मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोदा और किराए के पैसे वसूल किये | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 3

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोदा और किराए के पैसे वसूल किये | कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 3

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 3 में आगे पढ़े किस तरीके से मैंने मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोदा और किराए के पैसे वसूल किए ? 

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोद के किराए के पैसे वसूल किए कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 3 में आपका स्वागत है जैसा कि आप भाग 2 में जानते हैं शहनाज ने मोहित (यानी कि मेरे) के खड़े लंड पर धोखा देकर चली गई थी और मोहित, शहनाज की याद में मुट्ठी मार मार कर अपना शरीर खराब करता जा रहा था

शहनाज के जाने के बाद मोहित बहुत गुमसुम और अकेला हो गया था शहनाज की चुत के बारे में सोच सोच कर मोहित बाथरूम में जाकर मुठ मारता रहता था ऐसा लगता है सहनाज की पिंक चुत उसके लिए थी ही नहीं मोहित इतना ठरकी हो गया था कि शीशे में अपने आप को ही देख कर मुठ मारने लगा था उसकी कोचिंग के टीचर भी और उसके दोस्त भी उसे कहने लगे थे (भाई तेरा शरीर कहां जा रहा है बिल्कुल खत्म होता जा रहा है)

मोहित शहनाज को याद करके यह सोचता रहता था कि अगर शहनाज ने अपने बॉयफ्रेंड को कसम ना दी होती तो हम लोग कितना खोलकर सेक्स करके और मैं शहनाज की चुत की सील तोड़ देता।
शहनाज एकदम सील पैक लड़की थी

लेकिन ऐसा नहीं हो सका और मैं एक कुंवारी लड़की की सील तोड़दने से रह गया.

ऐसे ही लगभग एक महीना बीत गया.

अचानक एक दिन किसी ने मेरे कमरे का दरवाजा खटखटाया.
जैसे ही मैंने दरवाज़ा खोला तो मेरे सामने एक प्यारी सी लेकिन हॉट जवान लड़की हाथ में मिठाई का डिब्बा लिए खड़ी थी.

मैं समझ गया कि ये कौन है.
शहनाज की बहन आशिका ने ही मेरी वासना को फिर से जगाया था.
इस घर की सबसे छोटी बेटी जो मिठाई का डिब्बा लेकर मेरे सामने खड़ी थी.
मैं तो उसे देखता ही रह गया.

उसकी लम्बाई 5 फुट 3 इंच थी, रंग गोरा है, Big Boobs हैं, कमर तक काले लम्बे बाल, कातिलाना दो बड़ी-बड़ी आँखें और ऊपर से चेहरे से मैच करता हुआ चश्मा।

उसने लाल रंग का टॉप पहना हुआ था जिससे उसके उभार और भी उभर कर आ रहे थे।
नीचे सफ़ेद नेकर थी.

मेरी नजरें झट से उसे स्कैन करने लगीं.
मैं तो उसकी पतली कमर, कमर के ऊपर बन रहे दो प्यारे स्तन, उसकी चूत का आकार क्या होगा, कितने बाल होंगे, क्या वह शेविंग भी करती होगी, उसकी चूत का रंग क्या होगा… आदि के बारे में भी सोचने लगा था। वगैरह।

तभी उसने चुटकी काटते हुए कहा- मिठाई भी लेनी है… या जाऊं!

अचानक जैसे मेरी नींद खुल गई.
मैंने कहा- आप कौन हैं.. और ये मिठाई किस ख़ुशी में हैं?

उसने कहा- मैं आशिका हूं, इस घर की राजकुमारी. मैं 12वीं कक्षा में प्रथम आई हूं।

मैंने उसे बधाई दी और धन्यवाद कहा.
वो ‘आपका स्वागत है…’ कह कर Moti Gand मटकाते हुए चली गयी.

आशिका के जाते ही मैंने तुरंत मन में कहा- ये भी कोई माल थी यार..!
तभी मुझे ख्याल आया कि इसका भी कोई बॉयफ्रेंड नहीं है. आजकल BF GF बनने की शुरुआत स्कूल से ही हो जाती है.

भगवान भी नहीं…जब देता है तो छप्पर फाड़कर ही देता है। सोने की कामना की थी, हीरा मिल गया।

मैं सोचने लगा कि शहनाज की अधूरी Gand Chudai का गम यहीं पूरा करना है.

लेकिन बात कैसे शुरू करें.

मैं बस उससे बात करने का बहाना ढूंढता रहता था लेकिन कभी मौका नहीं मिला।

मन में सवाल उठता है, शायद उसकी कठोर मां ने कुछ कहा होगा या फिर शहनाज ने ही उसे सब कुछ नहीं बताया होगा।

जब भी हमारा आमना-सामना होता तो वह सिर झुकाकर निकल जाती.
मैं मन ही मन सोचता था कि मैं इतना बुरा नहीं दिखता!

घर के मालिक के पास एक कुतिया थी. आशिका उसे रोज शाम को घुमाने ले जाती थी।
मैं छत से उसे देखा करता था.

मैंने उसे फेसबुक और इंस्टाग्राम पर भी खोजा, लेकिन वह नहीं मिली।
फिर मैंने सोचा कि यह मछली तो जाल में फंसने से बच गयी.

महीना बीत गया था.
मैंने उम्मीद छोड़ दी थी।

तभी एक दिन उस कुतिया के रोने और भौंकने की आवाज आ रही थी।
सुबह से ही कुतिया के गुर्राने और भौंकने की आवाज आ रही थी।

थोड़ी देर बाद आशिका की आवाज आई जो कुतिया को शांत करने की कोशिश कर रही थी।
लेकिन कुतिया मान ही नहीं रही थी.

मुझसे रहा नहीं गया और मैं नीचे आशिका के पास आ गया.

मैंने पूछा- उसे क्या हुआ?
बोलीं- देखो, मैं कब से रूबी को मनाने की कोशिश कर रही हूं, लेकिन सच तो यह है कि सुबह से ही हंगामा मचा हुआ है. समझ नहीं आ रहा कि इसे कैसे शांत किया जाए!

कुतिया की आवाज में दर्द साफ झलक रहा था.
उसकी आवाज सुनकर पता चल रहा था कि वो गर्मी पर है और कुत्ते से उसकी चुदाई करवाने का समय आ गया है.
वो आज़ाद होकर खूब चुदाई करवाना चाहती है.

मेरा अनुभव कहता है कि ये घबराहट इसी वजह से है.
फिर भी मैंने निश्चिंत होने के लिए आशिका से रूबी को थोड़ा पकड़ने को कहा।

वह रूबी को सहलाते हुए बैठ गया और बड़े प्यार से बोला- चुप हो जा मेरी बच्ची.

यह कहते हुए उसने उसका चेहरा अपने स्तनों के पास रख लिया।
मैं मन ही मन सोचने लगा कि काश मैं उसकी जगह होता.

खैर… मैं रूबी के पास गया।
पहले तो मैंने उसे सहलाया, फिर प्यार से उसकी पूँछ उठा कर देखा।
उसकी चूत सूज गयी थी.

मैं समझ गया कि वह वास्तव में गर्मी पर है और उसकी चूत में कुत्ते और लंड की ज़रूरत है। इसके पार होने का समय आ गया है, इसीलिए यह इतनी बेचैन है।

मैंने ‘हम्म…’ कहते हुए सिर हिलाया।

आशिका मेरी तरफ देख रही थी.
उसने तुरंत बेचैनी से पूछा- क्या हुआ?

मैंने कहा- इलाज जल्दी करना होगा, नहीं तो पागल हो जायेगी.

आशिका के चेहरे पर उदासी छा गई और बोली- मेरे माता-पिता बाहर गए हैं और मेरे पास ज्यादा पैसे भी नहीं हैं।
यह सुनते ही मैंने कहा- इसे डॉक्टर की नहीं, उसकी जरूरत है।

मैंने इतना कहा और शांत हो गया.
उसने आश्चर्य से पूछा- किस बात का?

मैंने कहा- अब तुम्हें कैसे बताऊं, पता नहीं तुम समझोगी या नहीं.
इतना कह कर मैं रुक गया.

उसने कहा- सही बताओ क्या? रूबी को क्या हुआ?

‘अब मैं तुम्हें कैसे बताऊं…’ मैं कहते-कहते रुक गया।
फिर मैं कुछ सोच कर वापस बोला- यार का, अब समय आ गया है और जवान हो गई है. वह मिलन के लिए तरस रही है. इसकी बैठक बेहद अहम है. नहीं तो यह पागल हो जायेगा.

वो मेरी तरफ देख रही थी और ऐसे रिएक्ट कर रही थी जैसे उसे कुछ समझ ही नहीं आ रहा हो.

फिर मैंने उसे डराते हुए पूछा- कभी मिले हैं?
तो उसने ना में सिर हिला दिया.

फिर मैंने सोचा कि कोई जल्दी नहीं है, अगर अभी किया.. तो मर भी सकती है।
मैंने सीधे तौर पर कुछ नहीं कहा, इशारों में ही कहा.

लेकिन आशिका सब समझ रही थी.

कुछ देर सोचने के बाद उसने अपनी एक सहेली को फोन किया और सारी बात बताई।
थोड़ी देर बाद उसकी सहेली एक छोटा पामेरियन नस्ल का कुत्ता लेकर आई।

अब रूबी जर्मन शेफर्ड नस्ल की थी और वह छोटा सा पकौड़ी वाला कुत्ता… कुछ नहीं होना था।

20 मिनट तक असफल प्रयास किया।
छोटी नस्ल का कुत्ता बड़े कद की कुतिया से कहां चुदाई कर पाएगा.
वह बस कोशिश करता रहा.

वो लटक कर रूबी को चोदने की कोशिश करता था और जैसे ही अपना लंड डालने को होता था तो छोटा कद होने के कारण नीचे गिर जाता था.

ऐसा बार-बार हुआ.
हम तीनों बस ये तमाशा देख रहे थे.

कुछ देर तक ये सब देखकर मैं अपनी हंसी नहीं रोक पाया और हंस पड़ा.

आशिका ने मेरी तरफ गुस्से से देखा और बोली- तुम हंस रहे हो और मैं मर रही हूं. आप कुछ क्यों नहीं करते?

मैंने भी तपाक से कहा- अगर कोई लड़की होती तो मैं ये जरूर करता.
यह सुनकर उसकी सहेली भी हंस पड़ी.

आशिका बोली- मैं बहुत परेशान हूं और आप लोग हंस रहे हैं.
फिर हम तीनों हंस पड़े.

मैंने कहा- इसके लिए एक अनुभवी कुत्ते की जरूरत है!
यह सुनकर आशिका बोली- अब कहां से लाऊं?

मैंने सोचा कि आशिका को प्रभावित करने का यही मौका है।
मैं बिना कुछ बोले बाहर आ गया और एक दुकान पर जाकर बिस्कुट का पैकेट खरीद लिया.

अब मैं इधर उधर देखने लगा.
आप लोग तो जानते ही हैं कि मोहल्ले में आवारा कुत्तों की कोई कमी नहीं है. ये सब चोदने में बहुत एक्सपर्ट हैं।

मैंने एक कुत्ता देखा. मैंने तुरंत बिस्किट का एक टुकड़ा उसकी ओर फेंक दिया.
कुत्ता तुरंत पास आया और उस टुकड़े को खाने लगा।

मैंने तुरंत उसे पीछे से पकड़ लिया और वापस ले आया.

मेरे हाथ में कुत्ता देखकर आशिका के चेहरे पर मुस्कान आ गई.
मैं कुत्ते को रूबी के पास ले गया और छोड़ दिया।

फिर क्या… देशी कुत्ता था, उसे विदेशी नस्ल की चूत चोदने को मिल रही थी, वह मौका कैसे चूकता।

जाते ही वो रूबी की Pink Chut को सूंघने लगा.
फिर तुरंत चाटने लगा.
रूबी तो चुदने को बहुत उतावली थी.

मुझे उस देसी कुत्ते की जीभ चाटने से लग रहा था कि चाहे कुत्ता हो या आदमी.. आज़ाद चूत को देखकर जीभ कैसे चाटती है।

दोस्तो, कुत्ते कुतिया की चुदाई से आशिका की चूत में क्या हलचल हुई और क्या वो मेरे लंड के नीचे आ सकी।
इसका खुलासा मैं सेक्स कहानी के अगले भाग में करूंगा.

क्या आपने कुंवारी बेटी को चोदा भाग 3 का आनंद लिया?

आप अपने विचार कमेंट में जरूर बताएं.

आप अपने विचार कमेंट में जरूर बताएं.
लेखक के अनुरोध पर ईमेल आईडी नहीं दी जा रही है.

मकान मालिक की कुंवारी बेटियों की चुदाई की कहानी का अगला भाग : कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 3

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds