गरम गीली चूत की कहानी – एक रात में 50 बार गर्लफ्रेंड की चुदाई का वर्ल्ड रिकॉर्ड

गरम गीली चूत की कहानी – एक रात में 50 बार गर्लफ्रेंड की चुदाई का वर्ल्ड रिकॉर्ड

नमस्कार दोस्तों, मैं आपके सामने उपस्थित रमन हूं। मेरी सभी सेक्स कहानियां सच्ची घटनाओं पर ही आधारित हैं।

मैं रोज जिम जाता हूं और दिखने में बहुत स्मार्ट हूं, इसलिए लड़कियां और आंटी मुझसे बहुत जल्दी खुश हो जाती हैं और मेरी थोड़ी सी कोशिश से उन्हें भी मुझसे प्यार हो जाता है।

यह गरम गीली चूत की कहानी आज से पाँच साल पुरानी है, जब मुझे नई नौकरी मिली थी। मैं सिंगल बीएचके फ्लैट में शिफ्ट हो गया था।

मैं इस फ्लैट में अपने दोस्त रिशु के साथ रहता था।

रिशु की एक गर्लफ्रेंड थी। उसका नाम आशिका था।

शनिवार की रात हम तीनों ने मिलकर शराब पी थी। फिर रिशु रात भर उसे चोदता था।
मैं रात भर उन दोनों की चुदाई की आवाजें सुनता रहता था।

साथ में शराब पीने की वजह से मैं और आशिका अच्छे दोस्त बन गए थे।

इसी तरह दो महीने बीत गए। दो महीने बाद रिशु को उदयपुर से अच्छा ऑफर आया और उसने बताया कि वह अगले महीने उदयपुर शिफ्ट हो जाएगा।

आशिका काफी बोल्ड लड़की थी। दोनों के बीच तय हुआ कि दोनों सिर्फ मस्ती करेंगे, फिर अपनी-अपनी जिंदगी में आगे बढ़ेंगे।
यह बात दोनों ने शराब पीते हुए कई बार बताई।

इसलिए रिशु के उदयपुर जाने की बात सुनकर मैं आशिका को इंप्रेस करने की कोशिश करने लगा. मैं उसे मैसेज वगैरह करने लगा। वो भी मुझे अच्छे से जवाब देने लगी।
उदयपुर जाने से पहले रिशु ने हम दोनों के लिए एक पार्टी रखी।

उन्होंने पार्टी में मुझसे कहा- आशिका का खास ख्याल रखना।
इस पर आशिका भड़क गईं।

अगले दिन रिशु चला गया। मैं और आशिका रोज फोन पर बात करने लगे।

उन्होंने कई बातों में बताया कि उन्हें ब्लू फिल्म देखना बहुत पसंद है.
मैंने कहा- तो इस शनिवार को शराब पीने मिलेंगे, फिर दिखाएंगे। मेरे पास ऐसी फिल्मों का काफी स्टॉक है।
उन्होंने कहा हाँ।

शनिवार शाम को मैं उसे लेने गया था। हम दोनों एक पार्क में घूमने गए।
वहां उसने मुझे अपने हाथ में हाथ देकर पकड़ लिया।

वापस आते समय बाइक पर मुझसे लिपट कर बैठ गई। फ्लैट पर आते-आते मैं रास्ते से हम दोनों के लिए खाने-पीने का पार्सल लेकर फ्लैट पर आ गया।

मैंने जानबूझकर छोटी और टाइट टी-शर्ट ही पहनी थी। शॉर्ट्स के अंदर अंडरिशुयर नहीं पहना क्योंकि मैं आज उसे अपना खड़ा हुआ लिंग दिखाना चाहता था।

हम दोनों पहले कुछ खाना खाते थे और बाद में शराब पीते थे। खाली पेट न रहने के कारण शराब नुकसान नहीं पहुंचाती। तो हम दोनों ने खाना खाया और हॉल में बातें करने लगे।

फिर हम दोनों शराब पीने लगे। इधर उधर की बातें करके आशिका मेरे पास आकर बैठ गई।

मैंने लैपटॉप में ब्लू फिल्म लगाई और अपने सामने टेबल पर रख दी।

आशिका मेरे कंधे पर सिर रखकर ब्लू फिल्म देखने लगी।
मेरी कोहनी उसकी बूब्स पर थी। मैंने अपनी कोहनियों को उसके स्तनों पर दबाना शुरू कर दिया और उसे भी अपनी कोहनियों से अपने स्तनों को दबाने में मज़ा आने लगा।

दोस्तों अगर आपके हाथ में शराब का गिलास है, सामने ब्लू फिल्म है और आपकी तरफ एक चुलबुली लड़की…तो आपको पार्टी में और क्या चाहिए.

ब्लू फिल्म के एक सीन में लड़का लड़की की चूत को चूस रहा था. आशिका ने बड़ी प्यासी आवाज में कहा- मुझे बहुत अच्छा लगता है, रिशु कभी नहीं करते थे।
मैंने कहा- मैं यह करूँगा और तुम्हें प्रसन्न करूँगा।

इस पर आशिका ने मेरे गाल खींचे और ‘उम्मा..’ कहते हुए एक चुम्बन लिया और मुझसे और भी लिपट कर बैठ गई।

फिल्म देखते हुए मैंने आशिका से कहा- तुम बहुत खूबसूरत हो।

दोस्तों हर लड़की को अपनी तारीफ सुनना अच्छा लगता है।

आशिका ने कहा- हम्म… आप भी बहुत हैंडसम हैं।

इतना कहते ही वो मेरे होठों को चूमने लगी। मेरे शॉर्ट में हाथ डालकर वो मेरे लंड को ऊपर नीचे करने लगी.
वो मेरी गोद में बैठ गई और मेरे होठों को चूमने लगी। वो अपनी चूत को मेरे लंड के ऊपर रगड़ने लगी.

आशिका ने मेरे होठों को चूमते हुए मेरी टी-शर्ट उतार दी. मेरे कंधों को चूमने लगा, मेरे सीने को चूमने लगा। वह भी मेरे सीने पर काटने लगी।

थोड़ी देर बाद वो फर्श पर घुटनों के बल बैठ गई और मेरे पेट को चूमने लगी. मेरी नाभि को चाटने लगा।

मुझे मज़ा आने लगा। वह मेरी नाभि को चबाते हुए मेरी आंखों में देखने लगी। मैं भी उसे कामातुर निगाहों से देखने लगा।

उसने मेरे शॉर्ट्स को मेरे पैरों से खींच लिया। जब शॉर्ट्स नीचे चला गया, तो मेरा फूला हुआ लंड जल्दी से बाहर आ गया।
मेरा मोटा और बड़ा लंड देखकर आशिका बहुत खुश हुई और बोली- तुम्हारा तो बहुत बड़ा लंड है.

बस इतना कहकर वो मेरे लंड पर झपटी और लोलीपॉप की तरह मुंह में लेकर चूसने लगी.

वो भूखी बाघिन की तरह मेरे लंड को चूस रही थी. वो मेरा पूरा लंड अपने गले तक ले जाने की कोशिश कर रही थी. फिर वो मेरे लंड की गेंदों को चूसने लगी और मेरे लंड की मुठ मारने लगी.

आशिका ने कहा- तुम्हारा लंड बहुत बड़ा और मोटा है… मैं इसे दो दिन खूब चोदूंगी.

कुछ देर बाद उसने मेरे लंड पर व्हिस्की डाली और मेरे लंड को चाटने लगी.

ये लंड चूसने का खेल पिछले दस मिनट से चल रहा था और अब मेरा रस निकलने वाला था.

मैंने उससे कहा कि प्रिये, जूस आने वाला है।
आशिका ने कहा- हां आने दो… 

मैं खुश हो गया और बिना किसी परवाह के उसके मुँह में अंदर बाहर लंड डालने लगा. कुछ ही क्षणों में मैंने आशिका के मुख में वीर्य का फव्वारा छोड़ दिया।

दोस्तों जब आप किसी लड़की के चेहरे पर पड़ जाते हैं तो वो खुशी किसी जन्नत के सुख से कम नहीं होती।

मैंने पूरा रस आशिका के मुँह में छिड़क दिया और आशिका ने भी मेरा सारा लावा पी लिया।
गिरने के बाद भी आशिका कुछ देर मेरे लंड को चूसती रही.

मुझे लगा कि लंड चूसने के मामले में आशिका बहुत परिपक्व लड़की निकली।

मैं नीचे गिरा और कुछ देर ऐसे ही सोफे पर लेटा रहा।
तब तक आशिका ने अपना खूंटा भर लिया और एक सिगरेट सुलगा ली।

आशिका ने कहा- हम इस खूंटी को एक ही बार में ऊपर से नीचे तक मारेंगे।

हम दोनों ने ठीक वैसा ही किया और एक सांस में खूंटी खाली करके मैंने आशिका से एक सिगरेट ली और अपनी सांसों में खुशबू भर दी।

फिर आशिका ने अपनी खूंटी खींच ली। उसने मुझसे एक सिगरेट ली, एक कश लिया और धुंआ मेरी ओर उड़ा दिया।

उसकी इस हरकत से मैं पूरी तरह से कामुक हो गया और आशिका को गोद में लेकर बैडरूम में ले गया.
वहाँ मैंने उसकी टी-शर्ट निकाली और उसके बूब्स को चूसने लगा।

मैं आशिका के बगल में लेटे-लेटे उसके एक स्तन को चूस रहा था और दूसरे को अपने हाथ से दबाने लगा.
आशिका बिना पानी के मछली की तरह तड़प रही थी।

उसके स्तनों को दबाते हुए मैंने अपना एक हाथ उसके शॉर्ट्स के अंदर डाल दिया. उसने अंदर कुछ भी नहीं पहना हुआ था।

मैं आशिका की चूत में ऊँगली करने लगा. आशिका अब हद से ज्यादा पागल हो रही थी। वो कमर उछाल कर मेरी उंगली अपनी चूत में ले रही थी.

फिर मैं आशिका के ऊपर चढ़ गया और बारी-बारी से उसके दोनों निप्पल चूसने लगा. वो भी अपना दूध पकड़ कर मुझे चूसने लगी.

मैंने आशिका को उल्टा किया और उसके ऊपर सवार हो गया। मैं पीछे से उसके कंधों को चूमने लगा और अपना हाथ आगे बढ़ाकर उसके स्तनों को दबाने लगा.

मैं उसे चूमते हुए नीचे आया और उसकी कमर को सहलाते हुए किस करने लगा। फिर नीचे आकर अपने शॉर्ट्स निकाले और उसके चूतड़ों को चूमने और काटने लगा।

वह नशे में थी और नशे से भरी हुई थी।

मैंने अब आशिका को सीधा किया और उसकी नाभि को चाटने लगा। धीरे धीरे उसकी चूत पर आया और चूत के ऊपर से चाटने लगा.

आशिका अब गिड़गिड़ा रही थी- अरे रमन जल्दी से मेरी फुद्दी खा ले… आह जल्दी चूस ले।
मैं जानबूझकर उसे प्रताड़ित कर रहा था।

लेकिन अब मैंने एक पल का भी समय बर्बाद न करते हुए उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया.

मेरी जीभ को अपनी चूत पर पाते ही आशिका सचमुच पागल हो गई।
उसने अपनी दोनों टांगें फैला दीं और मेरा सिर अपनी चूत पर दबाने लगी. वह मछली की तरह तड़पने लगी।

मैं भी उसकी चूत को जोर जोर से चाटने लगा और धीरे धीरे उसकी चूत के स्लिट्स को खींचते हुए काटने लगा. मैं उसे वैसे ही चाट रहा था जैसे कोई कुत्ता या बिल्ली दूध पीती है। कभी जीभ से चूत के फाटकों को चाटता तो कभी चूत के अंदर जीभ डालकर चूत का रस साफ करता.

करीब दस मिनट बाद आशिका गिर पड़ी और गिरते-गिरते उसने अपनी कमर पूरी तरह उठाकर मेरे मुंह में दे दी।
उसकी चूत का गरम लावा मेरे मुँह में स्वादिष्ट लगा.

चूत का लावा छोड़ कर वह जोर-जोर से हांफने लगी, मानो कोई तड़पती हुई मछली शांत हो गई हो।

मैंने उसका जूस चखा और बाहर से शराब की बोतल ले आया। मैंने एक घूंट साफ किया और बिस्तर के बगल वाले स्टूल पर रख दिया।
फिर मैंने एक सिगरेट सुलगाई और साँस भरते हुए आशिका की नंगी जवानी देखकर मज़ा लेने लगा।

वह आंखें बंद करके लंबी-लंबी सांसें ले रही थी। उसके उठते और गिरते स्तन कामुकता फैला रहे थे। मेरा लंड फूलने लगा था.

फिर उसने अपनी आँखें खोलीं और एक गहरी साँस ली और बोली- आह डियर… इतना मज़ा आज तक किसी ने मुझे नहीं दिया।

धुंआ निकालते हुए मैंने कहा- .. अभी तो सारी रात बाकी है।

उसकी नजर शराब की बोतल पर पड़ी तो मैंने बोतल उठाकर उसे दे दी। उसने उठकर एक घूंट लिया और मेरी उँगलियों से सिगरेट ले कर अपने होठों से लगा ली।

मैं उसके पास लेट गया और उसकी कमर को चूमने लगा।
उसने भी सिगरेट बुझा दी और मेरे बगल में लेट गई।

मैं उसके बूब्स को चूसने लगा. मैं इसे फिर से गर्म करना चाहता था।

कुछ देर बाद वो मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे लंड को अपनी चूत के स्लिट्स में सेट करके नीचे बैठ गई.
उसने मेरा आधा लंड चूत के अंदर ले लिया और धीरे से उछलते हुए पूरा लंड चूत के अंदर ले गया.

लंड के अंदर जाते ही वो गले से लग गई और बोली- तुम बहुत मोटे आदमी हो… चूत फटी हुई है.
मैंने उसका दूध पकड़ा और कहा- अब लंड पर नाचो मेरी जान.

कमर को हिलाते हुए वो नाचने लगी और पूरा लंड चाटते हुए चूत की खुजली मिटाने लगी.

फिर उसने स्पीड बढ़ा दी और जोर-जोर से मेरे लंड को चोदने लगी. ऐसा लग रहा था मानो आशिका स्वर्ग में आ गई हो।

वह जोर-जोर से बुदबुदाने लगी- आह रमन रमन… यू आर सो हार्ड… लव यू डार्लिंग आह आह मजा आ गया!

आशिका ने कमर को जोर से हिलाना शुरू किया, जिससे बिस्तर भी हिलने लगा।
उसने झुक कर मुझे अपनी बाँहों में लिया और पाँच मिनट तक मेरी चुदाई की।

फिर वो लंड से नीचे उतरी और मेरे लंड को पकड़े कुर्सी के पास आकर मुझे उठा लिया. उसने मुझे इस बिना बांह वाली कुर्सी पर बिठाया और अपने स्तन मेरे सीने से चिपका कर मेरी जाँघों पर बैठ गई।

उसकी मां मेरे सामने थी। मैं उन पर टूट पड़ा।

आशिका ने फिर से चूत को लंड पर सैट किया और जोर-जोर से उछलने लगी.

उसने मेरा सिर अपनी छाती पर दबाया और बुदबुदाने लगी- आह रमन खा जा साले मेरे मम्मे…आ चुस से मदारचोद…आह आह आह…आह आह आह…तुम कमीने तुम्हारा लंड बहुत फनी है मेरी जान…अब मैं हमेशा तुम्हारा लंड खाऊंगी…आह!

कुछ देर बाद आशिका शांत हो गई और अपनी कमर को मेरे लंड पर गोल-गोल घुमाने लगी.

काफी देर तक ऐसा करने के बाद उसने मुझे किस किया और कहा- अब फाइनल शॉट!

इतना कहकर वो मेरे लंड को बहुत तेजी से चाटने लगी.

लेकिन लंड और चूत गिरने वाले नहीं थे. आप तो जानते ही हैं कि एक बार स्खलित होने के बाद दूसरे फेरे में लिंग बहुत देर से स्खलित होता है।

अब वापस आशिका ने पोजीशन बदली।
इस बार वो मेरी जांघों पर बैठ गई और जबरदस्ती मेरे लंड को सहलाने लगी.
आशिका जोर-जोर से अपनी गांड को ऊपर-नीचे करने लगी। एक ही गांड को देखने में बहुत मजा आता है जब लड़की उलटी बैठ जाती है और अपनी गांड को ऊपर नीचे करती है।

काफी देर तक सेक्स करने के बाद अब हम दोनों सेक्स करने वाले थे.

आशिका बोली- मैं तुम्हारे नीचे लेटकर रस पीना चाहती हूँ, प्रिये।
ठीक है कहकर मैंने उसे मिशनरी पोजीशन में लिटा दिया।

आशिका ने वैश्या की तरह दोनों जाँघें फैला दीं और आँख मार कर मुझे बुला लिया।
मैंने अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया और बड़े आराम से उसे बाहर निकालने लगा.

वो खुशी-खुशी मेरा लंड ले रही थी और मैं उसके गालों और कानों को चूमते हुए उसे चोद रहा था.

पचास हिट के बाद हम दोनों एक साथ गिर पड़े। स्खलित होते-होते आशिका बड़े प्यार से अपनी गांड हिलाते हुए मेरे लावा को अंदर ले जा रही थी.

गिरने के बाद हम दोनों कुछ देर एक दूसरे की बाहों में लेटे रहे।
थकान चरम पर थी।
हम दोनों कब सो गए पता ही नहीं चला।

सुबह मेरा लंड गुदगुदी करने लगा तो मैंने अपनी आँखें खोलीं. आशिका मेरा लंड चूस रही थी.

उसने मुझे जगा देखा तो लंड चूसते ही ‘उम्म… गुड मॉर्निंग डार्लिंग’. कहा और बड़े प्यार से लंड चूसने लगा.

लंड चूसने के बाद उसने मेरे लंड पर वैसलीन लगाई और वैसलीन से अपनी गांड के छेद को भी चिकना कर लिया।

उसने मुड़कर अपनी गांड पर थप्पड़ मारा और मेरी तरफ इशारा करने लगी।

मैं समझ गया और मैंने उसकी गांड पर वार किया। लंड का सुपारा उसकी गांड के छेद पर रख दिया और नितम्बों पर एक तमाचा देते हुए उससे कहा- अपनी जान गँवा दो.

उसने गधा खोला और मेरा सुपर गधा फिसल गया।
उसके मुँह से हल्की सी आह निकली और उसने मेरे लंड को गांड के पहले गोले में फँसा दिया. एक बार अंगूठियां कस कर लंड को प्रणाम किया।

मैं भी रुका और उसकी गांड को खुजलाया, तभी उसकी गांड के छल्ले ढीले छूट गए, तो मैंने एक ही झटके में पूरा लंड गांड में घुसा दिया।
उसकी आह निकल गई और उसने रुकने का इशारा किया।
एक-दो पल के बाद गांड चुदाई शुरू हो गई।

मैंने उसकी गांड की जोर से चुदाई की।

फिर नहाते समय भी मैंने आशिका को घोड़ी बनाकर चोदा।

उस दिन रिशुवार को हम दोनों दिन भर मस्ती करते रहे और सुबह होते ही वो सीधे मेरे फ्लैट से अपने काम पर चली गई।

दोस्तों यह सिलसिला करीब दो साल तक चलता रहा। हर वीकेंड मैं और आशिका शराब पीते थे… हम रात भर चुदाई करते थे।

आपको मेरी यह गरम गीली चूत की कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे मेल करें।

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds