कामुक भतीजे ने अपनी जवान चाची की चुदाई करी

कामुक भतीजे ने अपनी जवान चाची की चुदाई करी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, मैं आपको एक लड़के की सेक्स लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “कामुक भतीजे ने अपनी जवान चाची की चुदाई करी”। यह कहानी अभिनव की है , वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

मैं अभिनव, Delhi का रहने वाला हु। आज जो कहानी लिख रहा हूँ वो मेरी चाची की चुदाई की है। मेरी उम्र 24 साल है और मेरा लिंग 6 इंच लंबा और 2.5 इंच मोटा है। यह चाची की सेक्स कहानी 3 साल पहले की है जब मैं अपने चाचा के घर गया था मेरी एक दिन की छुट्टी बिताने के लिए जो मेरे घर से थोड़ी दूर पर रहते थे।

मेरे चाचा की उम्र 49 वर्ष है, उनका नाम बृजेश है। चाची 34 साल की हैं और उनका नाम पूनम है। चाचा ने अपनी पहली पत्नी की मृत्यु के बाद चाची से दूसरी शादी कर ली थी, इसलिए उन दोनों की उम्र में काफी अंतर था। पहली चाची से चाचा के दो बेटे हैं।

मेरे चाचा का एक कमरे का घर बहुत छोटा है। उनके घर में मुश्किल से 5 लोग रह सकते हैं। जब मैं घर गया तो मेरी चाची बहुत यंग लग रही थीं और उनका फिगर 34-30-38 का था। चाची की गांड बहुत बड़ी थी। उस दिन चाची ने काली साड़ी और मैचिंग ब्लाउज पहना हुआ था।

इस चाची का ब्लाउज बहुत ही डीप नेक वाला और बहुत टाइट था, जिसमें से उनके आधे से ज्यादा निप्पल दिख रहे थे. चाची ने अपनी साड़ी नाभि के नीचे बांध ली। शाम को जब मैं उनके घर गया तो उस समय चाची घर के कामों से बिल्कुल फ्री थीं। शायद चाचा के आने से पहले अच्छे से सजना पसंद करती थी।

मेरे अचानक आते ही चाची बहुत खुश हुई और उन्होंने बड़ी आत्मीयता से मेरा स्वागत किया। मैं भी चाची की सुन्दर जवानी देखकर पूरी तरह कामातुर हो उठा। हालांकि इस वक्त मुझे नहीं पता था कि मैं अपनी चाची के लिए क्या सोचूं। लेकिन एक युवा लंड को कौन समझाएगा कि आपके सामने दिखने वाली हर खूबसूरत महिला चुदाई के लिए उपलब्ध नहीं होती है।

अच्छा… चाची ने बिठाया और चाय बनाकर ले आई। मैंने चाय पी और हम दोनों बातें करने लगे। चाची घर के बारे में पूछती रहीं और मेरा लण्ड मेरी आँखों को अपने बूब्स देखने के लिए उकसाता रहा। फिर रात हुई तो चाचा भी आ गए।
हम सबने खाना खा लिया और अब सोने का समय हो गया था।

चाची ने साड़ी बदली और लाल रंग की नाइटी पहन ली। उसने शायद अपनी ब्रा उतार दी थी क्योंकि उसके मम्मों का आकार अब कुछ अलग दिखने लगा था और उसके स्तन खुशी से हिल रहे थे, जो उसकी ब्रा में कैद थे और हिल नहीं पा रहे थे क्योंकि उसने साड़ी ब्लाउज में ब्रा पहन रखी थी।

उस वक्त उसके गहरे गले से आधे से ज्यादा झांकने का अंदाज ही कुछ और होता था और इस वक्त बिना ब्रा के बूब्स का अंदाज ही कुछ और होता था. जैसा भी हो मेरा लंड बहुत खुश था। चाची के इस पतले कपड़े की नाइटी में मुझे उनके निप्पलों के सिरे दिखाई दे रहे थे।

अब हम चारों फर्श पर सो गए और चाची सोफे पर सो गईं। वहां केवल एक ही व्यक्ति सो सकता था। कमरे में नाइट लैम्प जल रहा था, जिसकी मंद नीली रोशनी बहुत ही कामुक दृश्य प्रस्तुत कर रही थी। सब गहरी नींद में थे और मुझे नींद नहीं आ रही थी।

मैंने घड़ी की तरफ देखा, रात के 2 बज रहे थे। मैंने सोफे पर देखा तो चाची की नाइटी कमर तक आ गई थी। उनकी ब्लैक पेंटी नजर आ रही थी। मेरे दिमाग में, उसके साथ पहले कुछ भी गलत नहीं था। लेकिन यह दृश्य देखने के बाद मेरी आंखें खुली की खुली रह गईं और लंड अपना मातृत्व दिखाने लगा। देवर तुरंत ही अकड़ने लगा।

उसी समय चाचा की तरफ से कुछ हरकत हुई और फिर मैंने देखा कि वो उठकर चाची के ऊपर लेट गए। चाचा एक ही अंडरवियर में थे। अब वे दोनों सोफे पर लेटे थे जहाँ एक भी व्यक्ति ठीक से सो नहीं पाता था। चाची भी जाग गईं। बोलीं- क्या कर रहे हो… अभिनव उठेगा।

चाचा बोले- अभी चाहिए… अंदर बहुत आग है। सब सो रहे हैं, कुछ नहीं होगा। आप इसे जल्दी खोलिए। इतना कहकर एक चाचा ने चाची की नाइटी उतार दी। चाची ने ब्रा नहीं पहनी थी, पैंटी में ही रह गई थी। उन दोनों को सिर्फ पैंटी और अंडरवियर में देखकर मेरा लंड खराब लगने लगा।

चाची भी कामुक हो गईं और वे दोनों किस करने लगे चाचा ने चाची के दूध को सहलाया और एक दूध उनके मुंह में भर दिया। चाची खुशी-खुशी अपना दूध चखने लगीं। कुछ देर दूध चूसने के बाद चाचा ने चाची का चड्डी उतार दी और साथ ही पूरी नंगी हो गईं।

चाचा चोदने के मूड में थे। उसने चाची की टांगों को उनके निप्पलों पर रख दिया और नीचे से चाची की खुली हुई चूत में लंड का सुपारा डालने लगा। चाची ने अपनी टांगें खोलीं और लंड उनकी चूत में घुस गया। चाचा ने झटके से पूरा लंड चूत में भर लिया और हच हच करने लगे। जब तक चाची गर्म होती चाचा के लंड का काम शुरू हो जाता।

वह केवल 2 मिनट ही मेहनत कर सका और गिर गया। चाची उदास हो गईं और चाचा सॉरी बोलकर नीचे आ गए। मैंने देखा कि चाची ने बड़े उदास मन से अपनी चूत में उंगली डाल दी… और अपनी चूत को शांत करके वो भी सो गयी। यह सब देखकर मुझे बहुत बुरा लगा। कुछ देर बाद मुझे भी नींद आ गई।

सुबह चाचा जल्दी काम पर निकल गए और उनके जाने के बाद चाची नहाने के लिए अंदर आ गईं। वह नहा कर आई थी। उसने लाल रंग की साड़ी पहनी थी और उसकी माँ पर मैचिंग ब्लाउज़ चिपका हुआ था। इसके बाद चाची ने मुझे उठाया और नहाने के लिए भेज दिया।

बाथरूम में देखा तो पागल हो गया। नीचे फर्श पर काली ब्रा और पैंटी पड़ी थी। यह मेरी चाची द्वारा लाया गया था। मैंने पैंटी उठाई और उसे सूंघा, ओह क्या मस्त महक है। फिर मैंने पैंटी का चूत वाला हिस्सा अपने मुँह में डाला और फिर चाची की चूत का मटेरियल मुझे स्वाद देने लगा।

मुझे कल रात याद आने लगी। फिर मैंने उसे अपने लंड पर रख दिया और उसे पहने हुए ही हस्तमैथुन कर लिया। चाची की पैंटी से मेरा वीर्य निकल गया। मैंने उसकी पेंटी उतार कर फर्श पर रख दी और नहाने लगा। अब मेरा मूड चाची को चोदने का था।

उस दिन मुझे ऐसा कोई मौका नहीं मिला था कि मैं अपनी चाची की जवानी को अपने लंड से शांत कर सकूं। शाम को मैं अपने घर आ गया। अब मैं अपनी चाची की चूत चोदना चाहता था लेकिन मौका नहीं मिल रहा था। फिर एक दिन उस समय सही अवसर आया। हमारे रिश्तेदार के घर शादी थी, और मेरे घर में सभी एक हफ्ते के लिए जाने वाले थे।

मेरी परीक्षा थी, जिस वजह से मैं नहीं गया। जाने से पहले मेरी मां ने मेरे खाने के बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मैं बाजार में खाऊंगा। लेकिन मां ने चाची को मेरे साथ रहने के लिए आने को कहा। चाची के बच्चे चाचा के घर गए हुए थे और चाचा को काम से छुट्टी नहीं मिल रही थी। चाची मेरे घर आने को राजी हो गईं।

मैं बहुत खुश हुआ कि अब मुझे मौका मिल सकता है। मैं जानता था कि चाची आसानी से नहीं मानेंगी। मेरे मन में एक विचार आया। मैंने अपनी चाची को बहकाने के बारे में सोचा। अगले दिन सुबह जब चाची मेरे घर आई तो मैं उनके सामने सिर्फ तौलिया पहनकर नहाने जाने लगा और चाची से बोला- आप मेरे लिए कुछ नाश्ता बना दीजिए चाची, मुझे परीक्षा देने जाना है।

मैं बाथरूम में नंगा होकर नहाने लगा और अपनी चाची को याद कर अपने लंड को सहलाने लगा। तभी मेरा ध्यान बाथरूम के दरवाज़े के नीचे किसी परछाई पर गया तो मैं समझ गया कि चाची की चूत भी चोदने को बेताब है। मैं बाथरूम में लगे शीशे को गौर से देखने लगा तो समझ गया कि चाची के पंजे थे।

इसका मतलब है कि वह मुझे किसी दरार के माध्यम से नग्न देख रही थी। अब मैं कोमल स्वर में चाची के लिए कहने लगा- हाय पूनम रानी… तुम्हे चोदने का मन करता है तुम्हारी चूत में अपना लंड घुसा कर। तुम बस एक बार हां बोल दो… मैं तुम्हारी चूत की आग को ठंडा कर दूंगा।

मुझे पता है कि मेरे चाचा के लंड में जान नहीं है। आह आह… आज परीक्षा से वापस आने के बाद अगर मुझे तुम्हारी चूत चोदने को मिले तो वाकई बहुत मजा आएगा। मेरी बातें सुनकर चाची गर्म हो गईं और मुझे उनकी गर्म सांसों की आवाजें सुनाई देने लगीं।

कुछ देर बाद जब मैं बाहर आने ही वाला था तो चाची हड़बड़ी में चली गईं। बाहर आकर मैंने अनजाने में ही अपना तौलिया खोल दिया और अपना खड़ा हुआ लंड चाची को दिखाया और फिर से पहन लिया। मेरे खड़े लिंग को देखकर चाची पूरी तरह से चौंक गईं।

कुछ देर बाद मैं चला गया और मेरी चाची घर में अपना काम करने लगीं। उस दिन मेरी परीक्षा बहुत जल्दी खत्म हो गई थी इसलिए मैं घर आ गया। मैंने घर आकर चाची को फोन किया तो चाची की आवाज आई- मैं बाथरूम में हूं। मैं बाथरूम के पास गया और स्लिट में से देखा तो चाची नंगी थी और उनकी चूत में उंगली कर रही थी।

वो शायद सुसु के पास चली गयी थी और उसकी चूत में ऊँगली करने लगी। मैं समझ गया कि चाची की चूत जल रही है और उनका लंड चाहिए। मैं दरवाजे से हट गया और बोला- चाची मैं कोचिंग जा रहा हूं। चाची मान गईं और मैं चला गया फिर मैं कोचिंग से जल्दी घर आ गया।

उस समय एक बज रहे थे। मैं घर के बाहर आया और घंटी बजाई। चाची ने दरवाजा खोला तो मैं उन्हें देखता ही रह गया। चाची पूरी तरह भीग चुकी थीं। मैंने पूछा तो बोली- कपड़े धो रही थी, तभी भीग गई। उसकी काली साड़ी उसकी चाची ने नाभि के नीचे बाँधी हुई थी और उसे नीचे से उठाकर कमर में कस रखा था, जिससे उसकी पिंडलियाँ मस्त लग रही थीं।

चाची का डीप नेक ब्लाउज भी पूरा गीला था और साड़ी का पल्लू भी कमर में बंधा हुआ था, जिससे चाची की मां बेहद कातिलाना लग रही थी। एक पल के लिए मैं उसे देखकर सन्न रह गया। चाची मुझे इस तरह देखकर गर्व से बोलीं- अभिनव, तुम बहुत जल्दी आ गए।

मैंने कहा- हां, लेकिन परीक्षा की वजह से मैं ज्यादा देर कोचिंग में नहीं रहता। चाची बहुत भूख लगी हैं।.. जल्दी से कुछ खाना दे दो। बोली- तुम कुछ देर बैठो, मैं कपड़े सुखाकर आती हूँ। जब वो मुड़ी तो मुझे पीछे से उसकी धड़कती गांड के क्लीवेज दिखाई दे रहे थे। पांच मिनट बाद चाची आ गईं और इस बार वह पहले से भी ज्यादा गीली थीं।

ऐसे भीगते हुए उन्होंने मुझे खाना परोसा। मैं खाना खाने लगा। चाची ने कहा- मैं साड़ी बदल लेती हूं। वह कमरे में गई और दरवाजा बंद करना भूल गई। खुले दरवाज़े से मैंने देखा कि चाची ने अपनी साड़ी उतार दी, और अपना पेटीकोट ब्लाउज़ भी उतार दिया

यह दृश्य देख मुझसे रहा नहीं गया और मैं अंदर आ गया। मुझे अंदर आता देख वह नर्वस होने का ड्रामा करने लगी। चाची ने कहा- अभिनव तुम…तुम बाहर जाओ। वह गुलाबी पैंटी और ब्रा में थी और छिपने का नाटक कर रही थी। मैंने कहा- सॉरी चाची। मैं अब इसे बर्दाश्त नहीं कर सकता। कृपया मुझे करने दो।
 
यह कहकर मैंने उसे पकड़ लिया। उसने जाने का नाटक किया और कहा- मैं तुम्हारी चाची हूं, कुछ तो शर्म करो। उनमें बोलने की ज्यादा हिम्मत नहीं थी। मैंने कहा- चाची अगर मुझे शर्म आ रही है तो आपका गम मुझसे दूर नहीं होगा आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूं, कृपया सहमत हों।

वह कुछ नहीं बोली। उसकी खामोश स्वीकारोक्ति मुझे बता रही थी कि वह मुझे चोदने के लिए तैयार हो गई थी। जब मैंने उसकी निप्पल को छुआ तो वह खुल गई और कराहने लगी। मैंने कहा- चाची, लंड चाहिए न! चाची ने कहा- हां अभिनव, जब से तुमने मेरी पेंटी में मुक्का मारा है, मैं तुम्हारे लंड के लिए तड़प रही हूं

मैं समझ गया था कि तभी से मेरी चाची मेरे लंड के लिए तरस रही थीं मैं उसे बेड पर ले गया और लेटे-लेटे बोला- चाची आप बहुत सेक्सी हैं चाची बोलीं- आज से चाची नहीं, बोलो Poonam! मैंने कहा- ठीक है पूनम डार्लिंग। हम दोनों गले मिले और किस करने लगे। चाची ने मेरी पैंट उतार दी और फिर मेरी शर्ट भी उतार दी

वो रुकी तो मैंने कहा- अपना अंडरवियर भी उतार दे जानू… तेरा लंड तो तेरे अंडरवियर में ही छिपा है चाची ने अपना अंडरवियर भी उतार दिया। जब मेरा 6 इंच का लंड मेरे सामने आया तो चाची ने लंड को हिलाते हुए कहा- कितना बड़ा है मुझे इतना बड़ा लेने की आदत नहीं है।

मैंने कहा- आदत हो जाएगी चाची… मेरी भी पहली बार है। बस मुझे सिखाओ कि मेरी चूत को कैसे चोदना है! वो खुश हो गई और बोली- मैं तुम्हें चोदना सिखाऊंगी मैंने चाची की ब्रा और पेंटी निकाली। उसकी चूत पर बाल नहीं थे फिर हम दोनों ने कुछ मिनट किस किया और मैं उसका दूध चूसने लगा।

मुझे दूध पिलाकर मजे लेने लगी। फिर चाची ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और कुछ देर तक चूसती रही तभी मैं गिरने आया। मैंने उन्हें बताया तो चाची ने कहा- मेरे मुंह में रखा सामान निकालो तो मैंने लंड का रस चाची के मुँह में ही छोड़ दिया सारा माल पी गई और बोली- माल बहुत है।

मैंने कहा- चाची, मैं इतनी जल्दी क्यों गिर गई? चाची ने कहा- पहली बार हुआ है तो जल्दी में हो गया। मुझे पता था इसलिए मैंने जानबूझकर तुम्हारा लंड खाली किया। अब आप मेरा कमाल देखिए। मैं इसे कैसे खड़ा करूं मैंने कहा- ठीक है पूनम डार्लिंग, अपना कमाल दिखाओ।

चाची ने फिर से मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी वह एक युवा का लंड था, इसलिए वह जल्दी से फिर से खड़ा हो गया। अब चाची बोलीं- आओ, मेरे ऊपर चढ़ो। चाची ने अपनी चूत खोली और हाथ घुमा कर मुझे चढ़ने का इशारा कियामैंने लंड को चूत पर रख दिया और चाची ने लंड को हाथ से पकड़ कर दरारों में डाल दिया

उसने इशारा किया तो मैंने एक झटका दिया। मेरा आधा लंड चूत के अंदर चला गया वो चिल्लाई- आह आह बहुत बड़ा है तुम्हारा… धीरे से चोदो मैंने फिर मारा। इस बार पूरा लंड अंदर घुस गया। चाची रोने लगीं। मैंने अपना होंठ उसके मुँह में डाल दिया और उसे चूम लिया। वह अब आवाज नहीं कर पा रही थी।

साथ ही मैं जोर-जोर से झटके मारने लगा। वह गाली देने लगी। फिर जब मैंने अपना होंठ हटाया तो चाची मस्ती के साथ ‘आह आह उम उम..’ कहने लगीं। धक्का-मुक्की होने लगी। 15 मिनट लगातार रहने के बाद चाची गिर गईं लेकिन मेरी नहीं।

वो हँसी और बोली- मेरे हीरो ने चोदना सीख लिया है मैंने उन्हें किस किया और मजे से लंड को अंदर बाहर करने लगा चाची दूध पीते-पीते चोदने को कहने लगीं। मैं उसके निप्पलों को चूसते हुए चोदने लगा। फिर होनेवाला ही था, मैंने पूछारबड़ी किधर निकालूं? चाची ने कहा- अंदर टपकने दो। कुछ नहीं होने वाला, मेरा ऑपरेशन हुआ है।

मैंने चाची की चूत के अंदर सामान डाला और हम दोनों वैसे ही नंगी चिपक कर सो गए एक घंटे के बाद उसने मुझे जगाया और कहा, अब उठो… परीक्षा है, पढ़ना नहीं है। मैंने कहा- हां, चाय बना लो। वह कपड़े पहनने लगी। मैंने कहा- बाद में पहन लेना रानी…नंगी ही लाना।

चाची हंस पड़ीं और हम दोनों नग्न होकर चाय बनाने रसोई में आ गए। चाय पीने के बाद मैंने एक बार फिर अपनी चाची की चूत को चोदा और नहा कर फ्रेश हो गया वो बोली- अभिनव, तुमने मेरी सेक्स की आग ठंडी कर दी, थैंक यू अब तुम्हारे चाचा से कुछ नहीं हो सकता। मैंने कहा- जब चाहो बुला लेना।

अगले सात दिनों तक हम दोनों ने खूब मस्ती की। मैंने अपनी चाची की गांड भी मारी। आपको मेरी यह चाची की सेक्स कहानी कैसी लगी मेल और कमेंट जरूर करे। अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds