रेलवे स्टेशन पर पुलिस वाले अंकल ने गांड मारी – गे फ़क कहानी

रेलवे स्टेशन पर पुलिस वाले अंकल ने गांड मारी – गे फ़क कहानी

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं गे सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “रेलवे स्टेशन पर पुलिस वाले अंकल ने गांड मारी – गे फ़क कहानी”। मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

नमस्कार दोस्तो, आज मैं आपके सामने अपने जीवन की एक और सच्ची घटना प्रस्तुत कर रहा हूँ।

एक दिन मैं कानपूर स्टेशन पर रात को दिल्ली जाने वाली ट्रेन का इंतजार कर रहा था. मैं ट्रेन के समय से पहले स्टेशन पहुंच गया. स्टेशन पहुंचने पर पता चला कि ट्रेन 4 घंटे लेट है.

उन दिनों दिसम्बर का महीना था और बहुत ठण्ड थी। मैं प्लेटफार्म नंबर एक पर ट्रेन के आने का इंतजार करने लगा. जब ट्रेन काफी लेट हो गई और समय नहीं काट पा रहा था तो मैं स्टेशन के पास स्थित माल गोदाम की ओर चला गया.

उस समय रात के एक बज रहे थे. वह बहुत ही सुनसान इलाका था. एक तो सर्दी का मौसम था और ऊपर से मैं अकेला था. न जाने कब मेरे मन में सेक्स का ख्याल आने लगा और मैं सोचने लगा कि काश मुझे कोई मिल जाए जो मेरी सर्दी दूर कर दे.

मैं एक जगह बैठ गया और अपनी आंखें बंद कर ली और सेक्स के ख्यालों में खो गया. इसकी वजह से मुझे पता ही नहीं चला कि कब मैंने अपना लंड बाहर निकाला और मुठ मारने लगा।

मैंने सोचा भी नहीं था कि कोई मुझे देख भी सकता है. मैं अपने ख्यालों में ही खोया हुआ था, तभी मुझे एहसास हुआ कि कोई मेरे कंधे पकड़ कर मुझे हिला रहा है. (गे फ़क कहानी)

मुझे होश आया तो देखा कि सामने एक पुलिस वाला खड़ा है. मेरी तो जैसे गांड फट गयी. मैं बहुत डर गया और चुपचाप खड़ा रहा.

उन्होंने पूछा- ये सब क्या हो रहा है?
मैं कुछ नहीं बोला, बस ‘सॉरी सर… सॉरी सर..’ कहता रहा।

उसने कठोर स्वर में कहा- मादरचोद, अपना लंड हिला रहा है और सॉरी, सॉरी कह रहा है.. ये गंवार अंग्रेज चले गए हैं और तुम जैसे गांडू की फ़ौज यहाँ छोड़ गए हैं..

मैंने अपने लंड को अपनी पैंट में घुसाने की असफल कोशिश की।

फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर हिलाया और अपने साथ आने को कहा. मैं बहुत डर गया और उनके पैर पकड़ कर माफ़ी मांगने लगा.

पुलिसवाले ने मुझे खड़े होने को कहा, मैं डर कर खड़ा हो गया. पुलिस वाले ने कहा-मैं तुम्हें क्यों छोड़ दूं? मुझे कुछ कारण बताओ? मेंने कुछ नहीं कहा।

उसने फिर मेरा कॉलर पकड़कर मुझे हिलाया और पूछा- बात क्यों नहीं रहा अपना लंड क्यों हिला रहा था?
मैंने डरते हुए कहा- सर, मुझे ठंड लग रही थी.

उसने कहा- तुम्हें ठंड लग रही थी तो लंड क्यों हिल रहा था? क्या लंड हिलाने से सर्दी दूर हो जाती है?
मैं कुछ नहीं बोला तो उसने कहा- मुझे भी ठंड लग रही है, चलो मेरी ठंड दूर करो.. मेरा लंड भी हिलाओ.

मैंने उसकी आंखों में वासना भरी चमक देखी. ये चमक देख कर मेरी तो मानो मन की मुराद पूरी हो गयी. मैंने फिर भी डरपोक भाव से उसकी ओर देखा और याचना भरी आँखों से उससे मुझे छोड़ देने की विनती की।
उन्होंने कठोर स्वर में मुझसे कहा- मैं तुम्हें एक शर्त पर छोड़ूंगा कि तुम्हें मेरा लंड चूसना होगा.

ऐसा लग रहा था मानो मेरी मन की मुराद पूरी हो गई हो, लेकिन मैं लंड न चूसने का नाटक करने लगा. फिर उसने अपनी कड़क आवाज में मुझे अपना लंड चूसने का आदेश दिया और मेरे गाल पर तमाचा जड़ दिया. (गे फ़क कहानी)

मैं समझ गया कि ये मुझे जाने नहीं देगा और मैं भी यही चाहती हूँ. मैं ये सब मन में सोच ही रहा था कि तभी मैंने देखा कि उसने अपने पैंट के अंदर से अपना लंड निकाला और मेरे मुँह के सामने हिलाने लगा. उसका लंड देख कर तो मानो मेरी जान ही निकल गयी.

बिल्कुल घोड़े के लंड जैसा सीधा काला लंड था. मैंने उसके लंड को पकड़ लिया और जैसे ही मुझे उसकी कोमलता महसूस हुई तो मैं समझ गया कि उसका लंड अभी खड़ा नहीं हुआ है।

लेकिन मुझे डर लग रहा था कि अगर इसका लंड बिना खड़ा हुए इतना मोटा और लंबा है तो खड़ा होने पर कितना मोटा और लंबा होगा. (गे फ़क कहानी)

मैं अभी ये सोच ही रही थी कि उसने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया. मेरी आँखें खुली रह गईं और मैं उसका लंड चूसने लगी।

उसका लंड मेरे मुँह में जाते ही फूलकर मूसल जैसा हो गया. उसके मुँह से भी आह आह.. निकलने लगी. वो भी अपना पूरा लंड मेरे मुँह में डालने की कोशिश करने लगा. अब वो मेरा सिर पकड़ कर अपना लंड चुसवाने में लगा हुआ था.

मुझे भी उसका लंड बहुत अच्छा लग रहा था. मैं पूरी तन्मयता से लंड को चूस रहा था और उसके भगनासा को भी सहलाने लगा, जिससे उसकी कामुक कराहें और भी जोर से निकलने लगीं. वह भी समझ गया कि मैं लंड चूसने में माहिर हूँ.

लंड चुसाई से ‘छप छप छप..’ की आवाजें निकलने लगीं. लेकिन अब मेरे लिए उसका लंड चूसना मुश्किल हो रहा था क्योंकि उसका लंड अब खड़ा हो गया था.

मुझे एहसास हुआ कि उसका लंड 8 इंच से कम लम्बा नहीं होगा और 3 इंच से कम मोटा नहीं होगा. अब उसका लंड मेरे मुँह में नहीं जा रहा था बल्कि वह मेरा सिर पकड़कर जबरदस्ती अपना लंड मेरे मुँह में डाल रहा था। मेरी साँसें उखड़ रही थीं, लेकिन वो बड़े मजे से मेरा मुँह चोद रहा था। (गे फ़क कहानी)

करीब 20 मिनट तक लंड चूसने के बाद मेरे मुँह में कुछ दर्द होने लगा. मैंने कहा कि अब तो मेरा मुँह ही दुखने लगा है.“

लेकिन उसने मेरी बातों को अनसुना कर दिया और मेरे मुँह को चोदता रहा और फिर कुछ देर बाद उसके लंड से लावा ज्वालामुखी की तरह मेरे मुँह में गिरने लगा.

मैंने पीछे हटने की कोशिश की, लेकिन उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी कि मैं चाह कर भी हिल नहीं पाया और मुझे उसके लंड का सारा माल पीना पड़ा.

पहले तो मुझे उसका पानी अच्छा नहीं लगा, लेकिन बाद में मुझे उसके पानी का स्वाद बहुत पसंद आया और मैंने उसके लंड का रस पूरा पी लिया.

मैंने एक भी बूंद बाहर नहीं गिरने दी. वह भी अब थक गया था और एक जगह बैठ गया। मैं बहुत खुश था कि जो मैं चाहता था वही हो रहा था।

फिर वह पुलिसकर्मी उठकर मेरे पास आया और कहा – आओ, अपनी पैंट उतारो, मैं तुम्हारी गांड को चोदना चाहता हूं।

पहले तो मैंने मना कर दिया, लेकिन जब उसने मुझ पर दबाव डाला तो मैं मान गया. मैं भी यही चाहता था, पर न चुदवाने का नाटक कर रहा था। (गे फ़क कहानी)

मैंने अपनी पैंट उतार दी और उसकी तरफ देखा तो उसने भी अपनी पैंट उतार दी थी. उसने अपना अंडरवियर भी उतार दिया और उसका बड़ा लंड हवा में झूलने लगा.

वह मेरे पास आया और एक बार फिर अपने लंड को मेरे मुंह में डाल दिया और कहा – बस लंड को चिकना कर .. यह तेरी गांड को चोदने के लिए मजेदार होना चाहिए, है ना?

जब मैंने उसका लंड चूसा तो इस बार वह जल्दी ही खड़ा हो गया।

इसके बाद उन्होंने मुझसे झुकने को कहा. मैं तुरंत नीचे झुक गया, मेरे मन में डर था कि मैं इतना बड़ा लंड अपनी छोटी सी गांड में ले पाऊंगा या नहीं क्योंकि मैंने पहले कभी इतना बड़ा लंड नहीं लिया था.

मैं अभी ये सब सोच ही रहा था कि अचानक उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रख दिया. ऐसा लगा जैसे मैं अचानक कांप उठा। मुझे अपनी गांड फटने का डर था.

फिर मैंने उसे रोका और कहा- मेरे बैग में वैसलीन है, लगा लो.

उसने तुरंत बैग से वैसलीन निकाली और अपने लंड पर लगा ली और थोड़ी सी वैसलीन मेरी गांड पर भी लगा दी. अब वो अपना लंड मेरी गांड में डालने लगा. (गे फ़क कहानी)

जितना अधिक वह अपने लंड को अंदर धकेलने के लिए ताकत लगाता, मुझे उतना ही अधिक दर्द महसूस होता। लेकिन मुझ पर सेक्स का इतना नशा सवार था कि मैं दर्द सहने की कोशिश करने लगा. उसने एक झटका मारा तो 3 इंच तक मेरी गांड में घुस गया.

उसके मोटे लंड को झेलते ही मेरी सांसें रुक गईं और मुझे चक्कर आने लगा. लेकिन किसी तरह मैंने खुद पर काबू पा लिया. इस झटके के साथ उसके लंड का टोपा मेरी गांड के अंदर चला गया था. इससे पहले कि मैं राहत की सांस ले पाता, उसने मुझे एक और झटका दे दिया.

अब आधे से ज्यादा लंड मेरी गांड में घुस चुका था. मुझे ऐसा लगा जैसे मैं बेहोश हो जाऊंगा लेकिन उसने मुझे संभलने का मौका नहीं दिया और एक आखिरी झटका दे दिया. उसका पूरा लंड मेरी गांड को भेदकर अंदर तक घुस गया था.

मैं चिल्लाने ही वाला था कि उसने मेरा मुँह अपने हाथों से दबा दिया और मेरी आवाज़ वहीं दब कर रह गयी.

कुछ देर तक उसने कोई हरकत नहीं की और जैसे ही मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ तो उसने धीरे-धीरे अपने लंड को आगे-पीछे करना शुरू कर दिया। अब मुझे मजा आने लगा और मैं भी अपनी गांड हिला कर उसका साथ देने लगा.

कुछ धक्कों के बाद उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मेरे मुँह से ‘आहाहा ओहहह… आउच…’ की आवाजें निकलने लगीं। मेरी आवाज से वो और भी उत्तेजित हो गया और उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी. फिर उसने मुझे सीधा खड़ा किया और अपनी गोद में उठा लिया और नीचे से अपना लंड फिर से मेरी गांड में डाल दिया. (गे फ़क कहानी)

अब उसने मुझे गोद में उठा लिया और चोदने लगा. ऐसा लग रहा था मानो मैं स्वर्ग में सैर कर रहा हूँ। फिर उसने मुझे नीचे लिटाया और डॉगी पोजीशन में आने को कहा.

मैं तुरंत कुतिया पोज़ में आ गया. उसने पीछे से अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया और फिर से पूरी ताकत से मुझे चोदने लगा.

मैं ‘आअहह.. ओह.. यस यस फक मी..’ जैसी आवाजें निकाल रहा था। उसने मुझे काफी देर तक चोदा, फिर मेरी गांड अपने गर्म वीर्य से भर दी. (गे फ़क कहानी)

अब वह बहुत थक गया था. उसने अपना लंड मुझसे चुसवाया और साफ करवाया और वहां से चला गया.

मैंने भी अपने कपड़े ठीक किये और स्टेशन आ गया. दोस्तो, यह मेरी सच्ची गांड सेक्स कहानी है, आपको मेरी यह सच्ची कहानी कैसी लगी अवश्य बताएं.

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप wildfantasystory की “Hindi Gay Sex Stories” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds