मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोदा और किराए के पैसे वसूल किये | कुंवारी बेटी की बुर चुदाई की कहानी भाग 5

मकान मालकिन की कुंवारी बेटी को चोदा और किराए के पैसे वसूल किये | कुंवारी बेटी की बुर चुदाई की कहानी भाग 5

वाइल्ड फेंटेसी के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार

मैंने दो सगी सेक्सी कुंवारी बेटी की बुर चुदाई का मजा लिया. सबसे पहले छोटी वाली मेरे लंड का शिकार बनी. फिर बड़ी ने मुझे अपनी बुर परोसी। 

मैं एक बार फिर से हाजिर हूं आपके लिए मकान मालकिन की कुंवारी बेटी की चुदाई की कहानी भाग 4 के साथ आइए दोस्तों जानते हैं इस कहानी में किस तरीके से मैंने शहनाज की छोटी बहन को चोदा और उसकी Virginity तोड़ दी और चुत से खून निकाल दिया।
आशिका की चुत में लगी आग को अपने लंड के माल से बुझाया और अपने मन की Antarvasna को भी ठंडा किया। 

दोस्तो, मैं मोहित आप सभी का कुंवारी बेटी की Chut Chudai की कहानी भाग 4 में स्वागत करता हूँ।

कहानी के पिछले भाग में: 

अब तक आपने पढ़ा था कि आशिका मेरे साथ मेरे कमरे में थी

मैं उसकी Chut Chatai कर रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी।

अब आगे की कुंवारी बेटी की बुर चुदाई की कहानी:

आशिका को फिर से बिस्तर पर लिटाकर उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए और उसके बगल में लेट गया।

पूरे जोश के साथ ऊपर से नीचे तक हर अंग को चूमते हुए एक बार फिर से अपने होंठों को स्तन के निप्पल तक ले जाकर चूसने लगा।

इसी तरह उसके दोनों स्तनों को बारी-बारी से चूमना और चूसना शुरू कर दिया।

इसके साथ ही वो अपना एक हाथ चूत की लाइन पर ले गया और बुर के दाने को हल्के से रगड़ने लगा.
इससे एक बार फिर आशिका पूरी तरह से उत्तेजित हो गयी.

मैं उसे चूमते हुए फिर से उसके पैरों के पास आ गया और दोनों पैरों को अलग कर दिया और उसकी चूत को एक बार फिर से चाटना शुरू कर दिया।

जैसे ही मेरे होंठ उसकी चूत में पड़े, उसके मुँह से ‘आह…आह…’ की आवाज निकली, जिससे मैं और भी जोश से भर गया।

अब मैं कुत्ते की तरह बुर को चाटने लगा था.
आशिका भी अपनी कमर उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी।

ये एहसास ख़त्म न हो जाए, ये सोच कर मैंने एक बार फिर से अपने होंठ उसकी चूत से अलग कर लिए ताकि वो एक बार फिर से चरम सुख तक पहुंच सके.

यह देख कर आशिका बोली- ये क्या, रुक क्यों गये?
दोस्तो, मैं उसकी बेचैनी समझ सकता था।
कैसा लगता होगा…जब कोई चरम सुख पाने की आखिरी सीढ़ी पर पहुंचता होगा तो कितना बेचैन हो जाता होगा।

मैंने कहा- अब मेरी बारी.
मैं लगभग उल्टा हुआ और अपना लंड उसके मुँह के पास ले गया।
वह समझ गयी कि उसे क्या करना है.

उसने मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह अपने मुँह में पकड़ लिया और चूसने लगी.

कुछ देर लंड चूसने के बाद हम दोनों पूरी तरह से 69 पोजीशन में आ गये.
69 पोजीशन क्या होती है ये तो आप जानते ही हैं. मेरा लंड उसके मुँह में था और उसकी चूत मेरे मुँह में थी.

हम दोनों करीब तीन-चार मिनट तक इसी स्थिति में पड़े रहे.
फिर मैं उसके मम्मों पर आ गया.

मैंने यही काम दो बार और किया. कभी चूत में… कभी उसके मुँह में, कभी उसके दूध पर.

आख़िर वह बेचैन हो गई और बोली- कब तक ऐसे ही चलता रहेगा?

मैंने मन में कहा कि जब तक तुम खुद मुझे चोदने के लिए नहीं कहोगी.

मैंने सामने से जवाब दिया- चलो कुछ और ट्राई करते हैं.

मैंने आशिका की दोनों टाँगें फैला दीं और उसके बीच बैठ गया और कड़क लंड को हिलाते हुए उसकी तरफ थोड़ा झुक गया।

वो अपना लंड उसकी चूत के पास ले गया जिसे देख कर वो डर कर बोली.

‘अरे अरे… क्या कर रहे हो?’
मैंने उससे कहा- चिंता मत करो, मैं इसे चूत में नहीं डालूँगा. मैं इसे बस बाहर से रगड़ूंगा।

ये कहते हुए मैंने अपना लंड उसकी बुर की सीध में एक बार ऊपर से नीचे की ओर फिराया.
वो डर कर लगातार मेरी तरफ देखने लगी.

कई बार लंड को ऊपर नीचे होते देख कर उसे पूरा यकीन हो गया कि मैं लंड अन्दर नहीं डाल रहा हूँ.

अब वह आंखें बंद करके लेट गयी और इस क्रिया का आनंद लेने लगी.
साथ ही वो बुदबुदाते हुए बोली- आह और जोर से … बहुत अच्छा लग रहा है.

आशिका की उत्तेजना को देखते हुए मैंने अपने लंड को आशिका की चूत में लगातार रगड़ना शुरू कर दिया, जिससे मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया.

एक बार तो ऐसा लगा कि उसकी चूत में लंड डाल कर ही सब ख़त्म कर दूं. लेकिन मैं उसकी मर्जी के बिना कुछ भी नहीं करना चाहता था.

अब मैंने लंड को उसकी चूत से अलग किया और उसके मुँह के पास ले गया.
आशिका जानती थी कि उसे क्या करना है।

उसने तुरंत लंड को मुँह में ले लिया और पूरे जोश से चूसने लगी.
इसका नतीजा यह हुआ कि मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका और वीर्य उसके मुँह के अंदर ही गिर गया.

यह देखकर आशिका आश्चर्य से बोली- यह क्या है?
मैंने कहा- वीर्य… जब आदमी स्खलित होता है तो ये रस निकलता है.

आशिका बेचैन स्वर में बोली- मैं कब झड़ूंगी?
‘तुम्हें बस मेरा साथ देना होगा।’

वह डर गयी.
उसने कहा- अपना लंड अन्दर नहीं डालोगे क्या?

मैंने कहा- चिंता मत करो, मैं ऊपर से ही कर दूंगा. फिलहाल फिर से खड़े हो जाएं.

उसने कहा- कैसे?
मैंने कहा- चूस कर!

फिर उसने लंड को मुँह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी.
मेरा लंड तुरंत खड़ा हो गया.

मैंने आशिका की टाँगें फैला दीं और बीच में आ गया।
इस बार लंड और भी जोर से उसकी चूत में रगड़ने लगा.

मैं मन में सोचने लगा कि मेरी साली किस मिट्टी की बनी है, ऐसे में तो कोई भी हार मान कर खुद को लंड के हवाले कर देती.

लेकिन मैं भी कहां हार मानने वाला था. अपने पूरे अनुभव और धैर्य के साथ लंड को चूत में पेलता रहा.

इस बार लंड भी आसानी से झड़ने वाला नहीं था.

इस बार मैं आशिका के ऊपर लेट गया और अपने दोनों हाथ उसके सिर के नीचे ले जाकर उसका सिर ऊपर उठा दिया।

अब मैं पूरे कंट्रोल के साथ उसे चूमने लगा.

उन्होंने भी मुझे बहुत सपोर्ट किया.’

एक तरफ मैं कमर के कंट्रोल से लंड को उसकी चूत की सीध में ऊपर-नीचे करता रहा.

आशिका किस करने में व्यस्त थी.
अब उसने खुद को समर्पित कर दिया था. उसमें भय या प्रतिरोध का कोई चिन्ह नहीं था।

इसका फ़ायदा उठाते हुए मैंने अपना लंड उसकी बुर में थोड़ा सा अन्दर धकेल दिया।
मेरा लंड जगह बनाते हुए थोड़ा अन्दर घुस गया और किसी चीज़ से टकराकर रुक गया.

शायद ये चीज़ उसकी चूत की सील थी जो अब तक नहीं टूटी थी और उसके कुंवारे होने का सबूत दे रही थी.

मैंने लंड को थोड़ा बाहर खींचा और लंड चूत की फांकों में ऊपर-नीचे होता रहा।

थोड़ी देर बाद फिर से लंड को Pink Chut चूत के छेद पर थोड़ा सा अन्दर डाला.

साथ ही उसने मुझे दोनों हाथों और पैरों से बहुत कसकर पकड़ लिया.
मेरे लंड ने हल्के सुपारे से ही चूत के छेद में जगह बना ली थी.

उसी समय बड़े जोर से बादल गरजे और बहुत तेज आवाज हुई, जिससे हम दोनों के शरीर को अचानक एक तेज झटका लगा और पूरा 7 इंच मोटा लंड आशिका की चूत की सील तोड़ता हुआ अन्दर घुस गया.

उसे बहुत तेज़ दर्द हुआ और वो ज़ोर से चीखना चाहती थी, लेकिन उसकी आवाज़ मेरे होंठों में ही दब गयी.

वो छटपटाना चाहती थी लेकिन मैंने उसे ऐसे पकड़ रखा था कि वो हिल नहीं पा रही थी।

मैं कुछ देर तक उसी स्थिति में आशिका के ऊपर लेटा रहा।
फिर जब वो ढीली पड़ गई तो मैंने अपने होंठ उसके होंठों से अलग किए और उसकी तरफ देखा.

उसकी आंखों में आंसू थे.
उसके चेहरे के भाव ऐसे थे जैसे कह रहे हों कि क्या हुआ!

यह देख कर मैंने उससे कहा- मुझे माफ़ कर दो। मैंने जानबूझ कर अपना लंड तुम्हारी चूत में नहीं डाला.

वो बोली- कोई बात नहीं, मैं भी यही चाहती थी, लेकिन कह नहीं पा रही थी. शायद कुदरत को यही मंजूर था. कुदरत से भी मेरी तड़प देखी नहीं गयी.

उसके मुँह से यह बात सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई और मैंने उसके आँसू पोंछते हुए उसके गाल पर एक प्यारा सा चुम्बन दे दिया।

उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

ऐसा मैंने चार-पांच बार किया, बल्कि उसने मुझे और जोर से करने का इशारा किया.

वो अपनी जीभ निकाल कर मुझे किस करने लगी।

‘क्या‍ दर्द हो रहा है?’

उसने हां में सर हिला दिया.

मैंने कहा- पहली बार था ना.. इसलिए थोड़ा दर्द हुआ। बस तुम मेरा साथ दो, दर्द कम हो जायेगा.

अब मैं अपनी कमर को आगे-पीछे करके हल्के-हल्के झटके देने लगा। उसकी बहुत टाइट चूत थी.

हल्के झटके से भी उसे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन मैं लगा रहा.

उसके मुँह से लगातार ‘आह उई…’ की आवाज निकल रही थी.

धीरे-धीरे मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और अपने 7 इंच मोटे लंड को बेरहमी से आशिका की छोटी और नाज़ुक चूत में पेलना शुरू कर दिया।

कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाल लिया.
चूत और लंड खून से भर गये थे.

आशिका खून देखकर घबरा गई और बोली- ये खून!
उसे लगा कि उसकी चूत फट गयी है.
वो अपनी चूत का मुआयना करने लगी.

मैंने कहा- डरो मत, कभी-कभी पहली बार सेक्स करने पर सील टूटने से थोड़ा खून भी निकल आता है। जितना खून निकलना था निकल गया… अब नहीं निकलेगा.

मैंने रुमाल लिया और चूत और लंड पर लगे खून को अच्छी तरह साफ किया.

फिर मैंने आशिका को Doggy Style में आने को कहा.
उसने कहा- कैसे?

मैंने कहा- रूबी की तरह.. अपने दोनों हाथों और पैरों के सहारे बिस्तर को पकड़ कर खड़ी हो जाओ।


उसने डॉगी पोजीशन ले ली.

मैंने अपना लंड फिर से उसकी चूत में रगड़ते हुए धीरे से अन्दर डाल दिया.
वह हल्की सी ‘आह…’ आवाज के साथ थोड़ा आगे की ओर झुक गई।

मैंने उसकी कमर में हाथ डाल कर उसे पीछे खींच लिया और उसे चोदने लगा.
अब वो भी पूरे मजे से जोर जोर से चोदने लगा.

हमने हर स्थिति को आजमाया।
कभी उसे उल्टा लिटा कर पीछे से, कभी करवट लिटा कर पीछे से.

फिर मैं बिस्तर पर लेट गया और उसे अपने पास बुलाया।

अब सेक्स की कमान आशिका पर थी. वो पूरे जोश के साथ पागलों की तरह ऊपर-नीचे होने लगी और लंड को अन्दर-बाहर करके हुए Cowgirl Style में चुदती रही।

मैंने भी नीचे से अपनी कमर उठा कर उसका साथ दिया.
कुछ देर उछलने-कूदने के बाद आशिका ने मुझे कस कर पकड़ लिया और गिर पड़ी।

वह गहरी सांस लेते हुए मेरे बगल में लेट गयी.
उसके चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान थी.

आशिका तो हो गयी थी, पर मेरा अभी बाकी था.
मैं उसके ऊपर आ गया और उसे मिशनरी पोजीशन में पूरी ताकत से चोदने लगा.

मैंने अपना वीर्य आशिका की चूत में डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया.
रात के 3 बजे थे.

आशिका उठी और अपने शरीर पर लगे वीर्य को साफ़ किया और अपने कपड़े पहनने लगी।

जाने से पहले उसने मुझे एक प्यारा सा चुम्बन दिया और लंगड़ाते हुए अपने कमरे में चली गयी।


अगले दिन आशिका से रहा नहीं गया.
वह रात को फिर से मेरे कमरे में आ गई.

फिर से उसे जबरदस्ती चोदना पड़ा.
दो दिन तक ऐसा ही चलता रहा.

फिर आशिका के भाई की सगाई का दिन आया, जिसमें आशिका की बहन शहनाज भी आई हुई थी।

शहनाज मुझसे नजरें चुरा रही थी. 

शहनाज मुझसे नजरें चुरा रही थी लगता है वह मुझसे शर्मिंदा है या फिर गुस्सा है

मेरा मन अंदर से कह रहा था शहनाज मुझसे सबके सामने नजरे चुरा रही है ताकि वह मुझसे अकेले में मिलकर सारी बातें क्लियर कर पाए। 

मैं आशिका की चुत मार मार कर अब थक चुका था आशिका की चुत में अब वह मजा नहीं रहा आशिका भले ही मुझसे बहुत खुल कर चुदती हो पर वह पहले वाला मजा अब नहीं रहा

अब मेरा लंड शहनाज की चुत मारने को बेकरार था पर मेरी किस्मत ऐसी शहनाज मुझसे नजरें चुरा रही थी ना बात कर रही थी ना कुछ और। 

दोस्तों आगे की कहानी अगले भाग में इंतजार करिएगा आगे की कहानी में बहुत रोमांच है 

मानव मेरे को तो स्वर्ग धरती पर ही मिल गया हो दोनों बहनों को साथ चोदने का आनंद एक ही रात में पूरा हो गया पहले मैंने शनाश की चुत मार कर अपने लंड की आपको ठंडा किया। 

आशिका तो मुझे चुत देने में कोई कमी नहीं छोड़ रही थी
जब बोलो जब चुत देती थी स्कूल से आते ही।

ट्यूशन जाने से पहले, रात को सोने से पहले, अपनी मां से झूठ बोलकर हम अपने घर के पास Hyatt Hotel में जाकर खूब सेक्स करते थे

यदि आपके पास कोई सुझाव या टिप्पणी हो तो कृपया नीचे दी गई हमारी आईडी पर दें। [email protected]

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds