स्कूल की सेक्सी फ्रेंड को उसी के घर में घोड़ी बनाकर चोदा

स्कूल की सेक्सी फ्रेंड को उसी के घर में घोड़ी बनाकर चोदा

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “स्कूल की सेक्सी फ्रेंड को उसी के घर में घोड़ी बनाकर चोदा”। यह कहानी विशाल की है, वह आपको अपनी कहानी बताएंगे, मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

स्कूल गर्ल को घोड़ी बनाकर चोदा सेक्स स्टोरी में मैंने अपनी स्कूल गर्ल को उसी के घर में चोदा. वह मेरी अच्छी दोस्त थी लेकिन उसका एक और बॉयफ्रेंड था। फिर वो मेरे लंड के नीचे कैसे आ गयी?

दोस्तो, मेरा नाम सोनू है। मैं Aerocity का रहने वाला हूँ।

आज मैं आपको अपनी सच्ची स्कूल गर्ल को घोड़ी बनाकर चोदा सेक्स कहानी बता रहा हूँ।
यह कहानी मेरे एक दोस्त के बारे में है जिसके साथ मैंने सेक्स किया था।

दोस्तो, मैं स्कूल के समय से ही हरामी रहा हूँ।
मुझे सेक्स करना बहुत पसंद है.

सेक्स करना हर किसी को पसंद होता है.
ऐसे कुछ ही भाई होते हैं जिन्हें चोदने के लिए लड़की नहीं मिल पाती।

आजकल लड़कियां खुद ही अय्याश हो गई हैं और उन्हें एक नहीं बल्कि एक से ज्यादा ब्वॉयफ्रेंड बनाने की चाहत होने लगी है।

कुछ लड़कियाँ इतनी कामुक होती हैं कि चोदना तो दूर की बात है, वो छूने भी नहीं देतीं।
वह सिर्फ फ्लाइंग किस करके लड़कों से पैसे खर्च करवाती रहती हैं।

जब मैं स्कूल में पढ़ता था तो मेरी क्लास में पूनम नाम की एक लड़की पढ़ती थी.
वह मेरे घर के बगल में रहती थी.

पूनम दिखने में गोरी और बेहद खूबसूरत थी.
उसका फिगर 32-26-34 होगा. (घोड़ी बनाकर चोदा)

वह बिल्कुल शानदार लग रही थी.
उसके पीछे कई लड़के थे.

दरअसल, क्लास या स्कूल में सभी दोस्त अच्छे होते हैं।
लेकिन कुछ बहुत अच्छे होते हैं और अच्छे दोस्त बन जाते हैं।

मेरे कुछ दोस्त भी घनिष्ठ मित्र बन गये।
पूनम उनमें से एक थी.

मैं उससे लड़कों की तरह बात तो नहीं कर पाता था लेकिन फिर भी हम खुलकर हंसी-मजाक कर पाते थे।

मैं कई बार कोशिश करता था कि किसी तरह Poonam से सेटिंग हो जाए कि वो मेरे लंड के नीचे आ जाए.

मैं सोचता था कि ये रांड पड़ोस में ही रहती है और अगर एक बार ये मुझसे चुदवाने को राजी हो गई तो समझ लेना कि इसे रोज चोदने में कोई दिक्कत नहीं होगी क्योंकि घर की छत से कोई भी आसानी से इसकी छत पर जा सकता था. . और कभी-कभी उसकी टांगें फैलाकर भी लंड और चूत का खेल खेला जा सकता था.

इसी वजह से मैं इन दिनों पूनम पर नजर रखने लगा कि वह किससे मिलती है और उसकी दिनचर्या कैसी है।

मैंने उस पर नजर रखनी शुरू की तो मुझे लगा कि कुछ तो गड़बड़ है.

जब मैंने उसके स्कूल के समय पर ध्यान दिया तो पाया कि वह स्कूल जल्दी चली जाती है।

एक दिन मैं भी सुबह जल्दी स्कूल चला गया.
जब मैं क्लास में गया तो देखा कि एक लड़का पूनम को किस कर रहा था.
मैं उन दोनों को देखने लगा.

वो दोनों बड़े मजे से चुम्बन करने में लगे हुए थे और लड़के के हाथ पूनम के Big Boobs से खेल रहे थे।
पूनम का हाथ भी लड़के के लिंग की मालिश कर रहा था।

जब मैंने यह दृश्य देखा तो मैं यह जानकर हैरान रह गया कि मेरे पड़ोसी की किसी दूसरे आदमी के साथ सेट हो गई है।

मैंने खांसा तो दोनों की नजरें मेरी तरफ घूम गईं. (घोड़ी बनाकर चोदा)
जैसे ही उन दोनों ने मुझे देखा तो पूनम एकदम से डर गयी.

मैं पूनम को गाली देने लगा और बोला- मैं तुम्हारे घर पर ये सब बता दूंगा कि तुम स्कूल में इस लड़के से Chut Chudai करवा रही थी.

यह सुनकर लड़का तुरंत गुस्सा हो गया और बोला- हरामी, किस करना क्या चुदाई कहलाता है?

वह लड़का मुझसे ज्यादा मजबूत था, इसलिए वह मुझे गुस्से से पीटने के लिए आगे आया और मुझे धमकी देना शुरू कर दिया – यहां से भाग जा, अन्यथा मैं गांड मार लूंगा तेरी।

मैंने भी जवाब में उन्हें कुछ बुरा कहा.
उसने मुझे एक धक्का दे दिया.

इस बात पर हम दोनों में झगड़ा हो गया.

मैंने उसे गाली दी और उसने मुझे।

उधर पूनम की गांड फट रही थी कि हम दोनों लड़कों की वजह से उसे सबसे ज्यादा तकलीफ होने वाली थी.

कुछ देर बाद पूनम ने हम दोनों को अलग किया और बोली- कोई आएगा तो तुम दोनों भाग जाओगे. मेरे बारे में भी सोचो!

तो लड़के ने कहा- तुम मेरे दोस्त हो. मैं तुम्हारे साथ कुछ भी करूँ, इस बहन के लोडे को कौन सा कीड़ा काट रहा है?

पूनम उसे एक तरफ ले गई और बोली- वो मेरे पड़ोस में रहता है, अगर घर पर बताएगा तो गलत होगा… और तुम मेरे दोस्त हो तो इसका मतलब ये नहीं कि तुम मेरे साथ कुछ भी कर सकते हो. चलो, उससे सॉरी बोलो.

हालाँकि पूनम ने यह बात उससे अलग होने के बाद कही थी, मैं सुन सकता था कि वह क्या कह रही थी।
उसकी बात से मैं समझ गया कि अब पूनम को मेरे लिंग के नीचे आसानी से लिया जा सकता है।

उधर, गर्लफ्रेंड से ये सब सुनने के बाद लड़के को भी डर लगने लगा कि कहीं उसकी सेटिंग फेल न हो जाए.
उसने मुझसे सॉरी कहा. (घोड़ी बनाकर चोदा)

मैंने कहा- कोई बात नहीं, तुम जाओ. अब मैं किसी को नहीं बताऊंगा.

फिर वह चला गया.

उसके बाद मैंने पूनम की तरफ देखा तो उसने अपने होंठ चबाये और क्लास के पीछे की तरफ चली गयी.

तब तक बाकी छात्र भी आ गये.

बाद में छुट्टी के दौरान भी वह मुझसे बचती रही और घर चली गयी।

फिर जब शाम हुई तो पूनम छत पर अकेली थी.
मैंने उससे कहा- अगर तुम चाहती हो कि मैं किसी को न बताऊं तो तुम भी मेरे साथ सेक्स करो.

वो बोली- नहीं, मैं तुम्हारे साथ सेक्स जैसा कुछ नहीं करूंगी.
तो मैंने कहा- ठीक है, फिर मैं देखूँगा कि मैं अंकल को आपके बारे में कैसे बता सकता हूँ।

तभी उसका भाई ऊपर आने लगा.
मैंने कहा- मैं अभी उसे बताऊंगा, वो अंकल को बताएगा.

पूनम हाथ जोड़कर बोली- ऐसा मत करो यार.. प्लीज़।
मैंने कहा- तो हाँ. (घोड़ी बनाकर चोदा)

कुछ देर सोचने के बाद वो बोली- ठीक है… लेकिन जब मैं कहूँगी, तब!
मैंने कहा- ठीक है.

अगले दिन शनिवार था इसलिए स्कूल की छुट्टी जल्दी हो गई।

पूनम स्कूल से घर जाने वाली बस में मेरे साथ बैठी और बोली- अभी घर पर कोई नहीं है, मम्मी-पापा ऑफिस गए हैं और भाई भी कॉलेज गया है। वह 4 बजे तक वापस आ जायेंगे. आपके पास 3 घंटे हैं. अगर तुम इन तीन घंटों में मेरे साथ कुछ करना चाहते हो तो छत के रास्ते हमारे घर आ जाओ.

मैंने वैसा ही किया जैसा उसने कहा था।
घर में घुसते ही मैं ऊपर वाले रास्ते से उसके घर पहुंच गया.

वह पानी पी रही थी.

मैंने पीछे जाकर उसे पकड़ लिया और अपना लंड उसकी Moti Gand पर रख दिया.

मैंने अपनी वर्दी बदल ली थी; मैंने लोअर और टी-शर्ट पहन रखी थी.
मैंने जानबूझ कर अंडरवियर नहीं पहना था.

पूनम अभी भी अपनी स्कूल यूनिफॉर्म में थी।
मैं उसके मम्मे दबाने लगा. स्कूल गर्ल सेक्स शुरू हो गया. (घोड़ी बनाकर चोदा)

उसने मुझे हटा दिया और बोली- तुम्हें जो करना है करो. लेकिन वादा करो कि किसी को कुछ नहीं बताऊंगा.
मैंने कहा- हां ठीक है.

अब मैंने उसकी कमर पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया और उसके होंठों को चूमने लगा और उसकी गांड दबाने लगा.

मैंने उसे चूमते-चूमते उसकी स्कर्ट ऊपर उठा दी और उसके नितम्बों पर मालिश करने लगा।
वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

उसके बाद हमने अपने कपड़े उतार दिये और पूरे नंगे हो गये.
वह बिल्कुल भी शर्मीली नहीं थी.

उसके बाद उसने मुझे सोफे पर बैठाया और खुद मेरी तरफ मुंह करके मेरे ऊपर बैठ गयी.

उसके स्तन मेरी छाती से रगड़ रहे थे. मेरे लंड की हालत ख़राब होती जा रही थी.
मेरा लंड उसकी चूत से रगड़ रहा था.

उसने मेरे हाथ अपने नितम्बों पर रख दिये और अपना एक स्तन मेरे मुँह में दे दिया।
मैंने उसके स्तनों को चूसना शुरू कर दिया और उसे भी मजा आने लगा.

वो चुदाई के खेल में पहले से ही माहिर थी.

कुछ देर बाद वो लेट गई और बोली- अब अन्दर डालो.
मैंने अपना लंड डालने की कोशिश की लेकिन मेरा लंड उसकी Tight  Chut में नहीं घुसा.

फिर उसने अपने दोनों हाथों की मदद से अपनी चूत की फांकों को खोला, अपनी गांड उठाई और मेरे लंड को अपनी चूत पर रख लिया.
इसके साथ ही उन्होंने धक्का लगाने को कहा. मैंने वैसा ही किया और दबाव डाला.

मेरा लंड सरकता हुआ चूत के अन्दर जाने लगा.
मेरे लंड की मोटाई के कारण वो कराहने लगा.

मैं जोर जोर से धक्के लगाता रहा.

कुछ देर बाद उसका पानी निकल गया.
इसके साथ ही मैं भी उसके अन्दर ही स्खलित हो गया.

मैं स्खलन के कारण पूरी तरह से थका हुआ महसूस कर रहा था, इसलिए मैं उसके ऊपर लेट गया।

कुछ देर बाद मैंने उसे फिर से चूमना शुरू कर दिया.
कभी उसके होंठ चूसता, कभी उसके गाल, कभी उसके स्तन चूसता.

इससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

इस बार मैंने उसे घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया.

उसकी आह की मधुर आवाज निकली. (घोड़ी बनाकर चोदा)
मैंने उसकी कमर पकड़ ली और धक्के लगाने लगा.

कुछ ही देर में एक जबरदस्त लय पैदा हो गई.
जब मेरी जांघें उसके नितंबों से टकराईं तो जोर से थप-थप की आवाज आई।

उसके नितम्ब भी मेरे धक्कों के साथ ताल में हिलने लगे।
मैंने उसके नितम्बों को पकड़ लिया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा, वो भी आह्ह आह्ह करने लगी और अपनी गांड मेरे लंड पर पटकने लगी।

मशीनी अंदाज में चुदाई शुरू हो गई.
लंड को चूत की मांसपेशियों की रगड़ से आनंद मिल रहा था.

जब मेरी दोनों जांघें उसके नितंबों से टकराईं तो मुझे बहुत अच्छा अहसास हुआ.

मैंने अपना आधा वजन उसकी पीठ पर डाल दिया और अपने हाथ बढ़ा कर उसके दोनों स्तनों को अपनी हथेलियों से पकड़ लिया।

अब लिंग को शंट करते समय हाथों में रसीले स्तनों का अहसास और भी सुखद होने लगा था.

सेक्स करते वक्त मेरी दोनों आंखें बंद थीं और मैं मदहोशी में था; दीन दुनिया का कोई एहसास नहीं रह गया था.

कुछ देर बाद उसकी चूत गीली हो गयी और वो निढाल हो गयी.

लेकिन मेरा अभी तक नहीं हुआ था.

उसकी आवाज आई- जरा रुको.
लेकिन मैं नहीं रुका.

दस मिनट के बाद मैंने अपना सारा वीर्य उसके अन्दर छोड़ दिया और पीछे से उसके नितम्बों से चिपक कर उसके स्तनों की मालिश करने लगा।

उसने कहा- अब बहुत देर हो गई है, तुम घर जाओ.
लेकिन मैं अभी भी और चोदना चाहता था।

वो बोली- मैं कहां भागी जा रही हूं? मैं तुम्हें फिर कभी बुलाऊंगी. लेकिन आपको इस बात का जिक्र किसी से नहीं करना.
फिर मैं अपने घर आ गया.

उसके बाद मैंने उसे सैकड़ों बार चोदा. मैंने उसकी गांड भी चोदी है.

अब हम दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ते हैं तो कहीं बाहर जाकर सेक्स करते हैं.

आगे की सेक्स कहानी मैं जल्द ही लिखूंगा.

आपको इस स्कूल गर्ल को घोड़ी बनाकर चोदा सेक्स कहानी में कितना मजा आया, कृपया मेल करें.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds