जीम ट्रेनर ने चोदा और मुझे चरमसुख का आनंद दिया

जीम ट्रेनर ने चोदा और मुझे चरमसुख का आनंद दिया

मेरा नाम आशिका है आज में आपको बताने जा रही हु की कैसे मेरी कुआरी चूत को “जीम ट्रेनर ने चोदा और मुझे चरमसुख का आनंद दिया”

मेरी उम्र 21 साल है, मेरा रंग गोरा है और मेरा फिगर 32-26-33 है। यह कहानी 2 साल पहले की है जब मैं 19 साल की थी

उस समय मैंने 12वीं की परीक्षा पास की थी और क्यूंकि मेरा घर मुंबई में है इसीलिए वहां कोई अच्छा कॉलेज न होने के कारण मैंने अपनी आगे की पढ़ाई के लिए अपनी बुआ, जो दिल्ली में रहती हैं, के घर जाने का फैसला किया.

मई के महीने में 12वीं के नतीजे घोषित होने के बाद मैं अपनी बुआ के घर आ गई और एक कॉलेज में दाखिला ले लिया। बुआ का घर 3 मंजिल का था. उसमें से मैंने सबसे ऊपरी मंजिल पर कमरा ले लिया जो घर की छत पर था.

पहले दिन जब मैं दोपहर को बुआ के घर पहुँची तो बुआ ने मेरा सारा सामान कमरे में रख दिया। और क्योंकि मैं लंबे सफर के बाद थक गई थी तो मैं कमरे में गई, अपने कपड़े बदले, शॉर्ट्स और टॉप पहना और बिस्तर पर सो गई।

मैं शाम को करीब 8 बजे उठी तो अँधेरा हो चुका था। मैं अपने कमरे से बाहर आई और छत पर टहलने लगी. तभी एक आदमी बगल वाले घर में आया, जिसकी छत मेरी छत से सटी हुई थी.

वह लगभग 6 फीट लंबा और चौड़ा था… वह किसी जिम ट्रेनर जैसा दिखता था। मैं अपनी छत पर टहल रही थी और वो अपनी छत पर टहल रहा था.

और क्योंकि मैंने शॉर्ट्स और टॉप पहना हुआ था इसीलिए शॉर्ट्स मेरी गांड को बड़ी मुश्किल से छुपा पा रही थी, इसलिए वो लगातार मेरी गांड और बूब्स को देख रहा था.

हालाँकि जब कोई मुझे इस तरह देखता है तो मुझे अच्छा नहीं लगता, पर मैं भी उसके जीवंत शरीर को देख रही थी। करीब आधे घंटे तक हम ऐसे ही चलते रहे.

साढ़े आठ बजे बुआ मुझे खाने के लिए बुलाने छत पर आईं. आते ही उस आदमी ने बुआ को नमस्ते कहा. तो बुआ ने भी हेलो कहा और पूछा- और रोहन कैसे हो?

तब मुझे पता चला कि उसका नाम रोहन है. बुआ ने रोहन को मेरे बारे में बताया और कहा- यह मेरी भतीजी आशिका है, और यहाँ पढ़ने आई है।

उन्होंने मुझसे हाथ मिलाया और कहा- मैं भी इसी कॉलेज में पढ़ता हूं. और अब चौराहे वाला जिम मेरा ही है. मैंने कहा- ओह… क्या आप जिम ट्रेनर हैं?

रोहन ने कहा- मैं एक ट्रेनर हूं और एक जिम का मालिक भी हूं. तब बुआ बोलीं- हां … तभी तो उन्होंने ऐसी बॉडी बना रखी है. फिर हम सभी लोग हंसने लगे.

फिर रोहन ने कहा- अगर तुम्हें कॉलेज में कोई दिक्कत हो या कोई मदद चाहिए तो मुझे बताना, मुझे वहां के बारे में सब पता है.

मैंने कहा- अच्छा, मैं वहां के सिलेबस, क्लास और टीचर्स के बारे में जानना चाहती थी. रोहन बोला- हां बिल्कुल … अभी बताऊंगा.

लेकिन तभी बुआ ने हम दोनों को टोकते हुए कहा- तुम्हें जो भी बात करनी है, खाने के बाद करना. चलो पहले खाना खा लो. और रोहन, तुम भी जाकर खाना खा लो.

तभी उसके घर के नीचे वाले कमरे से एक औरत की आवाज़ आई- रोहन, आ जाओ खाना खा लो. जब मैं बुआ के साथ नीचे जाने लगी तो मैंने उनसे पूछा- बुआ, वो आवाज़ किसकी थी?

उन्होंने बताया- वो आवाज उनकी पत्नी कृतिका की थी. मैंने कहा- अच्छा, वो शादीशुदा है. बुआ बोलीं- हां, उसकी शादी को 9 साल हो गए हैं.

मैंने कहा- अगर 9 साल है तो इसकी उम्र कितनी है? बुआ बोलीं- वो 35 साल का है. वैसे वह 25 साल का दिखता है, है ना? मैंने कहा- हां, आप सही कह रही हैं. और फिर हम दोनों हंसने लगे.

खाना खाकर बुआ के साथ बर्तन धोकर मैं 10 बजे तक छत पर आ गई और वहीं टहलने लगी. कुछ देर बाद रोहन के घर से लड़ाई की आवाजें आने लगीं और फिर रोहन छत पर आ गया.

मैंने उससे पूछा- क्या हुआ? घर में इतना रोना-पीटना क्यों हो रहा है? तो रोहन ने कहा- कुछ नहीं, बस रोजमर्रा की लड़ाई चल रही थी. और फिर हम दोनों हंसने लगे.

तभी उनकी पत्नी कृतिका ऊपर आईं और बोलीं- मैं घर जा रही हूं. और खुद खाना बनाओ और खाओ. रोहन भी गुस्से में बोला- जो करना है कर ले! अब निकल यहाँ से.

इसके बाद कृतिका वहां से निकल कर घर चली गयी और रोहन वहीं खड़ा रहा. मैंने कहा- अरे, तुम उसे रोकोगे नहीं? तो वो बोला- अरे वो खुद आ जायेगी.

यही उसकी दिनचर्या है! और बताओ कैसे हो, खाना खाया क्या? मैंने कहा- हां खा लिया. रोहन ने कहा- मुझे अपना नंबर दो, मैं तुम्हें सिलेबस दे दूंगा.

मैंने उसे अपना नंबर दिया और रोहन ने मुझे सिलेबस भेजा। मैंने उससे कहा- यार, तुमने बहुत अच्छी बॉडी बनाई है. फिर रोहन ने अपनी शर्ट उतार दी और अपने सिक्स पैक दिखाने लगा.

मैं छत की दीवार फांद कर उसकी छत पर चली गयी और उसके सिक्स पैक को छूने लगी. रोहन बोला- कैसा लगा? इसे बहुत मेहनत से बनाया गया है. मैंने कहा- बहुत अच्छा.

रोहन बोला- वैसे तुम्हारा फिगर भी कमाल का है, तुम शॉर्ट्स और टॉप में बहुत अच्छी लगती हो. मैंने कहा- रहने दो, मैं मोटा हो रही हूँ यार.

तो उसने मुझे घुमा दिया और मेरे पीछे आ गया और पीछे से मेरे पेट को सहलाने लगा और पीछे से मुझसे चिपक गया।

मुझे भी मजा आ रहा था और मैंने उससे कुछ नहीं कहा. रोहन मेरे पेट पर हाथ फिराते-फिराते मेरे बूब्ज़ पर ले आया और उन्हें मसलने लगा।

उसके बाद उसने अपना हाथ मेरे टॉप के अन्दर डाल दिया और मेरे निपल्स को अपनी दो उंगलियों से जोर जोर से दबाने लगा और मेरी चूत पानी छोड़ने लगी.

रोहन अपना लंड मेरी शॉर्ट्स के ऊपर से मेरी गांड में घुसाने लगा. तभी बुआ की आवाज़ आने लगी तो मैं जल्दी से अपनी छत पर आ गई और रोहन ने भी तुरंत अपनी शर्ट पहन ली।

बुआ ऊपर आईं और मुझे पानी देने लगीं और बोलीं- चलो, अब सो जाओ. मैंने बुआ को गुड नाईट कहा और कमरे में सोने चली गई.

रोहन ने भी बुआ को गुड नाईट कहा और सो गया. अगली सुबह मेरा कॉलेज था और मैं अपनी कॉलेज ड्रेस, नीली शर्ट और सफ़ेद सलवार पहनकर शहर की लोकल बस पकड़ी और कॉलेज पहुँच गई।

जब मैं कॉलेज पहुंची तो क्लास में मैं सबसे खूबसूरत लड़की थी. सब मुझे ही देख रहे थे. लड़के मेरे पीछे वाली सीट पर बैठ गये और अपनी आँखों से मेरे फिगर का एक्स-रे करने लगे और मुझसे बात करने की कोशिश करने लगे।

करीब 3 बजे मुझे छुट्टी मिल गई और मैं घर जाने के लिए कॉलेज से निकल गई और बस का इंतजार करने लगी. कॉलेज के बाहर कुछ लड़के खड़े थे

और कॉलेज से बाहर आने वाली हर लड़की का आंखों से एक्स-रे कर रहे थे. जब लगभग आधा घंटा बीत गया और बस अभी तक नहीं आई तो मैं और कॉलेज के सभी छात्र भी चले गए।

तभी उनमें से एक लड़का अपनी मोटरसाइकिल पर दो लड़कों को बैठाकर मेरी तरफ आया और मेरे पास आकर गाड़ी रोकी और बोला- हेलो… मेरा नाम अमन है. आपका क्या नाम है?

मैंने उसके सवाल का जवाब नहीं दिया तो अमन ने पूछा- क्या हुआ मैडम? अभी तो नाम ही पूछा है यार…इसमें दिक्कत क्या है? फिर मैंने गुस्से में कहा- मेरा नाम आशिका है, कोई परेशानी?

अमन बोला- अरे यार आशिका… क्या हुआ… इतना गुस्सा क्यों हो, क्या बात है, कोई टेंशन है क्या? मैंने कहा- यार, मैं आधे घंटे से बस का इंतज़ार कर रही हूँ. लेकिन बस नहीं आई। इसीलिए मेरा दिमाग खराब हो रहा है.’

अमन बोला- यार, बस 1:30 घंटे बाद आएगी. मैं हैरान हो गई और बोली- सच बता यार … तो बहुत देर हो जायेगी यार. अमन ने कहा- टेंशन मत लो, मैं तुम्हें घर छोड़ दूँगा, आओ बैठो।

मैंने कहा- रहने दो आपकी बाइक पर जगह नहीं है. मैं कहाँ बैठूँगी? अमन मोटरसाइकिल से उतरा और पीछे बैठे अपने दोस्तों से बोला- अरे यार, उतर जायेंगे, पहले तुम बताओ कि हाँ? मैने हां कह दिया”।

इसके बाद अमन ने बाइक से अपने दोस्तों को चिल्लाते हुए कहा- उतर जाओ मादरचोदों! और उसके बेचारे दोस्त उतर गए और कहने लगे- ठीक है बेटा… जब तुम्हें लड़की मिल गई तो तुम अपने दोस्तों को भूल गए।

अमन बोला- साले … मदद नाम की भी कोई चीज़ होती है. और मैंने कहा- अमन सही कह रहा था! मैं उसी बाइक पर बैठ गई.

वह अचानक बाइक चलाने लगा और मुझे पीछे की तरफ धक्का लगा तभी मैंने उसकी कमर पकड़ ली और खुद को गिरने से बचाया।

उसके बाद मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और उससे चिपक कर बैठ गयी. वह भी बहुत नशे में और बहुत तेज गाड़ी चला रहा था।

उन्होंने मेरे बारे में सब कुछ पूछा, ‘कहां से हो और क्या कर रही हो?’ मैंने सब कुछ बता दिया. फिर मैंने उसके बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो 29 साल का है और ठेकेदारी का काम करता है.

अब इस दुनिया में उसका कोई नहीं है. इसलिए वह या तो काम में व्यस्त रहते हैं या फिर इधर-उधर घूमते रहते हैं।

हम बातें कर रहे थे, मैं घर के पास आ गई थी और मैंने उसे घर से दूर रोका और कहा- घर तक मत जाना, नहीं तो लोग गलत समझेंगे। अमन बोला- जैसा आप कहें.

और उसने बाइक रोक दी. मैं घर जाने लगी तो उसने कहा- कल सुबह कैसे जाओगी? मैंने कहा- मैं बस से जाऊंगी. तो उसने कहा- बताओ, क्या अब हम दोस्त हैं?

मैंने कहा- हाँ यार, ये भी कोई पूछने की बात है? अमन ने कहा- अगर अमन का दोस्त वहां है और उसका दोस्त बस से जाएगा तो मेरी क्या इज्जत रह जाएगी?

मैंने कहा- तो क्या करें, बताओ? अमन बोला- कुछ नहीं, बस मुझे अपना नंबर दे दो और सुबह फोन करना. मैं तुमसे सुबह यहीं मिलूंगा. मैंने कहा- सच में, थैंक्स यार! और उसे गले लगा लिया.

अमन ने भी मुझे जोर से गले लगा लिया. ऐसा लग रहा था मानो पहली बार कोई लड़का मुझे गले लगा रहा हो। फिर उसके बाद मुझे महसूस होने लगा कि उसका लंड खड़ा हो गया है.

हम दोनों अलग हो गए. फिर मैं अपने घर के लिए निकल गई. घर पहुँच कर मैं बुआ के साथ व्यस्त हो गई और शाम को खाना खाकर करीब 10 बजे छत पर आ गई।

उसी समय रोहन भी छत पर आ गया. रोहन ने कहा- और आशिका, तुम्हारा कॉलेज का पहला दिन कैसा रहा? मैंने कहा- न बहुत अच्छा, न बेकार, तुम बताओ कि तुम्हारी बीवी वापस आई या नहीं?

रोहन बोला- वो मादरचोद आएगी तो आएगी, मुझे उसकी जरूरत नहीं है. मैंने कहा- अपना अच्छा मूड ख़राब मत करो. मुझे बताओ, मैं आपका जिम ज्वाइन करना चाहता हूं, शुल्क क्या हैं?

रोहन बोला- अरे तुम्हें भी जिम ज्वाइन करना है क्या? मैंने कहा- हाँ क्यों… नहीं कर सकती क्या? रोहन बोला- नहीं यार, ऐसा नहीं है, चार्जेज वाली लिस्ट नीचे रखी है, आओ मैं तुम्हें दिखाता हूँ।

मैं दीवार फांद कर उनके घर गई और नीचे उनके कमरे में जाकर मुझे बिस्तर पर बिठाया और लिस्ट देखने के बाद उन्होंने कहा- 5000 रुपये प्रति माह. तो मैंने कहा- यार, मैं इतना नहीं दे पाऊंगी.

मैंने वही शॉर्ट्स और टॉप पहना हुआ था जो मैंने उस दिन पहना था। रोहन मेरी जांघें सहला रहा था. वो बोला- अरे यार ये तो किसी और के लिए है. आपके लिए फ्री है.

इतना कह कर वो मेरे साथ बिस्तर पर लेट गया और मेरे टॉप के अंदर हाथ डालने लगा. मुझे भी मजा आ रहा था इसलिए मैंने कुछ नहीं कहा. मैंने कहा- ठीक है, आप मुझे कितना डिस्काउंट दोगे?

अब उसका हाथ मेरे टॉप के अंदर मेरे स्तनों तक पहुंच गया और अपनी दो उंगलियों से मेरे निपल्स को दबाने लगा। मैंने कहा- मुझे 100% डिस्काउंट चाहिए. रोहन बोला- जैसा तुम कहो डार्लिंग और फिर मुझे चूमने लगा.

मैं भी बहुत कामुक हो गई थी. मैं उसके ऊपर चढ़ गई और उसे चूमने लगी. वो मेरे होंठों को ऐसे चूस रहा था मानो खा ही जायेगा.

उसका जोश देखकर मेरा जोश और भी बढ़ गया और मैंने उसे चूमते हुए उसके होंठ को अपने दांतों से काट लिया. वो गुस्सा हो गया और बोला- रुक मादरचोद … आज तुझे ऐसा चोदूंगा कि तू जिंदगी भर याद रखेगी.

उसने मुझे पकड़ कर उठाया और बिस्तर पर पटक दिया और खुद नंगा हो गया. इसी बीच मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिये.

रोहन मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरे मम्मे चूसने लगा. और उसके बाद उसने मेरे निपल को इतनी ज़ोर से काटा कि मेरी चीख निकल गयी.

लेकिन वह रुकने वाला नहीं था. लग रहा था उसे निपल्स का बहुत शौक था. उसने करीब 20 मिनट तक मेरे निपल्स को काटा और चूसा.

उसके बाद मैंने उसे अपने ऊपर से हटाया और उसके ऊपर आकर उसके चूचों को चूसने लगी. मैंने उसके निपल्स को भी खूब काटा और उसके सिक्स पैक को अपनी जीभ से चाटा और फिर उसके लिंग को चूसने लगी.

मैं आपको बता दूं कि उसका लंड 7 इंच लंबा था और मेरे मुँह के अंदर नहीं जा पा रहा था. लेकिन किसी तरह मैंने उसे चूसना शुरू कर दिया.

करीब 10 मिनट तक चूसने के बाद उसने मुझे फिर से उठाया और बिस्तर पर पटक दिया. उसने मेरी टाँगें पकड़ कर फैला दीं और फिर अपनी ओर खींच कर अपना लंड मेरी चूत पर रख दिया

और मुझसे पूछा- बताओ, क्या तुम पहले कभी चुदी हो या सील पैक हो? मैंने कहा- नहीं, मैं अभी तक वर्जिन हूं. मेरे इतना कहते ही उस हरामी ने अचानक से अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसा दिया.

मैंने कहा- अरे मादरचोद, धीरे धीरे डाल. रोहन ने कहा- मैं इस दिन को तुम्हारे लिए यादगार बनाना चाहता हूँ. मेरी चूत की सील टूट गयी थी और उसका निशान बिस्तर पर भी दिख रहा था.

उसके बाद रोहन ने मेरे ऊपर चढ़कर मुझे खूब चोदा और कुछ देर दर्द महसूस करने के बाद अब मुझे भी मजा आ रहा था.

5 मिनट तक ऐसे ही चोदने के बाद उसने मुझे उठाया और खड़ा होकर अपने ऊपर बैठा लिया और मुझे चोदने लगा.

करीब 5 मिनट तक इसी तरह चोदने के बाद उसने मुझे बिस्तर पर उल्टा लेटा दिया और मेरे ऊपर पीछे से लेट गया.

उसके बाद उसने पीछे से मेरी चूत में अपना लंड डाला और मुझे खूब चोदा. इस बीच मैं दो बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी।

अब वो मुझे उठाकर डाइनिंग रूम में ले गया और डाइनिंग टेबल पर बैठा दिया. उसने फिर से अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे जोर जोर से चोदने लगा.

फिर करीब 10 मिनट तक इसी तरह चोदने के बाद वो भी झड़ गया और उसने अपना सारा वीर्य मेरी चूत में डाल दिया.

उसके बाद हम दोनों किस करने लगे और कुछ देर किस करने के बाद मैंने अपने कपड़े पहने और अपने कमरे में आ गई.

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds