बिल्डिंग में रहने वाली कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा

बिल्डिंग में रहने वाली कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा

नमस्कार दोस्तों। मैं अमन आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मैंने अपनी “बिल्डिंग में रहने वाली कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा

मैं बैंगलोर से हूँ। मैंने एक बिल्डिंग में रहने वाली कई लड़कियों, भाभियों को चोदा था. यह कहानी दो बहनों में से छोटी बहन की है, जिसमें मैंने उसे उसके कमरे में जाकर चोदा.

जिस मकान में मैं किराये पर रहता था वो तीन मंजिला मकान था. उसके ग्राउण्ड पर मकान मालिक की फैमिली रहती थी. पहली मंजिल पर मेरे साथ एक और परिवार था। (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

जिसका और मेरा टॉयलेट एक ही था, जो पीछे से दोनों कमरों से जुड़ा हुआ था। मेरे पड़ोसी में मियाँ बीवी के साथ एक लड़का था

दूसरी मंजिल एक ड्राइवर ने किराए पर ली थी। छत पर एक अलग कमरा भी था जिसमें दो बहनें किराये पर रहती थीं। बस इस चुदाई कहानी की शुरुआत इन्हीं से करते हैं.

मैं कमरे में अकेला रहता हूँ. मुझे कमरे पर आए हुए कुछ महीने बीत चुके थे. मकान मालिक को किसी से कोई मतलब नहीं था लेकिन मकान मालकिन जल्द ही मुझसे घुल-मिल गई

और उसने मुझे बाकी सभी किरायेदारों से मिलवाया। पहली मंजिल पर होने के कारण जो भी सीढ़ियों से ऊपर जाता था। मैं सबसे हाय-हैलो करने लगा.

इसलिए मैं जल्द ही सबके साथ घुलमिल गया. गर्मी शुरू हो चुकी थी छत पर वैसे ही गर्मी ज्यादा लगती है. उन लड़कियों के पास फ्रिज भी नहीं था, वो रोज मकान मालकिन से बर्फ मांग कर ले जाती थीं।

एक दिन मैंने उससे कहा- मेरा फ्रिज खाली रहता है, तुम उसमें कुछ बोतलें और बचा हुआ खाना रख देना। और बर्फ भी इसी में से ले लिया करें.

वो यही चाहती थी इसलिए अब वो भी मेरे फ्रिज की मालकिन बन गई है. मेरी रसोई हमेशा खुली रहती थी इसलिए जब भी उसे जरूरत होती तो वह रख लेती और निकाल लेती।

इससे मुझे फायदा हुआ कि दोनों बहनें मुझसे ज्यादा खुल गईं. दोनों अलग-अलग जगह काम करती थी, इसलिए उनके आने-जाने का समय भी अलग-अलग था।

पहले तो मेरा उन्हें चोदने का कोई इरादा नहीं था लेकिन… एक बार जब वो दोनों ड्यूटी पर गई तो मैं अपने कपड़े सुखाने के लिए छत पर गया।

मेरा एक कपड़ा नीचे गिर जाने के कारण मैं उसे फिर से पानी से निकालने के लिए उसके बाथरूम में गया। उनमें से एक की गीली ब्रा पैंटी वहीं पड़ी थी.

शायद सुबह जल्दी निकलने के चक्कर में धो नहीं पाई होगी. जिस भी बहन की होगी उन्हें देखते ही मेरा शेर अकड़ने लगा.

अब मैं दोनों पर ध्यान देने लगा. दोनों दिखने मे मस्त माल थी, किसी से ज्यादा बात नहीं करती थी। वह हमेशा अपने कमरे में ही रहती थी.

शायद बड़ी वाली का टाँका कहीं टकरा गया होगा लेकिन छोटी वाली का नहीं। मैंने छोटी को पटाने के बारे में सोचा.

मैंने फ्रिज में फ्रूट जूस भर कर रख दिया और फिर खराब होने का बहाना बना कर उन्हें देने लगा। कभी कभी छत पर जाकर छोटी से बातें भी करने लगा। मुझे भी लगने लगा था वो मुझ से पट जायेगी. (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

एक दिन उसने मुझसे अपना नंबर रिचार्ज करने के लिए कहा क्योंकि उसका बैलेंस खत्म हो गया था और उसे तुरंत अपने घर पर फोन करने की जरूरत थी।

मेरे पास नेटबैंकिंग थी, मैंने उसे रिचार्ज कर दिया। इस तरह मुझे उसका नंबर मिल गया. मैंने उसे व्हाट्सएप पर मैसेज करना शुरू कर दिया और वो भी रिप्लाई करने लगी. अब हम खाली समय में भी बातें करने लगे.

वह मेरी बातों में आ गई थी इसलिए एक दिन मैंने उससे मेरी गर्लफ्रेंड बनने के लिए कहा। वह तैयार थी, उसने हाँ कह दिया। बस क्या था… लाइन क्लियर थी. धीरे-धीरे हम सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे.

छत पर अकेले मिलने पर मैने उसकी किस भी लेने शुरू कर दि. अब आग दोनों तरफ लग चुकी थी तो मैंने उससे अकेले में मिलने के लिए कहा- जान, अब मुझसे रहा नहीं जाता.

मैं तुम्हें बहुत प्यार करना चाहता हूं. कुछ जुगाड़ बनाओ “हां, मुझे भी तुम्हें खूब प्यार देना है. लेकिन अब कुछ नहीं हो सकता. अगले हफ्ते दीदी घर जा रही हैं तभी हम मिल सकेंगे.

एक हफ्ते तक जब भी मौका मिला, मैं उसे गर्म करता रहा. और आख़िर वो दिन भी आ गया जब उसकी बहन अपने घर चली गयी और वो अकेली रह गयी.

मेरा पूरा दिन बड़ी बेचैनी से बीता! मैं सोचता रहा कि कब रात हो और मैं उसे खूब चोदूं. आख़िर रात भी आ गयी. 11 बजे उसने मैसेज किया- अगर सब सो गए हों तो आ जाओ जान.

मैं तो पहले से ही तैयार बैठा था. उसने अपने कमरे का सिर्फ दरवाजा ही लगाया था, कुंडी नहीं लगाई थी ताकि अगर कोई दरवाजे की तरफ देखे भी तो लगे कि दरवाजा अंदर से बंद है.

फिर मैं दबे पाँव छत पर पहुँच गया। वो मेरा ही इंतज़ार कर रही थी. हमने जाते ही छत का दरवाज़ा बंद कर दिया। अब ऊपर किसी के आने का कोई ख़तरा नहीं था. पूरी रात अपनी पड़ी थी।

मैंने जाते ही उसे अपनी बांहों में ले लिया और बेतहाशा चूमने लगा. वो भी मेरा खुलकर साथ दे रही थी जैसे उसे चुदाई की जल्दी हो. मैंने उसे छेड़ते हुए कहा- जान, तुम बहुत उतावली हो रही हो. क्या बात है?

“बाबू, मैंने कई बार रात में अपनी बहन और उसके बॉयफ्रेंड की सेक्सी बातें सुनी हैं. तब से मेरा भी मजा लेने का बहुत मन हो रहा था.

फिर मैं तुम्हें पसंद करने लगी. आज तुम्हें मौका मिला है जो करना है करो, अब जो करना है जल्दी करो। “मेरे साथ भी यही हाल है प्रिये! जब से तुम्हें देखा है, मेरा भी बुरा हाल है.

अब देखो मैं तुमसे कितना प्यार करता हूँ.” इतना कह कर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी, उसने कोई विरोध नहीं किया.

मैंने उसकी टी-शर्ट उतार कर बिस्तर पर फेंक दी, उसकी छोटी-छोटी गोरी-गोरी चुचियाँ बहुत अच्छी लग रही थीं, मैं ब्रा के ऊपर से ही उसकी चुचियाँ धीरे-धीरे दबाने लगा। उसने धीरे से अपनी आँखें बंद कर लीं।

कुछ देर बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया और अपने हाथ उसकी प्यारी मुलायम पीठ के पीछे ले जाने लगा।

मैंने उसकी ब्रा को उसके शरीर से अलग कर दिया और उसकी चूची को पकड़ कर धीरे-धीरे मसलने लगा और उसके होंठों को चूमने लगा। (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगीं. मैंने उसकी स्कर्ट भी उतार दी और उसकी पैंटी भी उतार दी. अब मेरा एक हाथ उसकी चूची पर था और दूसरा उसकी चूत को सहला रहा था.

कुछ देर ऐसे ही मजा लेने के बाद मैंने उसे अपने से अलग किया, उसका नंगा गोरा चिकना शरीर मेरे शरीर के सामने था। मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसे गले लगा लिया.

मेरा लंड उसकी चिकनी टांगों से टकरा रहा था और मैं उसकी चिकनी टांगों पर हाथ फिराने लगा. मेरा हाथ धीरे-धीरे उसकी चिकनी चूत तक चला गया जो पाव रोटी की तरह फूली हुई थी।

मैं उस पर अपना हाथ फिराने लगा और धीरे-धीरे एक हाथ की उंगली उसकी चूत में डालने की कोशिश करने लगा।

वो बहुत गरम हो गयी थी और जोर जोर से सिसकारियाँ ले रही थी. वो मेरे बालों पर हाथ भी फिरा रही थी और साथ में मेरे होंठों को भी चूस रही थी.

अब मेरी हालत भी बहुत ख़राब हो गयी थी. मेरा लंड उछल रहा था तो मैंने धीरे से उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके बगल में लेट कर उसे फिर से गर्म करने लगा।

कुछ देर तक छेड़ने के बाद वो सिसकियाँ लेने लगी और अपनी बंद आँखें बंद कर ली, कुछ ही देर में उसकी चूत में चिकनाहट होने लगी।

मेरा लंड भी काफी देर से खड़ा था. मैंने उसे उसके हाथ पर रख दिया. उसने भी बिना देर किये मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया और अपने हाथ से मेरे लंड को दबाने लगी.

धीरे धीरे वो मेरे लंड पर अपना हाथ आगे पीछे करने लगी. अब मैं उसकी चूत मारने के लिए बेताब हो गया था. मैं उसके ऊपर लेट गया. उसका नंगा बदन अब मेरे नीचे था.

मैं उसके होंठों को चूसते हुए धीरे-धीरे नीचे आने लगा. मैंने अपने होंठ उसकी मुलायम चूत पर रख दिए और एक हाथ से उसकी चूत को सहलाता रहा।

जैसे ही मेरी उंगली उसकी चूत के अंदर गई तो वो उछलने लगी और उसने मेरे लंड को जोर से भींच लिया. वो भी पूरी गीली हो चुकी थी और अब लंड लेने के लिए उतावली हो रही थी.

उसने मेरे कान के पास धीरे से कहा- बाबू, कुछ करो! अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा. प्लीज़ मेरी प्यास बुझा दो, मैं कब से दीदी की उसके बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स चैट सुन कर तड़प रही हूँ।

मेरी हालत तो पहले से ही ख़राब है और आज तो तुमने मुझे पागल ही कर दिया. मुझे भी बहुत बुरा लग रहा था तो मैं भी उसके ऊपर आ गया. मैं सच में उसकी चूत चाटना चाहता था

लेकिन अभी समय नहीं था। हम दोनों की आग बहुत ज्यादा बढ़ चुकी थी और मुझे उसकी कुंवारी चूत को फाड़ना पड़ा।

अब मेरा लंड मेरे कंट्रोल में नहीं था तो मैंने उसकी टाँगें चौड़ी कीं और अपने लंड का सुपारा उसकी चूत के मुँह पर रगड़ने लगा.

वो भी नीचे से अपनी गांड उठा कर उस लंड को अपनी चूत में लेना चाहती थी. मैंने जैसे ही उसकी चूत में लंड डालने की कोशिश की तो लंड घुस ही नहीं रहा था.

तभी मैंने उसकी चूत पर और अपने लंड पर ढेर सारा थूक लगाया और फिर से लंड को उसकी चूत के मुँह पर सटाकर, उसके होंठों को अपने होंठों से दबाते हुए एक जोरदार धक्का लगा दिया.

जिससे मेरे लंड का सुपारा उसकी कुंवारी चूत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया. सुपारा अंदर जाते ही वो दर्द से कराहने लगी और अपने हाथ-पैर बिस्तर पर पटकने लगी। (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

और मुझे अपने ऊपर से धकेलने की कोशिश करने लगी. लेकिन मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और आज बहुत दिनों के बाद ये कुँवारी चूत लंड के नीचे आई है तो मैं उसे इतनी जल्दी अपने से कैसे अलग कर सकता था।

मैंने कुछ देर खुद को उसके ऊपर ही रहने दिया, कुछ देर उसके होंठों को चूसा और उसके चूचों को मसलना शुरू कर दिया. वो धीरे से बोली- बाबू, प्लीज़ बहुत दर्द हो रहा है. इसे धीरे – धीरे करें।

मैंने कहा- जानू, तुम तो कह रहे थे कि बाबू प्लीज कुछ करो, मेरे बदन में आग लगी हुई है और मैं अपनी बहन की तरह पूरा मज़ा चाहती हूँ इसलिए तो मैंने तुम्हारे अंदर डाला।

चिंता मत करो, पहली बार थोड़ा दर्द होता है। एक बार पूरा लंड अन्दर लेने दो चूत को. फिर वो तुम्हें खूब मजा देगा. कुछ देर बाद उसका दर्द कम हुआ तो वो मुझे चूमने लगी.

“बस बेबी, इतना तो सह लिया, थोड़ा और सहना पड़ेगा।” बताओ क्या तुम तैयार हो? उसने धीरे से सिर हिलाया. मैंने उसे फिर से कस कर पकड़ लिया और उसके होंठों से होंठ मिला दिए

और एक जोरदार धक्के के साथ अपना आधा लंड उसकी चूत में पेल दिया। वह फिर से तेज दर्द से पीड़ित होने लगी. मैं उसके ऊपर लेट गया

और उसकी चूची को जोर जोर से दबाने लगा. उसके होंठों पर अपने होंठ रगड़ने लगा. जब उसका दर्द कम हुआ तो मैंने एक बार और एक जोरदार धक्के के साथ अपना पूरा लंड उसकी चूत को फाड़ते हुए पूरा अन्दर पेल दिया.

आशिकाऔर भी जोर से छटपटाने लगी और मुझे अपने ऊपर से हटाने की पूरी कोशिश करने लगी. लेकिन मैंने उसे नहीं छोड़ा. फिर मैंने उसे धीरे-धीरे चूमना शुरू किया.

कुछ देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद जब मैंने उसके होंठों को चूसना बंद किया तो वो बोली- बहुत दर्द हो रहा है जान, प्लीज़ बाहर निकालो।

मैंने उससे कहा- थोड़ी देर की बात है, अब तो पूरा अन्दर चला गया है. तुम्हें अब दर्द नहीं होगा. यह उसकी पहली चुदाई थी इसलिए मैं वहीं रुक गया.

मैं उसे प्यार से सहलाने लगा, उसके माथे और उसकी आँखों को चूमने लगा। उसकी आंखों से आंसू निकल आये और वो सिसकने भी लगी.

यह देख कर मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया. मेरा लंड उसकी चूत में फंसा हुआ था. धीरे-धीरे उसके होंठों को चूसने और सहलाने से उसका दर्द कम हो गया तो उसने भी मुझे अपनी बांहों में भर लिया.

मेरा लंड उसकी चूत में घुस चुका था, कुछ देर तक हम एक दूसरे से ऐसे ही चिपके रहे और एक दूसरे के होंठ चूसते हुए मैंने उससे कहा- जानेमन, असली मजा लेना शुरू करो?

जो मजा तेरी बहन अपने बॉयफ्रेंड से लेती है, आज वही मजा तुझे मिलने वाला है. उसने भी धीरे से गर्दन हिला दी. अब मैं धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा।

उन्होंने कोई विरोध नहीं किया. शायद अब उसका दर्द भी कम होने लगा था और वो उत्तेजित होने लगी थी. वो भी नीचे से अपनी कमर हिलाने लगी.

उसकी चूत से हल्का हल्का खून बह रहा था. जो इस बात का सबूत था कि वो आज तक वर्जिन थी और मैंने अपने लंड से उसकी सील तोड़ी थी. (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

आप यहां सस्ते दामों पर कॉल गर्ल्स बुक कर सकते हैं Visit Us:-

उसकी चूत बहुत टाइट थी इसलिए मुझे उसे चोदने में बहुत मजा आ रहा था. मैं अपना लंड धीरे धीरे उसकी चूत के अंदर बाहर कर रहा था.

थोड़ी ही देर में मैंने उसके पैरों को ऊपर की ओर उठाया और उसके दोनों पैरों को अपनी कमर पर लपेट लिया. धीरे धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

अब मेरा लंड तेजी से उसकी चूत के अंदर बाहर हो रहा था. मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा. थोड़ी ही देर में वो भी नीचे से अपनी कमर उठा उठा कर मेरे धक्कों का जवाब देने लगी.

अब वो भी खुश होकर बोली- बहुत मजा आ रहा है. मैंने नहीं सोचा था कि इसमें इतना मजा आएगा. और ज़ोर से करो, प्लीज़ और गहराई से, प्लीज़ और गहराई से, प्लीज़ और गहराई से!

उसे सच में बहुत मजा आ रहा था और नीचे से अपनी कमर हिला रही थी. मैं ऊपर से जोर जोर से धक्के लगा रहा था. वो मेरे हर धक्के का स्वागत कर रही थी.

मैंने उसकी कमर को अपने हाथों में पकड़ लिया. अब जब मेरा लंड उसकी चूत के अंदर जाता तो वो भी अपनी कमर ऊपर उछाल देती.

जिससे मेरा लंड उसकी चूत को अन्दर तक चोदने लगा, मुझे बहुत मजा आ रहा था. दोनों पूरे जोश में थे और एक दूसरे को रोकने की कोशिश कर रहे थे.

मेरा लंड अब उसकी चिकनी चूत में पूरी जगह बना चुका था. अब वो आसानी से उसकी चूत के अन्दर आ जा रहा था. वो भी चुदाई का खूब मजा ले रही थी और मदहोश हो रही थी.

मैंने उसके सिर पर हाथ रखा और कहा- जान, तुम्हें अच्छा लग रहा है ना? “बहुत अच्छा लग रहा है. आप प्लीज़ बीच में मत रुकना.. और तेज तेज करते रहो क्योंकि अब मुझ से नहीं रुका जा रहा है।

शायद उसके झड़ने का समय आ गया था इसलिए मैंने भी उसे फिर से चोदना शुरू कर दिया. कभी छोटे तो कभी तेज शॉट मार कर उसकी चूत को चोदने लगा और वो भी मस्ती में हर झटके को सहन कर रही थी.

कुछ ही देर में वो बोलने लगी- प्लीज़ बाबू, और तेज़… और तेज़! करीब 10 मिनट की हमारी चुदाई के बाद अब वो झड़ने वाली थी. उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा.

उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोली- बाबू, मुझे कुछ हो रहा है. जोर से… और जोर से और जोर से! और सिसकते हुए बोली- हां बाबू, मैं तो बस गयी.

इसके साथ ही उसकी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया, उसने जोर से सांस ली और वो फिर से ढीली पड़ गयी. मेरा भी होने वाला था.

तो मैंने भी उसे कस कर पकड़ लिया और उसकी चूत में 10 धक्के मार दिए. और मेरे लंड ने भी उसकी चूत में उल्टी कर दी.

आज मेरे लंड ने कितनी बार उसकी चूत मारी, मुझे खुद भी होश नहीं है. मैंने भी उसे कस कर पकड़ लिया.

मैं उसके ऊपर लेट कर अपनी सांसें नियंत्रित करने लगा. थोड़ी देर बाद जब मेरा लंड अपने आप सिकुड़ कर उसकी चूत से बाहर आ गया तो मैं उसके ऊपर से हट गया. (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

फिर मैंने उसकी चूत को बड़े ध्यान से देखा. मेरे इस हरामी लंड ने उसकी कुँवारी चूत की धज्जियाँ उड़ा दी थीं, जिसमें से मेरे वीर्य के साथ खून भी निकल रहा था.

वो आंखें बंद करके लेटी हुई थी, उसे इस बात का कोई अंदाज़ा नहीं था. मैंने उसकी ही पैंटी से उसकी चूत पर लगे वीर्य और खून को साफ़ किया और उस पैंटी को निशानी के तौर पर अपने पास रख लिया।

बिस्तर की चादर पर वीर्य और खून की कुछ बूंदें भी थीं, जिससे हल्का सा दाग बन गया था. मैंने एक कपड़ा लिया, उसे गीला किया और चादर से खून साफ़ किया।

फिर अपने कपड़े पहनकर उसके पास लेट गया और उसे अपनी बांहों में ले लिया. वो भी मेरी बांहों में सिमट गयी. मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?

वो बोली- जानू, शुरू में तो बहुत दर्द हुआ लेकिन बाद में बहुत मजा आया. मैंने कभी किसी चीज़ का इतना आनंद नहीं लिया.

सच में आज से मैं तुम्हारी दीवानी हो गई हूँ. अब आप जब चाहें ये सब कर सकते हैं. मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी.

यह सुन कर मैंने उसे खींच कर अपने सीने से लगा लिया. फिर मैंने अपने जलते हुए होंठ उसके होंठों पर रख दिये. फिर मैं उसके मुलायम होंठों को अपने होंठों में भर कर चूसने लगा.

वो भी मुझसे लिपट गई और उसने भी मुझे अपनी बांहों में कस कर पकड़ लिया. मैं उसे चूमते हुए उसके बालों में हाथ फिराने लगा, उसके गालों पर हाथ फिराने लगा।

फिर मैं अपना हाथ नीचे ले गया और उसकी चूत को सहलाते हुए उससे बोला- एक बार फिर से हो जाए. तुम्हें कोई आपत्ति नहीं है

वो बोली- नहीं नहीं.. अभी कुछ नहीं. तुमने तो मेरी हालत खराब कर दी थी. मेरे बार-बार मना करने पर भी तुमने मुझे नहीं छोड़ा. मुझे बेरहमी से मसलता रहे. आप बहुत बुरे हैं

मैंने उससे कहा- अभी तो तुम कह रही थी कि मैं तुम्हारी दीवानी हो गई हूँ. अब आप जब चाहें ये सब कर सकते हैं. मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी और अब आप मना कर रही हैं?

वो बोली- बाबू, अभी बहुत दर्द हो रहा है, थोड़ी देर मेरे साथ ऐसे ही लेटे रहो. पूरी रात पड़ी है, थोड़ी देर बाद शुरू करते हैं। अभी मेरी हालत ख़राब है.

देखिये मजे के चक्कर में पूरी चूत फट गयी है. थोड़ी देर धैर्य रखें. फिर तुम्हें जो करना है करो. आज से मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ.

फिर हम दोनों बाथरूम गए, एक-दूसरे को साफ़ किया और नंगे ही कमरे में आकर लेट गए। (कुवारी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा)

कुछ देर आराम करने के बाद मैंने उसे दोबारा चुदाई के लिए मना लिया. और एक बार उसकी घमासान चुदाई शरू हो गयी.

उस पूरी रात में मैंने उसे 4 बार चोदकर उसकी हालत खराब कर दी. सुबह तो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी, पूरी चूत सूज गयी थी। मैं सुबह होने से पहले अपने कमरे में वापस आ गया.उस दिन मैं बहुत खुश था क्योंकि उसे जम कर चोदने की मेरी इच्छा पूरी हो गयी थी।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds