दोस्त की बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई | खेत में रंडी बना के चोदा Part 2

दोस्त की बहन को रंडी बनाकर गरीबी मिटाई | खेत में रंडी बना के चोदा Part 2

हेलो दोस्तों,  खेत में भैया के दोस्तो ने चोदा कहानी का अगला भाग है। 

मैंने अपने भैया के लंड को मुँह में ले लिया और मस्ती से लंड चूसने लगी.

कहानी का अगला भाग

मैंने भाई का लंड अपने मुँह में ले लिया और मजे से लंड चूसने लगा.

भैया आंखें बंद करके मजे लेने लगे।

कुछ देर बाद भैया ने आंखें खोलीं और मेरे सिर को पकड़कर मेरे चेहरे को चोदने लगे।
मेरी तो सांसें अटकने लगीं, पर भैया चोदने ही वाले थे। उसका लंड मेरे गले तक जा रहा था.

भैया बीच-बीच में पूरा लंड डालकर रुक जाते थे जिससे मेरी भी सांसें फूलने लगती थीं और आंखों से आंसू भी बहने लगते थे.

दस मिनट तक मेरे चेहरे को चोदने के बाद भैया ने मेरा सिर अपने लंड पर पूरी तरह दबा दिया.
मैं हटने की कोशिश करने लगा, लेकिन भाई ने मुझे हटने नहीं दिया।
मेरी सांसे थम चुकी थी भाई का लंड मेरे गले में अटक गया था.

फिर भैया ने मेरा सिर दबाते हुए अपना माल गले में ही हिलाया, तभी लंड निकाल लिया.

मेरी नाक से भी लंड का सामान निकल रहा था. मुझे खांसी आने लगी। (खेत में रंडी बना के चोदा)

कुछ देर बाद मैं थोड़ा नॉर्मल हो गया। मेरा पूरा बदन तेल से सना हुआ था।
भाई बगल के पलंग पर लेटे थे।

कुछ देर बाद नहाया, भाई भी मेरे साथ नहाया।
फिर हम दोनों एक साथ नग्न होकर लेट गए।

उस रात भैया ने मेरा दूध खूब चूसा और अपनी उंगली मेरी चूत में डाल दी. लेकिन गड़बड़ नहीं हुई।

जब मैं सुबह उठा तो मेरा भाई मेरे साथ नहीं था।
मैंने उठकर मुँह धोया, नाश्ता किया, तब तक भैया आ गए।

उनके साथ राजू भी था। दोनों मुझे देखकर हंस रहे थे।
मैंने भी एक जानलेवा हंसी फैलाई।

उस दिन पापा बाहर जाने वाले थे। तभी पापा ने भाई से कहा कि तुम खेत जाओ और वहां काम देखो। मैं कल आउंगा।
भाई ने कहा- ठीक है।

पापा चले गए।

करीब 12-1 बजे भाई ने मां से कहा- मैं खेत जा रहा हूं और सुहू को साथ ले जा रहा हूं।
मां ने कहा- ठीक है। (खेत में रंडी बना के चोदा)

फिर भाई और मैं खेत की चुदाई का आनंद लेने चले गए।
रास्ते में राजू भी मिल गया और हम तीनों खेत में पहुँच गए।

मैदान के बीच में एक छोटी सी झोपड़ी बनाई गई है।

भाई ने कहा- चलो। सबसे पहले वे खेतों का दौरा करते हैं।
राजू ने कहा- हां चलो।

खेत में पानी था।

फिर पता नहीं कैसे घूमते-घूमते नाले में गिर गया, मेरा सारा बदन गंदगी से खराब हो गया।

राजू और भैया ने मिलकर मुझे बाहर निकाला। राजू ने कहा- अब नहाना पड़ेगा।
भाई ने कहा- हां, बोर के पानी में नहा लेते हैं।

मैं बोर के पास गया और गड्ढे में उतर कर नहाने लगा।

राजू और भैया खड़े हो गए और मेरी तरफ देखने लगे। तभी भाई और राजू भी उसी गड्ढे में आ गए।

भैया मेरे सामने आ गए और राजू पीछे से आकर मेरे साथ हो लिया।

राजू का लंड मेरी गांड को छू रहा था. (खेत में रंडी बना के चोदा)
मुझे पता चल गया था कि आज मैं दोनों तरफ से धमाका करने वाला हूं।

भाई ने मेरी चूत पर हाथ रखा और मसलने लगा.
इधर राजू अपना लंड मेरी गांड में घुसा कर मेरे बूब्स को रगड़ने लगा.

वो दोनों मुझे किस करने लगे। उनके दोनों होंठ मेरे गालों पर, मेरी पीठ पर, मेरे होठों पर, बूब्स के ऊपर मेरी छाती पर चलने लगे।

अब तक मेरी चूत भी गीली हो चुकी थी.

फिर भाई ने कहा- चलो झोपड़ी में चलते हैं।

हम सब झोपड़ी में आ गए।

मैं चोदने के लिए अधीर हो रहा था।

राजू ने कहा – पहले तुम दोनों अपने कपड़े निकाल कर मुझे दे दो, मैं बाहर धूप में फैला दूंगा। जब तक हम यहां रुकेंगे, कपड़े सूख चुके होंगे।

भैया ने सारे कपड़े उतार कर उनको दे दिए, राजू भी नंगा हो गया।

उसने मुझसे कहा- तुम भी अपने कपड़े दे दो।

मैं भी नंगा हो गया और अपने कपड़े राजू को दे दिए।

राजू बाहर कपड़े सुखाने आया। (Jaipur Escort)

दोनों का लंड सीधा खड़ा था. दोनों का लंड लगभग एक से लम्बा था लेकिन भाई का लंड थोड़ा मोटा था.
राजू का लंड भी कुछ कम नहीं था बस थोड़ा सा पतला था.

दोनों का लंड काफी बड़े और खतरनाक मूड में नजर आ रहा था.

फिर दोनों ने मिलकर मुझे खूब किस किया। मेरी भी चूत चाट ली. (खेत में रंडी बना के चोदा)

करीब 10 मिनट बाद राजू ने मुझसे कहा- लो रंडी, अब मेरा हथौड़ा चूसो।

उसने मुझे अपने घुटनों पर बिठाया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया.

तभी भैया ने भी कहा- एक बार मेरा लंड चूसो.

दोनों मेरे मुँह के सामने अपना लंड हिलाने लगे.
मैं बारी-बारी से दोनों का लंड चूसने लगा.

मैं कुछ मिनट तक उन दोनों के लंड को चूसता रहा.
लंड चूसने से मेरे मुंह से लार निकल रही थी जिससे मेरे बूब्स पूरी तरह भीग गए थे.
मेरी नाक से भी लंड का रस बहने लगा.

राजू मेरे बूब्स को मसलने लगा.

कुछ समय बाद भाई ने कहा – राजू, तुम मेरी बहन के मुंह को चोदो, मैं उसकी गांड को मार दूंगा।

राजू ने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरे सिर को पकड़ कर सामने लंड घुसाकर मेरे चेहरे को चोदने लगा.

उधर भाई ने अपना लंड मेरी गांड पर रख दिया और एक ही झटके में पूरा लंड मेरी गांड में घुसा दिया.

मैं चिल्लाया लेकिन राजू के लंड से अपनी गांड पर लात मारने की आदत थी इसलिए मुझे अपने भाई का लंड सहना पड़ा.

भाई साहब हंसे और बोले- वाह रे वेश्या, तेरी गांड भी पूरी खुल गई है।
राजू- खोल क्यों नहीं देता यार… मैं तुम्हारी बहन को पूरे 2 साल से चोद रहा हूँ।

मैं चिल्ला रहा था- उग्ग… उम्म उग्ग!

मेरे मुंह में राजू का लंड चल रहा था इसलिए मैं ठीक से आवाज नहीं कर पा रहा था.
इस गूँज गूँज के सिवा कुछ बोल नहीं पा रहा था।

इस समय मेरे मुंह और गांड दोनों से थूक निकल रहा था।

थोड़ी ही देर में राजू मेरे मुँह में गिर गया।
मैंने उसके लंड का सारा माल निगल लिया. (खेत में रंडी बना के चोदा)थोड़ी ही देर में राजू मेरे मुँह में गिर गया।
मैंने उसके लंड का सारा माल निगल लिया.

फिर कुछ मिनट के लिए राजू मेरी गांड चुदाई देखने लगा।
उसका लंड धीरे-धीरे खड़ा होने लगा.

इधर भैया मुझे चोदने जा रहे थे और मैं मजे से सिसकते हुए किस कर रही थी.

कुछ देर बाद राजू उठा और बोला- ले रंडी, मेरे लंड को फिर से थोड़ा चूसो, फिर मैं तुम्हारी चूत चोदूंगा.
मैं राजू के लंड को चूसने लगा.

इसके बाद दोनों ने मुझे खड़ा कर दिया।
राजू ने अपना लंड मेरी चूत में डाला और उधर भाई का लंड गांड में घुस गया था.

दोनों ने मिलकर मुझे चोदना शुरू कर दिया।
उन दोनों ने मेरे लिए एक सैंडविच बनाया और मुझे चोदने लगे।

दस मिनट तक चोदने के बाद भाई मेरी गांड में गिर गया.

इधर राजू मेरी चूत का भुरता बनाया जा रहा था.
मैं खुशी के साथ अपनी चूत को उसके लंड से चुदवा रहा था।
मेरे मुंह से कामुक फुफकारें निकल रही थीं।

राजू को अब दस मिनट हो गए थे।
मैं भी गिरने वाला था।
फिर कुछ ही देर में मैं गिर पड़ा।

मैंने राजू को अपनी चूत से निकालने की कोशिश की लेकिन वो कमीना हिल नहीं रहा था.

मैंने कहा- मुंह चोदो साले… अब चूत छोड़ो कमीने।

फिर उसने मुझे छोड़ दिया और मुझे अपने घुटनों पर बैठा लिया और अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया।
उसने मेरे चेहरे को चोदना शुरू कर दिया। (खेत में रंडी बना के चोदा)

कुछ ही मिनटों में वो मेरे मुँह में गिर गया और मैंने राजू के लंड का सारा माल पी लिया.

अब तक हमारे कपड़े भी सूख चुके थे सो सबने अपने-अपने कपड़े पहन लिए और घर चले गए।

उसके बाद जब भी हम तीनों को मौका मिलता है, हम तीनों ढाकपेल चुदाई का आनंद लेते हैं। भाई लगभग रोज ही वो मेरी चूत और गांड से खेलता है. (खेत में रंडी बना के चोदा)

मेरे भाई, बहन और दोस्त के साथ यह त्रिगुट सेक्स कहानी आपको कैसी लगी।

क्या आपने कभी खेत चुदाई का आनंद लिया है? अपने विचार कमेंट में जरूर बताएं।

धन्यवाद दोस्तों।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds