धोखे से माशूका की जगह दोस्त की बहन चुद गई: फ्रेंड सिस्टर Xxx

धोखे से माशूका की जगह दोस्त की बहन चुद गई: फ्रेंड सिस्टर Xxx

हेलो दोस्तों मैं सोफिया खान हूं, आज मैं एक नई सेक्स स्टोरी लेकर आ गई हूं जिसका नाम है “धोखे से माशूका की जगह दोस्त की बहन चुद गई: फ्रेंड सिस्टर Xxx”। यह कहानी प्रियांशु की है आगे की कहानी वह आपको खुद बताएँगे मुझे यकीन है कि आप सभी को यह पसंद आएगी।

फ्रेंड सिस्टर Xxx कहानी में पढ़ें कि मेरे दोस्त की मंझली बहन से मेरा चक्कर चल रहा था, मैं उसे चोदता था. लेकिन उसकी बड़ी बहन की शादी से पहली रात को वही बड़ी बहन मेरे लंड से चुद गयी.

मेरा नाम प्रियांशु है, मैं नागपुर का रहने वाला हूँ।

आइए मैं आपको अपने बारे में कुछ बताऊं.
मेरी उम्र 23 साल है, मेरी हाइट 5.6 फीट है, वजन 60 किलो है, मैं दिखने में काफी हैंडसम हूं.

यह फ्रेंड सिस्टर Xxx कहानी मेरे दोस्त पंकज और उसकी बहनों के साथ मेरे रिश्ते के बारे में है।
पंकज और मैं बचपन से दोस्त हैं.

पंकज की तीन बहनें हैं।
बड़ी बहन का नाम Prachi है, वो 26 साल की है और दिखने में बेहद खूबसूरत है.

उसका शरीर भरा हुआ है. उसके शरीर का माप 34-30-36 होगा.
वह दिखने में किसी एक्ट्रेस से काम नहीं है, जो उन्हें एक बार देख लेता है उसका लंड अपने आप खड़ा हो जाता है।

पंकज की दूसरी बहन का नाम अंकिता है, जिसकी उम्र 23 साल है। उनकी हाइट 5.5 फीट है.
वह देखने में भी बेहद खूबसूरत हैं. अंकिता के शरीर का माप 32-30-34 इंच है।

अंकिता और मैं लंबे समय से एक-दूसरे से प्यार करते हैं।

उनकी सबसे छोटी बहन का नाम नेहा है। वह बहुत शरारती स्वभाव की है. नेहा 19 या 20 साल की है.
उसकी पतली कमर, उभरे हुए स्तन और फैली हुई गांड है। (Hindi Sex Story)

उसके शरीर का माप 32-26-34 है।
वो हमेशा लंड लेने के लिए तैयार रहती है.

ये कहानी दो साल पहले की है जब प्राची दी की शादी होनी थी.

शादी से दो दिन पहले हल्दी के दिन पंकज ने मुझे अपने घर पर रोका.
रात को उसने कहा- यार, तुम यहीं सो जाओ, मैं अंकल को फोन करके बता दूँगा।

मैंने सोचा कि चलो रात को अंकिता के साथ कुछ मजा भी कर लूंगा।

सबके खाना खा लेने के बाद मैंने अंकिता को अकेला देखा और उसके पास चला गया।
तो उसने मुझे ऊपर छत पर आने को कहा. मैंने हां में सिर हिलाया और वहां से चला गया.

रात को जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि रात के 12 बज रहे थे और सभी लोग सो रहे थे।

मैं तुरंत वहां से उठा और तकिया लेकर छत पर गया तो देखा कि वहां पहले से ही कोई सो रहा था.
मुझे लगा कि वह अंकिता होगी. (फ्रेंड सिस्टर Xxx)

तो मैं बिना कुछ कहे उसके पीछे लेट गया और धीरे से उसकी Moti Gand को दबाने लगा और उसकी गर्दन पर चूमने लगा। लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया.

फिर मैंने अपने एक हाथ से उसके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया और अपना लोअर उतार दिया. लोअर निकलते ही मेरा लंड खड़ा हो गया जो काफी लंबा और मोटा है.

फिर मैंने झट से उसके मम्मे दबा दिए और वो मेरी तरफ घूम गई.
उसका चेहरा देख कर मेरी तो गांड ही फट गयी.

वो अंकिता नहीं बल्कि प्राची थी जो अपने पति से बात करते-करते ऊपर सो गई थी।

मुझे लगा कि अब तो तू फंस गया प्रियांशु!
प्राची दी गुस्से से बोलीं- ये क्या कर रहे हो?

मेरे मुँह से निकला- दीदी आप?
दी तुरंत बोलीं- तो तुम ये सब किसके साथ करने वाले थे?

मैंने डरते हुए कहा- अंकिता और मैं एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं. अंकिता ने मुझसे रात को ऊपर आने को कहा था.

तो प्राची मुस्कुराई और बोली- ओह.. तो तुम दोनों का चक्कर चल रहा है.. और आज तुम्हारे साथ धोखा हो गया। तुम दोनों बेचारे मजा लेने से वंचित रह गये!

अब ये सब बातें सुनने के बाद मुझे समझ आ गया कि अंकिता नहीं तो प्राची दी मुझसे जरूर चुदेंगी.

मैंने दीदी का हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया, जिसे दीदी अब धीरे-धीरे सहलाने लगी थी.
और मैं भी अपने हाथों से उसके स्तनों को दबाने लगा और उसके होंठों को चूमने लगा।

हम दोनों कुछ देर तक ऐसे ही एक दूसरे को चूमते रहे.
फिर हम अलग हुए और एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिये.

और छत पर आकर मैं 69 की पोजीशन में दीदी को अपनी जीभ से चोदने लगा और उसकी Tight Chut के ऊपरी हिस्से पर क्लिटोरिस को सहलाने लगा. जिससे प्राची दी की चूत गीली हो गई और वो स्खलित हो गईं.

लेकिन मैं अभी तक झड़ा नहीं था, मैंने दी की चूत चाटना जारी रखा और कुछ देर बाद दी फिर से जोश में आ गयी.

दी मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर अच्छे से चूस रही थी.
हम दोनों के मुँह से हल्की-हल्की कराहें निकल रही थीं।

10 मिनट के अंदर ही मैं और दीदी एक साथ स्खलित हो गये.
फिर हम दोनों कुछ देर तक नंगे ही लेटे रहे.

दी फिर से मेरे लंड को सहलाने लगीं और 2 मिनट में ही मेरा लंड लकड़ी की तरह सख्त हो गया.
मैंने दी को सीधा लिटाया और उनकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया ताकि उनकी चूत ऊपर उठ जाये.

फिर मैंने उसकी दोनों टाँगें खोलीं और बीच में आकर अपना तना हुआ लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और हल्के से धक्का दिया। तो मेरे लंड का ऊपरी हिस्सा अन्दर चला गया. (फ्रेंड सिस्टर Xxx)

दर्द के मारे दीदी चिल्ला उठीं.
तो मैंने तुरंत उसका मुँह अपने होंठों से बंद कर दिया और धीरे-धीरे उसके Big Boobs को सहलाने लगा।

जब दीदी का दर्द कम हुआ तो मैंने पूरी ताकत से धक्का लगा दिया जिससे मेरा आधे से ज्यादा लंड अन्दर चला गया और दीदी रोने लगी.

मैं उसकी गर्दन और मुँह को चूमते हुए उसके स्तनों को सहलाता रहा, जिससे उसे राहत मिली।

हम 2-3 मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे, फिर मैंने पूरी ताकत से धक्का मारा और मेरा पूरा लंड जड़ तक जाकर दी की बच्चेदानी से टकराने लगा. दीदी को बहुत दर्द हो रहा था.

हम दोनों चुपचाप उसी स्थिति में लेटे रहे.

फिर मैं धीरे-धीरे अपने लंड को दीदी की चूत में अन्दर-बाहर करने लगा, जिससे दीदी को राहत मिली और वो भी अपनी कमर उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी।

मैंने कहा- दीदी, मजा आ रहा है ना?
तो वो बोली- अब तुम मुझे दीदी मत कहो… प्राची रंडी कहो!
मैंने कहा- ठीक है प्राची रंडी, चल अब तू घोड़ी बन जा!

और दीदी तुरंत घोड़ी बन गयी.
मैं उसके पीछे आ गया और अपने लंड को उसकी चूत में डाल कर Chut Chudai करने लगा.
उसके मुँह से हा उह ओह आह आह आह की आवाजें निकल रही थीं.

वो कह रही थी- और जोर से चोद मादरचोद!
मैं भी पूरी ताकत से चोद रहा था- और ले रंडी… अपनी बहन के आशिक से चुदवा ले! जब तुम अपने पति के साथ रहोगे तब भी तुम्हें मेरी याद आएगी.

हम दोनों ऐसे ही 20-25 मिनट तक सेक्स करते रहे. इस बीच दीदी दो बार झड़ चुकी थी और मैं एक बार झड़ चुका था। मैंने रात 2 बजे तक फ्रेंड सिस्टर Xxx का मजा लिया. (Hindi Sex Stories)

इस दौरान मैंने दीदी को तीन अलग-अलग पोजीशन में चोदा और मैं अपने कपड़े पहन कर पंकज के पास सोने चला गया. दीदी भी अपने कपड़े लेकर खुद को साफ करने के लिए बाथरूम में चली गईं. (फ्रेंड सिस्टर Xxx)

उसके बाद बहन की शादी हो गयी और वो अपने पति के घर चली गयी. तब से जब भी बहन अपने मायके आती है तो हम मिलते हैं और मौका मिलने पर सेक्स करते हैं।

तो दोस्तो, आपको मेरी फ्रेंड सिस्टर Xxx कहानी कैसी लगी? कमेंट करके जरूर बताएं।

अगर आप ऐसी और कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “wildfantasystory.com” की कहानियां पढ़ सकते हैं।

Mumbai Call Girls

This will close in 0 seconds