मेरे लंड में फिर से सनसनाहट होने लगी.

उसी वक्त उसने नजर उठा कर मेरी तरफ देखा.
उसने मेरी नजरें पहचान लीं और सीधी खड़ी हो गई.

वो अपने बालों से चूचों को ढकने की कोशिश करने लगी.
न जाने क्यों उसने शर्म से नजरें झुका लीं.

उसकी ऊंचाई 5 फुट 4 इंच, सफेद टी-शर्ट, नीली नेकर और ऊपर से क्या प्यारा चेहरा।
कितनी प्यारी आंखें थीं आह… दिल खुश हो गया.

उसकी पतली कमर, चौड़े कूल्हे, कूल्हों से जुड़ी हुई उसकी खूबसूरत टाँगें और उन दोनों टाँगों के बीच त्रिकोण का आकार देखकर मैंने उसकी चूत को अपने मन की आँखों से देखा था।

अब शहनाज़ ने अपनी आँखें थोड़ी ऊपर उठाईं और शरमाते हुए अंदर भाग गईं।

मैंने सोचा अरे क्या हुआ?
वह अचानक क्यों भाग गई?

मैंने नजरें झुकाईं तो पता चला कि मेरा लंड खड़ा हो गया है.

मुझे खुद पर बहुत गुस्सा आया.
मैं मन ही मन सोचने लगा कि फर्स्ट इम्प्रेशन तो ख़राब होता है.

ये लंड भी नहीं.. इसने लड़की देखी या नहीं.. बस खड़ा हो जाता है।
मैंने मन में लंड को कोसते हुए कहा- भोसड़ी वाले ने मुझसे तेरी बेइज्जती करवाई.

मैं अन्दर गया और बार-बार उसके गोल स्तनों के बारे में सोचता रहा।
किसी तरह इस लड़की को अपने वश में करना होगा.

मैं उसे चोदने का प्लान बनाता रहा.
साथ ही मुझे रात को नींद भी नहीं आ रही थी.
तीन बार मुठ मारी और फिर देर रात सो गये.

अगले दिन मैं उससे मिलकर माफी मांगना चाहता था, लेकिन वह नहीं मिली.
दो दिन बीत गए.

मुझे डर था कि कहीं ये बात आंटी को ना बता दे.

फिर तीसरे दिन वो छत पर कपड़े सूखने के लिए डालने आई।
मैं मौका देखकर उसके पास गया और उस दिन के लिए माफ़ी मांगी.

उसने नजरें झुका लीं और बिना कुछ कहे वहां से चली गयी.

मैं सोचने लगा कि मुझे कमरे से हाथ नहीं धोना पड़ेगा.
मेरी उलझन बढ़ती जा रही थी.
शाम हो चली थी।

फिर वो कपड़े सुखाने के लिए छत पर आई।

मैंने फिर हिम्मत करके पूछा कि क्या तुमने मुझे माफ कर दिया?
उन्होंने कहा- मुझे कभी किसी बात का बुरा नहीं लगा… तो माफी मांगने का क्या मतलब?

इतना कहकर वो मुस्कुराई और वहां से चली गई.
अब कहीं जाकर मेरी जान में जान आई।

कुछ दिन बीते, कई बार हम आमने-सामने मिले लेकिन कभी बात करने की हिम्मत नहीं हुई।

एक रात करीब 9 बजे अचानक बिजली चली गयी.
एक घंटा हो गया, बिजली नहीं है.

गर्मी का मौसम था तो मैं छत पर लेट कर चांदनी रात का आनंद ले रहा था कि अचानक पायल की छन-छन की आवाज आई।

मैंने देखा कि शहनाज़ टहल कर आ रही है.
वह छत के दूसरी तरफ जाकर खड़ी हो गयी.
चांदनी रात में उसकी खूबसूरती और भी आकर्षक लग रही थी.

मैं कुछ देर तक मोबाइल चलाते हुए उसे चोरी छुपे देखता रहा और उससे बात करने के बारे में भी सोचा.
लेकिन कैसे… उस घटना के बाद किसी की हिम्मत नहीं हो रही थी.

लेकिन कहीं न कहीं से शुरुआत तो करनी ही थी.
तो मैंने हिम्मत दिखाई.

मैं शहनाज़ के पास गया और उसके पास खड़ा हो गया और उसका हालचाल पूछा।
उसने अच्छा उत्तर दिया.

इससे मुझे थोड़ी हिम्मत मिली.

फिर मैंने पूछा- क्या करते हो?
तो उसने अपने कॉलेज के बारे में सब कुछ बता दिया.
उन्होंने मेरे बारे में भी पूछा.

इस तरह हमारे बीच बातें शुरू हुईं.’
अब सब कुछ सामान्य हो गया था.

हम दोनों बातें करते करते कब 11 बज गये पता ही नहीं चला.

मैंने मौका देखकर फिर से उस घटना के बारे में बात शुरू कर दी.. लेकिन इस बार थोड़ा अलग अंदाज में।

मैंने तारीफ करते हुए कहा- आप बहुत खूबसूरत हैं.
‘नहीं तो…’ कहकर वह रुक गई।

मैंने बिना किसी का नाम लिए कहा- किसी को ऐसे ही देख लेने से उसमें कोई हलचल नहीं होती.
यह सुनकर उन्होंने भी मजाकिया अंदाज में कहा- वह खूबसूरती किस काम की, जो वहां तहलका न मचा सके.

फिर क्या था… हम दोनों इस बात पर हंसने लगे.
मैंने हंसते हुए अपने एक हाथ को उसके हाथ से हल्के से छुआ.
उसने कुछ नहीं कहा।

फिर मैंने हिम्मत करके उसका वो हाथ पूरी तरह से पकड़ लिया.
इससे उसकी हंसी बंद हो गई.
उसने अपना हाथ खींच लिया.

दो मिनट तक सन्नाटा रहा.
मैं सोच रहा था कि कहीं कोई गलती तो नहीं हुई.

मैं मन ही मन सोचने लगा, तभी मुझे उसके हाथ का स्पर्श अपने हाथों में महसूस हुआ.
मेरा हृदय ख़ुशी से भर गया और मेरी हिम्मत बढ़ गयी.

मैं शहनाज़ के सामने आया और दोनों हाथ उसकी कमर के पीछे ले जाकर एक हाथ से उसे पकड़ लिया और दूसरे हाथ से उसका चेहरा ऊपर उठाया।
उसकी आंखें बंद थी।

वह जानता था कि क्या होने वाला है।
उसकी साँसें तेज़ हो गई थीं जो मैं महसूस कर सकता था।

उसके होंठ खुल गये, मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये।
ऐसा लगा मानो पूरे शरीर में बिजली दौड़ गई हो।

ऐसा लगा मानों लम्बे सूखे के बाद बारिश हुई हो।
मेरे पूरे होंठ गीले हो गये. लंड एकदम से फनफना उठा.

कभी ऊपर के होंठों पर, कभी नीचे के होंठों पर… बारी-बारी से मैं शहद पी रहा था।

मैं तो न जाने कब से इस बात का इंतजार कर रहा था.
मैंने कभी नहीं सोचा था कि ये वक्त इतनी जल्दी आएगा.

हम दोनों वासना में डूबे जा रहे थे.

तभी बिजली कड़की और अँधेरे का जंगल रोशनी के बगीचे में खिल उठा।

लाइट की टिमटिमाहट की वजह से शहनाज़ ने मुझे ज़ोर से धक्का दिया और वो मुझसे अलग होकर नीचे की ओर भाग गई.

दोस्तो, आपको मेरी हॉट कामुक रोमांस कहानी में मजा आ रहा है या नहीं?
कृपया मुझे टिप्पणियों के माध्यम से बताएं।
लेखक के अनुरोध पर ईमेल आईडी नहीं दी जा रही है.

उम्मीद है आपको यह कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी (Desi Chudai Ki Kahani) पसंद आई होगी। कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी का अगला भाग

अगर आपको यह मकान मालिक की कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी पसंद आई तो आप हमें ईमेल करके या फिर स्टोरी में कमेंट करके हमें प्रोत्साहित करें ताकि हम आपके लिए इस तरह की और कहानियां लाते रहे यह एक नई सीरीज है इसमें आपको हर तरह का रियल वाइल्ड सेक्स और रियल रोड सेक्स के बारे में है यदि आप लड़के हैं तो आप मुट्ठ मार मार के थक जाएंगे पर आपके अंदर की ठरक खत्म नहीं होंगी यदि आप गलती से लड़की है और यह कहानी पढ़ रही है तो आप अपनी चुत में उंगली कर-कर के थक जाएगी पर आप की भी ठरक खत्म नहीं होगी 

ऐसी और ठरकी कहानियां पढ़ने के लिए  wildfantasystory.com  के पेज को बुकमार्क बनाकर रखिए ताकि ऐसी और ठरकी कहानियां आप तक आराम से पहुंच पाए

पाठकों के लिए विशेष नोट:-

अगर आपकी उमर काफी हो गई है और आप अभी भी वर्जिन है तो इन वेबसाइटों पर जाकर अपने लिए कॉल गर्ल या एस्कॉर्ट बुक कराए और अपने लंड की आग को  ठंडा करें इन वेबसाइटों के साथ हमारा स्पेशल टाइप है इन वेबसाइटों ने कई सारे वर्जिन लड़कों की सेक्स की तमन्नाओं को पूरा किया है

यह सारी वेबसाइट एक ट्रस्टेड वेबसाइट है इनमें कोई भी धोखाधड़ी नहीं होती और आपके लिए सर्वोत्तम कॉल गर्ल प्रोवाइड करवाती है तो इंतजार किस बात का आज ही बुक करा इन वेबसाइटों से लिए अपने लिए हॉट कॉल गर्ल्स एस्कॉर्ट्स और और अपने मन की तमन्नाओं को पूरा करिए अपनी यौन तमन्नाओं को पूरी या करिए यह वेबसाइट की गर्ल्स आपकी सारी वर्ल्ड सेक्शन्यूड को पूरा करने में आपकी पूरी तरीके से संयोगिता देंगे और आपको अंतिम चरण सुख का आनंद प्राप्त करवाएंगे (shehnaazkhan.comwww.ashikabhatia.comwww.kritikabakshi.comsassypoonam.in ) यदि आप ऐसा सोच रहे हैं कि इन वेबसाइटों पर जाकर हमारा समय और पैसा दोनों बर्बाद होगा तो रखिए आप गलत है इन वेबसाइटों से हमारा स्पेशल टाइप है यह वेबसाइट हमारे व्यूवर्स जब ठरकी हो जाते हैं तो उनके लिए कॉल गर्ल ऐप एस्कॉर्ट बुक कराती है और यदि आपके साथ किसी भी तरीके की धोखाधड़ी हो भी गई तो हंड्रेड परसेंट मनी बैक गारंटी विद फ्री सर्विस

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds