सोसाइटी वाली भाभी को बनाया लंड का गुलाम – हॉट भाभी फ़क स्टोरी

सोसाइटी वाली भाभी को बनाया लंड का गुलाम – हॉट भाभी फ़क स्टोरी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “सोसाइटी वाली भाभी को बनाया लंड का गुलाम – हॉट भाभी फ़क स्टोरी”। यह कहानी नीलेश की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

हॉट भाभी फ़क स्टोरी मेरे पड़ोस में आई एक नई भाभी के बारे में है। मुझे लगा कि भाभी लंड के नीचे लेने लायक माल हैं. इसलिए मैंने उसे प्रभावित करने की योजना पर काम करना शुरू कर दिया।

नमस्ते, मैं ऋषभ सूरत से हूं। मेरी उम्र 25 साल है।

मैं जो हॉट भाभी फ़क स्टोरी आपको बताने जा रहा हूं वो दो साल पहले की सच्ची घटना है.

उस समय मेरी सोसाइटी में एक नई भाभी रहने आई थीं. वो मुझे बहुत मस्त माल लग रही थीं.
उनकी उम्र करीब 27 साल थी और उनका एक बच्चा भी था.

भाभी, उनके पति और एक बच्चा यानि कुल तीन लोग ही वहाँ रहते थे।
वो मुझे दिन ब दिन बहुत हॉट लगने लगी.

उन्हें देख कर ही मुझे लग रहा था कि भाभी लंड के नीचे लेने लायक माल हैं. अब मैं सोच रहा था कि उसे सेट कर लूं और चोद दूं.

भाभी को प्रभावित करने के लिए मैंने सबसे पहले उन पर नज़र रखनी शुरू की ताकि मैं उनकी दिनचर्या को समझ सकूँ और उसके अनुसार भाभी को पटाने की योजना बना सकूँ।

फिर मैंने देखा कि वो रोज शाम को अपनी सहेली के साथ छत पर बैठती थी.
मैं भी अपने घर की छत से उनको ताड़ने लगा.

थोड़ी ही देर में उसे पता चल गया कि मैं उससे फ़्लर्ट कर रहा हूँ. कुछ दिनों तक मैंने भाभी को लाइन मारी. एक दिन बहुत ठंड थी इसलिए सोसायटी के सभी लोगों ने अपने घरों के दरवाजे बंद कर लिए थे। (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

मैं भाभी के घर के पास खड़ा था.
जैसे ही वो बाहर आई, मैंने उसे अपना फोन नंबर दिया और कॉल करने को कहा.

नंबर देने के बाद मैं इंतजार कर रहा था कि भाभी कब कॉल करके बात करेंगी.
लेकिन उनका फोन नहीं आया.

अगली सुबह 11 बजे एक नये नंबर से कॉल आयी तो मैं समझ गया कि यह उन्हीं का कॉल होगा.
मैंने झट से कॉल उठाया.

सामने से भाभी की आवाज आई ‘हैलो!’
मैंने भी नमस्ते कहा.

वो मुझसे पूछने लगी- तुमने मुझे नंबर क्यों दिया?
मैंने कहा- मैं तुमसे दोस्ती करना चाहता हूँ.

पहले तो उसने कहा- मैं किसी से दोस्ती नहीं करना चाहती.

वो फोन काटने ही वाली थी कि मैंने कहा कि जब तुम्हें दोस्ती नहीं करनी थी तो फोन क्यों किया?
इस पर वह थोड़ा शर्मिंदा हो गयी और लड़खड़ाती आवाज में बोली- मैंने सोचा था कि तुम्हें कुछ काम होगा!

मैंने कहा- अगर मुझे तुमसे काम होता तो मैं तुमसे सामने से बात करता. अपना फ़ोन नंबर क्यों देता?
वह कुछ नहीं बोली।

मैंने कहा- तुम भी समझने की कोशिश करो कि मैं तुमसे सिर्फ दोस्ती के लिए कह रहा हूँ.. मैं तुमसे कोई गलत काम करने के लिए नहीं कह रहा हूँ। वो चुप रही और मैं समझ गया कि मेरी चाल सफल हो गयी.

अब मैं उससे कुछ देर तक बातें करता रहा.

फिर भाभी बोलीं- मैं बाद में बात करूंगी. अभी मेरी दोस्त आयी हुयी है.
मैंने भी फोन काट दिया. (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

फिर शाम को उसका कॉल वापस आया और हम दोनों बातें करने लगे.

मैंने उनसे पूछा- भाभी, बताओ क्या आप मुझे बुरा लड़का मानती हो?
वो कहने लगी- नहीं, ऐसा नहीं है.

इस पर मैंने गेम खेलते हुए कहा- तो फिर तुम्हें मुझसे दोस्ती करने में क्या दिक्कत है?
भाभी हंस कर बोलीं- ठीक है बाबा, मैं आपसे दोस्ती करती हूँ.

चूँकि उसने यह बात हँसते हुए कही तो मैंने भी हँसते हुए उससे कहा- तो फिर कभी हमारे घर आओ?

वो हंसने लगी और बोली- मुझे घर बुलाकर क्या करोगे? मैंने कहा- आप जो कहेंगी मैं कर सकता हूँ. वैसे मैं तुम्हें चाय-नाश्ते के लिए बुला रहा था.

भाभी फिर हंस पड़ी और बोली कि तुम तो बहुत होशियार हो.
मैंने कहा- भाभी, मैं बहुत अच्छा इंसान हूं और आपको कभी दुखी नहीं करूंगा.

इस तरह हमारे बीच अच्छी दोस्ती हो गयी. अब जब भी वो छत पर अकेली होती तो मेरी तरफ मुस्कुरा कर देखती और फोन पर मीठी मीठी बातें करती.

उसकी प्यास ने मुझे समझा दिया कि भाभी को लंड की जरूरत है.

एक दिन मेरे घर पर कोई नहीं था.
मैंने उससे कहा- तुम मेरे घर आओ.

वो बोली- क्या खिलाओगे?
मैंने कहा- तुम्हें ताजे फल खिलाऊंगा.

वो बोली- फलों में मुझे सिर्फ एक ही फल पसंद है.

मैंने कहा- क्या पसंद है?
वो बोली- तुम बताओ?

मेरे मुंह से निकला- केला.
वो हंसने लगी और बोली- तुम्हें कैसे पता?

मैंने कहा- मेरे पास जादू की ताकत है, इससे मैं समझ सकता हूं कि मेरे दोस्त को क्या पसंद है.
वह बोली- मैं भी ऐसा जादू जानती हूं.

मैंने कहा- ठीक है! तो बताओ मुझे कौन सा फल पसंद है?
वह बोली- मुसम्मी!

मैं मन ही मन समझ गया कि भाभी सही रास्ते पर चल रही हैं। तो मैंने कहा- वाह भाभी जी, आपको कैसे पता कि मुझे रसीली मुसम्मी चूसने में मजा आता है? (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

वो हंसने लगी और बोली- अब मैं तुम्हारे घर आऊंगी और तुम्हें बताऊंगी कि मुझे ये सब कैसे पता है. अब तुम मुझे जल्दी से घर बुलाओ.

मैंने कहा- आपका स्वागत है. तुरंत आओ, मेरे घर में कोई नहीं है.
वो बोली- मैं कैसे आऊं … कोई देख लेगा.
मैंने कहा- कोई नहीं देखेगा.

वो बोली- यार, मुझे डर है कि कहीं कोई कुछ कहने न लगे कि मैं तुम्हारे घर क्यों गयी थी.
मैंने कहा- ठीक है, तुम ऐसा करो कि अपने घर से एक बैग में कुछ कपड़े ले आओ. ताकि अगर कोई देखे तो उसे लगे कि आप किसी काम से जा रहे होंगे.

यह बात उन्हें जम गयी.
मैं भी बाहर का दरवाजा खोलकर घर के पहले वाले कमरे में खड़ा हो गया.

जैसे ही वो मेरे घर में आई, मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और बिना एक पल भी बर्बाद किए उसे पकड़ लिया और चूमना शुरू कर दिया।

भाभी भी प्यासी थी इसलिए वो मेरा साथ देने लगी.

मैंने उसे बिस्तर पर धकेल दिया और उसके Big Boobs दबाने लगा।
साथ ही मैं भाभी के पूरे शरीर पर हाथ फिरा रहा था.

किस करते करते मैं भाभी के कपड़े उतारने लगा.

भाभी ने लोअर और टी-शर्ट पहन रखी थी.
मैंने उसकी टी-शर्ट को उसकी कमर के दोनों तरफ से उठाया और उसके सिर के ऊपर से उठाते हुए उतार दिया.

उसने अपनी टी-शर्ट ऐसे उतारी जैसे उसे चुभ रही हो.
जैसे ही मैंने टी-शर्ट उतारी, भाभी मेरे सामने काली ब्रा में आ गईं.

भाभी गजब लग रही थीं.

मैंने उसकी आंखों में देखा तो उसने अश्लील अंदाज में होंठों पर जीभ फिराई और मम्मे हिलाकर बोली- मुसम्मी, चूसोगे? मैंने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और उसकी ब्रा का एक कप नीचे खींच दिया और अपना मुँह उसके स्तन पर रख दिया।

भाभी की मीठी आह निकल गई और वो मेरा सिर पकड़ कर अपने मम्मे चुसवाने लगीं- आह चूसो देवर जी… बहुत दिनों से इन्हें किसी ने नहीं देखा. मैंने कहा- क्यों … भाई कुछ नहीं करते क्या? (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

वो बोली- अगर उसने कुछ किया होता तो मैं तुम्हें फोन नहीं करती!
अब मामला पूरी तरह साफ हो चुका था.

भाभी को लंड की जरूरत थी और वो मुझे अपने शिकार की तरह मिल गयी.

इसका मतलब यह है कि मैंने भाभी को नहीं फंसाया, उसने मुझे फंसाया है. उसका दांव सफल हो गया था… मेरा नहीं।
मैं सब कुछ भूल गया और बस भाभी के स्तनों को चूसने लगा।

कुछ देर में मैंने उसे पूरी नंगी कर दिया.
उसने मेरी शर्ट भी खोल दी.

भाभी मुझे अपनी बांहों में बाहर ले गईं और उनके हाथ मेरी पीठ पर घूमने लगे.

इस पोजीशन में उसके दोनों स्तन मेरी छाती में दब रहे थे.
उसी समय भाभी का एक हाथ मेरे लंड पर आ गया.

मैंने कहा- पैंट खोलो और केला चूसो भाभी!
भाभी बोलीं- मैंने पहले कभी ऐसा नहीं किया.

मैंने कहा- ठीक है, फिर रहने दो.
वो बोली- सॉरी.

हम दोनों कुछ देर तक एक दूसरे को गर्म करते रहे.

फिर वो बोली- अब मेरी Chut Chudai कर दो.
उसकी चूत गीली हो गयी थी.

मैंने सेक्स पोजीशन बनाई और अपना लंड भाभी की चूत पर रख दिया.
उसने भी अपनी टाँगें फैला दी थीं और मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत में सेट कर लिया था।

मैंने दबाव बनाते हुए अपना थोड़ा सा लंड अन्दर डाला तो वह कराह उठी- आह्ह यार… दर्द हो रहा है।
मैंने कहा- ऐसा क्यों हो रहा है? (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

वो बोलीं- तुम्हारा तो मेरे पति के लंड से भी बड़ा है … इसलिए दर्द हो रहा है. फिर मैंने धीरे-धीरे करना शुरू किया और भाभी को चूमना भी शुरू कर दिया.

मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस चुका था और उसी समय मैंने एक जोरदार शॉट मारा.
मेरा पूरा लंड भाभी की चूत को फाड़ता हुआ अन्दर चला गया.

वो चिल्ला उठी- आउच माँ मर गई … आह यार धीरे करो … मेरी चूत फट गई.
इस बार मैंने उसकी बात को अनसुना कर दिया, अपना लंड थोड़ा सा बाहर निकाला और फिर से उस पर वार कर दिया।

भाभी भी समझ गईं कि अब मैं जंगली जानवर बन गया हूं … इसलिए वो भी बस कराहती रहीं और लंड को अपनी Tight Chut में लेती रहीं.

कुछ देर बाद भाभी का दर्द कम हो गया.
और अब मैं फुल स्पीड से भाभी को चोदने लगा.

कुछ देर बाद वह स्खलित हो गयी.

फिर मैंने उससे डॉगी स्टाइल में आने को कहा.
वो कुतिया बन गयी.

मैंने उसके बालों को पीछे से पकड़ कर अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और जोर जोर से उसे चोदने लगा.
वो आह्ह आह्ह कर रही थी.

दस मिनट तक धक्के लगाने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने भाभी से पूछा- कहाँ निकालूँ?
भाभी : अन्दर ही निकालो.

मैं भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनकी तरफ चला गया.

कुछ देर बाद मैंने फिर से उसके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया और उसे फिर से गर्म कर दिया.
मेरा लंड भी खड़ा हो गया. (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

इस बार मैंने भाभी की दोनों टांगें अपने कंधों पर रखीं और धीरे से अपना लंड उनकी चूत में सरका दिया.
उनकी चूत मेरे लंड के साइज़ के हिसाब से खुल गयी थी इसलिए इस बार भाभी को ज्यादा परेशानी नहीं हुई.

हालाँकि अभी मैंने सुपरा ही रखा था।
भाभी को लगा कि लंड ने जगह बना ली है.

तो उसने जोश में आकर कहा- एक बार में ही पूरा पेल दो।

मैंने पूरे जोश के साथ अपना लंड भाभी की चूत में पूरा घुसा दिया.
वो अचानक चिल्ला उठी और मैंने उसे चोदना शुरू कर दिया.

कुछ देर बाद भाभी को अच्छा लगने लगा और कामुक आवाजें निकालने लगीं- आह आह आह … मजा आ रहा है.
इस बार वह पांच मिनट में ही स्खलित हो गयी.

मैं उसे चोदता रहा. फिर मैंने उनसे कहा- भाभी, मैं लेट जाऊंगा, आप मेरे ऊपर आ जाओ.

वो मेरे ऊपर आई, अपना लंड अपनी चूत में डाला और धीरे से मेरे लंड पर बैठ गई और मैं अपने दोनों हाथों से उसके स्तन पकड़ कर दबा रहा था और मसल रहा था।

कुछ देर बाद जब भाभी ने रफ्तार पकड़ी तो मैंने उनकी Moti Gand पकड़ ली और नीचे से धक्के लगाने लगा.

इस तरह से चोदने में बहुत मजा आया. दस मिनट की चुदाई के बाद वो थक गयी और बोली- तुम मेरे ऊपर आ जाओ.
मैंने कहा- ठीक है. (हॉट भाभी फ़क स्टोरी)

मैंने फिर से मिशनरी पोज़ बनाया और भाभी के ऊपर चढ़ गया, अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया और उन्हें चोदने लगा.
मैं उसे पूरी स्पीड से चोद रहा था और उसके मम्मे भी चूस रहा था.

कुछ मिनट बाद मैंने भाभी से कहा- मैं निकलने वाला हूं.
वो कहने लगी- हां, अंदर ही रस छोड़ना.

मैं भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनके ऊपर लेट गया. कुछ देर बाद भाभी बोलीं- अब मुझे जाना होगा. मेरा बच्चा जागने वाला है. मैंने भाभी को चूमा और घर जाने को कहा.

यह थी मेरी सच्ची हॉट भाभी फ़क स्टोरी!
आपको यह कैसी लगी मुझे कमेंट में जरूर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds