कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-1

कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-1

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम साहिल सिंह है। मैं विजयनगरबैंगलोर का रहने वाला हूँ। अब मैं एक सरकारी विभाग में कार्यरत हूँ।

सरकारी नौकरी होने की वजह से मेरा ट्रांसफर होता रहता है और कभी-कभी किसी जरूरी काम की वजह से।

मुझे 2-4 दिन के लिए देश के किसी दूसरे शहर में जाना होता है। इस वजह से ट्रेन, हवाई या बस से यात्रा करनी पड़ती है।

आज जो घटना मैं आप लोगों के साथ साझा करने जा रहा हूं वह साल 2013 की है। जब मैंने घर पर समय बिताने और मौज-मस्ती करने के लिए अपनी नौकरी से कुछ दिनों की छुट्टी ली थी।

मैं यहां आपको अपने बारे में बता दूं कि मैं एक बहुत ही सामान्य दिखने वाला लड़का हूं और मेरा रंग भी थोड़ा सांवला है।

लेकिन मेरे बात करने और रहने का तरीका ऐसा है कि जो मेरे साथ एक घंटा भी बिताता है, वह शायद ही मुझे जिंदगी भर भूल पाता है।

मैं खुद पर भरोसा करने वाला और अपनी ही दुनिया में मस्त रहने वाला लड़का हूं… और मुझे दोस्ती का भी शौक नहीं है, क्योंकि आजकल दोस्ती सिर्फ पैसों तक ही सीमित रह गई है।

जब मैं खुद बहुत कमाता हूं तो दूसरों पर भरोसा करके अपना मजा खराब करने में मुझे कोई दिलचस्पी नहीं है।

जब मैं जून 2013 में छुट्टियों के लिए अपने गाँव आया तो मैंने देखा कि गाँव में मेरी उम्र के बहुत कम लड़के थे।

क्योंकि ज्यादातर लोग बिजनेस के सिलसिले में बाहर दूसरे शहरों में कमाने गए थे।

इन सबके कारण मेरा गाँव में समय बिताना बहुत कठिन हो गया। मैं दिन भर अपने मोबाइल में खोया रहता था.. और गेम और फेसबुक या व्हाट्सएप पर टाइम पास करता रहता था।

एक दिन मैं दिन में सो रहा था और सोच रहा था कि मुझे फेसबुक पर अपने पुराने स्कूल और कॉलेज के दोस्तों को ढूंढना चाहिए।

इसलिए मैंने फेसबुक पर कई नामों से सर्च किया तो कुछ दोस्त मिले। मैं उससे बातें करने लगा।

फिर एक दिन जब मैं अपने कॉलेज के एक दोस्त से बात कर रहा था तो मैंने उससे मेरे साथ पढ़ने वाली लड़कियों के बारे में पूछा। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

उसने मुझे सबके बारे में बताया। मेरे कॉलेज टाइम में ही एक लड़की के साथ पढ़ता था, जिसका नाम आशिका था।

वो मेरे दोस्त की फेसबुक फ्रेंड थी। मैंने उसे फ्रेंडशिप रिक्वेस्ट भी भेजी।

कुछ देर बाद मैंने देखा कि लड़की ने मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली है और वो अभी भी ऑनलाइन थी।

फिर मैंने उसे फेसबुक पर ऐसा लिखकर मैसेज किया तो उसका रिप्लाई तुरंत आ गया।

मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें मैं याद हूँ?

उन्होंने कहा- अच्छी तरह याद हो।

अब मैंने बातचीत को आगे बढ़ाते हुए उनसे उनकी निजी जिंदगी के बारे में पूछा।

उन्होंने बताया कि कॉलेज की पढ़ाई पूरी करते ही उनकी शादी हो गई थी और उनके पति दिल्ली में एक फार्मा कंपनी में काम करते हैं।

लेकिन वह खुद विजयनगर में रहती है और यहां एक निजी स्कूल में टीचर के रूप में काम करती है।

मैंने उसे अपने बारे में भी बताया कि कॉलेज की पढ़ाई के दौरान ही मुझे नौकरी मिल गई थी इसलिए मैंने कॉलेज छोड़ दिया था और अब मैं छुट्टी पर गाँव आ गया हूँ।

दोस्तो, इतनी देर की बातचीत के बाद मैंने उसे अगले दिन बात करने को कह कर बाय कह दिया।

अगले दिन जब मैं गांव में बोर हो रहा था तो मैंने सोचा कि क्यों न विजयनगर जाकर एक फिल्म देखी जाए। यही सोच कर मैं गांव से बस में विजयनगर आ रहा था।

साथ ही मैंने अपने फोन का नेट ऑन कर दिया। तभी मेरे फेसबुक पर उस लड़की का मैसेज आया।

मैंने उसकी चैट खोली और उसे बताया कि मैं विजयनगर आ रहा हूं और समय बिताने के लिए मूवी देखने जाऊंगा।

वहीं, आशिका ने कहा कि उनके स्कूल की भी आज जल्दी छुट्टी हो गई और वह अब घर नहीं जाना चाहतीं।

मैंने मजाक में उनसे कहा कि वहा आएं और मुझे फिल्म में कंपनी दें।

उन्होंने पूछा- किस थिएटर में मूवी देखने जा रहे हो?

मैंने उससे कहा- मैं ग्लिट्स में जा रहा हूं।

आशिका ने झट से बताया कि मैं इस वक्त उस मूवी थिएटर के पास थी। इसलिए जब आप वहां पहुंचें, तो मुझे फेसबुक पर संदेश भेजें।

दोस्तो, पहले तो मुझे लगा कि वो मज़ाक कर रही है, लेकिन फिर भी मैंने मूवी हॉल के बाहर पहुँचते ही उसे मैसेज कर दिया।

बस एक मैसेज भेजना था कि उसका रिप्लाई भी तुरंत आ गया।

उसने कहा- मैं बस पहुंच रही हूं लेकिन आप टिकट मत लेना।

मैं बहुत सोच में पड़ गया, लेकिन जब वो आई.. तो उसने मुझे बताया कि उसने मूवी की टिकटें पहले ही बुक कर ली हैं।

वो एक इंग्लिश मूवी थी, लेकिन दोस्तों मुझे इंग्लिश मूवीज का बिल्कुल भी शौक नहीं है तो मैंने सोचा कि बोर हो जाऊंगा। फिर भी मैं चुप रहा। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

मूवी शुरू हुई तो हम अन्दर आ गये। मैंने देखा कि हमारी सीट सबसे ऊपर वाली लाइन में थी, जिसमें हम दोनों के अलावा कोई नहीं था।

वैसे, फिल्म अंग्रेजी में थी इसलिए भीड़ नहीं थी और हॉल में मुश्किल से 20 लोग थे।

सीट पर बैठने के बाद आशिका ने मुझसे कहा कि मुझे तुमसे बहुत सारी बातें करनी थी इसलिए मैंने इंग्लिश मूवी का टिकट ले लिया.. ताकि कोई डिस्टर्बेंस न हो।

फिर हम दोनों बातें करने लगे, तो उसने फिर वही बात कही, विजयनगर में नौकरी करके टाइम पास किया। उनके पति दिल्ली में ही व्यस्त हैं, इसलिए हम दिन में मुश्किल से आधे घंटे ही बात कर पाते हैं।

मैंने उसे छेड़ते हुए ऐसे ही कहा- फिर तो तुम्हारा हाथ भी दुखने लगा होगा।

उन्होंने मुझे मुक्का मारा और कहा- तुम्हारे हाथ दुखने लगे होंगे.. क्योंकि अभी शादी भी नहीं हुई है।

मैंने उससे कहा- जब भी मुझे मेरी पसंद की लड़की मिलेगी, मैं अगले ही दिन शादी कर लूंगा।

उसने पूछा- तुम्हें कैसी लड़की चाहिए?

मैंने मजाक में उससे कहा कि मैं बिल्कुल %मार्क जैसी लड़की चाहता हूं।

वह मेरी बात समझ नहीं पाई। उन्होंने मुझसे खुलने को कहा।

सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करें :

मैंने उससे कहा कि मैं 

एक हॉट फिगर वाली लड़की चाहिए थी, जो आगे और पीछे से मस्त दिखे।

उन्होंने पूछा- आपका पसंदीदा फिगर क्या है?

तो मैंने हंस कर कहा- ये तो मैं छू कर ही बता सकता हूं।

फिर मैंने उससे पूछा- तुम्हारी सेक्स लाइफ कैसी चल रही है?

उसने मुझे बताया कि मेरे पति को सेक्स में ज्यादा रुचि नहीं है और वो सेक्स सिर्फ फर्ज समझ कर करते हैं।

वह जब भी विजयनगर आते हैं तो महज 10-15 मिनट में अपना काम निपटा लेते हैं और फिर सो जाते हैं। जबकि मैं एक लम्बा सेक्स अनुभव चाहती हूँ। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

फिर दोस्तो.. मैंने उससे सीधे कहा- तुम मुझे मौका क्यों नहीं देते?

वो हंसते हुए बोली- वही मौका देने के लिए मैं तुम्हें यहां लेकर आई हूं।

यह सुनकर मेरी आँखों में चमक आ गई और मैंने उसे ज़ोर से चूम लिया और साड़ी के ऊपर से ही उसके स्तनों को मसलने लगा।

दोस्तों जब मैंने उसके स्तनों को छुआ तो मुझे पता चला कि उसके स्तन इतने बड़े थे कि मेरे हाथ में भी नहीं आ रहे थे।

मैंने उसके कान में धीरे से पूछा- तुमने कौन सा फिगर साइज़ बनाया है?

तो उसने शरमाते हुए कहा- आप खुद क्यों नहीं चेक कर लेते?

मैंने उसे कस कर गले लगा लिया और कहा- चलो इसका पूरा मजा लेने के लिए कहीं और चलते हैं।

उन्होंने कहा कि कहां ठीक रहेगा?

मैंने कहा- रुको, मैं अपने एक दोस्त से पूछता हूँ।

मैंने अपने दोस्त को फोन किया तो उसने नहीं उठाया। मैंने सोचा कि क्यों न किसी अच्छे होटल में चला जाऊं?

जब मैंने आशिका से इसके बारे में पूछा तो उसने कहा कि होटल में यह सुरक्षित नहीं होगा।

मैंने उसे समझाया कि हम एक अच्छे होटल में जा रहे हैं। अगर तुम शादीशुदा हो तो हम पति-पत्नी के रूप में कमरा ले लेंगे।

यही सब सोचते हुए हम लोग मूवी हॉल से बाहर आ गये। मैंने उस मूवी हॉल से थोड़ी ही दूरी पर एक आलीशान होटल में कमरा ले लिया।

कमरे में घुसते ही मैंने दरवाजा बंद करके उसे कस कर पकड़ लिया और स्मूच करने लगा। मेरा एक हाथ उसके एक चूचे को मसल रहा था और दूसरा हाथ उसकी साड़ी खोलने में लगा हुआ था।

अगले 5 मिनट में वो मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में खड़ी थी। उसकी चुचियाँ आगे की ओर तनी हुई खड़ी थीं। उसका ये रूप देख कर मैं तो खो ही गया।

मेरे सामने बिल्कुल वही लड़की खड़ी थी जिसकी मैं हस्तमैथुन करते समय कल्पना करता था।

दोस्तो, उसके स्तन पके खरबूजे की तरह आगे की ओर निकले हुए थे। और उसके चूतड़ बिल्कुल सही आकार में पीछे की ओर निकले हुए थे, जो मानो खुद से कह रहे थे कि आओ और हमें मसल दो।

वो मेरे सामने खड़ी होकर ऐसे शर्मा रही थी, जैसे आज हमारी सुहागरात हो।

अब मेरे लिए खुद पर काबू पाना बहुत मुश्किल हो रहा था। तभी मैंने उसके करीब जाकर उसे कस कर पकड़ लिया और उसके होंठों को पूरा चबाने लगा। (खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी)

जबकि वो खुद इसका पूरा मजा ले रही थी और अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल रही थी।

उसका दूसरा हाथ मेरी जींस खोलने में लगा था, लेकिन मेरी बेल्ट शायद उससे नहीं खुल पा रही थी।

मैंने एक बार के लिए उसे अपने से अलग किया और तुरंत अपने सारे कपड़े एक साथ उतार दिए और उसके सामने पूरा नंगा हो गया।

जैसे ही उसकी नजर मेरे लंड पर पड़ी, उसका चेहरा खिल उठा।

मैंने उससे मुस्कुराने का कारण पूछा तो उसने बताया कि मेरा लंड उसके पति से ज्यादा मोटा है और अभी भी तना हुआ है। जबकि अपने पति के लंड को अपने हाथों से हिलाकर खड़ा करना पड़ता है।

मैंने उससे कहा- आज मैं तुम्हारी सेक्स की हर इच्छा पूरी कर दूंगा, लेकिन तुम्हें मेरी बात मानकर शर्माना बिल्कुल बंद करना होगा।

उन्होंने कहा- मैं आपका समर्थन करने की पूरी कोशिश करूंगी।

अब मैंने उसकी ब्रा पैंटी और पेटीकोट भी खोल दिया और उसे भी अपनी तरह पूरा नंगा कर दिया। मैंने उसकी पीठ घुमाते हुए अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसके एक बोबे को मसलने लगा और दूसरा हाथ उसकी जांघों पर फिराने लगा।

वो भी धीरे धीरे कामुक सिसकारियां लेते हुए इस पल का आनंद लेने लगी।

इतने में उसका एक हाथ मेरे लंड पर आकर छू गया और फिर वो अपने हाथ से मेरे मोटे लंड को धीरे-धीरे सहलाने लगी।

इधर मेरा हाथ उसकी जाँघों से होता हुआ उसकी चूत तक पहुँच गया और मैं उसको सहलाने लगा।

वो दो पल में ही गर्म हो गई और इस झटके को बर्दाश्त नहीं कर पाई। वो एकदम से ढीली पड़ गई और साथ ही बिस्तर पर गिरने वाली थी।

मैंने उसका ख्याल रखते हुए उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके पैरों से लेकर पिंडलियों तक के हिस्से को चूसने और चाटने लगा। साथ ही मेरे दोनों हाथ उसके चूतड़ों को दबाने और मसलने में लगे हुए थे।

मस्ती में आशिका मादक सिसकारियां लेने लगी- आह साहिल, आओ बेबी मेरे नितंबों को चूसो और मेरी चूत को चाटो। (आह साहिल मेरे चूतड़ चाटो और मेरी चूत चूसो)

उसकी ये बातें सुनकर मुझे दोगुना जोश आ गया और मैंने उसके चूतड़ों को काटना शुरू कर दिया।

आशिका के साथ सेक्स की कहानी उसकी गांड चुदाई में कैसे बदली, इसका मजा आपको इस सेक्स कहानी के अगले भाग में पढ़ने को मिलेगा।

कहानी का अगला भाग: कॉलेज की पुरानी खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी भाग-2

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह खूबसूरत दोस्त की चुदाई करी कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Wildfantasy.in” पर पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds