पड़ोसी की मोटी जवान बीवी को टाँगे उठा कर चोदा। | Bhabhi Sex Stories Part-2

पड़ोसी की मोटी जवान बीवी को टाँगे उठा कर चोदा। | Bhabhi Sex Stories Part-2

हेलो दोस्तों मैं ऋतू आपकी सेवा में फिरसे हाज़िर हु। (पड़ोसी की मोटी जवान बीवी को टाँगे उठा कर चोदा। की आगे की कहानी रोहित की ज़ुबानी।  (Bhabhi Sex Stories Part-2)

कैसे हो मेरी नमकीन चूत वाली लड़कीओ और प्यार लंड वाले दोस्तों। जैसे कि आपको पता होगा की मैं 28 साल का सिंगल हैंडसम सेक्सी 7 इंच का लंड का मलिक हूं। 

आपको पता ही होगा अभी मेरा वर्क फ्रॉम होम चल रहा है। मैंने आखिरी कहानी में कैसे भाभी की चुदाई की थी अपने पढ़ी होगी।

अगर पढ़ी नहीं तो पढ़ कर आनंद लेना। अब उस कहानी के उम्र हमने क्या किया इस कहानी में पढ़िए। उस रात जब हम पहला राउंड निकलाके एकदुसरे की बहो मैं नंगे लेते रहे। अब आगे जारी रखता हूँ।

हम थोड़ा रिलैक्स करके फिर से अब भाभी मेरे गालो पर किस करने लगी। तो कभी मेरी गांड को सहलाते मेरे पीठ पर सहलाते। मेरे गालो को अपनी मुह में लेकर बोहुत मस्त तारिके से अपने दतो में लेकर चबाने लगी।

मैं भी उसकी आंखें मैं देखता हूं उसके गांड को सहलाने लगा। क्या मस्त नजुक मसल गदरयी गांड थी। एकदम स्मूथ और तो और हल्के उसकी होती को मुह में लेकर चुस्ता तो कभी उसकी रेशमी जुल्फों को अपने चेहरे पर यह वही करते सुघने लग जाता है।

अगर अपने पहला पार्ट नहीं पढ़ा है तो ज़रूर पढ़ें :-Bhabhi Sex Stories Part-1

मैंने उसको अब किस करते करते हैं उसके बड़े बड़े बूब्स को चाटते हुए अब एक को दबाता हूं। तो एक के निप्पल को मुह मैं लेकर चुनने लगता कभी कभी निप्पल को डेटो से हल्के कटाता। और दूसरे बूब्स को मसलते उसके निप्पल को अपनी उलटियों के बीच जोर से मसाला। 

जैसे ही मैं निप्पल मरोदते मसाला। तब वो कसमसाते मेरे सर को पकड़कर जोर से बॉल खिचते। मेरा सर अपने मसल भरे हुए गोरे पेट पर और नाभी में जोर से दबोचने लगती है।

अब मैं उसकी गहरी नाभी मैं जोर से जीभ अंदर बहार करता लपलापते चटाने लगा। वो पगलो की तरह मेरे बाल नोच रही थी। मैं भी अब उसकी नाज़ुक भरी हुई जांगो को सहलाते सहलाते छूट को अनगलियों से मसाला लगा।

वो आब जोर न से आहे भरते मुझे जोर से अपनी चुत पर दबने लगी। मैंने झट से मेरे लंड को उसकी नाज़ुक गुलाबी चुत पर मसलकर उसकी चुत की पानी से भिगोया।

अब मैंने मेरे लंड को उसकी मुह के पास झील उसकी होती पर नाक के पास उसका रस सुंघने लगा। उसे एक नटखट स्माइल करते मेरे लंड को गप्प से पूरा मुह में लेकर लॉलीपॉप की तरह अंदर बाहर करके चुस्ना शुरू किया।

क्या बताएं दोस्तो आपको उसके चुनने की आदा पर मैं फिदा हो गया। वो अब धीरे धीरे लंड को चुस्त मजा ले रही थी। मैं उसकी मुह की गरमाहट को महसुस कर रहा था।

वो बड़े तहजीब और नजाकत से चुस रही थी। मुझे ऐसा लगा कि मेरा रस अभी उसकी मुह में डालूंगा। तब मैंने झट से आला आते उसकी आंखों में देखते हैं उसकी दोनो होठों को अपने मुह में पकड़ा और चुना शुरू किया।

अब वो भी जोर जोर से आहें भरते मेरे मुह में जीभ डालकर चुनने लगी। पता नहीं इतने में हमें क्या हुआ। वो झट से मेरे ऊपर आकार मेरे मुह में मुह डाले जोर से चुनने लग गई।

ऐसा करने से उसकी रेशमी जुल्फे सिल्की बॉल मेरे चेहरे पर मस्त घुमाने लगे। मुझे महिलाओं के खुले बाल बहुत पसंद है। मनो जैसे जैसे हम चूमते हमारा सर लेफ्ट राइट घुमाते हैं।

और हमारे चुंबन की रफ़्तार से उसकी रेशमी जुल्फे और जड़ मुझे पागल बनाती है। हमारी किस का आवाज पांच करके अब महल को और काम बना रहा था। मैने आब मेरे लंड पर उसकी चुत का जोर जोर से घिसा।

जोर से आला से गंड उठाके एक धक्का लगा। जैसे ही मैंने झटका लगा। मेरा पूरा लंड चुत में घुस गया और झटके के साथ उसकी गांड और बूब्स जोर से हिचके। और मेरे सीने पर आकार थाप की आवाज़ के साथ चिपकते झूलने लगे।

अब वो भी काउगर्ल पोज़ में मेरे लंड को चुत में डाली। मेरे लंड पर जोर जोर से गंद उठा उठा कर छोड़ रही हो। सब इलाका बेडरूम का हमारे दबन की टकराने वाली चुदाई की आवाज और हमारी सिस्को से गूंज उठा था।

उसके बड़े बड़े बूब्स जैसे वो उठाके लंड पर कुदाती वैसे बूब्स अच्छे अच्छे के तन झूलते और ज्यादा मजा देते। वो भी शैतानी करते मेरे ऊपर झुककर गांड उठाते अपने बूब्स को मेरे चेस्ट पर रागदाते।

अपनी मस्त रेशमी झुल्फो को मेरे चेहरे पर डालकर बालो से मेरा चेहरा सहलाती। तो कभी मेरे मुह में बूब्स डालवाके चुनने बोलती। जब मैं बूब्स चुसने ऊपर मुह कर्ता तो वो जानबुचकर फिर से पीछे होजती।

मुझे बोहुत छेद रही थी और तरस रही थी। मैं भी उसकी इस हरकत को एन्जॉय कर रहा था। और उसके इस नखराली अंदाज पे पूरा फिदा होके। मैं भी जोर से आला से गंद उठा उठा कर छू मैं पच पच की आवाज के साथ लंड अंदर बाहर करने लगा।

तो कभी अपने पंजो से उसकी गदरयी ऊपर निचे होती गांड को जोर जोर से थापता। वो कच्चा कच मेरे लंड को चुट की गहरयी मैं लेती। कभी पूरा लंड छूट में अंदर तक लेकर लंड पर बैठकके अपनी गांड को घुमाती।

दोस्तो ऐसा करने का कारण यही था कि उसे अपनी छूट की गहरयी तक मेरे लंड को महासुस करवा रही थी। और इसी बीच मेरे पर पूरा झुककर अपनी बूब्स से मेरे चेस्ट को मसलते मेरे मुह में अपनी जीब डालकर लुम्बा चूमने लगी।

क्या बताएं दोस्तो उसकी इस हरकत से मैं पागल हो गया और उसका दीवाना हुआ जा रहा था। अब मैंने झट से उसे घोड़ी बनाया और उसकी गदरयी भरी हुई फेली गांड को देखा। मेरा तो और जोश चार गुना होगा।

वो भी अपनी गांड को घोड़ी बनाकर मटकाते मुझे छेदते और मज़ा लेने लगी। क्या बताएं दोस्तो उसकी ऐसी नॉटी हरकत से मैं बहुत मस्त हो रहा था।

मैं पागलों की तरह उसकी गांड को छूने लगा। दातो में गांड का चमड़ी लेके हल्का कटाने लगा। उसकी गंड की कुल्हो को अलग करते उसमे अपना नाक लेके सुंघाने लगा। चटाने लगा। क्या मस्त खुशबू थी।

मैने आब झट से मेरे लंड को छूत पर लगते जोर से कमर पकड़ते उसकी चुत में डाला। और अब जोर जोर से आवाज करते हैं उसकी चुत को डॉगी पोजीशन में छोड़ने लगा।

मेरी गोतिया हर एक झटके के साथ उसकी गांड पर टक्कर। ऐसा लग रहा था कि गांड का चुम्बन ले रही हो। मैं जोर से दाना ढाको की बौचर करता हूं उसकी गांड पर छता लगता है। तो कभी पहलवान की तरह शड्डू मरता।

उसकी रेशमी जुल्फे हर एक झटके के साथ लहरने लगी। उसके बड़े बड़े बूब्स ताना तन यह वहा थाप थाप की आवाज़ करते झूलने लगे। ऐसेही हम दोनो चुदाई करते रहे। वो भी अपनी गांड को आगे पीछे करते मेरे लंड पर जोर से मराठी राही।

और लंड को पूरा अंदर बाहर करवटे अपनी छूट की प्यास भुजावणे के लिए चोट मारवाने लगी। और हम दोनों प्यासे जिस्म की आग को बुझाने में लगे थे। आब उसे जोर से चुत से पानी का फवारा मेरे लंड पर मारा।

चुत में लंड को दबते मेरी गांड पकड़कर दबोचे रखा। मैं भी उसके कमोटेजना भरे चुट के कमरे में मेरे लंड को नहलाया। उसकी चुत अपनी पंखुडिय़ों में मेरे लंड को थरथराते सेखने लगी।

साथ में अपनी अंदर के गरम पानी से नहलाने लगी। तब मैं भी पुरा उसके ऊपर झुककर मैंने भी मेरा रस उसकी चुत में डालने लगा। जैसे मनो दोनो का एक साथ छूट के अंदर उसके पानी का मेरे लंड के पानी से लड़ाई हो रही हो ऐसा लग रहा था।

हमारे शरीर इस कम्मोतेजना झंझना ते हुए एकदुसरे की कामना को पानी से ठंडा करने लगे। ऐसेही मैंने उसके बदन पर होथ चुस्ते उसके ऊपर लेता रहा। वो भी मुझे सहलाते कभी मेरे होठ चुस्त चुसते हम वैसे ही सो गए।

तो कैसे लगी हमारी चुदाई जरूर बताना मेल करके। कोई लेडीज या खास भाभी को मेरे साथ एन्जॉय करना है चैटिंग करनी है तो जरूर मेल करना। मेरा ईमेल आईडी है wildfntasy.in। मेरी दूसरी कहानी यह पढ़ सकते हैं।

आपको यह कहानी कैसी लगी??

Escorts in Delhi

This will close in 0 seconds